मेरठ में 1899 की चर्चिल तस्वीर

मेरठ

 24-09-2020 03:51 AM
उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

मेरठ में 1899 की विंस्टन चर्चिल (Winston Churchill) की तस्वीर इंपीरियल वॉर म्यूजियम, लंदन (Imperial War Museum, London) में रखी हुई है। जिस इमारत में यह फोटो ली गई थी, वह आज भी मौजूद है। यह मेरठ कैंट का ऑफिसर मेस (Officer Mess) है। 1899 में भारत के मेरठ शहर में महारानी के चतुर्थ हुसेर्स (The Queen's 4th Hussars) के अधिकारी इंटर-रेजिमेंटल पोलो टूर्नामेण्ट (Inter-Regimental Polo Tournament) में व्यस्त थे।
महारानी के चतुर्थ हुसेर्स, ब्रिटिश सेना की एक पुरानी घुड़सवार सेना थी, जो मेरठ में 1868 में स्थापित हुई थी। हालांकि ब्रिटिश सेना के लिए इसकी शुरुआत 1685 में हुई थी। इसने तीन शताब्दियों तक सेवा दी थी। जिसमें प्रथम और द्वितीय विश्व युद्ध भी शामिल हैं। 1958 में 8वे महाराज के रॉयल आयरिश हुसैर्स (8th King's Royal Irish Hussars) को साथ मिलाकर रानी की रॉयल आयरिश हुसैर्स (The Queen's Royal Irish Hussars) की स्थापना हुई।


लड़ाई में मिले सम्मान
प्रारंभिक लड़ाइयां- 1743 में डेटिंगेन का युद्ध (Battle of Dettingen 1743), 1809 में तलवेरा का युद्ध (Battle of Talavera 1809), 1813 में विटोरिआ का युद्ध (Battle of Vitoria 1813), 1839 में ग़ज़नी का युद्ध (Battle of Ghazni 1839)।
द ग्रेट वॉर (प्रथम विश्वयुद्ध)- ग्रेट रिट्रीट (Great Retreat), 1914 में मार्ने का प्रथम युद्ध (First Battle of the Marne 1914), 1917 में कैम्ब्री का युद्ध (Battle of Cambrai 1917)
द्वितीय विश्वयुद्ध- 1942 का गज़ाला युद्ध (Battle of Gazala 1942), 1942 का रूवेसट युद्ध (Battle of Ruweisat 1942), उत्तरी अफ्रीका में 1942 में युद्ध, 1944 -45 में सेनिओ पॉकेट, इटली का युद्ध (Senio Pocket, Italy 1944-45), 1941 में ग्रीस युद्ध (Greece war 1941)
रानी की अपनी घुड़सवार सेना और भारत

भारत में 4th रानी की अपनी घुड़सवार सेना से संबंधित कागजातों का एक फोल्डर है, जिसमें ज्यादातर 1870 में रेजिमेंट (Regiment) द्वारा किए गए कामों का विवरण है। इसमें बहुत से ऐसे दिलचस्प कारोबारियों और मनोरंजक गतिविधियों का जिक्र है, जो लड़ाइयों के अलावा सामान्य स्थितियों में संपन्न होती थी। इस रेजिमेंट ने क्रीमिया युद्ध (Crimean War) के समय बहुत असाधारण सेवाएं दी। 1867 में भारत के दूसरे कार्यकाल में रेजिमेंट ने इवनिंग रीडिंग्स (Evening Readings) जैसे रोचक कार्यक्रम किए। 26 फरवरी 1874 को इस कार्यक्रम में प्राइवेट फॉक्स (Private Fox) और कॉर्पोरल वलम्स्ले (Corporal Walmsley) द्वारा गाए गाने शामिल किए गये।

मेरठ कैंटोनमेंट (Cantonment) में ऐतिहासिक स्थल

गोल्फ कोर्स का पुराना कब्रिस्तान:


