भारत में मौजूद उल्कापिंड टकराव से बने गढ्ढों पर एक झलक

मेरठ

 30-06-2020 06:40 PM
खनिज

उल्कापिंड (अंतरिक्ष शिला के हजारों छोटे टुकड़े) संबंधी टकराव गड्ढे हमारे ग्रह पर सबसे दिलचस्प भूवैज्ञानिक संरचनाओं की उत्पत्ति करते हैं। हालांकि इनमें से अधिकांश गड्ढे प्राकृतिक प्रक्रियाओं द्वारा मिटा दिए जाते हैं, लेकिन इनमें से कई ‘बहिक्षत संरचना’ (ग्रीक में शाब्दिक अर्थ तारों का घाव) अभी भी एक परिपत्र भूवैज्ञानिक निशान के रूप में देखे जाते हैं। वहीं टकराव की घटना में बड़े प्रभाव काफी दुर्लभ रूप से होते हैं, लेकिन अंतरिक्ष से उल्कापिंड के हज़ारों छोटे टुकड़े, प्रत्येक वर्ष पृथ्वी की ज़मीन से टकराते हैं। वैज्ञानिकों द्वारा भारत में पृथ्वी की छाल में तीन गहरे निशान खोजे गए थे। उन निशानों के बारे में ऐसा कहा जाता है कि ये उल्कापिंड के अवशेषों को चिह्नित करते हैं। जिसका साक्ष्य हमें भारत में मौजूद “लोनार झील” से मिलता है, जो विश्व में सबसे बड़ा बेसाल्टिक (Basaltic) टकराव गड्ढा होने के लिए प्रसिद्ध है, अन्य दो, रामगढ़ और ढाला अपेक्षाकृत अज्ञात हैं।

लोनार गड्ढा
अविश्वसनीय रूप से लोनार गड्ढा बेसाल्ट चट्टान में बना सबसे कम उम्र का और सबसे अच्छा संरक्षित प्रभाव गड्ढा है। इसे लगभग 50,000 साल पुराना माना जाता है और पृथ्वी पर इस तरह का ये एकमात्र गड्ढा है। लोनार गड्ढा लगभग बावन हजार वर्ष पहले एक उल्कापिंड के 90,000 किमी प्रति घंटे की अनुमानित गति से पृथ्वी पर गिरने की वजह से उत्पन्न हुआ था। इसने किनारे पर एक शानदार चोटी का निर्माण करते हुए एक गहरे गड्ढे (1.8 किमी चौड़ा और 150 मीटर गहरा) का निर्माण किया। हालांकि समय के साथ, जंगल ने अधिकार कर लिया और एक बारहमासी धारा ने गड्ढा को एक शांत, पन्ना हरी झील में परिवर्तित कर दिया है। एक भूमि-बंद जल निकाय जो एक ही समय में क्षारीय और खारा है, लोनार झील ऐसे सूक्ष्म जीवों का समर्थन करती है जो पृथ्वी पर शायद ही कहीं पाए जाते हैं। हरे-भरे जंगल से घिरी यह झील चारों ओर मास्केलिनाइट (Maskelynite) जैसे खनिज पदार्थ के टुकड़ों और सदियों पुराने परित्यक्त मंदिर से घिरी हुई है। मास्कलीनाइट एक तरह का प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला कांच है, जो केवल अत्यधिक उच्च-वेग प्रभावों द्वारा बनता है।

रामगढ़ गड्ढा
वहीं दक्षिण पूर्वी राजस्थान में विशाल समतल भूमि की एकरूपता बर्बर जिले के रामगढ़ गाँव के पास एक विशिष्ट ऊँची गोलाकार संरचना से खंडित हुई है। रामगढ़ गड्ढा, 2.7 किमी के व्यास के साथ आसपास के इलाके में लगभग 200 मीटर की ऊंचाई पर, ये 40 किमी की दूरी से आसानी से देखा जा सकता है। साथ ही गड्ढा के केंद्र में स्थित छोटा शंक्वाकार शिखर भी प्राचीन, खूबसूरती से गढ़ी हुई बांदेवाड़ा मंदिर का स्थान है। संपूर्ण क्षेत्र में बहने वाली पार्वती नदी, गड्ढा के भीतर दीप्तिमान जल निकासी के साथ एक छोटी झील का निर्माण करती है।

लोनार गड्ढे की तुलना में, रामगढ़ गड्ढे की संरचना अधिकांशतः क्षरण हो चुकी है, केवल इजेक्टा (Ejecta (वह सामग्री जो उल्का प्रभाव या एक तारकीय विस्फोट के परिणामस्वरूप निकलती है)) की एक पतली परत गड्ढे के किनारे को आवरण दिए हुए है। इजेक्टा में निकेल और कोबाल्ट सामग्री के उच्च अनुपात के साथ चमकदार चुंबकीय स्पैरुल्स (Spherule) की घटना को वैज्ञानिकों द्वारा प्रलेखित किया गया है। ऐसा माना जाता है कि वे उल्कापिंडीय प्रभाव के दौरान वायुमंडलीय प्रकोपों के कारण उत्पन्न हुए थे। हालांकि, जबकि इस असामान्य गड्ढे ने अपनी खोज के बाद से भूवैज्ञानिकों का ध्यान आकर्षित किया है, इसकी उत्पत्ति, संरचना और लिथोलॉजी का मूल्यांकन करने के लिए एक विस्तृत बहु-विषयक अध्ययन किया जाना बाकी है। ढाला गड्ढा
मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले में स्थित लगभग 1.8 बिलियन वर्ष पुराना ढाला गड्ढा भारी मात्रा में क्षतिग्रस्त हो चुका है। जबकि गड्ढे का केंद्र एक मीसा जैसा समतल क्षेत्र है और इसके किनारे प्रभाव से पिघले शीला और ग्रेनाइट से बने है। नैदानिक टकराव कायांतरितमुखाकृति (प्रभाव की घटनाओं के दौरान विरूपण और तापक के कारण होने वाले भूगर्भीय परिवर्तन) ढाला को उल्का प्रभाव संरचना के रूप में पुष्टि करता है। अध्ययनों के अनुसार, धाला प्रभाव संरचना में लगभग 11 किमी का स्पष्ट व्यास है, यह नापा हुआ व्यास संभवतः एक न्यूनतम अनुमान का प्रतिनिधित्व करता है क्योंकि क्षेत्र का एक बड़ा हिस्सा जलोढ़ द्वारा आवरण किया गया है। यह वर्तमान में भारतीय उपमहाद्वीप और मध्य पूर्व और दक्षिणपूर्वी एशिया के बीच व्यापक क्षेत्र से ज्ञात ढाला गड्ढा को सबसे बड़े प्रभाव ढांचे का अवशेष बना देता है।

