रामपुर कलमकारी- मतलब एवं तकनीक

मेरठ

 24-06-2017 12:00 PM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य
क़लमकारी वस्त्रों में रंग भरने की वो तकनीक है जो की ना ही आज बल्कि पिछले कई दशकों से प्रचलित है|आन्ध्र प्रदेश में दो प्रकार की क़लमकारी पाई जाती है – पहली जो की मछिलिपट्नम क़लमकारी है जिसे मुग़ल और गोलकोंडा सल्तनत से अनुमोदन मिलता था और दूसरी श्रीकलाहस्ति क़लमकारी जिसे मंदिरों द्वारा| पहली तरह की क़लमकारी में कोई धार्मिक रचनाएँ नहीं थी वही दुसरी में महाभारत और रामायण की कथाओं को कपड़ों पर रचा जाता था| क़लमकारी 16 वी और 17 वी ई. में भारत के बाहर भी काफी विख्यात थी क्यूंकि ये कपास से बने कपड़ों पर बनायी जाती थी| क़लमकारी का प्रयोग कई जगहों में प्रसिद्ध है – राजस्थान में स्थानीय दिव्य चित्र, कृष्ण लीला इत्यादि, गुजरात में देवी का पर्दा, उड़ीसा में पटचित्र, बंगाल में सूचीपत्र इत्यादि – इन रचनाओं में क़लमकारी का प्रयोग देख सकते है| बीते सालों में क़लमकारी के काम का आधार अधिकतम कपास से बना कपड़ा होता है| अब कई नई तकनीक का आविष्कार हो गया है जिसमे क़लमकारी के साथ साथ ठप्पों द्वारा बनी रचनाएँ एक ही कपड़े पर दिखती हैं| कपड़ों पर अलग अलग चित्र बना कर रंग भरने से कपड़ों की सुन्दरता और बढ़ जाती है जिसकी शुरुआत सबसे पहले रंगे हुए कपास के कपड़ों से हुई थी| आज क़लमकारी हर तरह के कपड़ों पर होती है और इससे ना ही सिर्फ साड़ियाँ बनती है बल्कि चादर, परदे, रुमाल इत्यादि भी बनते हैं| 1. तानाबाना- टेक्सटाइल्स ऑफ़ इंडिया, मिनिस्ट्री ऑफ़ टेक्सटाइल्स, भारत सरकार 2. हेंडीक्राफ्ट ऑफ़ इंडिया – कमलादेवी चट्टोपाध्याय 3. टेक्सटाइल ट्रेल इन उत्तर प्रदेश (ट्रेवल गाइड) – उत्तर प्रदेश टूरिज्म

RECENT POST

  • तनावग्रस्त लोगों के लिए संजीवनी बूटी साबित हो रही है, संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 10:02 AM


  • जगन्नाथ रथ यात्रा विशेष: दुनिया के सबसे बड़े रथ उत्सव से जुडी शानदार किवदंतियाँ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:22 AM


  • भारत के सबसे बड़े आदिवासी समूहों में से एक, गोंड जनजाति की संस्कृति व् परम्परा, उनके सरल व् गूढ़ रहस्य
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:35 AM


  • सिंथेटिक कोशिकाओं में छिपी हैं, क्रांतिकारी संभावनाएं
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:19 AM


  • मेरठ का 300 साल पुराना शानदार अबू का मकबरा आज बकरियों का तबेला बनकर रह गया है
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:15 AM


  • ब्लास्ट फिशिंग से होता न सिर्फ मछुआरे की जान को जोखिम, बल्कि जल जीवों को भी भारी नुकसान
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:25 AM


  • एक पौराणिक जानवर के रूप में प्रसिद्ध थे जिराफ
    शारीरिक

     26-06-2022 10:08 AM


  • अन्य शिकारी जानवरों पर भारी पड़ रही हैं, बाघ केंद्रित संरक्षण नीतियां
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:49 AM


  • हम में से कई लोगों को कड़वे व्यंजन पसंद आते हैं, जबकि उनकी कड़वाहट कई लोगों के लिए सहन नहीं होती
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:49 AM


  • भारत में पश्चिमी शास्त्रीय संगीत धीरे-धीरे से ही सही, लेकिन लोकप्रिय हो रहा है
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:30 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id