सर्दियों को आरामदायक बनाने के लिए भारतीय घरों में प्राकृतिक गैस आधारित तापन प्रणाली नहीं हैं

लखनऊ

 22-12-2021 11:13 AM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

भारतीय घरों में अभी तक "प्राकृतिक गैस" आधारित तापन प्रणाली नहीं हैं।दरसल यह संयुक्त राज्य अमरीका (United States Of America), कनाडा (Canada) और यूरोप (Europe) में घर/कार्यालय को गरम करने के लिए सबसे लोकप्रिय विधि है।हालांकि भारत में कुछ "प्राकृतिक गैस" का उत्पादन किया जाता है और एक पाइपलाइन (Pipeline) के माध्यम से ईरान (Iran) से आयात करने की कोशिश की जा रही है, लेकिन इस "प्राकृतिक गैस" का उपयोग केवल वाणिज्यिक और घर में खाना पकाने के लिए हीकिया जाता है, परंतु इसका उपयोग अभी तकघरेलू तापन प्रणाली के लिए नहीं किया गया है।लेकिन विदेशों में उपभोक्ता प्राकृतिक गैस की तापन प्रणाली को काफी पसंद करते हैं क्योंकि यह आरामदायक, सुविधाजनक, विश्वसनीय और कुशल है।आज की तापन प्रणाली भव्य भट्टियों(जो 90 प्रतिशत से अधिक दक्षता स्तर प्राप्त करते हैं।) सेमामूली कीमत वाले मात्रक तक (जो 78 प्रतिशत के न्यूनतम दक्षता मानक को पूरा करते हैं या उससे थोड़ा अधिक हैं।) ठेकेदारों, निर्माणकर्ता और घर के मालिकों के लिए अविश्वसनीय विकल्प प्रदान करते हैं, इसलिए ताकि ग्राहकों को जरूरत से ज्यादा दक्षता के लिए भुगतान न करना पड़े।प्राकृतिक गैस द्वारा उत्पादित गर्मी विद्युतगर्मी पंप (Pump) द्वारा उत्पादित गर्मी की तुलना में अधिक गर्म महसूस कराती है। कृत्रिम-वायु प्रणालियों से प्राकृतिक गैस की गर्मी120-140 डिग्री फ़ारेनहाइट (Fahrenheit)के तापमान पर वितरित की जाती है।इसके विपरीत, एक विद्युतगर्मी पंप से हवा आमतौर पर 85-95 डिग्री फ़ारेनहाइट पर एक कमरे को गर्म करने के लिए पर्याप्त गर्म होती है, लेकिन 98.6 डिग्री फ़ारेनहाइट के औसत मानव त्वचा के तापमान की तुलना में ठंडी होती है।तापन प्रणाली के प्रकारनिम्न हैं :
1. कृत्रिम वायु प्रणाली :सबसे आम भट्ठी एक कृत्रिम-वायु केंद्रीय तापन प्रणाली है जो हवा को गर्म करने के लिए प्राकृतिक गैस ज्वालक का उपयोग करती है।ठंडी हवा को प्रणालीके माध्यम से विकृत किया जाता है, एक ताप विनियामक में ले जाया जाता है जहां इसे गैस ज्वालक द्वारा गर्म किया जाता है और फिर धमनी या पंखे द्वारा घरेलू डक्टवर्क (Ductwork) के माध्यम से संचारित किया जाता है।प्राकृतिक गैस का दहन जल वाष्प और कार्बन डाइऑक्साइड (Carbon dioxide) के उपोत्पाद को उत्पन्न करता है, इन तत्वों को लोगों द्वारा सांस लेते समय भी छोड़ा जाताहै। इन धुवांकशगैसों को बाहर की ओर निकाला जाना चाहिए। दीवार में छिद्र का उपयोग मध्य और उच्च दक्षता वाली प्राकृतिक गैस कृत्रिम-वायु भट्टियों के लिए किया जाता है, इस प्रकार यह मानक चिमनी और/या चिमनी लाइनर (Chimney Liner) की आवश्यकता को समाप्त कर देता है।
2. दीप्तिमान जल-आधारित या हाइड्रोनिक (Hydronic) ताप प्रणाली :हाइड्रोनिक या गर्म पानी प्रणालियों में एक गैस वाष्पक होता है जो भाप या गर्म पानी का उत्पादन करता है, जिसे बाद में पाइप (Pipes) या ट्यूब (Tubes)के माध्यम से घर में संचारित किया जाता है।इन तापन प्रणालीमें विकिरक,दीप्तिमान भूतल प्रणालीया बेसबोर्ड (Baseboard) इकाइयां शामिल हो सकती हैं। वाष्पकया हाइड्रोनिक प्रणालीमें उसी प्रकार के छिद्र का उपयोग किया जाता है, जो कि कृत्रिम वायु प्रणालियों में किया जाता है।
3. संयोजन जल तापन और अंतरिक्ष ताप प्रणाली :संयोजन प्रणालियों को मुख्य रूप से एक कृत्रिम वायु ताप प्रणाली के रूप में उपयोग के लिए बनाया गया है, लेकिन कुछ हाइड्रोनिक बेसबोर्ड प्रणाली (Hydronic baseboard systems) के लिए भी अनुकूलित किया जा सकता है।एक प्राकृतिक गैस ज्वालक उपयोग किए जाने वाले पानी को गर्म करता है और इसे एक नियमित वॉटर हीटर (Water heater) की तरह एक टैंक (Tank) में संग्रहीत करता है।स्पेस हीटिंग (Space heating) प्रदान करने के लिए, एक पंप एक गर्म धातु के वक्र के माध्यम से कुछ गर्म पानी भेजता है। एक पंखा गर्म वक्र के ऊपर और घर में वहिकाओं के माध्यम से हवा उड़ाता है।