वहीं दूसरी ओर शिव गड्ढा परिकल्पना यह समझाने की कोशिश करता है कि कैसे ग्रह से डायनासोर विलुप्त हो गए थे। माना जाता है कि शिव गड्ढे की आंसू के आकार की संरचना मुंबई अपतटीय क्षेत्र में है, जिसमें बॉम्बे उच्च और सूरत न्यूनता में शामिल हैं। सिद्धांत के अनुसार, लगभग 40 किमी व्यास का एक विशाल क्षुद्रग्रह, भारत के पश्चिमी तट (बॉम्बे उच्च के पास) के ग्रह में गिरा होगा, जिससे एक विशाल 500 किमी चौड़ा गड्ढा बन गया। इससे क्षेत्र में तापमान तेजी से बढ़ा, जो की कई हजार डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया और विश्व के संपूर्ण परमाणु शस्त्रागार की तुलना से भी अधिक ऊर्जा का उत्पादन किया। जल्द ही, इस ऊर्जा ने वायुमंडल, पानी, मिट्टी और सतह के चट्टान (दक्कन ट्रैप के उस सहित) के पतले खोल को तोड़कर वातावरण को नष्ट करना शुरू कर दिया, जो जीवन का पालन-पोषण और जीवित रखने में मदद करता है।

इसके परिणाम डायनासोरों का विनाश हुआ और वे बड़े पैमाने पर विलुप्त हो गए थे। सिद्धांत के पीछे वैज्ञानिक समूह के अनुसार, इस परिकल्पना के पक्ष में निष्कर्ष इस प्रकार हैं: जीवाश्म ईंधन के विशाल भंडार, कच्चे तेल और प्राकृतिक वाष्प; इरीडियम (Iridium) और लावा बाढ़ के समृद्ध भंडार जिसने दक्कन ट्रैप (Deccan Trap) का गठन किया। हालाँकि, इस सिद्धांत पर निर्णायक समिति अभी और अधिक निश्चित सबूतों की तलाश कर रही है और शिव गड्ढे को अभी तक पृथ्वी प्रभाव आंकड़ा संचय में दर्ज नहीं किया गया है। अगर सही साबित होता है, तो यह पृथ्वी पर सबसे बड़ा गड्ढा होगा।

चित्र सन्दर्भ:
1.लोनार झील (Wikimedia)
2.लोनार झील(Googlemaps)
3.रामगढ़ गड्ढा(Googlemaps)
4.चिकक्सुलब क्षुद्रग्रह प्रभाव(youtube)

संदर्भ :-

https://www.space.com/33695-thousands-meteorites-litter-earth-unpredictable-collisions.html
https://en.wikipedia.org/wiki/Lonar_Lake
https://www.thebetterindia.com/75006/india-impact-meteoric-craters-lonar-ramgarh-dhala-shiva/



RECENT POST

  • क्यों होते हैं आनुवंशिक रोग?
    डीएनए

     18-09-2020 07:48 PM


  • बैटरी - वर्षों से ऊर्जा का एक महत्वपूर्ण स्रोत
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-09-2020 04:49 AM


  • मानवता के लिए चुनौती हैं, लीथल ऑटोनॉमस वेपन्स सिस्टम (LAWS)
    हथियार व खिलौने

     17-09-2020 06:19 AM


  • मेरठ पीतल से निर्मित साज
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     16-09-2020 02:10 AM


  • हमारी आकाशगंगा का भाग्य
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     15-09-2020 02:04 AM


  • हस्तिनापुर में स्थित जैन मंदिर में पद्मासन मुद्रा में मौजूद है तीर्थंकर शांतिनाथ की प्रतिमा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-09-2020 04:47 AM


  • निवासी और प्रवासी पक्षियों की कई विविध प्रजातियों का घर है, कच्छ रेगिस्तान वन्यजीव अभयारण्य
    मरुस्थल

     13-09-2020 04:26 AM


  • नशे की लत: विविध आयाम
    व्यवहारिक

     12-09-2020 11:14 AM


  • मेरठ की एक अज्ञात ऐतिहासिक विरासत परीक्षितगढ़
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     11-09-2020 02:37 AM


  • विलुप्‍तप्राय कली गर्दन वाले सारस के विषय में कुछ रोचक तथ्‍य
    पंछीयाँ

     10-09-2020 08:54 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id