यह अपनी स्थापना से 1810 तक प्रयोग में रहा। 19वीं शताब्दी में यह पुर्तगाली कब्रिस्तान के रूप में जाना जाता था। मेरठ कैंटोनमेंट- ब्रिटिश मराठों से संधि के अनुसार 1803 में मेरठ आए। 1806 में मेरठ कैंटोनमेंट की स्थापना हुई। दिल्ली के नजदीक होने के कारण, गंगा-जमुना दोआब के अंदर धीरे-धीरे मेरठ भारत के सबसे बड़े सैनिक केंद्रों में स्थापित हो गया।

10 मई 1857 की शाम मेरठ क्रांति हुई। यहां सबसे पहले अंग्रेजो के खिलाफ विद्रोह हुआ। मेरठ को अंग्रेज सबसे सुरक्षित छावनी मानते थे, उन्हें इस बात का बिल्कुल अहसास नहीं था कि विद्रोह यहीं से शुरू होगा। यहीं से धधकी थी पहली क्रांति की आग।

सन्दर्भ:
https://www.iwm.org.uk/collections/item/object/205026821
The Queen's 4th Hussars was an old cavalry regiment of the English army which was set up in Meerut in 1868 CE.
https://en.wikipedia.org/wiki/4th_Queen's_Own_Hussars
https://blogs.bl.uk/untoldlives/2019/08/fourth-queens-own-hussars-in-india.html
http://www.indiandefencereview.com/spotlights/the-great-upsurge-of-1857-historical-sites-in-meerut-cantonment/

चित्र सन्दर्भ:

मुख्य चित्र सन 1899 में इंटर-रेजिमेंटल पोलो टूर्नामेण्ट (Inter-Regimental Polo Tournament) के दौरान महारानी के चतुर्थ हुसेर्स (The Queen's 4th Hussars) के सदस्यों के साथ विंस्टन चर्चिल को दृश्यांवित कर रहा है। (© IWM HU 98777)
दूसरे चित्र में महारानी के चतुर्थ हुसेर्स (The Queen's 4th Hussars) का चिन्ह दिखाया गया है। (Wikimedia)
तीसरे चित्र में विंस्टन चर्चिल को महारानी के चतुर्थ हुसेर्स (The Queen's 4th Hussars) की वेशभूषा में चित्रित किया गया है। (Wikipedia)

RECENT POST

  • क्या एंटीरेट्रोवाइरल दवाएं एचआईवी संक्रमण को जड़ से खत्म कर सकती है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     01-12-2022 11:50 AM


  • इंडियन स्विफ्टलेट पक्षी: जिसके घोसले की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में है लाखों में
    निवास स्थान

     30-11-2022 10:36 AM


  • टोक्सोप्लाज़मोसिज़ गोंडी- एक ऐसा  परजीवी जो चूहों और इंसानों को भयमुक्त कर सकता है
    कोशिका के आधार पर

     29-11-2022 10:37 AM


  • प्राचीन काल में अनुमानित तरीके से, इस तरह होता था, शरीर की ऊंचाई और जमीन का मापन
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     28-11-2022 10:24 AM


  • अरब की भव्य इमारतें बहुत देखी होंगी आपने, पर क्या कभी अरबी शादी भी देखी ?
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     27-11-2022 12:21 PM


  • प्रदूषण और कोहरा मिलकर बड़ा रहे है, हमारे शहरों में अँधेरा
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     26-11-2022 10:53 AM


  • भारतीय किसानों को अधिक दूध के साथ-साथ अतिरिक्त लाभ भी पंहुचा सकती हैं, चारा फसलें
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     25-11-2022 10:49 AM


  • किसी भी व्यवसाय के सुख-दुःख का गहराई से विश्लेषण करती पुस्तक
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     24-11-2022 11:07 AM


  • पहनावे और सुगंध का संयोजन, आपको भीड़ में भी सबसे अलग पहचान दिलाएगा
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     23-11-2022 10:50 AM


  • कैसे कर रहे हैं हमारे देश के आदिवासी समुदाय पवित्र वनों का संरक्षण?
    जंगल

     22-11-2022 10:45 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id