स्वाधीनता संग्राम की कार्यस्थली बन गया था मेरठ का मुस्तफा महल

मेरठ

 01-04-2019 07:00 AM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

ऊपर दिए गए तस्वीर में आप जो महल देख रहे है यह मेरठ की मुस्तफा महल की है जिसे एक पोस्टकार्ड (Postcard) से लिया गया है। मुस्तफा महल एक प्राचीन भवन है, जिसका निर्माण 1899 में नवाब इश्क खान ने अपने पिता नवाब मुस्तफा खान शेफ्ता के सम्मान में करवाया था। नवाब मुस्तफा खान उर्दू एवं फ़ारसी के मशहूर कवि थे। महल की पूरी योजना स्वयं नवाब मोहम्मद इश्क खान द्वारा 30 एकड़ ज़मीन में की गयी थी। इसकी अंदरूनी हिस्सों की भव्यता, सजे हुए द्वार और कलाकृतियाँ इस महल के कुछ मुख्य आकर्षण हैं। यह महल मेरठ के छावनी क्षेत्र में स्थित है और यहां के ऐतिहासिक स्थलों में से एक है तथा दुनिया भर की शैलियों जैसे ब्रिटिश, राजस्थानी और अवधी वास्तुकला के मिश्रण का एक बेहतरीन उदाहरण है।

आजादी की लड़ाई और आंदोलन में नवाब इश्क खान और उनके पिता ने कई विद्रोह में सक्रिय भूमिका निभाई थी। यह महल कभी स्वतंत्रता संग्राम की कार्यस्थली थी। कई वर्षों तक देश की आजादी की रणनीति इसी महल में बनती थी। दरअसल नवाब मुस्तफा खान एक देशभक्त, कवि और आलोचक थे जो मिर्ज़ा ग़ालिब के करीबी दोस्त थे। 1857 की क्रांति में उन्होने अपनी मातृभूमि के समर्थन में बड़े पैमाने पर लिखा था, जिस कारण से उन्हें सात साल तक जेल में कैद किया गया था। उनके बेटे नवाब इश्क खान एक प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ और राष्ट्रीय कार्यकर्ता, और उदारवादी स्वभाव के व्यक्ति थे।

अपने पिता के सम्मान में उन्होंने इस महल को खुद डिजाइन (Design) किया, उन्होनें 1887 में महल का निर्माण शुरू किया और ये 1899 में बनकर तैयार हुआ। उस समय यह महल 42,000 वर्ग गज पर बना हुआ था और इसे बनाने में 15 लाख रुपये की लागत आयी थी। पंरतु अब इसका लगभग आधा क्षेत्र ही बचा हुआ है। इस महल का एक प्राचीन पोस्टकार्ड भी है जो उस समय की ऐतिहासिकता को अपने अंदर संजोए हुए है। यदि आप इस पोस्टकार्ड और आज के मुस्तफा महल को देखेंगे तो पाएंगे कि इतने वर्षों बाद भी मुस्तफा महल का जादू आज भी बरकरार है।

स्वतंत्रता संग्राम के विभिन्न चरणों के दौरान ये महल महात्मा गाधी, जवाहर लाल नेहरू, सरदार पटेल, मोहम्मद अली जिन्ना, सरोजिनी नायडू और कई ऐसे आजादी के नायकों की बातचीत का साक्षी रहा है और उनकी मेजबानी कर चुका है। महल के अन्दर रखी अनेक प्राचीन कलाकृतियाँ, तस्वीरें, लकड़ी की नक्काशी आदि वस्तुएं उस युग का प्रतिनिधित्व करती हैं। इस महल का सारा फर्नीचर लन्दन से आयात किया गया था जो आज भी महल में मौजूद है।

इसके अलावा मुस्तफा महल में उस समय की और भी कई चीज़ों को संरक्षित किया गया है जैस पेंडुलम घड़ियां, प्राचीन झूमर, संदूक, ड्रेसिंग टेबल (dressing table), विशाल दर्पण और कई ऐसे प्राचीन वस्तुएं आदि। ये सभी वस्तुएं यहां के गौरवशाली अतीत की याद दिलाते हैं। इस महल के आंतरिक कक्षों के नाम रंगों के नाम पर रखें गये थे और कमरों का उपयोग वर्ष के मौसम के अनुसार किया जाता है।

संदर्भ:

1. http://www.meerutonline.in/city-guide/mustafa-castle-in-meerut
2. https://economictimes.indiatimes.com/magazines/travel/mustafa-castle-fading-histories/articleshow/3734418.cms
3. https://postcardmemory.wordpress.com/2013/03/27/mustafa-palace-meerut/

RECENT POST

  • आध्यात्मिकता के आधार पर प्रकृति से संबंध बनाने की संभावना देती है, बायोडायनामिक कृषि
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:02 AM


  • हरियाली की कमी और बढ़ते कांक्रीटीकरण से एकदम बढ़ जाता है, शहरों का तापमान
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:45 AM


  • खेती से भी पुराना है, मिट्टी के बर्तनों का इतिहास, कलात्मक अभिव्यक्ति का भी रहा यह साधन
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:46 AM


  • भगवान गौतम बुद्ध के जन्म से सम्बंधित जातक कथाएं सिखाती हैं बौद्ध साहित्य के सिद्धांत
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:49 AM


  • हमारे बहुभाषी, बहुसांस्कृतिक देश में शैक्षिक जगत से विलुप्‍त होता भाषा अध्‍ययन के प्रति रूझान
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:06 AM


  • अपघटन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, दीमक
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:31 PM


  • भोजन का स्थायी, प्रोटीन युक्त व् किफायती स्रोत हैं कीड़े, कम कार्बन पदचिह्न, भविष्य का है यह भोजन?
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:11 AM


  • मेरठ में सबसे पुराने से लेकर आधुनिक स्विमिंग पूलों का सफर
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:38 AM


  • भारत में बढ़ रहा तापमान पानी की आपूर्ति को कर रहा है गंभीर रूप से प्रभावित
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:07 PM


  • मेरठ की रानी बेगम समरू की साहसिक कहानी
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     11-05-2022 12:10 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id