हिंद महासागर और उसके महत्वपूर्ण व्यापार मार्ग

मेरठ

 08-06-2021 08:34 AM
समुद्र

पृथ्वी पर जीवन का अस्तित्व यहां उपस्थित वायुमंडल और महासागरों जैसे कुछ विशेष कारकों के कारण ही संभव हो पाया है। अपने आरंभिक काल से आज तक महासागर जीवन के विविध रूपों को संजोए हुए हैं। पृथ्वी के विशाल क्षेत्र में फैले यह महासागर जल के भंडार होने के साथ- साथ अपने अंदर व आसपास अनेक पारितंत्रों को पनाह देते हैं जिससे उन स्थानों पर विभिन्न प्रकार के जीव-जंतु व वनस्पतियां पनपती हैं।महासागर के महत्व और उससे संबंधित विषयों खाद्य सुरक्षा, जैव विविधता, पारिस्थितिकि की संतुलन आदि, की ओर राजनीतिक और सामाजिक ध्यान आकर्षित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा हर साल विश्व महासागर दिवस मनाया जाता है, इस दिवस को मनाने की घोषणा 2009 में की गई थी, इस दिवस मनाने का प्रमुख कारण विश्व में महासागरों के महत्व और उनकी वजह से आने वाली चुनौतियों के बारे में विश्व में जागरूकता पैदा करना है।2021 में विश्व महासागर दिवस की थीम 'द ओशन: लाइफ एंड लाइवलीहुड' (The Ocean: Life & Livelihoods) है। इस वर्ष के अभियान का उद्देश्य समुद्र के आश्चर्य पर प्रकाश डालना और यह हमारे जीवन के लिये ये कैसे तथा क्यों महत्वपूर्ण स्रोत है।
प्राचीन काल से महासागरों को मानव आजीविका के साथ जोड़ा गया है। हिंद महासागर के समुद्री मार्गों को दुनिया में रणनीतिक रूप से सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है।दुनिया के 80 प्रतिशत से अधिक समुद्री व्यापार हिंद महासागर और इसके महत्वपूर्ण चोकपॉइंट्स (chokepoint) के माध्यम से होता है। जिसमें 40 प्रतिशत होर्मुज (Hormuz)जलडमरूमध्य (Strait) से होकर गुजरता है, 35 प्रतिशतमलक्का (Malacca) और 8 प्रतिशत बाब अल-मन्देब (Bab el- Mandab) जलडमरूमध्य के माध्यम से होता है।मलक्का जलडमरूमध्य से ही मलक्कामाक्स (Malaccamax) शब्द का जन्म हुआ है जोकि एक नौसैनिक शब्द है, जिसका उपयोग उन बड़े और भारी जहाजों के लिये होता है जो मलक्का के 25-मीटर (82 फीट) गहरे जलडमरूमध्य के माध्यम से नौसेना-आधारित व्यापार में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। कई सारे ऐसे प्रमाण मिलते है कि मिस्रियों ने लगभग 2300 ईसा पूर्व में हिंद महासागर की खोज की जब उन्होंने "पंट की भूमि" (Land of Punt) पर समुद्री अभियान भेजा, जो वर्तमान में सोमाली (Somali) तट माना जाता है।उत्तर-पश्चिमी हिंद महासागर में प्रारंभिक व्यापार को स्वेज के इस्तमुस (Isthmus of Suez) के माध्यम से एक सिंचाई नहर (उच्च पानी में नौगम्य) द्वारा सहायता प्रदान की गई थी, जिसे मिस्रियों द्वारा 12वें राजवंश (1938-1756 ईसा पूर्व) के दौरान बनाया गया था।
चीनी खोजकर्ता झेंग हे (Zheng He) ने 1405और 1433 के बीच हिंद महासागर क्षेत्र में सात यात्राएँ कीं और वह एक भारतीय व्यापारिक जहाज पर था। झेंग हे ने हिंद महासागर के माध्यम से कई खजाने यात्राओं पर अंततः पूर्वी अफ्रीका के तटीय देशों तक पहुंचने वाले मिंग राजवंश के बड़े बेड़े का नेतृत्व किया।पुर्तगाली नाविक(Portuguese navigator) वास्को डी गामा (Vasco da Gama) ने अफ्रीका के आसपास नौकायन करते हुए, भारत के पश्चिमी तटों तक पहुंचने के लिए हिंद महासागर को पार करने से पहले मालिंदी में एक अरबी नाविक से मिले। देखते ही देखते डच (Dutch), अंग्रेजी (English) और फ्रेंच (French) ने हिंद महासागर में पुर्तगालियों का अनुसरण किया। 1521 में स्पैनिश (Spanish) नाविक जुआन सेबेस्टियन डेल कैनो (Juan Sebastián del Cano) ने समुद्र के मध्य भाग को पार किया और फिलीपीन द्वीप समूह (Philippine Islands) में मूल कमांडर (commander), फर्डिनेंड मैगेलन (Ferdinand Magellan) की मृत्यु के बाद दुनिया की पहली समुद्री यात्रा जारी रखी। 1642 से 1644 तक पूर्वी हिंद महासागर में खोज की यात्राओं का अनुसरण करते हुए डच नाविक एबेल जांज़ून तस्मान (Abel Janszoon Tasman) ने ऑस्ट्रेलिया (Australia) के उत्तरी तट और तस्मानिया (Tasmania) द्वीप की खोज की।1815 तक, हिंद महासागर में ब्रिटेन प्रमुख शक्ति बन गया।
