बॉलीवुड में जैज़ का आगमन

मेरठ

 18-11-2018 11:55 AM
ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

भारत के चिक चॉकलेट कहे जाने वाले एंटोनियो जेवियर वाज़ (Antonio Xavier Vaz) का जन्म 1916 में हुआ। वह गोवा के रहने वाले थे। उन्हें गोयं ट्रम्पेटर (तुरी बजने वाला ) के नाम से भी जान जाता था। उन्होंने बॉम्बे के ताजमहल होटल में जैज़ बैंड का नेतृत्व किया और बॉम्बे के सबसे प्रसिद्ध जैज़ संगीतकारों में से एक बने। एक हिंदी फिल्म संगीत संगीतकार भी थे और विभिन्न साउंडट्रैक में तुरही बजाते थे।

लुई आर्मस्ट्रांग (Louis Armstrong)एक अमेरिकी ट्रम्पेटर, संगीतकार, गायक और अभिनेता थे जो जैज़ में सबसे सबसे प्रभावशाली एवं प्रथम श्रेणी का काम करने वाले कलाकार। भारतीय चिक चॉकलेट ने अपने आर्मस्ट्रांग प्रतिरूपण गंभीरता से लिया। उन्होंने हाई सोसाइटी, हैलो डॉली और पांच पेनीज़ जैसी फिल्मों को देखा और लुई आर्मस्ट्रांग की चाल-ढाल और गाना, जितना संभव हो सका उतनी उनकी नक़ल करने की कोशिश’ की। इस बात को उनकी बेटी उर्सुला ने भी स्वीकार किया। वह आर्मस्ट्रांग के व्यक्तित्व से बहुत प्रभावित थे।


उस समय के कई गोयन संगीतकारों की तरह, चिक चॉकलेट ने रात में जैज़ के लिए अपना जुनून जताया, लेकिन उनकी सुबह फिल्म स्टूडियो में बिताई गई, जिससे उनकी स्विंगिंग व्यवस्थाओं के साथ फिल्मों को जीवंत बनाया गया। उन्होंने पहली बार संगीतकार श्री रामचंद्र के साथ काम किया और राष्ट्र के कानों को अपनी धुन से प्रभावित किया। गोरे-गोर (समाधि से 1950) और शोला जो भड़के (अल्बेला, 1951) की धुनें, जो आज भी लोगो के दिलो में जीवित है। उन्होंने मदन मोहन के साथ भी काम किया, जिन्होंने उन्हें एक खुद की तस्वीर दी, जिसमे लिखा था "मेरे सबसे वफादार कामरेड, चिकी - मेरी सभी शुभकामनाओं के साथ(To my most faithful comrade, Chick – with all my best wishes.)।"


सन्दर्भ:
1.http://www.tajmahalfoxtrot.com/?p=470#more-470


RECENT POST

  • सदियों से फैशन के बदलते रूप को प्रदर्शित करती हैं, फ़यूम मम्मी पोर्ट्रेट्स
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2020 07:10 PM


  • वृक्ष लगाने की एक अद्भुत जापानी कला बोन्साई (Bonsai)
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     28-11-2020 09:03 AM


  • गंध महसूस करने की शक्ति में शहरीकरण का प्रभाव
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     27-11-2020 08:34 AM


  • विशिष्ट विषयों और प्रतीकों पर आधारित है, जैन कला
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     26-11-2020 09:05 AM


  • सेना में बैंड की शुरूआत और इसका विस्‍तार
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     25-11-2020 10:26 AM


  • अंतिम ‘वस्तुओं’ के अध्ययन से सम्बंधित है, ईसाई एस्केटोलॉजी
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-11-2020 08:13 AM


  • क्वांटम कंप्यूटिंग को रेखांकित करते हैं, क्वांटम यांत्रिकी के सिद्धांत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     22-11-2020 10:22 AM


  • धार्मिक महत्व के साथ-साथ ऐतिहासिक महत्व से भी जुड़ा है, श्री औघड़नाथ शिव मन्दिर
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-11-2020 08:16 PM


  • हिन्‍दू-मुस्लिम की एकता का प्रतीक हज़रत शाहपीर की दरगाह
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-11-2020 06:25 AM


  • व्यवसायों और उद्यमशीलता को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करते हैं, प्रवासी नागरिक
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     20-11-2020 09:33 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id