किल्पिपट्टु रामायण स्वामी रामानंद द्वारा रचित अध्यात्म रामायण की व्याख्या है

मेरठ

 13-10-2020 03:02 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

अध्यात्म रामायण किल्पिपट्टु संस्कृत महाकाव्य रामायण का सबसे लोकप्रिय मलयालम संस्करण है। ऐसा माना जाता है कि यह 17वीं शताब्दी की शुरुआत में थुंचतथु रामानुजन एझुथचन द्वारा लिखा गया था, इसे मलयालम साहित्य का एक उत्कृष्ट और मलयालम भाषा के इतिहास का एक महत्वपूर्ण ग्रंथ माना जाता है। दरअसल अध्यात्म रामायण किल्पिपट्टु 14वें ईस्वी के स्वामी रामानंद द्वारा रचित अध्यात्म रामायण की व्याख्या है। रामानंद 14वीं सदी के वैष्णव भक्ति कवि संत थे, जो उत्तर भारत के गंगा के बेसिन (Basin) में रहते थे। हिंदू परंपरा उन्हें आधुनिक समय में सबसे बड़े मठवासी हिंदू त्यागी समुदाय, रामानंदी संप्रदाय के संस्थापक के रूप में पहचानती है। अध्यात्म रामायण किल्पिपट्टु (पक्षी गीत) प्रारूप में संस्कृत के कार्य का पुन:कथन है। स्वामी जी के वेदान्तिक धर्मशास्त्र पर आधारित यह रामायण गोस्वामी तुलसीदास के रामचरितमानस से पुरानी है और इससे तुलसीदास भी काफी प्रेरित हुए थे।
अध्यात्म रामायण भगवान शिव और देवी पार्वती के बीच एक वार्तालाप का चित्रण है, जैसा कि भगवान ब्रह्मा ने ऋषि नारद को बताया था। यह वही कृति है, जिसका अनुवाद केरल के थुन्चाथु एझुथचन ने मलयालम की किल्पिपट्टु में एक दक्षिण भारतीय शैली में किया था, जिसमें एक तोता कवि को पाठ सुनाता है। यह केरल रामायण अक्सर कथकली (कथकली का एक भव्य वीडियो आप इस लिंक (https://bit.ly/33Q6jyt) में जाकर देख सकते हैं) और मोहिनीअट्टम के सुंदर नृत्य रंगमंच रूपों में प्रस्तुत की जाती है। वहीं कूडियाट्टम और कथकली में रामायण का एक सुंदर प्रस्तुतीकरण आप इस लिंक (https://bit.ly/3dfL7F0) में जाकर देख सकते हैं। पाठ में शिव और पार्वती के बीच संवाद के रूप में 7 पुस्तकें, 65 अध्याय और 4,500 श्लोक हैं। अध्यात्म रामायण: एक आध्यात्मिक संदर्भ में श्रीराम की कहानी का प्रतिनिधित्व करती है। इस पाठ में ब्रह्माण्ड पुराण के 35% से अधिक अध्याय पाया जाता है, जिन्हें अक्सर वैष्णववाद परंपरा में एक स्वतंत्र पाठ के रूप में प्रसारित किया जाता है और यह 65 से अधिक अध्यायों और 4,500 श्लोकों का एक अद्वैत वेदांत ग्रंथ है।
यह पाठ श्रीराम को ब्राह्मण (आध्यात्मिक वास्तविकता) के रूप में दर्शाता है, श्रीराम के सभी सगुण को निर्गुण प्रकृति (अंतिम अपरिवर्तनीय गुण और आदर्श) के रूप में दर्शाता है। अध्यात्म रामायण के श्रीराम की प्रत्येक सांसारिक गतिविधि को आध्यात्मिक या पारमार्थिक स्तर तक ले जाती है, इस प्रकार जिज्ञासु को अपनी आत्मा के लिए प्रतीकात्मक दृष्टि के माध्यम से अपने स्वयं के जीवन को देखने का निर्देश देती है, जहां बाहरी जीवन है, लेकिन अद्वैत शब्दावली में आत्मा की शाश्वत यात्रा के लिए एक रूपक है। पुस्तक को एक आध्यात्मिक जिज्ञासु के लिए एक मार्गदर्शक और शिक्षा के लिए तैयार स्रोत के रूप में इस्तेमाल करने के उदेश्य से लिखा गया है, क्योंकि यह रामायण को एक दिव्य रूपक के रूप में प्रस्तुत करती है।
अध्यात्म रामायण का आयोजन 7 कांडों या अध्यायों में किया गया है:
1. बाल कांड - इस अध्याय की शुरुआत ब्रह्मास्वरुप, विष्णु के अवतार के रूप में भगवान राम के लौकिक और खगोलीय स्वरूप के वर्णन से होती है, जो रावण जैसे राक्षस को दूर करने के लिए एक इंसान के रूप में पृथ्वी पर आए थे। इसमें श्रीराम का बचपन और श्रीराम द्वारा अहिल्या के उद्धार की कहानी शामिल है।
2. अयोध्या कांड – इस अध्याय में श्रीराम के अयोध्या में जीवन, वनवास, उनके पिता दशरथ की मृत्यु आदि की कहानी शामिल है।
3. अरण्य कांड - वन (अरण्य) अध्याय, जिसमें रावण द्वारा सीता का अपहरण शामिल है।
4. किष्किन्धा कांड – इस अध्याय में बाली की हत्या और सीता के लिए सक्रिय खोज की शुरुआत का वर्णन है।
5. सुंदर कांड - इस अध्याय में लंका में हनुमान के आगमन और अन्य गतिविधियों का विवरण देता है।
6. लंका कांड - इसमें राम की सेनाओं और रावण के बीच लड़ाई, रावण की हत्या और राम के लंका से अयोध्या लौटने पर राम के राज्याभिषेक के विवरण शामिल हैं।
5. उत्तर कांड - इसमें सीता के निर्वासन, राम और सीता के पुत्र - लव और कुश के जन्म और भगवान विष्णु के निवास स्थान वैकुंठ में पृथ्वी से राम का प्रस्थान शामिल है। उत्तर काण्ड के 5वें अध्याय (उप-अध्याय) में भगवान राम और उनके भाई लक्ष्मण के बीच वार्तालाप का वर्णन किया गया है, जिसे अक्सर राम गीता (राम का गीत) कहा जाता है। यह अनिवार्य रूप से एक अद्वैत दार्शनिक कार्य है।
साथ ही अध्यात्म रामायण में, प्रत्येक अध्याय तोते के बुलावे से शुरू होता है और यह राम के गीत को बताता है।
“हरमकलक्कु अन्बुला थाथे, वेरिकेडो, “हे तोता जो लक्ष्मी को प्रिय है, यहां आओ,
थमासा सीलम अगथेनम आसु नी, यह समझो की किसी कार्य में देरी करना अच्छा नहीं है,
रामादेवन चारित्रमृतम इनियम, कृपया रुचि और आनंद के साथ बताएं,
एहमोधमुल ककुंडु चोलु सरसमई।” आगे श्री राम की कहानी।”
परंपरागत रूप से, रामायण के दो प्राचीन स्रोत वाल्मीकि रामायण और रामावतारम हैं। रामावतारम, जिन्हें कम्बा रामायणम के नाम से जाना जाता है, एक तमिल महाकाव्य है जिसे तमिल कवि कंबन ने 12वीं शताब्दी के दौरान लिखा था। रामायण के अन्य संस्करणों में वशिष्ठ रामायण, आनंद रामायण, संस्कृत में अगस्त्य रामायण, तेलुगु में रंगनाथ रामायण, हिंदी में तुलसी रामायण या रामचरितमानस, बंगाली में कीर्तिवासा रामायण हैं।