हिंद महासागर के व्यापार मार्ग दक्षिण पूर्व एशिया (Asia), भारत, अरब (Arabia) और पूर्वी अफ्रीका (East Africa) से जुड़े थे, जो कम से कम तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व से शुरू हुए थे। मार्गों के इस विशाल अंतरराष्ट्रीय जाल ने उन सभी क्षेत्रों के साथ-साथ पूर्वी एशिया (विशेषकर चीन (China)) को भी जोड़ा।यूरोपीय लोगों द्वारा हिंद महासागर की खोज करने से बहुत पहले, अरब, गुजरात और अन्य तटीय क्षेत्रों के व्यापारियों ने मौसमी मानसूनी हवाओं का उपयोग करते हुये रेशम, चीनी मिट्टी के बरतन, मसाले, गुलाम लोग, और हाथीदांत जैसे सामान का व्यापार किया। शास्त्रीय युग (Classic Period) (चौथी शताब्दी ईसा पूर्व से तीसरी शताब्दी ईस्वी) के दौरान, हिंद महासागर व्यापार में शामिल प्रमुख साम्राज्यों में फारस में अचमेनिद साम्राज्य (Achaemenid Empire in Persia) (550-330 ईसा पूर्व), भारत में मौर्य साम्राज्य (324-185 ईसा पूर्व), चीन में हान राजवंश (Han Dynasty in China) (202 ईसा पूर्व-220 ईस्वी), भूमध्य सागर में रोमन साम्राज्य (Roman Empire in the Mediterranean) (33 ईसा पूर्व -476 ईस्वी) शामिल थे।इसी अवधी में बौद्ध धर्म, हिंदू धर्म और जैन धर्म भारत से दक्षिण पूर्व एशिया में फैल गए, जो धर्मप्रचारकों के बजाय व्यापारियों द्वारा लाए गए थे। बाद में 700 के दशक मेंइस्लाम भी इसी तरह फैल गया।मध्ययुगीन युग (400-1450 सीई) के दौरान, हिंद महासागर के बेसिन (basin) में व्यापार फला-फूला। अरब प्रायद्वीप पर उमय्यद (Umayyad ) (661-750 सीई) और अब्बासिद (Abbasid) (750-1258) खलीफाओं के उदय ने व्यापार मार्गों के लिए एक शक्तिशाली पश्चिमी रास्ता प्रदान किया। इस बीच, चीन में तांग (Tang) (618–907) और सोंग (Song) (960–1279) राजवंशों ने भी व्यापार और उद्योग पर जोर दिया, भूमि आधारित सिल्क रोड (Silk Roads) के साथ मजबूत व्यापार संबंधों को विकसित किया और समुद्री व्यापार को प्रोत्साहित किया। सांग शासकों ने इन मार्गों के पूर्वी छोर पर समुद्री डकैती को नियंत्रित करने के लिए एक शक्तिशाली शाही नौसेना भी बनाई। अरबों और चीनियों के बीच, कई प्रमुख साम्राज्य बड़े पैमाने पर समुद्री व्यापार पर आधारित थे। हिंद महासागर के व्यापार में यूरोप का प्रभाव 1498 में देखने को मिला, जब नयें नाविकों ने हिंद महासागर में अपनी पहली उपस्थिति दर्ज की। वास्को डी गामा के तहत पुर्तगाली नाविकों ने अफ्रीका के दक्षिणी बिंदु और नए समुद्रों में प्रवेश किया। पुर्तगाली हिंद महासागर के व्यापार में शामिल होने के लिए उत्सुक थे क्योंकि एशियाई विलासिता के सामानों की यूरोपीय मांग बहुत अधिक थी। परिणामस्वरूप, पुर्तगालियों ने व्यापारियों के बजाय समुद्री लुटेरों के रूप में हिंद महासागर के व्यापार में प्रवेश किया। उन्होंने भारत के पश्चिमी तट पर कालीकट और दक्षिणी चीन में मकाऊ (Macau) जैसे बंदरगाह शहरों पर कब्जा कर लिया।1602 में हिंद महासागर में एक और भी अधिक क्रूर यूरोपीय शक्ति दिखाई दी “डच ईस्ट इंडिया कंपनी (वीओसी)” (Dutch East India Company (VOC))। 