मेरठ में भी पाए जाते हैं प्राच्य कछुआ कबूतर (Oriental turtle dove)

मेरठ

 16-03-2020 04:07 AM
पंछीयाँ

इस संसार में अनगिनत जीव-जन्तु रहते हैं, जो इस संसार को बनाए रखने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। कोलंबिडे (Columbidae) परिवार के प्राच्य कछुआ कबूतर (Oriental Turtle Dove) पक्षी को मेरठ में भी देखा जा सकता है। प्राच्य कछुआ कबूतर पक्षी यूरोप (Europe), एशिया (Asia) से लेकर जापान (Japan) तक विस्तृत रूप से पाए जाते हैं। इस प्रजाति के विभिन्न पक्षियों के पंख के पैटर्न (Pattern) में बदलाव देखा जा सकता है और इसे छह उप-प्रजातियों में नामित किया गया है। आमतौर पर उच्च अक्षांशों में इन पक्षियों की आबादी सर्दियों में दक्षिण की ओर पलायन करती है।

व्यापक रूप से फैली हुई ये प्रजाति विश्व स्तर पर कम खतरे वाली श्रेणी में आती है। इस प्रवासी पक्षी की उप-प्रजाति की प्रजनन सीमा यूराल पर्वत (Ural Mountains) से साइबेरिया (Siberia) में उत्तरी कज़ाकिस्तान (North Kazakhstan), उत्तरी मंगोलिया (North Mongolia), सखालिन द्वीप (Sakhalin Island) और उत्तरी जापान तक शामिल हैं। प्राच्य कछुए-कबूतर की 6 मान्यता प्राप्त उप-प्रजातियां हैं। प्राच्य टर्टल-डव की पहली उप-प्रजाति अत्यधिक प्रवासी है और मध्य साइबेरिया से चीन, कोरिया (Korea), जापान और कुरील द्वीपों (Kuril Island) में पाई जाती है। वहीं इसकी दूसरी उप-प्रजाति भी प्रवासी है और दक्षिण-पश्चिमी साइबेरिया से ईरान (Iran), अफगानिस्तान (Afghanistan), कश्मीर और नेपाल (Nepal) होते हुए उत्तरी कज़ाकिस्तान के यूराल पर्वत तक पाई जाती हैं। साथ ही इसकी तीसरी (ये दक्षिणी जापान के र्युक्यु द्वीप पर पाई जाती है), चौथी (ये ताइवान तक सीमित है), पाँचवी (प्रायद्वीपीय भारत में) और छठी (उत्तर-पूर्वी भारत से म्यांमार तक और दक्षिण-मध्य चीन में पाई जाती है) उप-प्रजाति गैर-प्रवासी हैं।

एशियाई कछुए कबूतर और यूरोपीय कछुए कबूतर दोनों के पंख एक समान होते हैं, बस एशियाई कछुए कबूतर आकार में थोड़े बड़े होते हैं। इसकी गर्दन के किनारे में चांदी रंग के पंखों से बने काले और सफेद धारीदार किनारों को देखा जा सकता है, लेकिन इसकी छाती कम गुलाबी रंग की होती है, और इस कबूतर के पंख भूरे रंग के होते हैं। इनके द्वारा निकाली जाने वाली आवाज़ दो कर्कश सुर के बाद दो स्पष्ट सुर का अनुगमन करती है, जो कुछ इस प्रकार है - “ह्र-ह्र-ऊ-ऊ”। प्राच्य कछुआ कबूतर भांग, सूरजमुखी, गेहूं, बाजरा और अम्लान के बीज का सेवन करते हैं।

संदर्भ:
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Oriental_turtle_dove
2. https://ebird.org/species/ortdov
3. https://ibis.geog.ubc.ca/biodiversity/efauna/documents/ORTD-article-RT.pdf
चित्र सन्दर्भ:
1.
https://www.rawpixel.com/search/orientalis?sort=curated&page=1
2. https://www.peakpx.com/414846/gray-pigeon
3. https://www.flickr.com/photos/kkoshy/48410405116
4. https://bit.ly/2QimE7A



RECENT POST

  • उड़ने वाले एकमात्र स्तनपायी जीव चमगादड़ों का मानव और पर्यावरण पर प्रभाव
    निवास स्थान

     23-06-2021 08:20 PM


  • भारत में अंतरराज्यीय प्रवास आधारित आंकड़े
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     23-06-2021 10:08 AM


  • अद्वितीय स्वाद और सुगंध के लिए प्रसिद्ध है मुजफ्फरपुर की शाही लीची
    साग-सब्जियाँ

     22-06-2021 08:20 AM


  • अपने पुष्‍पों के सौंदर्य के साथ अद्भुत औषधीय गुणों के धनी नागलिंग के पेड़
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     21-06-2021 07:29 AM


  • रोमांटिक काल में कैसे बदला संगीत का स्‍वरूप?
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     20-06-2021 12:38 PM


  • हमारे देश का गौरव होते हैं भारतीय सेना के वफादार सेवा निवृत्त कुत्ते।
    स्तनधारी

     19-06-2021 01:45 PM


  • जल वितरण प्रणाली में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं. ओवरहेड वाटर टावर
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-06-2021 09:32 AM


  • मेरठ शहर का गौरव है सूरज कुंड पार्क
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     17-06-2021 10:47 AM


  • बैडमिंटन का इतिहास और भारत में बढ़ती इसकी लोकप्रियता
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     15-06-2021 08:47 PM


  • भारत की सबसे प्राचीन सिंधु लिपि को पढ़ने के लिये किये गये कई प्रयास
    ध्वनि 2- भाषायें

     15-06-2021 12:41 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id