Machine Translator

मेरठ छावनी का एक विस्मृत अध्याय

मेरठ

 23-02-2019 12:05 PM
द्रिश्य 2- अभिनय कला

“मेरठ छावनी” जहां से प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की चिंगारी भड़की थी, उसके इतिहास का एक अध्याय अधिकांश लोगों द्वारा भूला दिया गया है। हम उस समय की बात कर रहे है जब मेरठ छावनी “भारतीय सेना सिग्नल” में कुशल और प्रशिक्षित थी। संकेत देने का यह प्रशिक्षण मेरठ छावनी में 1901 में हुआ था और इसके 10 साल बाद औपचारिक रूप से सेना के "भारतीय सेना सिग्नल कोर" डिवीजन को स्थापित किया गया था।

एक समय था जब संकेतन की कला को पूरी ब्रिटिश सेना द्वारा आत्मसात किया गया था। इसके बीस से अधिक वर्षों के बाद संकेतन की कला को ब्रिटिश सैनिकों के साथ साथ भारतीय सैन्य दल को सिखाना भी प्रारंभ हुआ और इसके लिये नियमित स्कूलों की स्थापना की गई। 1878-80 में कई भारतीय रेजिमेंट थी जिनमें संकेतन की कला सिखाई जाती थी। उस समय में मेरठ, इलाहाबाद, रावल पिंडी, बॉम्बे और सिकंदराबाद सबसे प्रतिष्ठित स्कूलों में से एक थे। वे सैनिक जिन्होंने यहां से संकेत देने की कला को सीखा था उन्होंने अफगान अभियान में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, और ये प्रशिक्षण उन वर्षों में भारतीय सैनिकों को ज्यादा से ज्यादा सिखाया जाने लगा।

इस प्रशिक्षण हेतु प्रत्येक रेजिमेंट में निर्देश के एक विशेष पाठ्यक्रम के लिए गैर-कमीशन अधिकारियों का चयन होता है। इस चयन के लिये उन्हें कुछ कसौटीयों पर खरा उतरना होता था, यदि वे अपने कर्तव्यों के इन आवश्यक भागों में कुशल पाए जाते थे, तो वे 42 कार्यदिवसों के स्कूल पाठ्यक्रम को समाप्त कर लेते थे। उस समय में संकेतन की कला को सीखने के लिये अंग्रेजी भाषा का ज्ञान आवश्यक था क्योंकि इसी भाषा में संकेतो को पढ़ा और भेजा जाता था। आप इस लिंक (https://bit.ly/2V8QtHY) में 1897 के मेरठ की एक तस्वीर भी देख सकते है जहां आपको भारत में ब्रिटिश ध्वज नजर आयेगा।

संकेतन के लिये अंग्रेजी भाषा का ज्ञान होना जरूरी था, चुने गए सैनिक अंग्रेजी पढ़ और लिख सकते थे और अच्छी तरह से समझ भी सकते थे। उन्हें हेलीओग्राफ, ध्वज, लैम्प, सेमाफोर और साउंडर के विभिन्न तरीकों के माध्यम से अंग्रेजी में एक मिनट में लगभग दस शब्दों की औसत दर से संदेश प्रसारित करने में सक्षम होना पड़ता था। उस समय पूरे भारत के रेजिमेंटल स्कूलों में अंग्रेजी भाषा सिखाई जाती थी। यहां तक कि मद्रास प्रेसीडेंसी में, कई सैनिक ऐसे भी थे जिन्हें बचपन से अंग्रेजी पढ़ने और लिखने के लिए लाया गया था। संकेतन को सिखने के लिये सैनिकों में विकसित मांसपेशियों के साथ-साथ उच्च बुद्धिमत्ता का होना भी आवश्यक था और ये दोनों योग्यताएं लेफ्टिनेंट डब्ल्यू.एच वेबर (तीसरे बंगाल अश्व सेना के प्रमुख्, जो केंद्र में अधिकारी थे) के तहत मेरठ के सैन्य दल में मौजूद थी।

हालांकि मेरठ के सैनिक संकेतन की प्रक्रिया को पहले ही सीख गये थे, परंतु एक अलग इकाई के रूप में भारतीय सेना के सिग्नल कोर का गठन दस साल बाद 15 फरवरी 1911 को लेफ्टिनेंट कर्नल एस एच पावेल के तहत किया गया था। इस कोर ने प्रथम विश्व युद्ध और द्वितीय विश्व युद्ध में महत्वपूर्ण योगदान भी दिया।

संदर्भ:
1. https://bit.ly/2SkCqx2
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Indian_Army_Corps_of_Signals
3. https://bit.ly/2U3PXLg
4. 246/192811355880hash=item2ce473cee8:g:odQAAOSwlY1ZHNOj:rk:3:pf:1&frcectupt=true



RECENT POST

  • विभिन्न संस्कृतियों में हंस की महत्ता और व्यापकता
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     02-07-2020 11:08 AM


  • विभिन्न सभ्यताओं की विशेषताओं की जानकारी प्रदान करते हैं उत्खनन में प्राप्त अवशेष
    सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

     01-07-2020 11:55 AM


  • मेरठ का शहरीकरण और गंध
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     01-07-2020 01:20 PM


  • भारत में मौजूद उल्कापिंड टकराव से बने गढ्ढों पर एक झलक
    खनिज

     30-06-2020 06:40 PM


  • क्या है, बुलियन में निवेश का अर्थशास्त्र
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     29-06-2020 11:45 AM


  • फिल्म मेम साहब का गीत दिल दिल से मिलाकर देखो, आइल ऑफ़ केप्री से है प्रेरित
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     28-06-2020 12:20 PM


  • कैसे हुआ मेरठ की पसंदीदा, नान खटाई का जन्म
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     27-06-2020 10:00 AM


  • क्या मानव बुद्धि सीमित है?
    व्यवहारिक

     26-06-2020 09:45 AM


  • 21वीं सदी में ख़त्म होते, मोची व्यवसाय के लिए नए क्षितिज
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     25-06-2020 01:40 PM


  • सौंदर्य से परिपूर्ण गुलमोहर के पेड़ का इतिहास
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-06-2020 11:55 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.