दिसंबर में रामपुरवासियों के घूमने के लिए कुछ पर्यटन स्थल

मेरठ

 18-12-2018 09:24 AM
जलवायु व ऋतु

सर्दियों के मौसम के आते ही हमारे मन में खूबसूरत बर्फ़ वाले स्थानों या रोमांचक स्थानों पर घूमने का का ख्याल आने लगता है, इसलिए आज हम आपको रामपुर से बस या ट्रेन के माध्यम से अपने परिवार के साथ ठंड का अनुभव लेने के लिए कुछ खूबसूरत जगहों के बारे में बताते हैं। इन स्थानों पर दिसंबर के महिने में चारो ओर सुन्दर दृष्य उभर आते हैं, जिन्हें देखने के बाद आपका मन खुशी से उछल पड़ेगा।

थाजीवास ग्लेशियर, सोनमर्ग, जम्मू-कश्मीर
यहाँ दिसंबर के महिने में बर्फबारी शुरू हो जाती है, और इस दौरान वहां का तापमान शून्यस्तर तक या शून्य स्तर से नीचे तक भी गिर जाता है। आप यहां स्लेज (Sledge) पर सवारी, स्नोबोर्डिंग (Snowboarding) और स्कीइंग (Skiing) जैसी मनोरंजक गतिविधियां भी कर सकते हैं।

दावकी, शिलांग
दिसंबर के महिने में 12 से 20 डिग्री तक के लुभावी तापमान में यह जगह स्वर्ग की तरह बन जाती है। शिलांग देश का एकमात्र ऐसा पहाड़ी क्षेत्र है, जो सभी दिशा से प्रवेश्य है। यहाँ पर बहने वाली उम्न्गोत नदी का पानी इतना साफ है, ऐसा लगता है कि इसके ऊपर तैरने वाली नाव, हवा में उड़ रही हो। साथ ही आप नदी के नज़दीक सीमावर्ती शहर के मीठे और रसदार संतरों का मज़ा भी ले सकते हैं। यहाँ केवल नदी ही देखने योग्य एक जगह नहीं है, आप यहां पर दिसंबर में आयोजित होने वाले टायसिम फेस्टिवल, बागमारा, पिंजेरा फेस्टिवल, विलियमनगर और तुरा विंटर फेस्टिवल का आनंद ले सकते हैं।

मनाली, हिमाचल प्रदेश
लंबे देवदार के पेड़, विशाल पहाड़, घुमावदार सड़कों, और भारी बर्फबारी वाला मनाली दिसंबर के दौरान घूमने के लिए भारत में सबसे सुंदर जगहों में से एक है। नव वर-वधू और बर्फ प्रेमियों के लिए यह स्वर्ग है और साथ ही पैराग्लिडिंग (Paragliding), आइस स्केटिंग (Ice skating), रैपलिंग (Rappelling) और रॉक क्लाइंबिंग (Rock Climbing) जैसे एडवेंचर (Adventure) खेलों के लिए यह एक शानदार जगह है।

डलहौजी, हिमाचल प्रदेश
दिसंबर के दौरान घूमने के लिए डलहौजी का अनोखा शहर सबसे आकर्षक स्थानों में से एक है। यहां बर्फ की परतों से घिरे देवदार के जंगलों का दृश्य काफी अद्भुत होता है। साथ ही यहाँ हिमपात वाले पहाड़ों के दृश्य के साथ ठंडी हवा काफी मनोहर लगती है। इसके अतिरिक्त, सभी ट्रेकिंग (Trekking) उत्साही को राष्ट्रीय हिमालयी शीतकालीन ट्रेकिंग अभियान में भाग लेने के लिए यहां जाना चाहिए।

शिमला, हिमाचल प्रदेश
पहाड़ी स्टेशनों की रानी-शिमला को हम कैसे भूल सकते हैं। यहाँ हाइ बूट्स (High Boots) के साथ बर्फ के फर्श पर चलने का अलग ही आनंद है, साथ ही भीड़ होने के बावजूद आप यहां काफी शांति महसूस करेंगे। साथ ही आप शिमला के शीतकालीन खेल महोत्सव का आनंद भी ले सकते हैं।

