मेरठ में दो शताब्दियों पुराना चर्च, सेंट जॉन बैपटिस्ट

मेरठ

 26-12-2018 10:00 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

सेंट जॉन बैपटिस्ट चर्च (St. John the Baptist church) उत्तर प्रदेश राज्य के मेरठ शहर के छावनी क्षेत्र में स्थित उत्तर भारत के सबसे प्राचीन चर्चो में से एक है। इसमें अभी भी एक विशाल लेकिन अकार्यशील संगीत उपकरण पाइप ऑर्गन (pipe organ) है, जो मैन्युअल रूप से संचालित बेलो (घंटियों) को नियोजित करता है। लकड़ी के बेंच, पीतल का ईगल लेक्टर्न, गिलास की खिड़कियां लगभग दो शताब्दियों की तारीखें बयान करते है और इसमें तत्कालीन फर्नीचर एवं दीवारों पर लगे शिलालेख आज भी देखे जा सकते हैं। मेरठ के दर्शनीय स्थल में यह चर्च काफी महत्वपूर्ण स्थान रखता है। इस चर्च में प्रवेश करने पर इंग्लैंड के बड़े चर्च में होने का अहसास होता है।

यह चर्च दिल्ली के सेंट जेम्स चर्च से भी पुराना है, जिसकी स्थापना कर्नल जेम्स स्किनर (1778-1841), जो की एक इरेगुलर कैवेलरी (irregular cavalry) जिसे स्किनर्स हॉर्स (Skinner's Horse) के नाम से भी जाना जाता है के सैन्य अधिकारी थे, ने करवायी थी, एवं इसका निर्माण 1836 में लगभग पूरा हुआ था। यह भारत के प्राचीनतम गिरजाभरों में से एक है। परंतु इस से भी पुराना चर्च मेरठ का सेंट जॉन बैपटिस्ट चर्च है। इस चर्च को सन 1819 में ईस्ट इंडिया कंपनी की ओर से छप्पन हजार की लागत पर 'रेव हेनरी फिशर' ने स्थापित किया था तथा इसका निर्माण कार्य 1821 तक चला था। रेव हेनरी फिशर, ब्रिटिश सेना चैपलैन और इंग्लैंड की एक चर्च में पादरी थे , जो भारत के मेरठ में तैनात थे। इस वीडियो (https://www.youtube.com/watch?v=toQ-D_bai_A) में आप इसके इतिहास से जुड़े कई तथ्यों के बारे में जान सकते है।

यह चर्च 1800 के दशक की शुरुआत में एक एंग्लिकन पैरिश चर्च का एक अच्छा उदाहरण है। इसका आर्किटेक्चर (architecture) पैरिश चर्च के अनुरूप है और इसमें भी गोथिक रिवाइवल शैली देखी जा सकती है। इस विशाल चर्च में दस हज़ार लोगों के बैठने की क्षमता है। चर्च परिसर में सुंदर लॉन, हरियाली और शांत वातावरण है। चर्च के परिसर में प्राचीन सिमेट्री (cemetery) है, जो ऐतिहासिक है, क्योंकि 10 मई 1857 में भारत के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में मारे गए ब्रिटिश सैन्य अफसरों व सिपाहियों को यहीं पर दफनाया गया था। सेंट जोंस सिमेट्री कई एकड़ में फैली है और यहां बहुत सी कब्रें भी हैं, जिनमें से कुछ कब्रें शताब्दी से अधिक पुरानी हैं। इनमें उत्कीर्ण हेडस्टोन, नक्काशीदार खंभे और कुछ बहुत ही सुरुचिपूर्ण पुरानी कब्रें भी शामिल हैं, जोकि उचित रखरखाव ना मिलने के कारण तथा मौसम की मार से ये कब्रें खंडहर में बदलती जा रही हैं, इन पर झाड़ियां, पौधों आदि उग आये हैं।

संदर्भ:
1.https://bit.ly/2Ad8cWr
2.https://bit.ly/2RlrVwY
3.https://www.youtube.com/watch?v=toQ-D_bai_A

RECENT POST

  • प्रकृति की अनोखी कहानियां, अपने छोटे से जीवन में पारिस्थितिकी तंत्र को काफी लाभ पहुंचाती है अंजीर ततैया
    व्यवहारिक

     29-05-2022 01:46 PM


  • विश्व कपड़ा व्यापार पर चीन की ढीली पकड़ ने भारत के लिए एक दरवाजा खोल दिया है
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:14 AM


  • भारत में हमें इलेक्ट्रिक ट्रक कब दिखाई देंगे?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:23 AM


  • हिन्द महासागर के हरे-भरे मॉरीशस द्वीप में हुआ भारतीय व्यंजनों का महत्वपूर्ण प्रभाव
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:28 AM


  • देखते ही देखते विलुप्त हो गए हैं, मेरठ शहर के जल निकाय
    नदियाँ

     25-05-2022 08:12 AM


  • कवक बुद्धि व जागरूकता के साक्ष्य, अल्पकालिक स्मृति, सीखने, निर्णय लेने में हैं सक्षम
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:35 AM


  • मेरे देश की धरती है दुर्लभ पृथ्वी खनिजों का पांचवां सबसे बड़ा भंडार, फिर भी इनका आयात क्यों?
    खनिज

     23-05-2022 08:43 AM


  • जमीन पर सबसे तेजी से दौड़ने वाला जानवर है चीता
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:34 PM


  • महान गणितज्ञों के देश में, गणित में रूचि क्यों कम हो रही है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:18 AM


  • आध्यात्मिकता के आधार पर प्रकृति से संबंध बनाने की संभावना देती है, बायोडायनामिक कृषि
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:02 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id