Machine Translator

क्या है अर्हत और बोधिसत्व

मेरठ

 07-05-2020 05:55 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

बुद्ध पूर्णिमा या वेसाक का उत्सव न केवल जन्म बल्कि गौतम बुद्ध की बुद्धत्व और मृत्यु का स्मरण कराता है। बुद्धत्व एक प्रबुद्ध अस्तित्व की अवस्था है, जिसमें दुख को समाप्त करने का मार्ग खोजा जाता है। वहीं बुद्धत्व की एक संप्रदाय पर जोर देने वाली गौतम बुद्ध की शिक्षाओं के आधार पर, बुद्धत्व की सार्वभौमिकता और विधि की प्राप्ति पर एक व्यापक वर्णक्रम मौजूद है। जिस स्तर पर इस प्रकटीकरण के लिए तपस्वी साधनों की आवश्यकता होती है, वह सभी से भिन्न होती है, जो एक पूर्ण आवश्यकता पर निर्भर है। महायान बौद्ध धर्म अरहट के बजाय बोधिसत्व आदर्श पर जोर देता है। थेरवाद बौद्ध धर्म में, बुद्ध उस व्यक्ति को संदर्भित करते हैं जो अपने स्वयं के प्रयासों और अंतर्दृष्टि के माध्यम से जागृत हो गया है, बिना शिक्षक के धर्म को इंगित करने के लिए। एक सम्यकसामबुद्ध सत्य और उत्तेजना के मार्ग को खोजने के बाद दूसरों को भी अपनी खोज से शिक्षित करता है। ऐसे ही एक प्रतापीबुद्ध भी अपने प्रयासों से निर्वाण तक पहुँचता है, लेकिन दूसरों को धर्म नहीं सिखाता है। वहीं एक अर्हत को निर्वाण प्राप्त करने के लिए बुद्ध के उपदेश का पालन करने की आवश्यकता होती है, लेकिन निर्वाण प्राप्त करने के बाद वो धर्म का प्रचार भी कर सकते हैं। बौद्ध केवल गौतम को बुद्ध नहीं मानते, जैसे पाल्ली कैनन कई पहले के लोगों को संदर्भित करता है, जबकि महायान परंपरा में इनके अलावा कई आकाशीय मूल के बुद्ध हैं।

कुछ बौद्ध बुद्ध की दस विशेषताओं का चिंतन करते हैं। इन विशेषताओं का उल्लेख पाली कैनन और महायान शिक्षाओं में भी मिलता है और कई बौद्ध मठों में इनका प्रतिदिन जप करते हैं:
1.
जैसा आया था, वैसे ही चला गया (संस्कृत: तथागत)
2. पूर्ण मनुष्य (संस्कृत: अर्हत)
3. पूरी तरह से आत्म-प्रबुद्ध (संस्कृत: सम्यकसंबुद्ध)
4. ज्ञान और आचरण में परिपूर्ण (संस्कृत: विद्याचरणसंपन्न)
5. सौभाग्यपूर्ण (संस्कृत: सुगत)
6. विश्व का जानकार (संस्कृत: लोकविद)
7. अद्वितीय (संस्कृत: अनुतार)
8. शिक्षित किए जाने वाले व्यक्तियों का अधिनायक (संस्कृत: पुरुषदम्यसारथि)
9. देवताओं और मनुष्यों के शिक्षक (संस्कृत: सस्त देव-मनुश्यनम्)
10. धन्य या भाग्यशाली (संस्कृत: भागवत)

