भारतीयों की जीवन प्रत्याशा में हो रही है लगातार वृद्धि

मेरठ

 19-11-2019 11:18 AM
सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

वर्तमान समय में ऐसा कुछ भी नहीं है जिसका मापन न किया जा सकता हो। यहां तक कि कोई व्यक्ति औसतन कितने वर्षों तक जीवित रह सकता है इसे भी अब जीवन प्रत्याशा के माध्यम से मापा जा रहा है। जीवन प्रत्याशा किसी व्यक्ति की औसत आयु है अर्थात वह कितने वर्षों तक जीवित रह सकता है या जीवित रह रहा है। भारत में 2002-06 में केरल की जीवन प्रत्याशा सबसे अधिक थी जबकि पंजाब में रहने वाले लोगों की जीवन प्रत्याशा दूसरे स्थान पर थी। इसी के साथ असम राज्य की जीवन प्रत्याशा सबसे कम आंकी गयी थी।

2002-06 और 2010-14 में भारत के विभिन्न राज्यों की जीवन प्रत्याशा को आप निम्नलिखित तालिका के माध्यम से देख सकते हैं:

2010-14 में उत्तरप्रदेश की जीवन प्रत्याशा 64.1 तथा 2002-06 में 60.0 थी। इन वर्षों में सबसे कम जीवन प्रत्याशा असम के बाद उत्तरप्रदेश राज्य की थी। इन वर्षों के बाद भारत में जीवन प्रत्याशा के स्तर में निरंतर वृद्धि हुई है। 2013-17 के लिए नवीनतम नमूना पंजीकरण सर्वेक्षण (Sample Registration Survey-SRS) के अनुसार, महिलाओं की जीवन प्रत्याशा 70.4 वर्ष और पुरुषों की 67.8 वर्ष हुई। 2012-16 में समग्र जीवन प्रत्याशा 68.7 वर्ष से बढ़ी जब महिलाओं के लिए जीवन प्रत्याशा 70.2 वर्ष तथा पुरुषों के लिए 67.4 वर्ष थी। शहरी क्षेत्रों में महिलाओं के लिए जीवन प्रत्याशा 73.70 साल जबकि ग्रामीण इलाकों में उनकी जीवन प्रत्याशा 69 आंकी गयी थी। इसी प्रकार शहरी इलाकों और ग्रामीण इलाकों के लिए पुरूषों की जीवन प्रत्याशा क्रमशः 71.20 वर्ष और 66.40 वर्ष थी।

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के अनुसार, 2050 तक वैश्विक जीवन प्रत्याशा बढ़कर 77.1 वर्ष होने की उम्मीद है। भारत के विभिन्न राज्यों में जीवन प्रत्याशा में निरंतर व्यापक बदलाव होते रहते हैं। 73.3 वर्ष और 77.8 वर्ष की जीवन प्रत्याशा के साथ क्रमशः दिल्ली में जन्म लेने वाले पुरुषों तथा केरल में जन्म लेने वाली महिलाओं की जीवन प्रत्याशा सबसे अधिक है। इसके विपरीत, छत्तीसगढ़ में पैदा हुए पुरुष और उत्तर प्रदेश में जन्मी महिलाओं की जीवन प्रत्याशा सबसे कम है। इन स्थानों में जीवन प्रत्याशाएं क्रमशः 63.8 वर्ष और 65.60 वर्ष हैं।

संयुक्त राष्ट्र विश्व जनसंख्या पूर्वेक्षण 2015 संशोधन के अनुसार अवधि 2010-2015 में दुनिया भर में औसत जीवन प्रत्याशा 71 वर्ष (पुरुषों के लिए 70 वर्ष और महिलाओं के लिए 72 वर्ष) थी। इसी प्रकार वर्ल्ड फैक्टबुक (World Factbook) के अनुसार 2016 के लिए औसत जीवन प्रत्याशा 69 वर्ष (महिलाओं के लिए 71.1 तथा पुरुषों के लिए 67 वर्ष) थी। लगभग 200 वर्षों तक दुनिया भर में जीवन प्रत्याशा लगातार बढ़ी है। 19वीं और 20वीं शताब्दी के दौरान स्वच्छता, आवास और शिक्षा में सुधार आदि कारक जीवन प्रत्याशा को बढ़ाने में सहायक थे। इससे पूर्व विभिन्न बीमारियों के संक्रमण के कारण जीवन प्रत्याशा घट रही थी किंतु टीकों और एंटीबायोटिक (Antibiotic) दवाओं के विकास के कारण जीवन प्रत्याशा में सुधार हुआ है।

संदर्भ:
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/List_of_Indian_states_by_life_expectancy_at_birth
2.https://bit.ly/357jQ2u
3.https://en.wikipedia.org/wiki/List_of_countries_by_life_expectancy
4.https://www.nature.com/scitable/content/life-expectancy-around-the-world-has-increased-19786/



RECENT POST

  • विभिन्न वर्गों के लिए दिए जाते हैं, विभिन्न प्रकार के पासपोर्ट
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     19-01-2021 12:27 PM


  • बुलियन (bullion) और न्यूमिज़माटिक (Numismatic ) में अंतर
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     18-01-2021 12:44 PM


  • जीवन को बेहतरीन बनाती है, निस्वार्थ भावना
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     17-01-2021 12:03 PM


  • कोरोना महामारी के तहत चमड़े के निर्यात में 10.89% की गिरावट
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     16-01-2021 12:26 PM


  • जैन धर्म के पवित्र मंदिर की दीवारों पर चित्रित दैवीय कलाकृतियाँ
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     15-01-2021 12:54 AM


  • आखिर क्यों है कुंभ मेले में मकर संक्रांति के दिन का इतना महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-01-2021 12:24 PM


  • मेरठ के सामाजिक मीडिया पर वायरल हो रहे आपराधिक दर पत्र
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     13-01-2021 12:10 PM


  • एक दूसरे पर निर्भर है, मुद्रा विनिमय दर और व्यापार संतुलन
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     12-01-2021 11:33 AM


  • भारतीय उपमहाद्वीप का एक प्राचीन खेल ‘गिल्ली डंडा’
    हथियार व खिलौने

     11-01-2021 10:50 AM


  • परलौकिक अनुभव प्रदान करने वाला जादू उत्पन्न करता है, “जुहल”
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     10-01-2021 02:59 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id