Machine Translator

बिना किसी वीज़ा के करें इन देशों का भ्रमण

मेरठ

 22-12-2018 10:00 AM
सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

विदेश में घूमने के लिए सबसे बड़ा झंझट होता है "वीज़ा"। वीज़ा वह दस्तावेज होता है जो किसी व्यक्ति को अन्य देश में प्रवेश करने की अनुमति देता है। हर देश के वीज़ा को लेकर अलग नियम कानून होते हैं। इसलिये वीज़ा के लिए किसी देश के दूतावास के ना जाने कितने चक्कर लगाने पड़ते हैं और कई सवालों के जवाब भी देने पड़ते हैं। पासपोर्ट की रैंकिंग (Ranking) में भारत के पासपोर्ट को 66वां स्थान प्राप्त है। सिंगापुर इसमें सबसे आगे है। लेकिन दुनिया में करीब 61 ऐसे देश हैं जहां भारतीय पासपोर्ट धारकों को वीज़ा की जरूरत नहीं पड़ती, इन देशों में आप वीज़ा फ्री या वीज़ा ऑन अराइवल (Visa On Arrival) की सुविधा (यानि आप जब उस देश में पहुंचेंगे तो आपको वहीं वीज़ा मिल जाएगा) से यात्रा कर सकते हैं। इसके लिए कुछ शुल्क चुकाना होता है और कुछ नियमों का पालन करना होता है।

निम्नलिखित देशों में भारतियों के लिए वीज़ा ऑन अराइवल की सुविधा है:

अधिकतर देशों में वीज़ा ऑन अराइवल के लिए वापसी की फ्लाइट टिकट (Flight Ticket) दिखाना ज़रूरी है। इसके साथ ही होटल रिजर्वेशन (Hotel Reservation), ठहरने के दौरान होने वाले खर्च के लिए पर्याप्त पैसे होने चाहिए। इसके अलावा पासपोर्ट की वैधता कम से कम अगले छह महीने तक की होनी चाहिए। साथ ही अधिकतर देशों में वीज़ा ऑन अराइवल की फीस लगती है, इसे जानकर ही आगे की यात्रा करें। आज हम आपको दुनिया के 7 ऐसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों के बारे में बताएंगे जहां आप वीज़ा फ्री यात्रा कर सकते हैं, और यह अंतर्राष्ट्रीय यात्रा आपके बजट में भी होगी:

इंडोनेशिया:
भारतीय पासपोर्ट धारक इंडोनेशिया में बिना वीज़ा के 30 दिनों तक यात्रा कर सकते हैं। इंडोनेशिया दुनिया के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है। यहाँ के बाली को पर्यटकों का स्वर्ग कहा जाता है। देश की राजधानी जकार्ता काफ़ी चहल-पहल वाला शहर है। यहां की खूबसूरती देखने लायक होती है। इंडोनेशिया ने एशियाई खेलों की मेज़बानी भी की है।

भूटान:
भारतीय पासपोर्ट धारक भूटान में वीज़ा के बिना मुक्त यात्रा कर सकते हैं। भूटान दुनिया के सबसे खुशहाल देशों में जाना जाता है। देश की राजधानी थिमफू बौद्ध स्थलों के लिए मशहूर है। यहां पर विशाल ताशिचो ज़ोंग, किलेदार मठ, सुनहरी छत वाले सरकारी महल आदि देखने लायक हैं। भूटान का प्राकृतिक सौंदर्य भी बहुत लाजवाब हैं।

मालदीव:
यह देश 90 दिनों की अवधि के लिए भारतीय पासपोर्ट धारकों को वीज़ा मुक्त यात्रा की अनुमति देता है। सफेद रेत का समुद्र तट और अद्भुत पानी के नीचे की दुनिया ही मालदीव को आपकी पहली पसंद बनाता है। दुनिया में सबसे खूबसूरत समुद्र तटों के लिए मालदीव जाना जाता है। भारतीय पर्यटकों के लिए मालदीव एक मशहूर हनीमून डेस्टिनेशन (Honeymoon destination) है।

