स्विट्जरलैण्‍ड के एक संग्रहालय में संग्रहित मेरठ के निकटवर्ती लाक्षागृह का एक चित्र

मेरठ

 03-07-2019 10:57 AM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

1760 के दशक में बनायी गयी पहाड़ी चित्रकला शैली (बसोहली) का एक चित्र आज भी ज्‍युरिक़ (स्विट्जरलैण्‍ड) के एक संग्रहालय में रखा गया है। यह चित्र महाभारत के एक प्रमुख प्रकरण लाक्षागृह से संबंधित है, जिसमें रात्रि में लाक्षागृह को धधकते हुए दिखाया गया है। यह चित्र माणकु और नैनसुख की पहली पीढ़ी (फत्तू, खुशाला, काम, गौधु, निक्का, और रांझा) के द्वारा तैयार लघुचित्रों में से है, जिसे माणकु के पुत्र फत्तू द्वारा 1760 में हिमाचल प्रदेश के गुलेर में बनाया गया गया था। माणकु के दो पुत्र (फत्तू और खुशाला) और नैनसुख के चार पुत्र (काम, गौधु, निक्का और रांझा) सामूहिक रूप से नैनसुख और माणकू के बाद की पहली पीढ़ी के नाम से जाने जाते थे।

यह पहली पीढ़ी बसोहली चित्रकला में पारंगत थी। बसोहली शैली में मज़बूत और विपरीत रंगों का उपयोग दिखायी देता है। इनकी एक रंग की पृष्ठभूमि होती है, जिस कारण चित्र बहुत आकर्षक दिखायी देते हैं। विशेष रूप से भागवत पुराण के दृष्टांतों के कई दृश्यों में भी यह शैली अपनायी गयी है। भागवत लघुचित्रों में भी शैली और सजावटी डिज़ाइन (Design) में विविधता को एक ही श्रृंखला में बनाया गया है। बसोहली चित्रकला शैली के अंतर्गत रामायण, महाभारत तथा गीत गोविन्द पर आधारित चित्रों की भी रचना की गयी है। लाक्षागृह का लघु चित्र भी महाभारत से लिया गया था।

लाक्षागृह वह स्‍थान है जहां दुर्योधन द्वारा पाण्‍डवों को जीवित जला देने की योजना बनाई गयी थी, जिन्‍हें विदुर की विद्वता द्वारा बचा लिया गया था। यह लाक्षागृह मेरठ से 35 किमी. बागपत जिले के आधुनिक बरनावा गाँव में स्थित है। यह स्थल लगभग 100 फीट ऊंचे टीले पर स्थित है, जो कि हिंडन नदी के किनारे 29 एकड़ भूमि में फैला है, जिसके अब मात्र अवशेष ही शेष रह गए हैं। इस किले में कई प्रचीन मूर्तियां स्थित हैं तथा इसमें गुरूकुल आश्रम और गौशाला बनायी गयी हैं। इस टीले की देख-रेख का दायित्‍व भारतीय पुरातत्‍व विभाग को सौंपा गया है।

इलाहाबाद में गंगा नदी के उत्तरी तट पर 29 बीघा के क्षेत्र में फैले एक विशाल टीले, जैसा कि इतिहास में उल्‍लेखित है, के लिए संभावित लाक्षागृह होने का दावा किया जाता है, जिसके प्रत्‍यक्ष प्रमाण अभी उपलब्ध नहीं हैं।

संदर्भ:
1. https://bit.ly/324fI2n
2. https://www.harekrsna.com/sun/features/03-17/features3791.htm
3. https://en.wikipedia.org/wiki/Lakshagraha
4. https://www.patrika.com/travel-news/lakshagrah-of-barnava-is-of-mahabharat-1199170/

RECENT POST

  • रेत के अवैध खनन का परिणाम- विकास या विनाश?
    समुद्री संसाधन

     08-12-2022 11:26 AM


  • विश्व मृदा दिवस विशेष: क्यों है भारत में भूमि के स्वामित्व के अधिकार की अस्पष्टता ?
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     07-12-2022 11:49 AM


  • मेरठ व् देश भर में छोटे वर्गों के आर्थिक सहायक रूप में लघु वित्त बैंकों की भूमिका -
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     06-12-2022 10:36 AM


  • चावल की खेती से अधिक लाभ प्रदान कर रहा है झींगा पालन
    मछलियाँ व उभयचर

     05-12-2022 11:11 AM


  • इस रविवार हम आपके लिए कश्मीर की वादियों से लाल सोना लेकर आए हैं
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     04-12-2022 03:42 PM


  • क्या हैं श्री कृष्ण की छवि में निहित गहरे अर्थ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     03-12-2022 10:30 AM


  • विश्व भर के पौराणिक ग्रंथों में पवित्र व् असाधारण माना जाने वाला “सोम” आखिर क्या है ?
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     02-12-2022 10:35 AM


  • क्या एंटीरेट्रोवाइरल दवाएं एचआईवी संक्रमण को जड़ से खत्म कर सकती है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     01-12-2022 11:50 AM


  • इंडियन स्विफ्टलेट पक्षी: जिसके घोसले की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में है लाखों में
    निवास स्थान

     30-11-2022 10:36 AM


  • टोक्सोप्लाज़मोसिज़ गोंडी- एक ऐसा  परजीवी जो चूहों और इंसानों को भयमुक्त कर सकता है
    कोशिका के आधार पर

     29-11-2022 10:37 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id