मेरठ के सैन्य अस्पताल और मेरठ कैंट जनरल अस्पताल के पीछे की कहानी

मेरठ

 14-05-2021 09:38 PM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

ब्रिटिश राज सरकार के दिनों में मेरठ के "लुडोनिक पोर्टर" अस्पताल और "सेक्सन अस्पताल" को मेरठ के 100 साल पुराने पिक्चर पोस्टकार्ड (picture postcard) में देखा जा सकता है। आज ये नाम भुला दिए गए हैं, लेकिन ये अस्पताल आज भी "सैन्य अस्पताल" और "मेरठ कैंट जनरल अस्पताल" के रूप में जाने जाते हैं , जिनमें अब कई अतिरिक्त आर्किटेक्चर जोड़े गए है। मेरठ कभी दुनिया की सबसे बड़ी छावनी था। दिलचस्प बात यह है कि 1857 के बाद ही, छावनियों में "पत्थर की वास्तुकला" का अंग्रेजो द्वारा निवेश किया गया था । छावनी के पहले चरण में " कच्ची " वास्तुकला अस्थायी शिविरों के रूप में देखी जाती थी । आइए आज हम ब्रिटिश औपनिवेशिक वास्तुकला के इस चरण को समझते हैं, क्योंकि यह हमें मेरठ शहर के शहरीकरण के लिए एक ऐतिहासिक संदर्भ प्राप्त करने में मदद करता है |
भारत को उस समय मुगलों के अधीन प्रशासनिक जिलों में विभाजित किया गया था |ब्रिटिश सरकार भी इस तथ्य को मान रही थी की भारत तेजी से शहरीकृत हो रहा है | इसने नई संरेखण और प्राथमिकताओं को जन्म दिया क्योंकि नियंत्रण शक्ति अब अलग थी। अंग्रेजों को घर देने के लिए कई नए शहर और नए उपनगर बनाए गए, और टाउन प्लानिंग(town planning) का तरीका बदला गया। उस समय जो शहर जिला मुख्यालय के रूप में कार्य करते थे, वहां अधिकांश नई वास्तुकला का निर्माण किया गया।
अंग्रेजों ने नियोजन और शहरी डिजाइन (design) के लिए कुछ नियम और सिद्धांतों का पालन किया -
(क) भारतीय शहर की प्रकृति के बारे में उनकी धारणाएं
(ख) 1857 के विद्रोह की रेखा के साथ आगे के विद्रोह की आशंका
(ग) पेरिस में हॉसमैन (Haussmann) की योजना जो यूरोप में बहुत लोकप्रिय हो गया था और जिसने पुराने शहर के केंद्रों को ध्वस्त करने और नए बनाने की वकालत की
(घ) ब्रिटेन के औद्योगिक शहरों के लिए पहले से ही इस्तेमाल की जाने वाली तकनीकों की वकालत की।
मुख्य रूप से उनका प्रयास यह था कि यूरोपीय और स्वदेशी आबादी के रहने के लिए अलग-अलग निवास स्थान बनाये जाए | इसका एक उदाहरण मद्रास (जिसे आज चेन्नई के नाम से जाना जाता है) के तथाकथित ‘व्हाइट (white)’ और ’ब्लैक(black)’ शहरों का है। पुराने शहरों पर स्वच्छता और विकास संबंधी दिशानिर्देशों को लागू करना भी इनके प्रमुख उद्देश्यों में से एक था | हालांकि इनके नियमो का बहुत कम ही पालन हो पा रहा था क्यों की नए नियम पारम्परिक तौर तरीको से अलग थे | नए शहरी डिज़ाइन ने विद्रोह को जन्म दिया| दिल्ली और लखनऊ ने 1857 के विद्रोह के केंद्र होने के नाते अपने ऐतिहासिक क्षेत्रों के बड़े हिस्से को नई ब्रिटिश योजना और पुराने शहर के विध्वंस के लिए खो दिया।
ब्रिटिश सरकार ने सेना को रहने के लिए छावनी बनाने की इजाजत दे दी थी और इसे पूरे भारत भर में बनाने का निर्णय लिया गया था जहा पर सैन्य कार्य से जुड़े हुये लोग रह सकते थे । यह अपने आप में एक छोटे शहर के जैसा था। 19 वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में यह परिवर्तन पूरा हुआ। छावनी एक ब्रिटिश सैन्य बंदोबस्त थी, जो पूरे भारत में फैलने वाली थी जहाँ भी अंग्रेज बड़ी संख्या में मौजूद थे। मूल रूप से ब्रिटिश सैनिकों के लिए एक सैन्य अड्डे के रूप में कल्पना की गई, और अपने स्वयं के पूर्ण- छोटा शहर में विकसित हुए। उदाहरण के लिए, बंगलौर छावनी में 20 वीं सदी की शुरुआत में 100,000 की आबादी और सार्वजनिक कार्यालय, चर्च, पार्क, दुकानें और स्कूल शामिल थे।यह पुराने शहर से अलग एक इकाई थी| दोनों के बीच यातायात को एक टोल-गेट पर रोकना और प्रवेश कर का भुगतान करना था। छावनी इस प्रकार भारत में एक यूरोपीय शहर के रूप में विकसित हुई, जिसका मुख्य घर बंगला था।
बंगले का डिज़ाइन सौ वर्षों में एक रूप में विकसित हुआ,और इसका वास्तविक मॉडल विवादास्पद बना हुआ था | माना जाता है की बंगला ग्रामीण बंगाल के घर और ब्रिटिश उपनगरीय विला, इन दो प्रकारों का एक संलयन था, जो बाद में राज का स्थायी प्रतीक बन गया।
ईस्ट इंडिया कंपनी के द्वारा स्थानीय लोगों के लिए शुरू में कच्चा बंगला बसाया गया था लेकिन बाद में विशिष्ट आवासीय बंगला बनाया जाने लगा। एक वरिष्ठ अधिकारी के लिए 15:1 का अनुपात में बगीचे के साथ बंगला बनाया जाता था जबकि शुरुआत रैंक के लिए यह 1: 1 भी हो सकता है। इस अर्थ में अंग्रेजों ने एक पदानुक्रमित प्रणाली दिखाई जो कि भारत में उल्लिखित जटिल जाति व्यवस्था से कम विकसित नहीं थी। इंग्लैंड में गॉथिक पुनरुद्धार ने बंगला डिजाइन में एक समान परिवर्तन करा - मंकी टॉप ’जैसी सुविधाओं सहित पक्की छतें और बड़े पैमाने पर नक्काशीदार इमारतों के साथ। नई दिल्ली में, टस्कन आदेश न केवल एक यूरोपीय विरासत का बल्कि ब्रिटेन की सैन्य और राजनीतिक ताकत का प्रतीक बन गया। आज भी भारत में भवन निर्माण के रूप में इसकी निरंतर प्रासंगिकता से स्पष्ट है | मेरठ के लुडोनिक पोर्टर "अस्पताल और" सेक्सन अस्पताल इन दोनों के पोस्टकार्ड आज भी ऑनलाइन (online) मिलते हैं जिन्हे निचे दिए गए लिंक के माध्यम से जाके खरीदा जा सकता है |

