मेरठ में विभिन्न मिट्टियों का फैलाव

मेरठ

 19-06-2018 02:14 PM
भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

मिटृटी की बिगड़ती हालत एक चिन्ताजनक विषय है मेरठ जैसे कृषि आधारित शहर में। न केवल जैविक नजरिए से बल्कि पोषक तत्त्व असंतुलन के कारण भी। सूक्ष्म पोषक तत्त्वों की कमी का प्रभाव आज कृषि उत्पाद में भी नजर आने लगा है। खेती में रासायनिक उर्वरक के अत्यधिक उपयोग के कारण उपजाऊ मिट्टी की उत्पादन क्षमता में भारी मात्रा में कमी आई है। जिसका सीधा असर मनुष्य के स्वास्थ्य पर पड़ा है।

आज के दौर में हम गाय के गोबर का एक बड़ा हिस्सा जलाकर ऊर्जा के रूप में उपयोग कर रहे हैं, न कि खेत में जैविक खाद के रूप में।

आइये जानते हैं मेरठ की मिट्टी के बारे में कि कौन-सी मिट्टी मेरठ के किस शहर में मिलती है।

1. जलोढ़ या चिकनी बलुई - मवाना, परीक्षितगढ़, मछरा, खरखोड़ा, राजपुर, मेरठ, दुआरल्ला, सरधना, सरूरपुर, रोहता।
2. उपजाऊ दोमट मिट्टी - हस्तिनापुर, परीक्षितगढ़।
3. दोमट मिट्टी - हस्तिनापुर, परीक्षितगढ़।
4. भृत्तिका या चिकनी मिट्टी - हस्तिनापुर, परीक्षितगढ़।
5. रेशमी मिट्टी - हस्तिनापुर, परीक्षितगढ़

हम प्रयास करें कि रासायनिक खादों के स्थान पर हम जैविक या प्राकृतिक खाद का ही प्रयोग करें और अपनी भूमि की उर्वर शक्ति को बनाए रखें। इससे हमारी ज़मीन और साथ ही साथ हमारा भी स्वास्थ्य सदा आनंदित रहेगा।

संदर्भ:
1. http://meerut.nic.in/others/presurvey_report.pdf

RECENT POST

  • हुसैनी ब्राह्मण: वे हिंदू जिनका इमाम हुसैन, कर्बला और मुहर्रम के साथ है स्थायी संबंध
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:25 AM


  • कपड़ों पर बढ़ते हुए जीएसटी के साथ भारतीय पारंपरिक हथकरघा उद्योग के लिए अन्य चुनातियाँ
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     08-08-2022 08:51 AM


  • अमेज़ॅन वर्षा वन में हुए भारी परिवर्तन को दिखाती है, अंतरिक्ष से ली गई तस्वीरें
    जंगल

     07-08-2022 12:12 PM


  • भारतीय गणितीय पांडुलिपियां जो आधुनिक समस्याओं के निराकरण में भी हैं सहायक
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     06-08-2022 10:23 AM


  • अंतर्राष्ट्रीय ट्रैफिक लाइट दिवस विशेष: एकीकृत यातायात प्रबंधन प्रणाली से मेरठ में ट्रैफिक समस्‍या होगी दूर
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     05-08-2022 11:21 AM


  • सरधना के अफगान नवाब एवं वंशज,जिन्होंने अंग्रेज़ों का साथ दिया और बाद में सूफीवाद अपनाया
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-08-2022 06:23 PM


  • भारतीय पौराणिक कथाओं और इतिहास में विशेष महत्व रखता है विंध्यपर्वत
    पर्वत, चोटी व पठार

     03-08-2022 06:09 PM


  • गुरुकुलों की पेड़ों की छांव से लेकर स्कूलों के बंद कमरों तक भारतीय शिक्षा प्रणाली का सफर
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     02-08-2022 09:01 AM


  • बढ़ती बिजली की मांग को देखते, भारत में शुरू, काले सोने अर्थात कोयले का वाणिज्यिक खनन
    खदान

     01-08-2022 12:10 PM


  • सावन के मौसम को और भी खूबसूरत बनाते हैं बॉलीवुड के सावन से जुड़े गीत
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     31-07-2022 11:28 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id