विभिन्न धार्मिक ग्रंथो के अनुसार वट वृक्ष का महत्व

मेरठ

 29-04-2019 11:24 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

आरण्यक, हिंदू धर्म के चार वेदों का हिस्सा हैं। उसी आरण्यक का दसवाँ अध्याय महानारायण उपनिषद है। जिसमे अश्वत्थम वृक्ष का वर्णन है। अश्वत्थम वृक्ष की पहचान के बारे में पुस्तकों में कुछ भ्रम है। इसे तमिलनाडु में अरसा मरम, तेलुगु में रवि-मनु, तथा कन्नड़ में अरुली-मर्रा कहा जाता है। अश्वत्थम वृक्ष को ही बरगद और वट के नाम से भी जाना जाता है।

एक बात हम जानते हैं कि यह एक पौराणिक और अलौकिक वृक्ष है। अश्वत्थम को "शरीर-वृक्ष" कहा जाता है। विभिन्न धर्म ग्रंथो के अनुसार यह वृक्ष स्वर्ग में निहित है।

चीनी विद्या में, शरीर की तुलना बोधि वृक्ष (बुद्धि के पेड़) से की जाती है। कथा उपनिषद 2.3.1. के अनुसार बोधि वृक्ष में ऊपर की ओर जड़ तथा नीचे की ओर शाखाएं शुद्धता की परिचायक हैं, यह वृक्ष ब्रह्म समान है और यह वृक्ष अमर है। वट वृक्ष को ट्री ऑफ लाइफ (Tree Of Life) भी कहा जाता है क्यूंकि इस वृक्ष की जडें ऊपर और शाखाएं नीचे मानी जाती हैं, इस वृक्ष को ब्राह्मण के रूप में मान्यता प्राप्त हैं: वृक्ष, जडे, तने और शाखाएं - ईश्वर, पदार्थ और प्राणियों की अभूतपूर्व दुनिया का प्रतिनिधित्व करती हैं।

बो वृक्ष के नीचे बुद्ध को ज्ञान प्राप्त हुआ; बो ज्ञान का पेड़ है; बो पेड़ पीपल या बरगद का पेड़ है; बो का पूरा नाम बो-गहा है। बो पेड़ पीपल या बरगद का पेड़ है; बो ज्ञान है, बोधि आत्मज्ञान है, बुद्ध ज्ञान है और बुद्ध वह है जिसने आत्मज्ञान प्राप्त किया। बोधिसत्व संभावित बुद्ध है जिसका अर्थ है कि आकांक्षी के पास ज्ञान और गुण (बोधि सत्व) दोनों हैं।

भगवान श्री कृष्ण ने भगवत गीता के पंद्रहवे अध्याय के चतुर्थ सर्ग में कहा है कि सभी वृक्षों के मध्य वह स्वयं अश्वत्थ वृक्ष हैं । एक अन्य कथा के अनुसार ऋषि नारद ने कुबेर के दो बेटों को जानबूझकर घंडारवा महिलाओं के साथ एक नदी के तट पर नग्न खेलने के कारण वृक्ष बनने का शाप दिया। विनय और अनुकम्पा की आस में नग्न युवतियों ने ऋषि से क्षमा याचना की, जबकि कुबेर के पुत्रों ने ऋषि की उपेक्षा की, जिससे क्रोधित होकर ऋषिवर ने उन्हें वृक्ष बनने का शाप दिया। बाद में भगवान श्री कृष्ण ने इन पेड़ों को उखाड़कर एक सौ दिव्य वर्षों के बाद उनकी आत्माओं को मुक्त किया।

श्री स्वामी सत्यानंद सरस्वती इस पेड़ को रहस्यमय वृक्ष कहते हैं। वह कहते हैं कि इस अभेद्य वृक्ष की जड़ें ऊपर और शाखाएँ नीचे होती हैं। स्वामी सत्यानंद सरस्वती के अनुसार - मानव शरीर भी उल्टे वृक्ष के समान होता है, क्यूंकि मानव शरीर में दिमाग जड़, मेरुदण्ड (Spinal Column) पेड़ के तने और हमारे विचार, भावना और सोच पेड़ की शाखाओं के समान होती हैं। मनोगत सत्य और रहस्यों वाले इस वृक्ष के गुप्त ज्ञान को तब तक नहीं समझा जा सकता जब तक कि आकांक्षी को आध्यात्मिक जागृति नहीं मिलती।

