ईद उल फितर के जश्न में बच्चों की खिलखिलाहट और पकवानों की खुशबू से महक उठता है वातावरण

मेरठ

 14-05-2021 09:46 AM
स्वाद- खाद्य का इतिहास

>

भारत में मनाये जाने वाले सभी त्योहारों में सबसे बड़ी समानता यही है की ये सभी अपने आप में विशिष्ट तथा अद्वितीय होते हैं। मुस्लिम समाज के पाक महीने (सवम) में मनाया जाने वाला त्योहार ईद-उल-फितर भी कई मायनों में बेहद खास में होता है। यह त्यौहार मुस्लिम समाज के लिए बेहद महत्वपूर्ण होता है, क्यों की यह रमजान या रमदान के पवित्र महीने के अंत का प्रतीक होता है। इस महीने को पवित्र उपवास का महीना भी कहा जाता है। ईद-उल-फितर को मीठी ईद के नाम से भी जाना जाता है। इस त्यौहार को पूरी दुनिया में मुस्लिम समुदाय द्वारा अपने परिवार तथा दोस्तों, रिश्तेदारों के साथ मिलकर अल्लाह की इबादत करके मनाया जाता है।
ईद एक अरबी शब्द है जिसका हिंदी अर्थ “खुशी अथवा उत्सव” होता है। जो भी मुस्लिम रामदान के पाक महीने में उपवास लेते हैं, उनके लिए ईद-उल-फितर उपवास तोड़ने का दिन होता है। इस्लाम धर्म के अनुयायी रमजान के महीने को आध्यात्मिक नवीनीकरण के तौर पर भी मानते हैं। ईद के जश्न से पूर्व , रमजान के महीने के दौरान, प्रत्येक मुस्लिम परिवार गरीब अथवा जरूरतमंद परिवारों को निश्चित धनराशि अथवा भोजन दान के रूप में देते हैं। दान में चावल, जौ, खजूर, जैसे भोज्य तथा फल शामिल होते हैं। साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाता है की कोई भी ज़रूरतमंद भूखा न सोये, इस्लाम धर्म में इस दान को सदक़ा-अल-फ़ित्र (दान) के रूप में जाना जाता है। ईद का जश्न तीन दिनों तक मनाया जाता है। इन दिनों में लोग सलत (इस्लामी प्रार्थना) का पालन करते हैं, और नए कपड़े पहनकर एक दूसरे को ईद-उल-फितर की बधाइयाँ 'ईद मुबारक' देते हैं।
कोई भी त्यौहार स्वादिष्ट व्यंजनों के बिना पूरा नहीं हो सकता है, मीठी ईद और बकरा ईद जैसे त्योहारों में लज़ीज़ व्यंजन विशेष महत्व रखते हैं। व्यंजन तथा दावत के परिपेक्ष्य में यह दिन बेहद खास होता है। यह त्यौहार लोगो को आपस में जोड़ने का काम करता है। इस दिन विशेष दावतों का प्रबंध किया जाता है। मुसलमान इस दिन का स्वागत कुछ मीठे के साथ करते हैं, यही कारण है कि इसे मीठी ईद कहा जाता है। मीठी सेवइयां इस अवसर की सबसे महत्वपूर्ण मिठाई मानी जाती है, जो कि अलग-अलग तथा स्वादिष्ट तरीकों से बनाई जाती हैं। इस दिन को मनाने के लिए कई तरह की बिरयानी, निहारी, कबाब, खीर जैसे स्वादिष्ट व्यंजनों को भी तैयार किया जाता है।
विश्वभर में इस अवसर पर बनने वाले कुछ अन्य लज़ीज़ व्यंजनों को सूचि निम्नवत है।
लसिदा (LAASIDA) - मोरक्को (morocco)
पारंपरिक तौर पर मोरक्को के लोग दिन की शुरुआत ईद की नमाज अदा करने के बाद लसिदा व्यंजन के साथ करते हैं। लसिदा एक मीठा व्यंजन है जो चावल के हलवे की भांति दिखता है। इस मीठे और सरल ईद पकवान को बनाने में कूसकूस (Couscous), शहद, मक्खन और जैसे मौसमी तत्वों का उपयोग होता है
शीर खुरमा (SHEER KHURMA) - भारतीय, पाकिस्तानी और बांग्लादेशी
इस मलाईदार व्यंजन में अलग-अलग जगहों के अनरूप थोड़ा स्वाद बदल जाता है। हालाँकि, सार वही रहता है। इसे दूध, टोस्टेड नूडल्स (या सेवइयां) और सूखे मेवों से पकाया जाता है। यह व्यंजन गर्म और ठंडा दोनों प्रकार से परोसा जाता है। ईद के अवसर पर यह सभी घरों में बनाया जाता है यह व्यंजन सामूहिक भोजन के अवसर पर सबसे उचित रहता है।
बिरयानी (BIRYANI)
बिरयानी दुनिया भर के सभी पारंपरिक ईद के व्यंजनों में अपना एक विशेष महत्व रखता है। बिरयानी दक्षिण एशिया के सर्वाधिक बिकने वाले व्यंजनों में से एक है। यह व्यंजन चावल, मसाले और मांस को विशेष अनुपात में मिलाकर बनाया जाता है। दक्षिण उपमहाद्वीप के प्रवासियों ने इसे पूरी दुनिया में लोकप्रियता दिलाई। ईद-उल-फितर और अन्य त्योहारों आदि अवसरों पर घरों में मेहमानों को रायता (एक दही आधारित पकवान) के साथ विभिन्न प्रकार की बिरयानी परोसी जाती है।
दही बड़ा : यह मसूर की दाल ठंडी दही, इमली की चटनी, पुदीना, धनिया और चाट मसाले के मिश्रण से बना व्यंजन है। (भारत और पाकिस्तान)
हलीम: यह एक धीमी आंच पर गेहूं, दाल के साथ पका हुआ मांस होता है। (मध्य पूर्व, भारत, पाकिस्तान और मध्य एशिया)
शरमल: यह एक बेहद मीठा, केसर के स्वाद के साथ फ्लैटब्रेड होता है। (ईरान, बांग्लादेश और भारत)
कलाची (Klaichi): यह एक प्रकार की खजूर तथा गुलाब जल से भरी पेस्ट्री होती है, (इराक)। ईद के पाक मौके पर बर्फी, खीर, गुलाब जामुन जैसे पकवान भी बेहद लोकप्रिय होते हैं। आप भी अपने घरों में रहे और अपनों के साथ सुरक्षित ईद मनाये।

