बडे धूम-धाम से मनाया जाता है पैगंबर मोहम्मद का जन्मदिन ‘ईद उल मिलाद’

मेरठ

 27-10-2020 04:30 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

दुनिया भर के मुस्लिम समुदाय के लोग पैगंबर मोहम्मद के जन्मदिन को बडे धूम धाम से मनाते हैं। यह दिन ईद-उल मिलाद या मावलिद के नाम से जाना जाता है तथा हर उत्सव की तरह विभिन्न क्षेत्रों में इसे अलग-अलग तरीके से मनाया जाता है। यूं तो उनके जन्म की सही तारीख अभी तक ज्ञात नहीं है, लेकिन मुस्लिम समुदायों का मानना है कि उनका जन्म वर्ष 570 ईस्वी में हुआ था। तथा इस दिन को इस्लामी पंचांग के तीसरे महीने जिसे रबी-उल-अव्वल कहा जाता है, के 12 वें दिन मनाया जाता है। कुछ मुस्लिम देशों में, यह दिन सार्वजनिक अवकाश घोषित किया जाता है, किंतु सऊदी अरब और कतर जैसे अधिक रूढ़िवादी देशों में, इस प्रथा को मनाने से इनकार किया जाता है क्योंकि उनका मानना है कि पैगंबर के संदर्भ में इस दिन का कोई रिकॉर्ड (Record) देखने को नहीं मिलता है।
ईराक के कुर्दिस्तान में सूफी समुदाय के लोग जहां इस दिन अपने बालों को लयबद्ध ढोल की थाप पर थिरकते हैं, वहीं लीबिया और मिस्र के लोग बच्चों को खिलौने और मिठाई बांटकर ईद-ए-मिलाद-उन-नबी या पैगंबर मोहम्मद का जन्मदिन मनाते हैं। लीबिया के शहर बेनगाज़ी में इस दिन को मनाने के लिए रंग बिरंगी लड़ियाँ लगायी जाती हैं। कई स्थानों में जुलूस निकाले जाते हैं तथा जुलूस के दौरान छाते को गुब्बारों से सजाया जाता है, साथ ही नए कपड़े और खिलौने भी एक-दूसरे को भेंट किये जाते हैं। मिस्र में, मिठाइयों की दुकानों में पारंपरिक ‘मावलिद (जन्म) दुल्हन’ की गुड़िया, चीनी के पेस्ट (Paste) से बनायी जाती है, जिसे कागज के घाघरे, चमकीले और कपड़े के फूलों से सजाया जाता है। परंपरा के अनुसार, सूखे फल, मेवे आदि से बनी अन्य पारंपरिक मिठाइयों के साथ नवयुवकों को यह गुड़िया अपने मंगेतर को भेंट करनी चाहिए।
इराक के उत्तरी शहर अकरा में इस उत्सव को मनाने के लिए पुरूष ढीली पैंट, इससे मिलता-जुलता जैकेट और बेल्ट बांधकर धिक्र या ‘धार्मिक आह्वान’ के लिए पंक्तियों और अर्ध-मंडलियों में खड़े होते हैं। इसके बाद ड्रम (Drum) बजाए जाते हैं और ऊंचे स्वर में प्रार्थनाएं गायी जाती हैं। ऐसा करने के साथ-साथ वे अपने लंबे बालों को भी आगे और पीछे की ओर लहराते हैं। दक्षिण अफ्रीका के केप टाउन में इस दिन मुस्लिम समुदाय की महिलाएं और बच्चें इस परंपरा को निभाते हुए अच्छे कपड़े पहनते हैं। इसके बाद पैगंबर को सलाम करते हुए वे नींबू और संतरे के पेडों से पत्तों को तोड़ते हैं तथा उन्हें गुलाब और नींबू के पानी में भिगोकर एक छोटे पाउच (Pouch) में पैक करते हैं। इसके उपरांत ये पाउच दक्षिण अफ्रीकी समुदाय के पुरुषों को उपहार में दिये जाते हैं। पैगंबर मोहम्मद के जन्मदिन ईद-ए-मिलाद पर पवित्र मार्च भी आयोजित किये जाते हैं।
श्रीनगर के हजरतबल तीर्थ में ईद-ए-मिलाद-उन-नबी पर महिलाएं नमाज पड़ती हैं। विक्रेता मस्जिदों के आस-पास श्रद्धालुओं को पारंपरिक पकवान परोसते हैं। फिलीस्तान में पैगंबर मोहम्मद के जीवन को याद करते हुए सडकों पर पुरुष भक्ति गीत गाते हैं। पाकिस्तान में मस्जिदों को विभिन्न प्रकार की रोशनी से सजाया जाता है, तथा बडे धूम-धाम से उत्सव को मनाया जाता है।

संदर्भ:
https://bit.ly/2r9bqss
https://bit.ly/2WKcH4Q
https://bit.ly/2NfLlAK
https://bit.ly/2NL9HkG
चित्र सन्दर्भ:
पहली छवि में दिखाया गया है कि एक व्यक्ति लीबिया के बेंगाज़ी में मावलिद को मनाते हुए जुलूस के दौरान गुब्बारों से सजा हुआ एक छाता ले जाता है।(TRT world)
दूसरी छवि दिखाती है कि लोग सीरिया के दमिश्क के ओल्ड सिटी में उमैयद मस्जिद के प्रांगण में पैगंबर मोहम्मद के जन्मदिन मावलिद में शामिल होते हैं।(arabian business)
तीसरी छवि एक पाकिस्तानी मुस्लिम कराची में पैगंबर मोहम्मद के जन्मदिन ईद-ए-मिलाद-उन-नबी के संबंध में एक प्रबुद्ध मस्जिद में प्रार्थना करती है।(arabian business)
चौथी छवि मेरट में जश्न-ए-ईद मिलाद दिखाती है।(youtube)


RECENT POST

  • माइक्रोलिथ्स के विकास द्वारा चिन्हित किया जाता है, मध्यपाषाण युग
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     01-12-2020 11:23 AM


  • मौसमी फल और सब्जियों के सेवन से हैं अनेकों फायदे
    साग-सब्जियाँ

     30-11-2020 09:18 AM


  • सदियों से फैशन के बदलते रूप को प्रदर्शित करती हैं, फ़यूम मम्मी पोर्ट्रेट्स
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2020 07:10 PM


  • वृक्ष लगाने की एक अद्भुत जापानी कला बोन्साई (Bonsai)
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     28-11-2020 09:03 AM


  • गंध महसूस करने की शक्ति में शहरीकरण का प्रभाव
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     27-11-2020 08:34 AM


  • विशिष्ट विषयों और प्रतीकों पर आधारित है, जैन कला
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     26-11-2020 09:05 AM


  • सेना में बैंड की शुरूआत और इसका विस्‍तार
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     25-11-2020 10:26 AM


  • अंतिम ‘वस्तुओं’ के अध्ययन से सम्बंधित है, ईसाई एस्केटोलॉजी
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-11-2020 08:13 AM


  • क्वांटम कंप्यूटिंग को रेखांकित करते हैं, क्वांटम यांत्रिकी के सिद्धांत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     22-11-2020 10:22 AM


  • धार्मिक महत्व के साथ-साथ ऐतिहासिक महत्व से भी जुड़ा है, श्री औघड़नाथ शिव मन्दिर
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-11-2020 08:16 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id