Post Viewership from Post Date to 05-Feb-2022
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
249 158 407

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

जंतुओं में जैविक परोपकारिता का अर्थ और परिभाषा

लखनऊ

 07-01-2022 06:38 AM
व्यवहारिक

“परोपकारिता” अन्य मनुष्यों या जानवरों की खुशी के लिए सोच का सिद्धांत और नैतिक अभ्यास है‚ जिसके परिणामस्वरूप जीवन की गुणवत्ता भौतिक और आध्यात्मिक दोनों होती है। यह कई संस्कृतियों में एक पारंपरिक गुण है जो विभिन्न धार्मिक और धर्मनिरपेक्ष विश्वदृष्टि का एक महत्वपूर्ण पहलू है। हालाँकि यह सिद्धांत संस्कृतियों और धर्मों के बीच भिन्न होता है। एक चरम परिस्थिति में परोपकारिता निस्वार्थता का पर्याय बन सकती है‚ जो स्वार्थ के विपरीत है। शब्द “परोपकारिता” (“altruism”) को फ्रांसीसी (French) दार्शनिक अगस्टे कॉम्टे (Auguste Comte) द्वारा फ्रांसीसी में ‘परोपकारिता’ (‘altruisme’) के रूप में‚ अहंकार के विलोम के लिए लोकप्रिय किया गया था और संभवतः गढ़ा गया था। उन्होंने इसे इतालवी (Italian) ‘अल्ट्रुई’ (‘altrui’) से प्राप्त किया‚ जो बदले में लैटिन (Latin) अल्टेरी (alteri) से लिया गया था‚ जिसका अर्थ है “अन्य लोग” (“other people”) या “कोई और” (“somebody else”)। जीवों की क्षेत्रीय आबादी के जैविक अवलोकनों में परोपकारिता एक ऐसी क्रिया है जो स्वयं की लागत पर होती है‚ लेकिन उस कार्रवाई के लिए पारस्परिकता या मुआवजे की अपेक्षा के बिना‚ प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से‚ किसी अन्य व्यक्ति को लाभ प्राप्त होता है। स्टाइनबर्ग (Steinberg) परोपकारिता के लिए एक परिभाषा का सुझाव देते हैं‚ जो कि “जानबूझकर और स्वैच्छिक कार्य है जिसका उद्देश्य किसी अन्य व्यक्ति के कल्याण को किसी भी तरह के बाहरी पुरस्कार के अभाव में बढ़ाना है”। एक अर्थ में परोपकारिता के विपरीत शब्द द्वेष है; एक द्वेषपूर्ण कार्य बिना किसी आत्म- लाभ के दूसरे को हानि पहुँचाता है। परोपकारिता को सामान्य अच्छे के लिए वफादारी या चिंता की भावनाओं से अलग किया जा सकता है। उत्तरार्द्ध सामाजिक संबंधों पर आधारित होता है‚ जबकि परोपकारिता संबंधों पर विचार नहीं करती है। मानव मनोविज्ञान में “सच्ची” परोपकारिता संभव है या नहीं‚ इस बारे में बहुत से तर्क-वितर्क मौजूद हैं। मनोवैज्ञानिक अहंकार का सिद्धांत बताता है कि त्याग करने‚ मदद करने या साझा करने के किसी भी कार्य को वास्तव में परोपकार के रूप में वर्णित नहीं किया जा सकता है‚ क्योंकि उस व्यक्ति को व्यक्तिगत संतुष्टि के रूप में एक आंतरिक इनाम मिल सकता है। यह तर्क इस बात पर निर्भर करता है कि आंतरिक पुरस्कार “लाभ” के रूप में योग्य हैं या नहीं। परोपकारिता‚ एक नैतिक सिद्धांत का भी उल्लेख करता है‚ जो यह दावा करता है कि एक व्यक्ति दूसरों को लाभ पहुंचाने के लिए नैतिक रूप से बाध्य हैं। दार्शनिक और नैतिक विचारों में अवधारणा का एक लंबा इतिहास रहा है। यह मनोवैज्ञानिकों‚ विकासवादी जीवविज्ञानी और नैतिकतावादियों के लिए एक प्रमुख विषय बन गया है। जबकि इन क्षेत्रों के परोपकारिता के बारे में विचार दूसरे क्षेत्रों को प्रभावित कर सकते हैं। सरल शब्दों में‚ परोपकारिता अन्य लोगों के कल्याण की परवाह करना और उनकी मदद करने के लिए कार्य करना है। दुनिया के अधिकांश धर्म