हाथियों की क्रमागत उन्नति

मेरठ

 12-04-2018 11:54 AM
स्तनधारी

हाथी ज़मीन पर चलने वाले सबसे बड़े स्तनधारी जीव हैं, इनका वज़न करीब 6 टन तक होता है और इनकी आयु 100 वर्ष की होती है। आज के समय में मुख्य रूप से दो प्रकार के हाथी पाए जाते हैं और वे हैं - एशियाई हाथी (Asian Elephant) और अफ्रीकी हाथी (African Elephant)। थाईलैंड में सफ़ेद हाथी भी पाए जाते हैं। इन हाथियों में सभी चीजें सामान्य हैं पर क्रमागत उन्नति और परिवर्तन के कारण हाथियों के वज़न, लम्बाई, दांत, और कान में थोड़ी असामान्यताएँ हैं। उदाहरण- एशियाई हाथी का वज़न और कान की लम्बाई अफ्रीकी हाथी से छोटी होती है। यह माना जाता है कि 5-6 करोड़ वर्ष पूर्व एक मोरिथेरियम्स (Moeritheriums) नामक प्रजाति थी और इसका आकार आज के सूअर के बराबर था। कहते हैं कि यही जानवर हाथियों का पहला पूर्वज है और हाथियों का विकास इसी पूर्वज द्वारा हुआ है। रूपात्मक सबूतों से यह पता चला है कि मैनेटीज़ डुगोंग्स (Manatees Dugongs) और हायरेक्सेस (Hyraxes) आज के हाथियों के करीबी रिश्तेदार हैं। हाथियों को प्रोबोसिडे (Proboscidae) की श्रेणी में लिया जाता है, इसका अर्थ है वह जानवर जिसकी सूंड (Trunk) हो।

हाथियों के क्रमागत उन्नती के इतिहास में यह पाया गया है कि पहले के समय में प्रोब्सिडियन्स (Probscideans) की 352 प्रजातियाँ थीं। यह प्रजातियाँ ऑस्ट्रेलिया और अंटार्टिका छोड़ सभी महाद्वीपों में गईं और इसलिए केवल दो ही प्रजातियाँ मौजूद हैं और वे हैं अफ्रीकी और एशियाई हाथी। जैसे-जैसे हाथी विकसित होते गए उनकी खोपड़ी, दांत और सूंड सभी आकार में बड़े हो गए; इससे इन्हें काफी मदद मिली क्योंकि वे सूंड से ही बड़े पेड़ों से फल तोड़ सकते थे, ज्यादा से ज्यादा पानी अपनी सूंड में भर सकते थे और भारी वज़न उठा सकते थे। हाथियों का सबसे समीप रिश्तेदार मैमथ (Mammoth) है। यह जानवर 2 करोड़ साल पहले पाया जाता था और अब विलुप्त हो चुका है; इसका आकार आज के हाथी से काफ़ी बड़ा था और इससे हम यह कह सकते हैं कि समय के साथ हाथी विकसित होते-होते आकार में छोटे हो गए हैं।

हाथियों के विकास की समय रेखा-
1. पेलियोमास्टोडॉन (Palaeomastodon) - 3.8 करोड़ वर्ष पूर्व
2. मैमूट/स्टेगोडॉन (Mammut/Stegodon) - 2 करोड़ वर्ष पूर्व
3. गोम्फोथीरियम (Gomphotherium) - 2.4 करोड़ वर्ष पूर्व
4. प्राइमलिफस (Primelephas) - 5 करोड़ वर्ष पूर्व
5. ऐनेकस/मैमेथस (Anacus/Mammathus) - 2 करोड़ वर्ष पूर्व
6. ऐलिफस/लोक्सोडोंटा (Elephas/Loxodonta) - 10,000 वर्ष - अब तक

मेरठ का हाथियों से अत्यन्त गहरा रिश्ता है, यही कारण है कि यहाँ के एक स्थान का नाम हस्तिनापुर है।

1. www.eleaid.com
2. defenders.org
3. www.elephant.co.uk



RECENT POST

  • मेरठ के सैन्य अस्पताल और मेरठ कैंट जनरल अस्पताल के पीछे की कहानी
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     14-05-2021 09:38 PM


  • ईद उल फितर के जश्न में बच्चों की खिलखिलाहट और पकवानों की खुशबू से महक उठता है वातावरण
    स्वाद- खाद्य का इतिहास विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-05-2021 09:46 AM


  • रेशम का विज्ञानं तथा रेशम मार्ग का विश्व की सभ्यताओं पर पड़ने वाला प्रभाव
    तितलियाँ व कीड़े

     13-05-2021 06:38 PM


  • आखिर क्यों जान्मेजय का नाम सुनते ही दूर हो जाते हैं परीक्षित गढ़ के सांप
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     12-05-2021 09:24 AM


  • भारतीय ई-कॉमर्स का इतिहास : कैसे महामारी के प्रभाव से देश के ई-कॉमर्स बाजार में देखा गया बदलाव
    संचार एवं संचार यन्त्र

     10-05-2021 09:59 PM


  • गंगा इमली- पौष्टिक तत्वों से भरपूर एक जंगली फल
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें बागवानी के पौधे (बागान)साग-सब्जियाँ

     10-05-2021 08:52 AM


  • सभी सम्बंधों से सबसे ऊपर है, माँ का सम्बंध
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     09-05-2021 11:41 AM


  • 8 मई को विश्व रेडक्रॉस दिवस मनाने का महत्व और इसका इतिहास
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     08-05-2021 08:55 AM


  • रबीन्द्रनाथ टैगोर जितने विख्यात साहित्यकार उतने ही महान चित्रकार भी।
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनिद्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना द्रिश्य 2- अभिनय कला द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     07-05-2021 10:33 AM


  • भगवान शिव और माता पार्वती से संबंधित तांडव और लास्य नृत्य
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनिद्रिश्य 2- अभिनय कला द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     06-05-2021 09:22 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id