संदर्भ
https://bit.ly/3eM8loP
https://bit.ly/3hrFffS
https://bit.ly/3eMqaUz
https://bit.ly/3boHvB2

चित्र संदर्भ
1. लुडोनिक पोर्टर पोस्टकार्ड एक चित्रण (stamps-auction.com)
2. क्लाइव स्ट्रीट कलकत्ता का एक चित्रण (journals.openedition.org)
3. ब्रिटिश-औपनिवेशिक-वास्तुकला का एक चित्रण (boloji.com)

RECENT POST

  • महान गणितज्ञों के देश में, गणित में रूचि क्यों कम हो रही है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:18 AM


  • आध्यात्मिकता के आधार पर प्रकृति से संबंध बनाने की संभावना देती है, बायोडायनामिक कृषि
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:02 AM


  • हरियाली की कमी और बढ़ते कांक्रीटीकरण से एकदम बढ़ जाता है, शहरों का तापमान
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:45 AM


  • खेती से भी पुराना है, मिट्टी के बर्तनों का इतिहास, कलात्मक अभिव्यक्ति का भी रहा यह साधन
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:46 AM


  • भगवान गौतम बुद्ध के जन्म से सम्बंधित जातक कथाएं सिखाती हैं बौद्ध साहित्य के सिद्धांत
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:49 AM


  • हमारे बहुभाषी, बहुसांस्कृतिक देश में शैक्षिक जगत से विलुप्‍त होता भाषा अध्‍ययन के प्रति रूझान
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:06 AM


  • अपघटन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, दीमक
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:31 PM


  • भोजन का स्थायी, प्रोटीन युक्त व् किफायती स्रोत हैं कीड़े, कम कार्बन पदचिह्न, भविष्य का है यह भोजन?
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:11 AM


  • मेरठ में सबसे पुराने से लेकर आधुनिक स्विमिंग पूलों का सफर
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:38 AM


  • भारत में बढ़ रहा तापमान पानी की आपूर्ति को कर रहा है गंभीर रूप से प्रभावित
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:07 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id