परोपकारिता को एक बहुत ही महत्वपूर्ण नैतिक मूल्य के रूप में बढ़ावा देते हैं। बौद्ध धर्म‚ ईसाई धर्म‚ हिंदू धर्म‚ इस्लाम‚ जैन धर्म‚ यहूदी धर्म और सिख धर्म आदि परोपकारी नैतिकता पर विशेष जोर देते हैं। मार्सेल मौस (Marcel Mauss’s) के निबंध “द गिफ्ट” (The Gift) में भी “नोट ऑन अल्म्स” (“Note on alms”) नामक एक मार्ग शामिल है। यह नोट परोपकारिता के विस्तार द्वारा‚ बलिदान की धारणा से भिक्षा की धारणा के विकास का वर्णन करता है। जीव विज्ञान में‚ परोपकारिता एक व्यक्ति के व्यवहार को संदर्भित करता है जो एक व्यक्ति की योग्यता को कम करते हुए दूसरे व्यक्ति की योग्यता को बढ़ाता है। विकासवादी जीव विज्ञान में‚ एक जीव को स्वयं की कीमत पर‚ परोपकारी व्यवहार करने के लिए कहा जाता है‚ जब उसके व्यवहार से अन्य जीवों को लाभ होता है। लागत और लाभ को प्रजनन योग्यता‚ या संतानों की अपेक्षित संख्या के संदर्भ में मापा जाता है। इसलिए परोपकारी व्यवहार करके‚ एक जीव अपने द्वारा उत्पन्न होने वाली संतानों की संख्या को कम कर देता है‚ लेकिन उस संख्या को बढ़ा देता है जिससे अन्य जीवों द्वारा उत्पन्न होने की संभावना होती है। परोपकारिता की यह जैविक धारणा रोजमर्रा की अवधारणा के समान नहीं है। रोज़मर्रा की आम बोलचाल में‚ किसी कार्य को केवल ‘परोपकार’ कहा जाएगा यदि वह दूसरे की मदद करने के सचेत इरादे से किया गया हो। लेकिन जैविक तात्पर्य में ऐसी कोई आवश्यकता नहीं होती है।
वास्तव में‚ जैविक परोपकारिता के कुछ सबसे दिलचस्प उदाहरण उन जीवों में पाए जाते हैं जो संभवतः सचेत विचारों के लिए बिल्कुल भी सक्षम नहीं हैं‚ जैसे कि कीड़े। परोपकारी व्यवहार पशु साम्राज्य में आम है‚ विशेष रूप से जटिल सामाजिक संरचनाओं वाली प्रजातियों में। उदाहरण के लिए‚ वैम्पायर चमगादड़ (vampire bats) नियमित रूप से रक्त को पुन: उत्पन्न करते हैं और इसे अपने समूह के अन्य सदस्यों को दान करते हैं जो उस रात को खाने में विफल रहे हैं‚ यह सुनिश्चित करते हुए कि वे भूखे न रहें। कई पक्षी प्रजातियों में‚ एक प्रजनन जोड़े को अपने बच्चों को अन्य ‘सहायक’ पक्षियों से पालने में मदद मिलती है‚ जो शिकारियों से घोंसले की रक्षा करते हैं और बच्चों को खाना खिलाने में मदद करते हैं। वर्वेट बंदर (Vervet monkeys) साथी बंदरों को शिकारियों की उपस्थिति के बारे में चेतावनी देने के लिए अलार्म कॉल देते हैं‚ भले ही ऐसा करने में वे खुद पर ध्यान आकर्षित करते हैं‚ जिससे हमला होने की उनकी व्यक्तिगत संभावना बढ़ जाती है। सामाजिक कीट उपनिवेशों जैसे चींटियों‚ ततैया‚ मधुमक्खियों और दीमक में बाँझ कार्यकर्ता‚ अपना पूरा जीवन रानी की देखभाल करने‚ उनकी रक्षा करने‚ उनके लिए घोंसला बनाने‚ भोजन के लिए चारा बनाने और लार्वा को पालने में लगा देते हैं। ऐसा व्यवहार अधिकतम परोपकारी होता है‚ बाँझ श्रमिक स्पष्ट रूप से अपनी कोई संतान नहीं छोड़ते हैं‚ इसलिए उनकी व्यक्तिगत योग्यता शून्य है‚ लेकिन उनके कार्यों से रानी के प्रजनन प्रयासों में बहुत मदद मिलती है।