1680 में, ब्रिटिश अपनी ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी (British East India Company) के साथ वीओसी को चुनौती दी। जैसे ही यूरोपीय शक्तियों ने एशिया के महत्वपूर्ण हिस्सों पर राजनीतिक नियंत्रण स्थापित किया, इंडोनेशिया (Indonesia), भारत, मलाया (Malaya) और दक्षिण पूर्व एशिया के अधिकांश हिस्सों को उपनिवेशों में बदल दिया, और पारस्परिक व्यापार भंग हो गया।माल तेजी से यूरोप में चला गया, जबकि पूर्व एशियाई व्यापारिक साम्राज्य गरीब हो गए और ध्वस्त हो गए। इसके साथ ही दो हजार साल पुराना हिंद महासागर व्यापार नेटवर्क (network) पूरी तरह से चरमरा गया। हिन्द महासागर दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा समुद्र है और पृथ्वी की सतह पर उपस्थित पानी का लगभग 19.8% भाग इसमें समाहित है। उत्तर में यह भारतीय उपमहाद्वीप से, पश्चिम में पूर्व अफ्रीका (Africa),पूर्व में ऑस्ट्रेलिया (Australia), तथा दक्षिण में दक्षिणध्रुवीय महासागर से घिरा है। हिंद महासागर यूरोप (Europe) और अमेरिका (America) के साथ मध्य पूर्व, अफ्रीका और पूर्वी एशिया को जोड़ने वाले प्रमुख समुद्री मार्गों को प्रदान करता है।
वर्तमान में इसमें फारस की खाड़ी और इंडोनेशिया के तेल क्षेत्रों से पेट्रोलियम (petroleum) और पेट्रोलियम उत्पादों का भारी यातायात है। हिंद महासागर यूरोप, उत्तरी अमेरिका और पूर्वी एशिया में कच्चे तेल के परिवहन के लिए एक महत्वपूर्ण माध्यम बन गया है। व्यापार के अन्य प्रमुख वस्तुओं में लोहा, कोयला, रबर और चाय शामिल हैं।पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया राज्य से लौह अयस्क भारत और दक्षिण अफ्रीका से जापान (Japan) भेजा जाता है, जबकि कोयले का निर्यात ऑस्ट्रेलिया से हिंद महासागर के माध्यम से यूनाइटेड किंगडम (United Kingdom) को किया जाता है। आज हिन्द महासागर ने कई द्वीपों पर पर्यटन को भी बढ़ावा दिया है और ये लाखों लोगों की आजीविका का भी साधन है।हिंद महासागर में शिपिंग (Shipping) को तीन घटकों में विभाजित किया जा सकता है: डाउस (dhows), ड्राई-कार्गो वाहक (dry-cargo carriers) और टैंकर (tankers)। दो से अधिक सहस्राब्दियों तक, डाउस नामक छोटे, लेटिन-रिग्ड नौकायन पोत (latin-rigged sailing vessels ) प्रमुख थे।पश्चिमी हिंद महासागर में डाउस व्यापार विशेष रूप से महत्वपूर्ण था, यहां ये जहाज मानसूनी हवाओं का लाभ उठा सकते थे,पूर्वी अफ्रीका के तट पर बंदरगाहों के बीच और अरब प्रायद्वीप पर बंदरगाहों और भारत के पश्चिमी तट पर (विशेष रूप से मुंबई, मंगलुरु (मैंगलोर) और सूरत) के बीच कई प्रकार के उत्पादों का परिवहन किया गया। अधिकांश डाउ ट्रैफिक को बड़े, संचालित जहाजों और भूमि परिवहन द्वारा, और शेष डाउस को सहायक इंजन से सुसज्जित किया गया है। हिंद महासागर का अधिकांश ड्राइ-कार्गो शिपिंग अब कंटेनरीकृत (containerized) हो गया है। अधिकांश कंटेनर जहाज केप ऑफ गुड होप, स्वेज नहर (Cape of Good Hope, Suez Canal) और लाल सागर और मलक्का जलसंधि(Malacca Strait) के माध्यम से हिंद महासागर में प्रवेश करते हैं। अधिकांश अन्य ड्राइ-कार्गो को थोक वाहक द्वारा ले जाया जाता है, मुख्य रूप से वे भारत, दक्षिणी अफ्रीका और पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया से जापान और यूरोप में लौह अयस्क ले जाते थे। पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया से एक महत्वपूर्ण मार्ग सुंडा स्ट्रेट (Sunda Strait) और दक्षिण चीन सागर (South China Sea) से जापान (Japan) तक है। हिंद महासागर के प्रमुख बंदरगाहों में डरबन (दक्षिण अफ्रीका), मापुटो (मोजाम्बिक), (Durban (South Africa), Maputo (Mozambique), and Djibouti (Djibouti)) और अफ्रीकी तट (African coast) के साथ जिबूती (Djibouti) शामिल हैं।

