Machine Translator

कहाँ से आया है, रिपब्लिक (Republic, गणतंत्र) शब्द और क्या है इसका अर्थ?

मेरठ

 26-01-2020 10:00 AM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

रिपब्लिक (Republic) शब्द की उत्पत्ति ग्रीक (Greek) शब्द पोलिटिया (politeia) के लैटिन अनुवाद से हुई है। अन्य लैटिन लेखकों के बीच सिसरो (Cicero) ने पोलिटिया को रिस पब्लिका (res publica) के रूप में अनुवादित किया और यह बदले में पुनर्जागरण के विद्वानों द्वारा "रिपब्लिक" (या विभिन्न पश्चिमी यूरोपीय भाषाओं में समान शब्द) के रूप में अनुवादित किया गया था।

पोलिटिया शब्द का अनुवाद सरकार, नीति या शासन के रूप में किया जा सकता है हालांकि यह हमेशा एक विशिष्ट प्रकार के शासन के लिए प्रयुक्त नहीं किया जा सकता जैसा कि आधुनिक शब्द गणतंत्र (Republic) को किया जाता है। राजनीति विज्ञान पर प्लेटो के प्रमुख कार्यों में से एक पोलिटिया था और अंग्रेजी में इसे द रिपब्लिक (The Republic) के नाम से जाना जाता है। हालांकि, शीर्षक के अलावा, द रिपब्लिक के आधुनिक अनुवादों में, पोलिटिया के वैकल्पिक अनुवाद भी उपयोग किए जाते हैं।

रिपब्लिक (Republic) प्लेटो द्वारा 380 ईसापूर्व के आसपास रचित ग्रन्थ है जिसमें सुकरात की वार्ताएँ वर्णित हैं। इन वार्ताओं में न्याय , नगर तथा न्यायप्रिय मानव की चर्चा है। यह प्लेटो की सर्वश्रेष्ठ रचना मानी जाती है। इस पुस्तक के 10 भाग हैं। प्लेटो ने ‘रिपब्लिक’ में विभिन्न व्यक्तियों के मध्य हुए लम्बे संवादों के माध्यम से स्पष्ट किया है कि हमारा न्याय से सरोकार किस प्रकार से होना चाहिए। रिपब्लिक के केन्द्रीय प्रश्न तथा उपशीर्षक न्याय से ही सम्बन्धित हैं, जिनमें वह न्याय की स्थापना हेतु व्यक्तियों के कर्तव्य-पालन पर बल देते हैं। प्लेटो कहते हैं कि मनुष्य की आत्मा के तीन मुख्य तत्त्व हैं – तृष्णा या क्षुधा (Appetite), साहस (Spirit), बुद्धि या ज्ञान (Wisdom)। यदि किसी व्यक्ति की आत्मा में इन सभी तत्वों को समन्वित कर दिया जाए तो वह मनुष्य न्यायी बन जाएगा। ये तीनों गुण कुछेक मात्रा में सभी मनुष्यों में पाए जाते हैं लेकिन प्रत्येक मनुष्य में इन तीनों गुणों में से किसी एक गुण की प्रधानता रहती है। इसलिए राज्य में इन तीन गुणों के आधार पर तीन वर्ग मिलते हैं। पहला - उत्पादक वर्ग – आर्थिक कार्य (तृष्णा), दूसरा - सैनिक वर्ग – रक्षा कार्य (साहस), तीसरा - शासक वर्ग – दार्शनिक कार्य (ज्ञान/बुद्धि)।

प्लेटो के अनुसार जब सभी वर्ग अपना कार्य करेंगे तथा दूसरे के कार्यों में हस्तक्षेप नहीं करेंगे और अपना कर्तव्य निभाएंगे तब समाज व राज्य में न्याय की स्थापना होगी अर्थात् जब प्रत्येक व्यक्ति अपने कर्तव्य का निर्वाह करेगा, तब समाज में न्याय स्थापित होगा और बना रहेगा।
प्लेटो ने अपनी पुस्तक के अधिकांश भाग में सुकरात द्वारा की गयी एक वार्तालाप के बारे में लिखा है जिसमें सुकरात, ग्लूकोन (Glaucon) और अदीमन्तुस (Adeimantus) के मध्य एक आदर्श समाज की चर्चा है, जो सुकरात ने ग्लूकोन (Glaucon) और अदीमन्तुस (Adeimantus) से एक वार्तालाप के दौरान खोजा था। उस काल्पनिक शहर को छोड़कर वास्तविक समाज में मौजूद चार प्रशासन पद्धितियों (धनिकतंत्र (timocracy), कुलीनतंत्र (oligarchy/Plutocracy, जिसे प्लूटोक्रेसी भी कहा जाता है), लोकतंत्र (democracy) और अत्याचार (tyranny, जिसे निरंकुशता भी कहा जाता है) पर विचार करने के लिए चर्चा बदल जाती है।

