क्या हैं अनुवांशिक बीमारियां और उनके कारण?

मेरठ

 16-09-2019 01:35 PM
डीएनए

मनुष्यों के गुणसूत्रों में मौजूद जीन (Gene) अनुवांशिकता की जैविक इकाई हैं जो शरीर के कई लक्षणों को निर्धारित करते हैं। गुणसूत्रों में मौजूद इन जीनों का समूह जीनोम (Genome) कहलाता है जो एक साथ एकत्रित होकर हमारे शरीर का अनुवांशिक पदार्थ बनाता है जिसमें ढेर सारी सूचनाएं निहित होती हैं। जीनोम न्यूक्लियोटाइड (Nucleotide) की 6 बिलियन से भी अधिक ईकाईयों से मिलकर बना होता है जो शरीर के 46 गुणसूत्रों में विभाजित होता है। विभिन्न प्रकार के कार्यों के लिए शरीर में प्रोटीन (Protein) और अन्य अणुओं का निर्माण इन विशिष्ट जीन क्रमों या डीएनए (DNA) क्रमों के द्वारा ही किया जाता है। अगर इन डीएनए क्रमों में अंतर आ जाए तो शरीर में अनावश्यक या हानिकारक प्रोटीन का निर्माण होता है जो हमारे शरीर की क्रियाओं को प्रभावित करते हैं। डीएनए क्रम में अचानक आए इस परिवर्तन को उत्परिवर्तन कहा जाता है जो कुछ परिस्थितियों में लाभकारी होते हैं, किन्तु अधिकांश उत्परिवर्तन शरीर में अनुवांशिक रोगों की संभावनाओं को बढ़ा देते हैं जो फिर एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में संचरित हो सकते हैं।

प्रायः उत्परिवर्तन, कोशिका विभाजन के समय होते हैं लेकिन कई परिस्थितियों में ये कुछ पर्यावरण कारकों जैसे पराबैंगनी विकिरण, रसायन, विषाणु आदि के कारण हो सकते हैं।

पर्यावरण कारकों से होने वाले उत्परिवर्तन आनुवांशिक रोगों जैसे सिस्टिक फाइब्रोसिस (Cystic fibrosis), सिकल सैल एनीमिया (Sickle cell anemia), वर्णांधता (Color blindnes) आदि को जन्म देते हैं। इस प्रकार के उत्परिवर्तन विभिन्न कैंसर (Cancer) का कारण भी बनते हैं।

यह बीमारियां पीढ़ी दर पीढ़ी संचरित हो सकती हैं। उत्परिवर्तन के कारण हो रहे अनुवांशिक रोगों से बचने के लिए आवश्यक है कि आप अपने परिवार के स्वास्थ्य इतिहास की पूरी जानकारी रखें और इसे अपने स्वास्थ्य चिकित्सक से भी साझा करें। आपका चिकित्सक फिर आपको इससे संबंधित कुछ ज़रूरी बातों जैसे रोगों की पहचान के लिए उचित स्वास्थ्य परीक्षण, स्वस्थ आहार सूची, नियमित व्यायाम, तंबाकू और शराब का सेवन न करना आदि के बारे में बताएगा ताकि इन रोगों के प्रभाव पर नियंत्रण पाया जा सके। इसके लिए आपके कुछ अनुवांशिक परीक्षण भी किए जाएंगे जो रोग की पहचान और उसे दूर करने के लिए प्रभावशाली होंगे। उत्परिवर्तन के उपचार इसके प्रकार के आधार पर किए जाते हैं।

वर्तमान में आनुवांशिक रोगों के उपचार के लिए क्रिस्पर (CRISPR) तकनीक का उपयोग किया जा रहा है जो आनुवांशिक रोगों के उपचार के लिए प्रभावी तकनीक है। इस तकनीक का प्रयोग सर्वप्रथम 2012 में किया गया था। इस तकनीक में कुछ नए जीनों को सम्पादित किया जाता है जो आनुवांशिक रोगों की संभावना को कम कर देता है। भविष्य में इस प्रकार की तकनीक कैंसर, रक्त विकारों, रंजक हीनता, एड्स (AIDS) आदि बीमारियों के उपचार के लिए बहुत कारगर सिद्ध हो सकती है।

संदर्भ:
1.
https://genetics.thetech.org/about-genetics/mutations-and-disease
2. https://bit.ly/2EBmEw4
3. https://www.genome.gov/FAQ/Genetics-Disease-Prevention-and-Treatment
4. https://ghr.nlm.nih.gov/primer/consult/treatment
5. https://labiotech.eu/tops/crispr-technology-cure-disease/

RECENT POST

  • राखी या स्‍नेह के धागे से  स्‍वेच्‍छा से अटूट बंधन में जुड़े वास्तविक व काल्‍पनिक रिश्‍तेदार
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     11-08-2022 10:17 AM


  • भारतीय और विश्व साहित्य का अत्यधिक विकसित रूप है, कन्नड़ साहित्य
    ध्वनि 2- भाषायें

     10-08-2022 10:06 AM


  • हुसैनी ब्राह्मण: वे हिंदू जिनका इमाम हुसैन, कर्बला और मुहर्रम के साथ है स्थायी संबंध
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:25 AM


  • कपड़ों पर बढ़ते हुए जीएसटी के साथ भारतीय पारंपरिक हथकरघा उद्योग के लिए अन्य चुनातियाँ
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     08-08-2022 08:51 AM


  • अमेज़ॅन वर्षा वन में हुए भारी परिवर्तन को दिखाती है, अंतरिक्ष से ली गई तस्वीरें
    जंगल

     07-08-2022 12:12 PM


  • भारतीय गणितीय पांडुलिपियां जो आधुनिक समस्याओं के निराकरण में भी हैं सहायक
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     06-08-2022 10:23 AM


  • अंतर्राष्ट्रीय ट्रैफिक लाइट दिवस विशेष: एकीकृत यातायात प्रबंधन प्रणाली से मेरठ में ट्रैफिक समस्‍या होगी दूर
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     05-08-2022 11:21 AM


  • सरधना के अफगान नवाब एवं वंशज,जिन्होंने अंग्रेज़ों का साथ दिया और बाद में सूफीवाद अपनाया
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-08-2022 06:23 PM


  • भारतीय पौराणिक कथाओं और इतिहास में विशेष महत्व रखता है विंध्यपर्वत
    पर्वत, चोटी व पठार

     03-08-2022 06:09 PM


  • गुरुकुलों की पेड़ों की छांव से लेकर स्कूलों के बंद कमरों तक भारतीय शिक्षा प्रणाली का सफर
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     02-08-2022 09:01 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id