संदर्भ:
https://bit.ly/3ciLq2r
https://bit.ly/3wYnCcc
https://bit.ly/3x1G1ox
https://bit.ly/2SgGncf

चित्र संदर्भ
1. तटीय परिकल्पना के अनुसार, आधुनिक मानव हिंद महासागर के उत्तरी किनारे पर अफ्रीका से फैला जिसको दर्शाते मानचित्र का एक चित्रण (wikimedia)
2. पेरिप्लस मैरिस एरिथ्रेई पहली शताब्दी सीई के अनुसार प्राचीन भारत के साथ ग्रीको-रोमन व्यापार का एक चित्रण (wikimedia)
3. आर्थिक रूप से महत्वपूर्ण सिल्क रोड को तुर्क साम्राज्य द्वारा यूरोप से सी में अवरुद्ध कर दिया गया था। 1453 बीजान्टिन साम्राज्य के पतन के साथ। इसने खोज को प्रेरित किया, और अफ्रीका के चारों ओर एक नया समुद्री मार्ग पाया गया, जिसने एज ऑफ डिस्कवरी को ट्रिगर किया जिस मार्ग का एक चित्रण (wikimedia)


RECENT POST

  • दुनिया के सबसे बड़े पुष्प खिले हैं इस वर्ष केरल राज्य और हिमालय की घाटियों में
    बागवानी के पौधे (बागान)

     04-08-2021 10:02 AM


  • शहरीकरण में कृत्रिम बुद्धिमत्ता और ऑटोमेशन की भूमिका, एक उदाहरण मेरठ से
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     03-08-2021 10:07 AM


  • एपोथोसिस (Apotheosis), जब मनुष्य स्वयं ईश्वर बन जाता है
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     02-08-2021 09:29 AM


  • ऑप्टिकल भ्रम का सुंदर दृश्य उत्पन्न करता है, डेडवेली
    मरुस्थल

     01-08-2021 01:25 PM


  • कैसे हुई चिकन टिक्का मसाला की उत्पत्ति ?
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     31-07-2021 09:07 AM


  • अवैध उपनिवेशों पर सख्ती से लगाम लगा रहा है, मेरठ विकास प्राधिकरण
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-07-2021 10:43 AM


  • बोन्‍साई कला लाये घर में बहार और सिखाये धैर्य व् जीवन की तरलता का मूल्‍य
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     29-07-2021 09:39 AM


  • प्रलय में क्या संदेश देता है बाल कृष्ण का अंगूठा चूसते हुए चित्र ?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     28-07-2021 10:22 AM


  • विश्व में सर्पदंश से होने वाली मौतों की लगभग आधी होती हैं भारत में
    रेंगने वाले जीव

     27-07-2021 10:04 AM


  • सुरक्षित वातावरण देख करती हमारी नाज़ुकमिज़ाज काली गर्दन वाली सारस प्रजनन
    पंछीयाँ

     26-07-2021 09:35 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id