प्रौद्योगिकियां जिन्होंने रात की फोटोग्राफी को बढ़ने में सक्षम बनाया

लखनऊ

 03-06-2022 09:17 AM
द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

आज की कैमरा (Camera) तकनीक लगभग किसी को भी कम रोशनी में भी प्रभावशाली तस्वीरें लेने में सक्षम बनाती है।लेकिन रात की फोटोग्राफी की कला कुछ प्रमुख व्यक्तित्वों द्वारा एक कहानी में संचालित की गई है जो फोटोग्राफी की उत्पत्ति तक फैली हुई है।रात को हमेशा रोमांस, रहस्य, भय और अज्ञात से जोड़ा गया है।साथ ही निशाचर को भी कला का एक स्वाभाविक विषय माना गया है। रात की फोटोग्राफी का इतिहास काफी लंबा है। 1839 में डगरोटाइप (Daguerreotype - एक आयोडीन-संवेदी चांदी की प्लेट और पारा वाष्प को नियोजित करने वाली प्रारंभिक फोटोग्राफिक प्रक्रिया द्वारा ली गई एक तस्वीर) की शुरुआत के केवल दस साल बाद, जॉन एडम्स व्हिपल (John Adams Whipple) ने एक दूरबीन के माध्यम से चंद्रमा को डगरोटाइप किया।
1895 में, जब अंग्रेजी फोटोग्राफर पॉल मार्टिन (Paul Martin) ने रात में लंदन (London) की तस्वीरें लेना शुरू किया, तो राहगीरों ने उनका मजाक उड़ाते हुए कहा कि रात में कैमरे का उपयोग करना असंभव है, उन्हें अपना समय बर्बाद करना बंद कर देना चाहिए। कलाकार और आविष्कारक लुई-जैक्स-मैंडे डागुएरे (Louis-Jacques-Mandé Daguerre) द्वारा सिद्ध की गई एक प्रक्रिया का उपयोग कर नीसफोर नीप्स (Nicephore Niepce) ने 1822 के आसपास पहली टिकाऊ तस्वीर का निर्माण किया। कुछ ही दिनों पहले, डागुएरे को रात के आकाश में एक दूरबीन को इंगित करने और रात की सबसे चमकदार विशेषता चंद्रमा की पहली फोटोग्राफिक छवि बनाने का श्रेय दिया गया।दुर्भाग्य से, उनकी ऐतिहासिक चंद्र छवि धुंधली थी और आग में नष्ट होने से पहले केवल कुछ महीनों के लिए अस्तित्व में रही थी। वहीं चंद्रमा का पहला सत्यापित डगरोटाइप एक साल बाद जॉन विलियम ड्रेपर (John William Draper) द्वारा बनाया गया था।उनके लेख एक डबल उत्तल लेंस के माध्यम से केंद्रित एक तैयार प्लेट (आयोडीन और ब्रोमीन के साथ संवेदनशील तांबे की एक अत्यधिक पॉलिश, चांदी-चढ़ाया हुआ शीट) को उजागर करने का वर्णन करते हैं।एक उज्ज्वल प्रभामंडल द्वारा तैयार की गई छवि, चंद्रमा के प्रकाश और अंधेरे दोनों छायांकन को कैद करती है।1850 में, हार्वर्ड ऑब्जर्वेटरी (Harvard Observatory) के जॉन एडम्स व्हिपल और विलियम बॉन्ड (William Bond) ने एक दूर के सितारे वेगा (Vega) का पहला सफल डगरोटाइप बनाया। उनके सहयोग ने एस्ट्रोफोटोग्राफी (Astrophotography) शुरू की, तथा फोटोग्राफी शुरू होने के बमुश्किल एक दशक बाद, ब्रह्मांड के रहस्यों को जानने के लिए रात के आकाश की जांच करनी शुरू की गई।जबकि एस्ट्रोफोटोग्राफी ने कैमरों को ब्रह्मांड के रहस्यों को कैद करने के लिए उपयोग किया गया, वहीं जॉर्ज शिरस (George Shiras)द्वारा रात को वन्यजीवों के रहस्य को उजागर करने के लिए फोटोग्राफी का उपयोग किया गया। 1893 में, शिरस ने जानवरों की पहली ज्ञात रात के समय की तस्वीर खींची, जिसमें तीन हिरणों की एक आकर्षक छवि उनके कैमरा के फ्लैश के जरिए कैद हुई। बाद के दशकों में शिरस की रात की फोटोग्राफी ने जानवरों की रात की गतिविधियों पर से पर्दा हटा दिया, नेशनल ज्योग्राफिक (National Geographic) पत्रिका ने 1906 में उनकी तस्वीरों के लिए लगभग एक पूरा मुद्दा समर्पित किया और राष्ट्रपति थियोडोर रूजवेल्ट (Theodore Roosevelt) ने उन्हें एक पुस्तक के रूप में प्रकाशित करने के लिए कहा।