स्‍वास्‍थ्‍य की दृष्टि से लाभदायक मिट्टी के बर्तन

मेरठ

 06-05-2019 10:10 AM
म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

कई वर्षों से भारत में मिट्टी के बर्तनों का उपयोग किया जाता आ रहा है। मिट्टी के बर्तन में खाना पकाने और खाने से लोग निरोग व स्वस्थ रहते हैं। उसमें भोजन में उपस्थित सूक्ष्म पोषक तत्वों की हानि नहीं होती है जबकि प्रेशर कुकर (Pressure Cooker) व अन्य बर्तनों में भोजन पकाने से उसके सूक्ष्म पोषक तत्व कम हो जाते हैं जिससे भोजन की पौष्टिकता में कमी आती है। पौष्टिक आहार और स्वाद के लिए मिट्टी के बर्तन सभी प्रकार के खाना पकाने हेतु अनुकूल हैं। इसमें धीमी गति से खाना पकाने की प्रक्रिया शामिल है जो कि भोजन की गुणवत्ता के साथ-साथ स्वाद को भी बरकार रखती है। इसके अलावा, मिट्टी के बर्तन में पकाये गये खाने में आयरन (Iron), कैल्शियम (Calcium), मैग्नीशियम (Magnesium) और सल्फर (Sulphur) की मात्रा भी अधिक होती है, जो हमें अनेक प्रकार के रोगों विशेषकर कैंसर (Cancer) से बचाता है। तो आइए जानते हैं मिट्टी के बर्तनों के फायदे के विषय में।

मिट्टी के बर्तन-
कम आंच में पके मिट्टी के बर्तन प्रारंभ में अच्‍छी तरह से भोजन नहीं पकाते हैं जबकि गहरे रंग, उच्चतापित और कलप का कार्य किये हुए मिट्टी के बर्तन भलि-भांति कार्य करते हैं। मिट्टी के बर्तनों की सतह कम आंच में पकने के कारण पतली या छिद्रपूर्ण रह जाती है, जिस कारण भोजन पकाने के दौरान बर्तनों से तरल के वाष्पीकृत होने या अवशोषित होने की समस्‍या उत्‍पन्‍न हो जाती है। निम्‍न ताप में पके मिट्टी के बर्तनों के छिद्रों को भरकर उनपर कलप करके इन्‍हें उच्‍च ताप में पके मिट्टी के बर्तनों के समान उपयोग किया जा सकता है। इनके छिद्रों को भरने के लिए बर्तन को खाद्य तेल में भिगोकर इनमें प्राकृतिक राल को भरा जाता है। तेल बर्तन में भलि भांति ऊष्‍मा का संचालन करता है।

मिट्टी के बर्तनों का उपयोग करते समय ध्‍यान रखने योग्‍य बिंदु-
अच्‍छे बर्तनों का चयन करना-
मिट्टी के बर्तनों का चयन करते हुए ध्‍यान रखें कि उन पर किसी विशेष प्रकार की धात्‍विक कलप का उपयोग ना किया गया हो। सही और विश्‍वसनीय मिट्टी के बर्तनों का चयन करते समय स्‍थानीय कुम्‍हारों को प्राथमिकता दें।
देख-भाल-
ये बर्तन धात्विक बर्तनों की अपेक्षा बहुत नाजुक होते हैं। मिट्टी के बर्तन में खाना बनाते समय आंच को बहुत कम या मध्यम पर रखना चाहिए।
सफाई-
मिट्टी के बर्तनों को साफ करने के लिए इन्‍हें सर्वप्रथम 10-15 मिनट तक पनी में भिगोएं फिर 1 चम्मच नमक डालकर स्क्रबर (Scrubber) के साथ साफ़ करें। बेहतर परिणाम के लिए आप इसमें नमक के साथ बेकिंग सोडा (Baking Soda) का उपयोग कर सकते हैं।
रखरखाव-
महीने में कम से कम दो बार मिट्टी के बर्तनों को 5-10 मिनट तक धीमी आंच पर गर्म करें। यह उनके छिद्रों के अंदर फंसी अशुद्धियों को जला देता है।

