परलौकिक अनुभव प्रदान करने वाला जादू उत्पन्न करता है, “जुहल”

मेरठ

 10-01-2021 02:59 AM
ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

बहुत से लोग 'प्रोग्रेसिव रॉक (Progressive rock) संगीतको नापसंद करते हैं। जो लोग प्रोग्रेसिव रॉक को पसंद करते हैं, वे अक्सर यह दावा करते हैं कि,इमर्सन, लेक एंड पामर (Emerson, Lake and Palmer) या, यस (Yes) जैसे बैंड्स (Bands) से जिस भी प्रकार की नफरत की जाती है, वह अज्ञानता के कारण उत्पन्न हुई है। आप इसे नहीं समझ पायेंगे। ये बैंड उन लोगों के लिए अनाकर्षक हो सकते हैं, जिन्हें अभिजात्यवाद या सर्वश्रेष्ठता तथा बौद्धिकता से समझौता न करने वाली स्वीकार्यता के कारण इसकी समझ नहीं है या इसका ज्ञान नहीं है, ठीक वैसे ही जैसे, पंक (Punk) के संदर्भ में, बाड़ तोड़ने वाले, चिल्लाने वाले तथा अजीबोगरीब दिखने वाले किशोर, कईओं के लिए बाधा बने थे। क्या बाधा प्रोग्रेसिव की उप-शैली ज़ुहल (Zeuhl)के लिए भी हो सकती है? खैर, प्रसिद्ध संगीतकार और लेखक डोमिनिक लियोन (Dominique Leone) ने इसे अच्छी तरह से अभिव्यक्त किया है: “ज़ुहल वह है, जिसके बारे में आप यह आशा करते हैं कि, वह एक अन्यदेशीय रॉक ओपेरा (Opera) जैसा सुनाई देगा”। आप मानव हैं, आप संभवतः इसे कैसे समझ सकते हैं? 1960 के दशक के अंत में फ्रांस (France) में उत्पन्न हुए ज़ुहल का अर्थ 'कोबाओन' (Kobaïan) भाषा में 'आकाशीय' है। यह भाषा मैग्मा (Magma) बैंड के ड्रमर (Drummer), क्रिश्चियन वेंडर (Christian Vander) द्वारा आविष्कृत की गयी थी। इस संगीत की कंपित प्रकृति, विशालता की भावना के साथ परलौकिक अनुभव प्रदान करने वाला जादू उत्पन्न करती है। यह विशालता ब्रह्मांड की असीमता को प्रदर्शित करती है।        

 

संदर्भ:

https://youtu.be/0u5C3tln-no

RECENT POST

  • आइए नजर डालें उत्तर भारतीय शादियों के कुछ रोमांचक दृश्यों पर
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     03-12-2023 09:30 AM


  • फायदेमंद होकर भी हानिकारक क्यों है, रैट-होल खनन
    खदान

     02-12-2023 09:56 AM


  • हिंदू व जैन धर्म अपनाने वाले चालुक्य राजा कुमारपाल के साम्राज्य का विवरण,अपभ्रंश भाषा में
    ध्वनि 2- भाषायें

     01-12-2023 12:01 PM


  • फ्लोरा एन स्टील: ब्रिटिश शासित भारत में एक विपुल लेखिका जो समझती थीं भारत व् भारतीयों को
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     30-11-2023 10:36 AM


  • आधुनिक चित्रकला की स्वदेशी शैली ‘समीक्षावाद’ पर, मेरठ में छपी,रामचन्द्र शुक्ला की पुस्तक
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     29-11-2023 09:52 AM


  • सरला ठकराल: बाधाओं को मात देकर आसमान छूने वाली एक भारतीय महिला
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     28-11-2023 10:20 AM


  • गुरु नानक जी के अयोध्या यात्रा वर्णनों की राम जन्म भूमि विवाद को सुलझाने में अहम भूमिका
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     27-11-2023 10:01 AM


  • सुनें, स्वामी विवेकानन्द द्वारा 1893 में शिकागो विश्व धर्म सम्मेलन में दिए गए भाषण को
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     26-11-2023 09:32 AM


  • मेरठ के निकटवर्ती गढ़मुक्तेश्वर के गंगा तट पर महाभारत काल से लगता आया है कार्तिक मेला
    नदियाँ

     25-11-2023 10:01 AM


  • जीवन का वृक्ष: ब्रह्माण्ड के सभी जीव आपस में किस प्रकार जुड़े हुए हैं?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     24-11-2023 10:35 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id