स्वाभाविक रूप से, तकनीकी विकास ने कला रूप को आगे बढ़ाया और 1880 के दशक में यह जिलेटिन सूखी प्लेट (Gelatin dry plate) का आविष्कार था जिसने लंबे समय तक अनावरण और अधिक अंधेरी रात में भी फोटोग्राफी की आवश्यकता की अनुमति दी।1890 के दशक से, इंग्लैंड (England) में पॉल मार्टिन (Paul Martin) और न्यूयॉर्क (New York) में अल्फ्रेड स्टिग्लिट्ज (Alfred Stieglitz) सहित फोटोग्राफरों ने इसका प्रयोग किया, स्टिग्लिट्ज़ ने अनावरण का समय 30 मिनट से घटाकर एक मिनट से भी कम कर दिया, जिससे वह रात में चलती वस्तुओं को कैमरे में कैद करने में सक्षम हो गए।साथ ही डिजिटल कैमरों (Digital camera) के आगमन ने रात की फोटोग्राफी को एक नए स्तर पर पहुंचा दिया है,जिसमें लेंस (Lens)अंधेरे में वह सब कैद करने में सक्षम रहती है, जो मानव आंख भी नहीं देख सकती।
बेहतर सेंसर (Sensors) प्रकाश को अधिक कुशलता से कैद करते हैं जबकि सॉफ्टवेयर (Software) कम रोशनी वाली फोटोग्राफी से जुड़ी दानेदार गुणवत्ता को कम करता है।वहीं कैमरे अब सेल फोन (Cell phone) का पर्याय बन गए हैं, और अधिक लोगों को पहले से कहीं अधिक दर्शनीय स्थलों और विशेष क्षणों को कैद करने में सक्षम बनाते हैं और गुणवत्ता में सुधार करते हैं। लेकिन स्मार्टफोन पर कम रोशनी में अच्छी तस्वीरें लेना लंबे समय से एक चुनौती रही है। रात की फोटोग्राफी में आमतौर पर निम्नलिखित तकनीकों और उपकरणों का उपयोग किया जाता है :
 लंबे समय तक आवरण समय के कारण आमतौर पर एक ट्रपॉड (Tripod) आवश्यक वस्तु होती है। लेकिन विकल्प में, कैमरे को एक स्थिर, सपाट वस्तु, एक मेज या कुर्सी, नीची दीवार, आदि पर रखा जा सकता है।
 कैमरे के जारी होने पर कैमरे की कंपन को रोकने के लिए शटर रिलीज़ केबल (Shutter release cable) या सेल्फ़ टाइमर (Self timer) का उपयोग लगभग हमेशा किया जाता है।
 मैनुअल फोकस (Manual focus), चूंकि ऑटोफोकस प्रणाली (Autofocus systems) आमतौर पर कम रोशनी की स्थिति में खराब काम करती हैं। नए डिजिटल कैमरों में लाइव व्यू मोड (Live View mode) शामिल होता है जो अक्सर बहुत सटीक मैनुअल फ़ोकसिंग की अनुमति देते हैं।
 एक विस्तृत एपर्चर वाला कैमरा लेंस, अधिमानतः एक गोलाकार तत्वों वाला एक जो निश्चेतावस्था को कम कर सकता है।
 नाइट फोटोग्राफी मोड वाले स्मार्टफोन, जैसे हुवावे (Huawei) फोन पर नाइट मोड, गूगल पिक्सल (Google Pixel) फोन पर नाइट साइट (Night Sight), सैमसंग गैलेक्सी (Samsung Galaxy) फोन पर नाइट मोड, आईफोन 11 प्रो (iPhone 11 Pro) पर नाइट मोड और वनप्लस फोन (Oneplus) पर नाइटस्केप (Nightscape)।
लंबे आवरण और विभिन्न फ़्लैश तकनीक रात या कम-रोशनी की फ़ोटोग्राफ़ी की एक विधि है, जो एक लंबे आवरण का उपयोग करके किसी भवन या भीतर के विभिन्न हिस्सों को उजागर करने के लिए मोबाइल फ्लैश (Mobile flash)इकाई का उपयोग करती है।विषय को अलग-अलग तरीकों से रोशन करने के लिए अलग-अलग रंग प्रदान करने के लिए इस तकनीक को अक्सर फ्लैश इकाई के सामने रंगीन चिपचिपे घोल का उपयोग करने के साथ जोड़ा जाता है।सही उपकरण और सही तकनीक का उपयोग कर फोटोग्राफर रात की कई आकर्षक तस्वीरें लेने में सक्षम हो सकते हैं।