कुछ वन्यजीव शोधकर्ताओं का मानना है कि परोपकारिता को एक ऐसे कार्य के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जिसमें एक जानवर दूसरे जानवर के लाभ के लिए अपनी भलाई को त्याग देता है। एक बार पुर्तगाल के लिस्बन के तट से लगभग एक हजार मील दूर स्‍पर्म व्‍हेल (sperm whales) के एक समूह ने एक वयस्क बॉटलनोज़ डॉल्फ़िन (bottlenose dolphin) को अपने समूह में शामिल कर लिया‚ व्यवहारिक पारिस्थितिकीविद इस घटना को देखकर हैरान थे। हालांकि स्थलीय जानवरों के बीच इस प्रकार की सहभागिता सामान्‍य बात है किंतु स्‍पर्म व्‍हेल अन्य प्रजातियों के साथ इस प्रकार का संबंध बनाने के लिए नहीं जानी जाती है। ऐसा गठबंधन पहले कभी नहीं देखा गया था। आठ दिनों तक डॉल्फ़िन ने इनके साथ यात्रा की भोजन किया और खेली‚ वास्‍तव में इस डॉल्फ़िन की रीढ़ की हड्डी टूटी हुयी थी। जाहिर सी बात है‚ विकलांग डॉल्फिन के साथ इस बंधन को बनाने से व्हेल को कोई फायदा नहीं हुआ होगा‚ जो इस बात का प्रमाण हो सकता है कि पशु परोपकारिता वास्तविक है। पशु केवल तभी परोपकारी होते हैं जब परोपकारिता उनके अस्तित्व को बढ़ावा देती है। यह विश्वास करना काफी कठिन है कि जानवर एक जीवन को बचाने हेतु आवश्यक जटिल सोच करने में सक्षम होते हैं। उदाहरण के लिए‚ एक कोयल एक अन्य पक्षी के घोंसले में अंडा देती है। मेजबान पक्षी उसके अंडों की देखरेख अपने संतान की भांति करती है। इसमें कुछ का मानना है कि ऐसा इसलिए होता है क्योंकि अन्य पक्षी कोयल के अंडों में अंतर नहीं कर पाते हैं‚ जबकि कुछ दर्शाते हैं कि कोयल अपने अण्‍डों की स्थिति को जांचने के लिए समय-समय पर मेजबान पक्षी के घोंसले में आती है। यदि उसके बच्‍चे सही सलामत वहां होंगे तो कोयल घोसले को सही सलामत छोड़ देगी और यदि बच्‍चे वहां नहीं हुए तो वह घोंसले को नष्ट कर देगी और उसमें मौजूद मेजबान पक्षी के बच्‍चों को भी मार देगी।इस प्रकार अपने संतान और अपने घोसले को बचाने हेतु मेजबान पक्षी के पास कोयल के बच्‍चों की देखरेख करने के सिवाय कोई विकल्‍प मौजूद नहीं है।
वरमोंट विश्वविद्यालय (University of Vermont) में जीव विज्ञान के प्रोफेसर बर्नड हेनरिक (Bernd Heinrich) एक दिन लंबी पैदल यात्रा पर निकले‚ रास्‍ते में उन्‍होंने देखा कि कुछ कौवे एक मृत मूस (moose) (एक प्रकार का हिरण) के पास बैठकर जोर जोर से आवाज निकाल रहे थे जो संभवत: अन्‍य कौवों के आव्हान के लिए था। इस घटना ने हेनरिक को पक्षियों के भोजन साझा करने के व्‍यवहार पर अध्‍ययन करने के लिए विवश कर दिया। जिसे उन्होंने अंततः “रेवेन्स इन विंटर” (Ravens in Winter) पुस्तक में प्रकाशित किया। जर्मनी (Germany) में मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट फॉर ह्यूमन डेवलपमेंट (Max Planck Institute for Human Development) में मनोविज्ञान के प्रोफेसर जेफ स्टीवंस (Jeff Stevens) कहते हैं‚ हेनरिक के मददगार कौवे पशु परोपकारिता का उत्कृष्ट उदाहरण बन गए। लेकिन पशु परोपकारिता के अधिकांश उदाहरणों की तरह‚ जो एक निस्वार्थ कार्य प्रतीत होता है‚ उसके पीछे एक स्‍वार्थ छिपा होता है। यहां पर साझा करने वाले कौवे किशोर थे जिन्हें एक परिपक्व रेवेन (raven) के क्षेत्र में मूस का शव मिला था। अन्य युवा कौवों को दावत में बुलाकर वे क्षेत्र-धारक पक्षी द्वारा पीछा किए जाने से बच सकते थे। स्टीवंस (Stevens) का मानना है कि प्राकृतिक वातावरण में बचने हेतु किसी भी जीव को किसी जानवर या उसकी आनुवांशिक सामाग्री की आवश्‍यकता होती है‚ उसका व्‍यवहार इन्‍हीं परिस्थितियों पर निर्भर करता है। सच्ची परोपकारिता सामान्‍य बात नहीं है‚ क्योंकि यह जैविक रूप से ज्यादा मायने नहीं रखती है।