संदर्भ
https://bit.ly/3tDHOhp
https://bit.ly/3bi40Yd
https://bit.ly/2RGy5K0
https://bit.ly/3fc9swY
https://bit.ly/3uDloOB

चित्र संदर्भ
1. मिष्ठान का एक चित्रण (wikimedia)
2. मुस्कुराते बच्चों का एक चित्रण (Flickr)
3. व्यंजनों का एक चित्रण (wikimedia)

RECENT POST

  • क्या एंटीरेट्रोवाइरल दवाएं एचआईवी संक्रमण को जड़ से खत्म कर सकती है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     01-12-2022 11:50 AM


  • इंडियन स्विफ्टलेट पक्षी: जिसके घोसले की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में है लाखों में
    निवास स्थान

     30-11-2022 10:36 AM


  • टोक्सोप्लाज़मोसिज़ गोंडी- एक ऐसा  परजीवी जो चूहों और इंसानों को भयमुक्त कर सकता है
    कोशिका के आधार पर

     29-11-2022 10:37 AM


  • प्राचीन काल में अनुमानित तरीके से, इस तरह होता था, शरीर की ऊंचाई और जमीन का मापन
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     28-11-2022 10:24 AM


  • अरब की भव्य इमारतें बहुत देखी होंगी आपने, पर क्या कभी अरबी शादी भी देखी ?
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     27-11-2022 12:21 PM


  • प्रदूषण और कोहरा मिलकर बड़ा रहे है, हमारे शहरों में अँधेरा
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     26-11-2022 10:53 AM


  • भारतीय किसानों को अधिक दूध के साथ-साथ अतिरिक्त लाभ भी पंहुचा सकती हैं, चारा फसलें
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     25-11-2022 10:49 AM


  • किसी भी व्यवसाय के सुख-दुःख का गहराई से विश्लेषण करती पुस्तक
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     24-11-2022 11:07 AM


  • पहनावे और सुगंध का संयोजन, आपको भीड़ में भी सबसे अलग पहचान दिलाएगा
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     23-11-2022 10:50 AM


  • कैसे कर रहे हैं हमारे देश के आदिवासी समुदाय पवित्र वनों का संरक्षण?
    जंगल

     22-11-2022 10:45 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id