आइये अब जानते हैं ईसाई धर्म में बरगद के वृक्ष का महत्व। जैसा कि ब्रह्मांडीय वृक्ष पर कृष्ण की छवि दिखाई देती हैं, यह अमर जीवन वाला वृक्ष यीशु मसीह की याद दिलाता है जोकि स्वयं इस वृक्ष का फल हैं। क्रॉस (Cross) पर जीसस, वृक्ष के नीचे बुद्ध, और ब्रह्मांडीय वृक्ष पर कृष्ण लगभग एक समान दिखाई देते हैं। पेड़ की कई नैमित्तिक जड़ें हैं, जो पेड़ की शाखाओं से नीचे आती हैं; व्यापक वृक्ष अधिक नैमित्तिक जड़ों को उगाता है। अहंकार, अज्ञानता और भारी शाखाओं का समर्थन करने वाले वासनों की तुलना में ये उत्साही जड़ें नीचे बढ़ती हैं, जबकि पेड़ के तने की लौकिक जड़ें ब्रह्म में स्वर्ग की ओर बढ़ती हैं। निचली शाखाएं मनुष्य, पशु, पक्षी, सरीसृप, कीड़े, इत्यादि, असंवेदनशील और अचल पदाथों का पर्याय हैं। ऊपरी शाखाएँ गन्धर्वों, यक्षों, और देवताओं से तुलना करने योग्य हैं। हमें कम जड़ों को तमस (अंधेरे और भ्रम) की चपेट में आने से रोकने के लिए नैमित्तिक जड़ों को काटना होगा। फिर हमें उन नैमित्तिक जड़ों को काटना होगा, जो मध्य शाखाओं को राजस (गति और जुनून) की आपूर्ति करती हैं; अब हम ऊपरी शाखाओं (और उनकी नैमित्तिक जड़ों) के साथ रह गए हैं, जिनकी खातिर सत्व (अच्छाई, सदाचार और शांति) है।

ब्रह्म की प्राप्ति का क्या अर्थ है। यह जीवन और व्यवहार की एक निश्चित गुणवत्ता की ओर इशारा करता है।

सन्दर्भ:-
1. https://bit.ly/2PAB7uk

RECENT POST

  • प्रकृति की अनोखी कहानियां, अपने छोटे से जीवन में पारिस्थितिकी तंत्र को काफी लाभ पहुंचाती है अंजीर ततैया
    व्यवहारिक

     29-05-2022 01:46 PM


  • विश्व कपड़ा व्यापार पर चीन की ढीली पकड़ ने भारत के लिए एक दरवाजा खोल दिया है
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:14 AM


  • भारत में हमें इलेक्ट्रिक ट्रक कब दिखाई देंगे?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:23 AM


  • हिन्द महासागर के हरे-भरे मॉरीशस द्वीप में हुआ भारतीय व्यंजनों का महत्वपूर्ण प्रभाव
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:28 AM


  • देखते ही देखते विलुप्त हो गए हैं, मेरठ शहर के जल निकाय
    नदियाँ

     25-05-2022 08:12 AM


  • कवक बुद्धि व जागरूकता के साक्ष्य, अल्पकालिक स्मृति, सीखने, निर्णय लेने में हैं सक्षम
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:35 AM


  • मेरे देश की धरती है दुर्लभ पृथ्वी खनिजों का पांचवां सबसे बड़ा भंडार, फिर भी इनका आयात क्यों?
    खनिज

     23-05-2022 08:43 AM


  • जमीन पर सबसे तेजी से दौड़ने वाला जानवर है चीता
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:34 PM


  • महान गणितज्ञों के देश में, गणित में रूचि क्यों कम हो रही है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:18 AM


  • आध्यात्मिकता के आधार पर प्रकृति से संबंध बनाने की संभावना देती है, बायोडायनामिक कृषि
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:02 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id