मानव जीवन में एर्गोनॉमिक्स (Ergonomics) का महत्व

मेरठ

 24-01-2020 10:00 AM
घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

पहले के समय में दफ्तरों में 8 घंटे कंप्यूटर (Computer) के आगे बैठे रहने से कई कर्मचारियों के स्वास्थ्य में नुकसान पहुंचता था। लेकिन वर्तमान समय में कर्मचारियों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए कई दफ्तरों में उनकी सुविधा अनुसार उपकरण प्रदान किए जाते हैं। पांच दशक से भी अधिक समय पहले, ऐसा माना जाता है कि भारतीय एर्गोनॉमिक्स (Ergonomics) की उत्पत्ति आमतौर पर प्रेसिडेंसी कॉलेज, कोलकाता (तब कलकत्ता) के फिज़ियोलॉजी (Physiology) विभाग में हुई थी।

एर्गोनॉमिक्स, जिसे मानव कारक के रूप में भी जाना जाता है, मानव और कार्यस्थल के अन्य तत्वों के बीच सहसंबंध के साथ जुड़ा हुआ अनुशासन है। यह एक ऐसा क्षेत्र है जो मनुष्यों की उत्पादकता को बढ़ाने के लिए कार्यस्थल या प्रणाली को डिज़ाइन (Design) करने के लिए सिद्धांतों, विधियों और तकनीकों का प्रबंधन करता है। यह अनुशासन मुख्य तीन क्षेत्रों के रूप में भौतिक एर्गोनॉमिक्स, संगठनात्मक एर्गोनॉमिक्स और संज्ञानात्मक एर्गोनॉमिक्स का निर्वाह करता है।

भारत में, पिछले 5 दशकों के दौरान लगभग 45% निवेश निर्माण / बुनियादी ढांचे के लिए ज़िम्मेदार है। देश की लगभग 16-18% कामकाजी आबादी प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से अपने जीवनयापन के लिए निर्माण पर निर्भर करती है। 3 करोड़ से अधिक लोग भारतीय निर्माण उद्योग में व्यस्त हैं जो 200 बिलियन से अधिक की पूंजी को उत्पन्न करते हैं। कंपनियों ने तनाव को कम करने के लिए एर्गोनॉमिक्स मानकों और प्रक्रियाओं को अधिक लचीलेपन, गलत आसन के उन्मूलन और संचालन की स्थिरता के लिए निष्पादित किया है। परिणामस्वरूप, 1989 से 1995 तक श्रमिकों के भत्ता बीमा प्रीमियम (Premium) में 70% की गिरावट आई, जिससे 3.1 मिलियन डॉलर की बचत हुई थी।

तनावपूर्ण वातावरण में, एर्गोनोमिक बैठक केवल एक आराम के लिए नहीं है, बल्कि यह एक आवश्यकता है। क्योंकि कार्यालय, सरकार, सैन्य, परिवहन, कानून प्रवर्तन या अन्य वातावरण में लंबे समय तक बैठने वाले कर्मचारी, जो विशिष्ट चुनौतियों का सामना करते हैं, उनके लिए एर्गोनोमिक कुर्सियाँ काफी आरामदायक होती हैं।

चलिए जानते हैं 24/7 वातावरण में एर्गोनोमिक कुर्सियों का लाभ :-
1. बेहतर कामगार स्वास्थ्य:
74% श्रमिक नियमित रूप से अपने साधारण मेज़ पर दर्द का अनुभव करते हैं, जिससे व्याकुलता, उत्पादकता में कमी, स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं और बीमारियाँ हो सकती हैं। वहीं पीठ के निचले हिस्से में दर्द वास्तव में ही दूसरा सबसे आम कारण है कि लोग काम करना छोड़ देते हैं। एर्गोनोमिक कुर्सियां इस सामान्य असुविधा को कई तरीकों से रोकती हैं।
2. बेहतर कार्य उत्पादकता: न केवल 24/7 कुर्सियां श्रमिकों को स्वास्थ्य लाभ प्रदान करती हैं, बल्कि तनाव और विकर्षणों को कम करके, वे उन्हें काम पर केंद्रित रखने में भी मदद करती हैं।
3. अनुकूलन क्षमता: जब कई कर्मचारी एक ही तरह की मेज़ का उपयोग करते हैं, तो शरीर के विभिन्न प्रकारों के लिए एक प्रभावी बैठने का विकल्प खोजना काफी मुश्किल हो सकता है। एर्गोनोमिक फर्नीचर (Furniture) समायोज्य सीट ऊंचाई, समायोज्य बाहु आश्रय, और विभिन्न कर्मचारियों के लिए पर्याप्त सीट की चौड़ाई और गहराई में अनुकूल समर्थन प्रदान करके इस समस्या को हल करता है।
4. व्यवसाय की कम लागत: कार्यस्थल में एर्गोनॉमिक्स श्रमिकों को अधिक केंद्रित और उत्पादक बनाने के साथ-साथ काम से होने वाली क्षति और बीमारियों को रोक कर लागत को कम करता है।