धनिकतंत्र/टीमोक्रेसी (Timocracy) - द रिपब्लिक में, टीमोक्रेसी को पहले "अन्यायपूर्ण" शासन के रूप में सूचीबद्ध किया गया है। अभिजात वर्ग तब धनिकतंत्र में पतित हो जाता है, जब उसके शासित वर्ग की ओर से मिथ्य होने के कारण, अगली पीढ़ी के अभिभावक और सहायक दल में एक हीन प्रकृति के व्यक्ति शामिल होते हैं। धनिकतंत्र में, अधिक उत्साही और सरल दिमाग वाले व्यक्ति के बजाय, ऐसे नेता चुने जाते हैं, जो युद्ध के लिए बेहतर और अनुकूल हैं"।

कुलीनतंत्र/ओलिगार्की (Oligarchy) - ओलिगार्की शक्ति संरचना का एक ऐसा रूप है जिसमें सत्ता कि बागड़ोर कम संख्या में लोगों के साथ रहती है। ये लोग धन, शिक्षा, धार्मिक, राजनीतिक या सैन्य नियंत्रण द्वारा प्रतिष्ठित हो सकते हैं। ऐसे राज्यों को अक्सर उन परिवारों द्वारा नियंत्रित किया जाता है जो आमतौर पर एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक अपना प्रभाव डालते हैं, लेकिन विरासत इस शब्द के आवेदन के लिए एक आवश्यक शर्त नहीं है।

लोकतंत्र/डेमोक्रेसी (Democracy) - लोकतंत्र सरकार का वह रूप है जिसमें लोगों को अपने शासी कानून को चुनने का अधिकार है। अधिशासी लोगों के मध्य अधिकारों को किस प्रकार साझा किया जाना चाहिये, लोकतांत्रिक विकास और संविधान के लिए मुख्य मुद्दे हैं। इन मुद्दों के कुछ महत्वपूर्ण तथ्य है जैसे सदन और भाषण की स्वतंत्रता, समावेशिता और समानता, सदस्यता, सहमति, मतदान, जीवन का अधिकार और अल्पसंख्यक अधिकार हैं।

निरंकुश (तानाशाह) शासन/ टाईरेन्नी (Tyranny) - एक लोकतंत्र में नागरिकों को दी गई अत्यधिक स्वतंत्रता अंततः एक अत्याचार की ओर ले जाती है, जो सरकार का सबसे उग्र रूप है।
दार्शनिक प्लेटो और अरस्तू ने एक तानाशाह को एक ऐसे व्यक्ति के रूप में परिभाषित किया जो कानून के बिना शासन करता है, अपने ही लोगों और अन्य लोगों के खिलाफ चरम और क्रूर तरीकों का उपयोग करता है।

सन्दर्भ:-
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Republic_(Plato)
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Timocracy
3. https://en.wikipedia.org/wiki/Oligarchy
4. https://en.wikipedia.org/wiki/Democracy
5. https://en.wikipedia.org/wiki/Tyrant



RECENT POST

  • बाम्बिनो नामक लड़के की प्यारी सी कहानी है, ला लूना
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     31-05-2020 11:50 AM


  • एक मार्मिक चित्र जिसने 1857 की क्रांति के दमन को दर्शाया
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     30-05-2020 09:25 AM


  • आज भी आवश्यकता है एक प्राचीन रोजगार “नालबंद” की
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     29-05-2020 10:20 AM


  • भारत के पश्तून/पठानों का इतिहास
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     28-05-2020 09:40 AM


  • ब्रह्मांड की उत्पत्ति, इसके विकास और अंतिम परिणाम की व्याख्या करता है धार्मिक ब्रह्मांड विज्ञान
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     27-05-2020 01:00 PM


  • भारतीय और एंग्लो इंडियन पाक कला
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2020 09:45 AM


  • कहाँ से प्रारम्भ होता है, बाल काटने का इतिहास ?
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     25-05-2020 09:45 AM


  • क्या है, अतिचालकों का मीस्नर प्रभाव ?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     24-05-2020 10:50 AM


  • क्या हैं, दुनिया भर में ईद के विभिन्न रूप ?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     23-05-2020 11:25 AM


  • कोविड-19 का है कृषि क्षेत्र पर जटिल प्रभाव
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     22-05-2020 10:05 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.