संदर्भ :-
https://on.natgeo.com/3zfwMp5
https://bit.ly/3NQT7xw
https://bit.ly/3afvjov

चित्र संदर्भ
1. एक डिजिटल कैमरा को दर्शाता एक चित्रण (Wikimedia)
2. ड्रेपर (1840) द्वारा चंद्रमा का सबसे पुराने डागुएरियोटाइप को दर्शाता एक चित्रण (Wikimedia)
3. 1893 में, शिरस ने जानवरों की पहली ज्ञात रात के समय की तस्वीर खींची, जिसमें तीन हिरणों की एक आकर्षक छवि उनके कैमरा के फ्लैश के जरिए कैद हुई। जिसको दर्शाता एक चित्रण (Wikimedia)
4. रात में शहर की तस्वीर खींचते युवक को दर्शाता एक चित्रण (Pixabay)
5. रात में मोबाइल कैमरा से बुर्ज खलीफा की तस्वीरें लेते लोगों को दर्शाता एक चित्रण (Picryl)



RECENT POST

  • ऑनलाइन खरीदारी के बजाए लखनऊ के रौनकदार बाज़ारों में सजी हुई राखिये खरीदने का मज़ा ही कुछ और है
    संचार एवं संचार यन्त्र

     11-08-2022 10:20 AM


  • गांधीजी के पसंदीदा लेखक, संत व् कवि, नरसिंह मेहता की गुजराती साहित्य में महत्वपूर्ण भूमिका
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     10-08-2022 10:04 AM


  • मुहर्रम के विभिन्न महत्वपूर्ण अनुष्ठानों को 19 वीं शताब्दी की कंपनी पेंटिंग शैली में दर्शाया गया
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:25 AM


  • राष्ट्रीय हथकरघा दिवस विशेष: साड़ियाँ ने की बैंकिग संवाददाता सखियों व् बुनकरों के बीच नई पहल
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     08-08-2022 08:55 AM


  • अंतरिक्ष से दिखाई देती है,भारत और पाकिस्तान के बीच मानव निर्मित सीमा
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     07-08-2022 12:06 PM


  • भारतीय संख्या प्रणाली का वैश्विक स्तर पर योगदान
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     06-08-2022 10:25 AM


  • कैसे स्वचालित ट्रैफिक लाइट लखनऊ को पैदल यात्रियों के अनुकूल व् आज की तेज़ गति की सडकों को सुरक्षित बनाती
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     05-08-2022 11:23 AM


  • ब्रिटिश सैनिक व् प्रशासक द्वारा लिखी पुस्तक, अवध में अंग्रेजी हुकूमत की करती खिलाफत
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-08-2022 06:26 PM


  • पाकिस्तान, चीन की सीमाओं तक फैली हुई, काराकोरम पर्वत श्रृंखला की विशेषताएं व् प्राचीन व्याख्या
    पर्वत, चोटी व पठार

     03-08-2022 06:11 PM


  • प्राचीन भारतीय शिक्षा की वैदिक प्रणाली की प्रमुख विशेषताएं
    धर्म का उदयः 600 ईसापूर्व से 300 ईस्वी तक

     02-08-2022 09:03 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id