एर्गोनॉमिक्स को भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान बॉम्बे के औद्योगिक डिज़ाइन केंद्र में औद्योगिक डिज़ाइन पाठ्यक्रम के हिस्से के रूप में, 1979 में स्नातकोत्तर स्तर पर, और बाद में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान दिल्ली, गुवाहाटी और कानपुर में पेश किया गया था। जनवरी, 1979 में, हैदराबाद में आयोजित भारतीय विज्ञान कांग्रेस के 66वें सत्र में फिज़ियोलॉजी के अनुभाग का अध्यक्षीय भाषण देते हुए, डॉ. आर.एन. सेन ने "श्रमिक के एर्गोनॉमिक्स, साइंस एवं टेक्नोलॉजी: इसकी हमारे राष्ट्रीय विकास में भूमिका" (Ergonomics, Science and Technology of Man at Work: its Role in our National Development) के बारे में चर्चा की थी। वहीं 1983 में, इंडियन सोसायटी ऑफ एर्गोनॉमिक्स (Indian Society of Ergonomics) के गठन के लिए सहमति दी गई।

एर्गोनॉमिक्स में अनुसंधान के तीन मुख्य क्षेत्र शामिल हैं: भौतिक, संज्ञानात्मक और संगठनात्मक एर्गोनॉमिक्स। इन व्यापक श्रेणियों के भीतर कई विशेषज्ञता हैं, भौतिक एर्गोनॉमिक्स के क्षेत्र में विशेषज्ञता में दृश्य एर्गोनॉमिक्स शामिल हो सकते हैं। संज्ञानात्मक एर्गोनॉमिक्स के क्षेत्र में विशेषज्ञता में प्रयोज्य, मानव-कंप्यूटर संपर्क और उपयोगकर्ता अनुभव अभियांत्रिकी शामिल हो सकते हैं।

संदर्भ:
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Human_factors_and_ergonomics
2. https://www.conceptseating.com/benefits-of-ergonomic-seating
3. https://bit.ly/37y7OAR
4. https://www.ise.org.in/fountainhead.shtml



RECENT POST

  • मेरठ में मौजूद शनिदेव की अष्‍टधातु की प्रतिमा का संक्षिप्‍त विवरण
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     23-01-2021 12:13 PM


  • 7 वीं (मेरठ) डिवीजन का प्रथम विश्व युद्ध में अपरिहार्य भूमिका
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     22-01-2021 03:54 PM


  • बकरी पालन व्‍यवसाय का संक्षिप्‍त विवरण
    स्तनधारी

     21-01-2021 01:32 AM


  • पिछले वर्ष लॉकडाउन के तहत सड़क दुर्घटनाओ में देखी गई कमी
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     20-01-2021 11:48 AM


  • विभिन्न वर्गों के लिए दिए जाते हैं, विभिन्न प्रकार के पासपोर्ट
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     19-01-2021 12:27 PM


  • बुलियन (bullion) और न्यूमिज़माटिक (Numismatic ) में अंतर
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     18-01-2021 12:44 PM


  • जीवन को बेहतरीन बनाती है, निस्वार्थ भावना
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     17-01-2021 12:03 PM


  • कोरोना महामारी के तहत चमड़े के निर्यात में 10.89% की गिरावट
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     16-01-2021 12:26 PM


  • जैन धर्म के पवित्र मंदिर की दीवारों पर चित्रित दैवीय कलाकृतियाँ
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     15-01-2021 12:54 AM


  • आखिर क्यों है कुंभ मेले में मकर संक्रांति के दिन का इतना महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-01-2021 12:24 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id