संदर्भ:
https://bit.ly/3q2iXWe
https://bit.ly/3t40daD
https://stanford.io/3t7ZxB1
https://bit.ly/3HEuBMP

चित्र संदर्भ   

1. एक दूसरे को संवारते बबून को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
2. अहिंसा (गैर-चोट) की जैन अवधारणा को को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. बेघर लोगों की मदद करती महिला को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. वैम्पायर चमगादड़ (vampire bats) नियमित रूप से रक्त को पुन: उत्पन्न करते हैं और इसे अपने समूह के अन्य सदस्यों को दान करते हैं जो उस रात को खाने में विफल रहे हैं‚ यह सुनिश्चित करते हुए कि वे भूखे न रहें। जिनको दर्शाता एक चित्रण (flickr)
5. डॉल्फिन को सहारा देती व्हेल मछली को दर्शाता एक चित्रण (youtube)
6. पोटेटो कॉड मछली की सफाई करती दो ब्लूस्ट्रेक क्लीनर मछलियों को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • यूक्रेन युद्ध, भारत में कई जगह सूखा, बेमौसम बारिश,गर्मी की लहरों से उत्पन्न खाद्य मुद्रास्फीति
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:44 AM


  • हम लखनऊ वासियों को समझनी होगी प्रदूषण, अतिक्रमण से पीड़ित जल निकायों व नदियों की पीड़ा
    नदियाँ

     25-05-2022 08:16 AM


  • लखनऊ के हरित आवरण हेतु, स्थानीय स्वदेशी वृक्ष ही पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सबसे उपयुक्त
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:37 AM


  • स्वास्थ्य सेवा व् प्रौद्योगिकी में माइक्रोचिप्स की बढ़ती वैश्विक मांग, क्या भारत बनेगा निर्माण केंद्र?
    खनिज

     23-05-2022 08:50 AM


  • सेलफिश की गति मछलियों में दर्ज की गई उच्चतम गति है
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:40 PM


  • बच्चों को खेल खेल में, दैनिक जीवन में गणित के महत्व को समझाने की जरूरत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:09 AM


  • भारत में जैविक कृषि आंदोलन व सिद्धांत का विकास, ब्रिटिश कृषि वैज्ञानिक अल्बर्ट हॉवर्ड द्वारा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:03 AM


  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id