वहीं दसवें विशेषण को कभी-कभी "विश्व सम्मानित प्रबुद्ध" (संस्कृत: बुद्ध-लोकनाथ) या "धन्य प्रबुद्ध" (संस्कृत: बुद्ध-भगवान) के रूप में सूचीबद्ध किया जाता है। बौद्ध ग्रंथों के अनुसार, बुद्धत्व प्राप्त करने के बाद प्रत्येक बुद्ध को बुद्ध के रूप में अपना कर्तव्य पूरा करने के लिए अपने जीवन के दौरान दस कार्य करने चाहिए, ये दस कार्य निम्न हैं:
1.
बुद्ध को यह अनुमान लगाना चाहिए कि भविष्य में एक और व्यक्ति बुद्धत्व को प्राप्त करेगा।
2. बुद्ध को बुद्धत्व के लिए प्रयास करने के लिए किसी अन्य व्यक्ति को प्रेरित करना चाहिए।
3. बुद्ध को उन सभी को परिवर्तित करना होगा जिन्हें वह परिवर्तित करना चाहता है।
4. एक बुद्ध को अपने संभावित जीवन काल में कम से कम तीन-चौथाई तक जीना चाहिए।
5. एक बुद्ध को स्पष्ट रूप से अच्छे कर्म और बुरे कर्म को परिभाषित करना चाहिए।
6. बुद्ध को अपने दो शिष्यों को अपने प्रमुख शिष्यों के रूप में नियुक्त करना चाहिए।
7. एक बुद्ध को अपनी माता को पढ़ाने के बाद तवतीमसा स्वर्ग से अवरोहण करना चाहिए।
8. एक बुद्ध को अनवत्पत झील में एक सभा करनी चाहिए।
9. एक बुद्ध को अपने माता-पिता को धम्म में लाना होगा।
10. एक बुद्ध ने सावठी चमत्कार का प्रदर्शन किया होना चाहिए।

कई थेरवाद ग्रंथों में, बुद्ध को एक अर्हत के रूप में वर्णित किया गया है, जिन्होंने जन्म और मृत्यु को पूरी तरह से समाप्त कर दिया है। यानि एक अर्हत का पुनर्जन्म नहीं होता है। यह सर्वोच्च आध्यात्मिक उपलब्धि होती है, जो सभी ध्यान और अभ्यास के लक्ष्य को प्राप्त करके पाई जाती है। अर्हत आध्यात्मिक विकास के 4 चरणों का अंतिम चरण है – स्रोत में प्रवेश करने वाला, एक बार वापस आने वाला, कभी वापस न आने वाला और अर्हत। स्रोत में प्रवेश करने वाला वह है जिसने निर्वाण के मार्ग में प्रवेश किया है और अधिकतम 7 पुनर्जन्मों के बाद अर्हत के स्तर को प्राप्त करेगा। वह दुख के दायरे में वापस नहीं जा सकता। वहीं जैसा कि नाम से ही पता चलता है कि एक बार वापस आने वाला, इनका केवल एक बार उनका पुनर्जन्म होता है। कभी वापस न आने वाला का पुनर्जन्म नहीं होता है, लेकिन वे अभी तक एक अर्हत नहीं बने होते हैं। जबकि अर्हत वो होते हैं, जिन्होंने पुनर्जन्म की ओर ले जाने वाली सारी इच्छा, सारी अज्ञानता को समाप्त कर दिया हो। दूसरी ओर बोधिसत्व (जो कि महायान आदर्श है) वो हैं जो पूर्णजन्म के चक्र को अनदेखा करके सभी संवेदनशील प्राणियों (चाहे वे कहीं भी हो और कितने असंख्य हो) को बचाने का संकल्प लेते हैं, वे निर्वाण में प्रवेश नहीं करते हैं। दूसरे शब्दों में, वह तब तक खुद को मुक्त नहीं करता है जब तक कि उसने खुद को मुक्त करने के लिए एक-दूसरे की मदद नहीं की। बोधिसत्व स्वेच्छा से अपने शपथ को पूरा करने के लिए पुनर्जन्म लेता है। अंतः एक बोधिसत्व आने वाले समय में बुद्ध बनने के मर्ग को अपनाता है। इसलिए यदि आप बुद्धत्व प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपको बोधिसत्व शपथ लेने और असंख्य जीवनकाल में लोगों की मदद करने की आवश्यकता है, जो सिद्धियों और अंततः बुद्धत्व तक ले जाएगा।