मॉरीशस:
मॉरीशस भारतीय पासपोर्ट धारकों को 60 दिनों की अवधि के लिए वीज़ा मुक्त यात्रा प्रदान करता है। अगर आप समुद्र तट और पहाड़ों के बीच घूमने का शौक रखते हैं तो मॉरीशस अच्छा विकल्प हो सकता है। यहां का प्राकृतिक सौन्दर्य मनभावन है। यहां पर आप ब्लैक रिवर गोर्जेस नेशनल पार्क, झरने, वर्षावन आदि देख सकते है।

नेपाल:
नेपाल भारतीय नागरिकों को वीज़ा मुक्त यात्रा प्रदान करता है। शांति और दोस्ती के 1950 के भारत-नेपाल संधि के तहत भारतियों को नेपाल की वीज़ा मुक्त यात्रा करने की स्वतंत्रता है। नेपाल बहुत ही खूबसूरत देश है। यहां घूमने लायक कई खूबसूरत जगहें हैं जैसे काठमांडू, पोखरा, पशुपतिनाथ मंदिर आदि।

सेशेल्स:
भारतीय पासपोर्ट धारक सेशेल्स में अधिकतम 30 दिनों तक बिना वीसा के रह सकते हैं। पूर्वी अफ्रीका के तट पर सेशेल्स, एक द्वीपसमूह है जिसमें हिंद महासागर में 115 द्वीप शामिल हैं। देश लुभावनी मूंगा चट्टानों और समुद्र तटों का घर है। यहां पर जीवों में अल्डबरा कछुए जैसे दुर्लभ जानवर भी पाये जाते हैं।

फीजी:
भारतीय पासपोर्ट धारकों को फीजी यात्रा के लिए पहले से वीज़ा लेने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। यहाँ भारतियों के लिए वीज़ा ऑन अराइवल की सुविधा उपलब्ध है जो आपको 120 दिन तक का वीज़ा दिला सकता है। फीजी के द्वीपसमूह में 300 से अधिक द्वीप शामिल हैं। इसकी राजधानी सूवा में कुछ आश्चर्यजनक ब्रिटिश औपनिवेशिक वास्तुकला भी देखने को मिलती है।

संदर्भ:
1.https://bit.ly/2BDHgPU
2.https://www.makemytrip.com/blog/visa-on-arrival-for-indians
3.https://www.quora.com/Which-countries-can-an-Indian-travel-to-without-a-visa



RECENT POST

  • विभिन्न संस्कृतियों में हंस की महत्ता और व्यापकता
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     02-07-2020 11:08 AM


  • विभिन्न सभ्यताओं की विशेषताओं की जानकारी प्रदान करते हैं उत्खनन में प्राप्त अवशेष
    सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

     01-07-2020 11:55 AM


  • मेरठ का शहरीकरण और गंध
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     01-07-2020 01:20 PM


  • भारत में मौजूद उल्कापिंड टकराव से बने गढ्ढों पर एक झलक
    खनिज

     30-06-2020 06:40 PM


  • क्या है, बुलियन में निवेश का अर्थशास्त्र
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     29-06-2020 11:45 AM


  • फिल्म मेम साहब का गीत दिल दिल से मिलाकर देखो, आइल ऑफ़ केप्री से है प्रेरित
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     28-06-2020 12:20 PM


  • कैसे हुआ मेरठ की पसंदीदा, नान खटाई का जन्म
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     27-06-2020 10:00 AM


  • क्या मानव बुद्धि सीमित है?
    व्यवहारिक

     26-06-2020 09:45 AM


  • 21वीं सदी में ख़त्म होते, मोची व्यवसाय के लिए नए क्षितिज
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     25-06-2020 01:40 PM


  • सौंदर्य से परिपूर्ण गुलमोहर के पेड़ का इतिहास
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-06-2020 11:55 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.