सात समंदर पार भी फैली है बाबा औघड़नाथ की महिमा

मेरठ

 21-02-2020 03:33 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

मेरठ स्थित औघड़नाथ मंदिर में हर साल लाखों कांवड़ियां और शिव भक्त महाशिवरात्रि के अवसर पर गंगा जल चढ़ाते हैं। इस प्रक्रिया को पूरा करने में इन लाखों कांवड़ियों को कई दिन लगते हैं जिसे वे एक यात्रा के रूप में पूरा करते हैं। इस यात्रा को कांवड़ यात्रा के नाम से जाना जाता है। कांवड़ यात्रा हरिद्वार, उत्तराखंड के गौमुख और गंगोत्री और बिहार के सुल्तानगंज से गंगा नदी के पवित्र जल को लाने की शिव भक्तों की वार्षिक तीर्थयात्रा है। लाखों भक्त गंगा से पवित्र जल इकट्ठा करते हैं और इसे सैकड़ों मील तक चलकर अपने स्थानीय शिव मंदिरों में चढ़ाते हैं। मेरठ में मुख्यतः पुरामहादेव और औघड़नाथ मंदिर में गंगा जल चढ़ाया जाता है। शिव भक्त दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान, पंजाब, बिहार, ओडिशा, झारखंड, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश के आसपास के राज्यों से आकर कांवड़ यात्रा में शामिल होते हैं।

हिंदू पुराणों में कांवड़ यात्रा का सम्बंध समुद्र मंथन से है। माना जाता है कि समुद्र मंथन में जब अमृत से पहले ज़हर बाहर आया तो धरती उसकी ऊष्मा से जलने लगी। यह देखते हुए भगवान शिव ने उस ज़हर को पी लिया। किंतु पीने के तुरंत बाद भगवान शिव ज़हर की नकारात्मक ऊर्जा से पीड़ित होने लगे। त्रेता युग में शिव के अनन्य भक्त रावण ने ध्यान किया तथा कांवड़ का उपयोग कर गंगा के पवित्र जल को लाकर शिव के पुरामहादेव मंदिर में चढ़ाया। इस प्रकार उसने भगवान शिव को ज़हर की नकारात्मक ऊर्जा से मुक्त किया। कांवड़ यात्रा का नाम ‘कांवड़’ जोकि बांस से बनी एक छड़ है, के नाम पर रखा गया है जिसके दोनों सिरों पर एक-एक लगभग बराबर भार बंधे होते हैं। छड़ के बीच के भाग को एक या दोनों कंधों पर संतुलित करके रखा जाता है। कांवड़ियां कांवड़ में अपने ढके हुए गंगा जल को रखते हैं तथा इसे कंधे पर लेकर यात्रा पूरी करते हैं। यात्रा मुख्य रूप से सावन के महीने में होती है जिसमें सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए जाते हैं। मंदिरों में विशिष्ट कमांडो (Commando) के साथ-साथ अर्धसैनिक और स्थानीय पुलिस बल को भी तैनात किया जाता है। सुरक्षा के लिए औघड़नाथ मंदिर परिसर में कंट्रोल रूम (Control room) बनाया जाता है, जिसे मंदिर परिसर और आसपास लगाए गए सीसीटीवी कैमरों (CCTV Cameras) से जोड़ा जाता है। इन कैमरों से पूरे क्षेत्र की निगरानी की जाती है। सभी प्रकार के वाहनों को एक सीमित दायरे में प्रतिबंधित किया जाता है।

बाबा औघड़नाथ की महिमा केवल मेरठ के आसपास ही नहीं बल्कि सात समंदर पार भी फैली है। भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए भक्तों ने कुछ समय से मंगल आरती के पहले बाबा औघड़नाथ का नयनाभिराम श्रृंगार करने की शुरुआत की है। यह तैयारी सुबह तीन बजे से ही शुरू हो जाती है। पांच छह भक्तों का समूह रोज़ाना अलग-अलग तरह से भगवान का श्रृंगार करता है। भक्तों द्वारा एक वाट्सएप ग्रुप (Whatsapp group) बनाया गया है, जिसमें मंगलआरती के पूर्व होने वाले श्रृंगार की फोटो (Photo) साझा की जाती है। मंगलआरती का वीडियो (Video) भी अपलोड (Upload) किया जाता है। इस ग्रुप से जुड़े लोग अमेरिका में भी रहते हैं और रोज़ाना बाबा के दर्शन कर कृतार्थ होते हैं। हर सोमवार और शिवरात्रि पर शाम सात बजे होने वाली महाआरती के समय चांदी निर्मित पंचमुखी महादेव का सौ कमलपुष्पों से श्रृंगार करने की परंपरा है। किंतु मंगलआरती के पूर्व श्रृंगार की नई परंपरा कुछ समय पूर्व से ही शुरू हुई है जिसमें स्वयंभू शिवलिंग का श्रृंगार किया जाता है तथा सात समंदर पार रह रहे भक्त भी नियमित रूप से बाबा के दर्शन कर अनुगृहित होते हैं।

संदर्भ:
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Kanwar_Yatra
2. https://bit.ly/2HxPtZ0
3. https://bit.ly/326kyfR
4. https://bit.ly/3bMm37h

RECENT POST

  • प्रकृति की अनोखी कहानियां, अपने छोटे से जीवन में पारिस्थितिकी तंत्र को काफी लाभ पहुंचाती है अंजीर ततैया
    व्यवहारिक

     29-05-2022 01:46 PM


  • विश्व कपड़ा व्यापार पर चीन की ढीली पकड़ ने भारत के लिए एक दरवाजा खोल दिया है
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:14 AM


  • भारत में हमें इलेक्ट्रिक ट्रक कब दिखाई देंगे?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:23 AM


  • हिन्द महासागर के हरे-भरे मॉरीशस द्वीप में हुआ भारतीय व्यंजनों का महत्वपूर्ण प्रभाव
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:28 AM


  • देखते ही देखते विलुप्त हो गए हैं, मेरठ शहर के जल निकाय
    नदियाँ

     25-05-2022 08:12 AM


  • कवक बुद्धि व जागरूकता के साक्ष्य, अल्पकालिक स्मृति, सीखने, निर्णय लेने में हैं सक्षम
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:35 AM


  • मेरे देश की धरती है दुर्लभ पृथ्वी खनिजों का पांचवां सबसे बड़ा भंडार, फिर भी इनका आयात क्यों?
    खनिज

     23-05-2022 08:43 AM


  • जमीन पर सबसे तेजी से दौड़ने वाला जानवर है चीता
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:34 PM


  • महान गणितज्ञों के देश में, गणित में रूचि क्यों कम हो रही है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:18 AM


  • आध्यात्मिकता के आधार पर प्रकृति से संबंध बनाने की संभावना देती है, बायोडायनामिक कृषि
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:02 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id