वहीं महायान बौद्धों द्वारा अर्हत पर स्वार्थी होने का आरोप लगाया गया है, क्योंकि वो दूसरों की मदद किए बिना अपने स्वयं के उद्धार की तलाश में लगे रहते हैं। थेरवाद परंपरा में भिक्षु समाज से दूर जंगलों में चले जाते हैं, अपने भोजन के लिए भीख माँगते हैं और अर्हत बनने के लिए अपना समय ध्यान में बिताते हैं। महाज्ञानियों का दावा है कि आप बुद्ध नहीं बन सकते जब तक कि आपके पास बोधिसत्व रवैया न हो। बोधिसत्व आदर्श के स्रोत का पता बुद्ध के पिछले जीवन की कहानियों से लगाया जा सकता है जैसा कि जातक कथाओं में बताया गया है। इन कहानियों में से प्रत्येक में, बुद्ध यह याद करते हैं कि कैसे उन्होंने बुद्ध बनने के अपने मार्ग पर पूर्णजन्म लिए हुए लाखों इंसान या जानवर की मदद करी थी। एक व्यक्ति बुद्ध तब बनता है जब उसके मन में स्वयं के लिए कोई भावना न हो, जिसके लिए उसे प्रयास और ध्यान का सहारा नहीं लेना होता है, बल्कि उसके मन में स्वयं का प्रारंभ से ही अस्तित्व नहीं होता है। दरसल एक व्यक्ति असल में भ्रम या उसके अस्तित्व की धारणा को खत्म करने का प्रयास करता है। चलिए इस दृष्टिकोण से चीजों को देखते हुए समझते हैं, एक बौद्ध यह सोच लें कि उसके आस पास कोई भी लोग नहीं हैं, और उसका अस्तित्व भी सून्य के समान है। तब उसके लिए कोई फर्क नहीं पड़ता है कि वो लोगों की मदद करें या नहीं क्योंकि उसका अस्तित्व सून्य के समान है। जब हम स्वयं की धारणा को खत्म करते हैं, तो हमारे आस पास कोई भी प्राणी मौजूद नहीं होता है।

वहीं यदि हम दूसरों के दुख को देख सकते हैं तो हमारे अंदर स्वयं की एक सूक्ष्म धारणा भी मौजूद होती है। यदि कोई व्यक्ति बोधिसत्व की शपथ लेने पर विचार करता है, तो काफी अच्छा है। यह आत्म-केंद्रितता से दूर मन को बाहर की ओर निर्देशित करने में मदद करता है। लेकिन यदि अंत में, उसका लक्ष्य बुद्ध बनना है तो उसको स्वयं की धारणा को समाप्त करना जरूरी है। वहीं साथ ही वो लोगों की मदद करने के लिए बार-बार दुनिया में वापस आ रहा है, तो वो केवल भ्रम को बढ़ा रहा है। दूसरी ओर, यदि कोई जानबूझकर अर्हत बनने का प्रयास करते हैं, तो वे सबसे गहरे दलदल में फंस जाते हैं। बुद्ध का सच्चा भक्त केवल मन में देखता है, शून्यता की खोज करता है और आगे कुछ भी नहीं करने का विचार करके वहीं ठहर जाता है।

चित्र (सन्दर्भ):
1.
गौतम बुद्ध की प्रतिमा और शांहुअन मंदिर के प्रांगण में 500 अर्हत। लियाओनिंग प्रांत, चीन।
2. बोधिसत्व
3. ललितविस्तार , बोधिसत्व तुसिता लोक में
4. बोधिसत्व मैत्रेय
संदर्भ :-
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Buddhahood
2. https://www.budsas.org/ebud/whatbudbeliev/23.htm
3. https://bigpicturezen.com/2008/11/24/arhat-vs-bodhisattva/



RECENT POST

  • सोने और चांदी का भोजन में प्रयोग
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     04-08-2020 08:45 AM


  • रक्षाबंधन और कोविड-19, रक्षाबंधन के बदलते रूप
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     31-07-2020 04:14 PM


  • रोपकुंड कंकाल झील
    नदियाँ

     31-07-2020 05:31 PM


  • ध्यान की अवस्था को संदर्भित करता है कायोत्सर्ग
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     31-07-2020 06:06 PM


  • क्या रहा समयसीमा के अनुसार, अब तक प्रारंग और मेरठ का सफर
    शुरुआतः 4 अरब ईसापूर्व से 0.2 करोड ईसापूर्व तक

     31-07-2020 08:25 AM


  • क्यों दी जाती है बकरीद पर कुर्बानी
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     31-07-2020 06:09 PM


  • एक सिक्के के दो पहलू: शहरीकरण बनाम स्वचालन
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     30-07-2020 03:50 AM


  • सौर ऊर्जा : अमृत ऊर्जा
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     29-07-2020 09:00 AM


  • कैसा होगा हज 2020?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     28-07-2020 06:13 PM


  • क्या रहा मेरठ की वनस्पतियों के अनुसार, अब तक प्रारंग का सफर
    शारीरिक

     27-07-2020 08:00 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.