औली, उत्तराखंड
खूबसूरत पर्यटन स्थलों में से एक है औली जहाँ नीलकंठ, माणा पर्वत और नंदा देवी के बर्फ को ओढ़ी हुई चोटियां एक अद्भुत प्रेरणादायक मनोरम दृश्य प्रदान करती हैं, जिसे विशेष रूप से क्रिसमस (Chrtimas) के समय देखकर आपके पैर स्थिर हो जाएंगे। यदि आप दिसंबर की इन छुट्टियों में स्कीइंग सीखना चाहते हैं तो औली इसके लिए सर्वोत्तम स्थान है। या अगर आप अपनी स्कीइंग के खेल को प्रदर्शित करना चाहते हैं तो आपको यहाँ जनवरी में आयोजित होने वाले राष्ट्रीय स्कीइंग चैंपियनशिप (National Skiing Championship) में भाग लेना चाहिए।

चोपता, उत्तराखंड
चोपता ऐसी अनछुई और अनजान हिल स्टेशन (Hill Station) है जिसकी प्राकृतिक खूबसूरती और हरियाली आपको अंदर तक आनंदित कर देगी। इस खूबसूरत स्थल से हिमालय की नंदादेवी, त्रिशूल एवं चौखम्बा पर्वत के बर्फ़ीले दृश्यों की श्रृंखला के विहंगम दृश्य दिखते हैं। यह सिर्फ बर्फबारी के हिमपात को देखने के लिए आकर्षक नहीं है, यहाँ एडवेंचर प्रेमियों के लिए एक ट्रेकिंग स्थल भी मौजूद है।

बिनसर, उत्तराखंड
बिनसर निस्संदेह सर्दियों में जाने के लिए सबसे शानदार स्थानों में से एक है। यह नंदा देवी, पंचाचूली और त्रिशूल की लुभावनी सुंदर चोटियों की गोद में स्थित है। यह बिनसर वन्यजीव अभयारण्य के शांत और घने जंगल के लिए जाना जाता है। दिसंबर में जाने के लिए बिनसर हर फोटोग्राफर (Photographer), हर कवि और हर लेखक का सपना है। इनके अलावा आप घूमने के लिए मुक्तेश्वर, उत्तराखंड; लेह लद्दाख; श्रीनगर, जम्मू और कश्मीर; और नागवा बीच, दीव, भी जा सकते हैं।

संदर्भ:
1.
https://traveltriangle.com/blog/places-to-visit-in-india-in-december/

RECENT POST

  • इंसानी भाषा और कला के बीच संबंध, क्या विश्व की पहली भाषा कला को माना जाता है?
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     06-07-2022 09:31 AM


  • कृत्रिम प्रकाश संश्लेषण से संभव हैं जलवायु परिवर्तन से हो रहे कृषि में नुकसान का समाधान
    जलवायु व ऋतु

     05-07-2022 10:08 AM


  • विदेशी फलों से किसानों को मिल रही है मीठी सफलता
    साग-सब्जियाँ

     04-07-2022 10:11 AM


  • प्रागैतिहासिक काल का एक मात्र भूमिगतमंदिर माना जाता है,अल सफ़्लिएनी हाइपोगियम
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     03-07-2022 10:58 AM


  • तनावग्रस्त लोगों के लिए संजीवनी बूटी साबित हो रही है, संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 10:02 AM


  • जगन्नाथ रथ यात्रा विशेष: दुनिया के सबसे बड़े रथ उत्सव से जुडी शानदार किवदंतियाँ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:22 AM


  • भारत के सबसे बड़े आदिवासी समूहों में से एक, गोंड जनजाति की संस्कृति व् परम्परा, उनके सरल व् गूढ़ रहस्य
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:35 AM


  • सिंथेटिक कोशिकाओं में छिपी हैं, क्रांतिकारी संभावनाएं
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:19 AM


  • मेरठ का 300 साल पुराना शानदार अबू का मकबरा आज बकरियों का तबेला बनकर रह गया है
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:15 AM


  • ब्लास्ट फिशिंग से होता न सिर्फ मछुआरे की जान को जोखिम, बल्कि जल जीवों को भी भारी नुकसान
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:25 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id