संदर्भ :-
https://en.wikipedia.org/wiki/Adhyatma_Ramayana
https://en.wikipedia.org/wiki/Ramananda
https://en.wikipedia.org/wiki/Adhyathmaramayanam_Kilippattu
https://en.wikipedia.org/wiki/Kilippattu
https://mythicalindia.com/features-page/kathakali-mohiniyattam-and-other-folk-dances-of-kerala/
https://www.youtube.com/watch?v=E1c37mFAKG0&feature=emb_logo
https://www.youtube.com/watch?v=r7LqBCXOBqY
चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र रामायण का पाठ अपने बच्चों को सुनाती हुई एक माँ को दिखाता है। (Pikero)
दूसरे चित्र में अध्यात्म रामायण छंद 1.1 - 1.14 में एक ब्रह्माण्ड पुराण पांडुलिपि (संस्कृत, देवनागरी) का चित्र दिखाया गया है। (Wikimedia)
तीसरे चित्र में कथकली/मोहिनीअट्टम में रामायण की प्रस्तुति को चित्रित किया गया है। (prarang)
अंतिम चित्र में अध्यात्म रामायण के विभिन्न संस्करणों के मुखपृष्ठों को दिखाया गया है। (Prarang)


RECENT POST

  • माइक्रोलिथ्स के विकास द्वारा चिन्हित किया जाता है, मध्यपाषाण युग
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     01-12-2020 11:23 AM


  • मौसमी फल और सब्जियों के सेवन से हैं अनेकों फायदे
    साग-सब्जियाँ

     30-11-2020 09:18 AM


  • सदियों से फैशन के बदलते रूप को प्रदर्शित करती हैं, फ़यूम मम्मी पोर्ट्रेट्स
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2020 07:10 PM


  • वृक्ष लगाने की एक अद्भुत जापानी कला बोन्साई (Bonsai)
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     28-11-2020 09:03 AM


  • गंध महसूस करने की शक्ति में शहरीकरण का प्रभाव
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     27-11-2020 08:34 AM


  • विशिष्ट विषयों और प्रतीकों पर आधारित है, जैन कला
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     26-11-2020 09:05 AM


  • सेना में बैंड की शुरूआत और इसका विस्‍तार
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     25-11-2020 10:26 AM


  • अंतिम ‘वस्तुओं’ के अध्ययन से सम्बंधित है, ईसाई एस्केटोलॉजी
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-11-2020 08:13 AM


  • क्वांटम कंप्यूटिंग को रेखांकित करते हैं, क्वांटम यांत्रिकी के सिद्धांत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     22-11-2020 10:22 AM


  • धार्मिक महत्व के साथ-साथ ऐतिहासिक महत्व से भी जुड़ा है, श्री औघड़नाथ शिव मन्दिर
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-11-2020 08:16 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id