खाना पकाने हेतु मिट्टी के बर्तन का उपयोग और उनके फायदे-
भारी धातु मुक्‍त-

मिट्टी के बर्तन पूर्णतः मिट्टी से बने होते हैं अतः आप निश्‍चिंत होकर इनमें भोजन पका सकते हैं, इनसे आपके भोजन में किसी प्रकार की धातु जैसे एल्युमिनियम (Aluminium), कैडमियम (Cadmium) या लेड (Lead) आदि नहीं मिलेंगे।
कम तेल और पानी की आवश्‍यकता-
मिट्टी के बर्तनों में खाना पकाने के लिए कम तेल और कम पानी की आवश्‍यकता होती है। इसमें अधिकांश सब्‍जियां अपनी प्राकृतिक नमी के साथ पकती हैं।
मिट्टी की छिद्रपूर्ण प्रकृति और संपूर्ण रूप से ओवन (Oven) की तरह धीमी गति से पकने से अधिकांश सब्जियां प्राकृतिक नमी के साथ अच्छी तरह से पकती हैं।
मिट्टी के बर्तनों में पकाया गया भोजन बेहतर स्वाद देता है-
धीमी आंच पर पका भोजन मसालों के स्वाद और सुगंध को बेहतर बनाए रखता है। इसमें अतिरिक्‍त पानी नहीं डालना पड़ता है, चूंकि भोजन को उसमें उपस्थित प्राकृतिक नमी के माध्‍यम से ही पकाया जाता है जिससे इसका स्वाद और बेहतर बना रहता है।

कार्य-कुशल प्रक्रिया-
मिट्टी के बर्तन समान रूप से ऊष्‍मा का संचालन करते हैं। एक बार जब बर्तन गर्म हो जाता है, तो भोजन कम आंच पर भी पक जाता है। यहाँ तक कि भोजन के 50% तक पक जाने पर ही आंच को बंद कर यदि उसे ढक दिया जाए तो उसमें मौजूद गर्मी से ही भोजन 100% पाक सकता है। इससे काफी ऊर्जा की बचत की जा सकती है।

संदर्भ:
1.https://solarcooking.fandom.com/wiki/Solar_cooking_pots
2.https://stayfitnyoung.com/nutrition/clay-pots-health/
चित्र सन्दर्भ:
1. https://picryl.com/media/pottery-pots-ceramic-music-d8df02

RECENT POST

  • तनावग्रस्त लोगों के लिए संजीवनी बूटी साबित हो रही है, संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 10:02 AM


  • जगन्नाथ रथ यात्रा विशेष: दुनिया के सबसे बड़े रथ उत्सव से जुडी शानदार किवदंतियाँ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:22 AM


  • भारत के सबसे बड़े आदिवासी समूहों में से एक, गोंड जनजाति की संस्कृति व् परम्परा, उनके सरल व् गूढ़ रहस्य
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:35 AM


  • सिंथेटिक कोशिकाओं में छिपी हैं, क्रांतिकारी संभावनाएं
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:19 AM


  • मेरठ का 300 साल पुराना शानदार अबू का मकबरा आज बकरियों का तबेला बनकर रह गया है
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:15 AM


  • ब्लास्ट फिशिंग से होता न सिर्फ मछुआरे की जान को जोखिम, बल्कि जल जीवों को भी भारी नुकसान
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:25 AM


  • एक पौराणिक जानवर के रूप में प्रसिद्ध थे जिराफ
    शारीरिक

     26-06-2022 10:08 AM


  • अन्य शिकारी जानवरों पर भारी पड़ रही हैं, बाघ केंद्रित संरक्षण नीतियां
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:49 AM


  • हम में से कई लोगों को कड़वे व्यंजन पसंद आते हैं, जबकि उनकी कड़वाहट कई लोगों के लिए सहन नहीं होती
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:49 AM


  • भारत में पश्चिमी शास्त्रीय संगीत धीरे-धीरे से ही सही, लेकिन लोकप्रिय हो रहा है
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:30 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id