4.स्पेस हीटर (Space heater) :प्राकृतिक गैस स्पेस हीटर उन कमरों के लिए एक अच्छा विकल्प हैं जिनका अक्सर उपयोग नहीं किया जाता है, घर के उन क्षेत्रों के लिए जिन्हें गरम करने की आवश्यकता होती है। इन सुगठित, ऊर्जा-कुशल इकाइयों को दीवार पर लगाया जा सकता है, जो बेसबोर्ड इकाइयों या आग रखने के स्थान या चूल्हा इकाई जैसी जगह में निहित है।वे सिर्फ एक या अधिक कमरे को गर्म करने केअनुसार आकार में बनाए जाते हैं। वे अक्सर पारंपरिक चिमनी या धुवांकशछिद्र का उपयोग करके सीधे बाहर की ओर निकलते हैं, लेकिन बिना छिद्र वाले मॉडल (Model) भी उपलब्ध हैं। किसी भी हीटिंग सिस्टम की ऊर्जा दक्षता को उसकी वार्षिक ईंधन उपयोग दक्षता (AFUE) में मापा जाता है। यह प्रणाली में जाने वाली ऊर्जा की मात्रा और प्रयोग करने योग्य ऊष्मा के रूप में निकलने वाली ऊर्जा की मात्रा के बीच का अनुपात है।यह स्टार्ट-अप (Start-up) और कूल-डाउन (Cool-down) के दौरान खोई हुई गर्मी के साथ-साथ चलने के दौरान इकाई की दक्षता को भी ध्यान में रखता है। वार्षिक ईंधन उपयोग क्षमताजितना अधिक होगा, भट्टी उतनी ही अधिक कुशल होगी।नई भट्टियों को 78 प्रतिशत दक्षता पर काम करना चाहिए; कुछ उच्च दक्षता वाले प्राकृतिक गैस तापन प्रणाली अपने ऊर्जा इनपुट (Input) का 98 प्रतिशत उपयोग करते हैं।
उद्योग सहित एक विशिष्ट या चुनिंदा क्षेत्रों में प्राकृतिक गैस की भूमिकाभारत में विकास में योगदान कर सकती है।आर्थिक से लेकर अवसंरचनात्मक मुद्दों तक के कारणों से जो इसके उपयोग में देरी करते हैं, प्राकृतिक गैस के लिए सरकार द्वारा घोषित पोर्टफोलियो (Portfolio) मिश्रण के नियोजित 15% तक या उस स्तर तक बढ़ना मुश्किल प्रतीत होता है जहां यह भारत के कार्बन (Carbon) उत्सर्जन में सार्थक गिरावट के लिए जिम्मेदार है।विशेषज्ञ इंडियास्पेंड बताते हैं कि“चूंकि भारत प्राकृतिक गैस की आपूर्ति के लिए अधिक गैस से चलने वाले बिजली संयंत्र और बुनियादी ढांचे का निर्माण करता है, इसलिए इस निवेश को नवीकरणीय ऊर्जा, हरित हाइड्रोजन (Hydrogen) और भंडारण क्षमता जैसी हरित प्रौद्योगिकियों में निवेश की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।” साथ ही जहां प्राकृतिक गैस, कोयले की तुलना में कम प्रदूषणकारी है, लेकिननवीकरणीय ऊर्जा की तरह स्वच्छ नहीं है।निकट भविष्य में, उद्योगों, परिवहन और घरों में प्राकृतिक गैस का उपयोग अत्यधिक प्रदूषणकारी कोयले के उपयोग को हटाने में सक्षम होगा, लेकिन इसका उपयोग केवल 'परिवर्तनकाल ईंधन' के रूप में किया जाना चाहिए।
2015 के पेरिस (Paris) समझौते के तहत, भारत ने अपने सकल घरेलू उत्पाद की ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन तीव्रता को 2005 के सापेक्ष 2030 तक 33% -35% तक कम करने के लिए प्रतिबद्ध किया है, जिसके लिए भारत में कोयले के उपयोग में प्रतिबंध लगाना होगा। प्राकृतिक गैस का उपयोग ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करता है क्योंकि प्राकृतिक गैस के दहन से कोयले की तुलना में लगभग आधा कार्बन उत्सर्जित होता है।इसके अलावा, भारत ने यह भी कहा है कि वह 2030 तक 450 गीगावाटनवीकरणीय ऊर्जा क्षमता स्थापित करेगा, जिसमें से 100 GW अगस्त 2021 तक स्थापित किया गया था। आखिरकार, भारत की योजना प्रमुख ईंधन स्रोत के रूप में नवीकरणीय ऊर्जा का उपयोग करने की है।2017 में, भारत सरकार ने घोषणा की कि वह 2030 तक अपने ऊर्जा मिश्रण में प्राकृतिक गैस की हिस्सेदारी को बढ़ाकर 15% कर देगी। सितंबर 2021 तक, प्राकृतिक गैस ने भारत के ऊर्जा मिश्रण का 6.5% हिस्सा बनाया।भारत प्राकृतिक गैस को परिवर्तनकाल ईंधन' केरूप में बढ़ावा दे रहा है क्योंकि यह मुख्य ऊर्जा स्रोत के रूप में नवीकरणीय ऊर्जा का उपयोग करनेकी दिशा में आगे बढ़ रहा है, जैसा कि दक्षिण पूर्व एशिया और अफ्रीका (Africa) के अन्य देश कर रहे हैं।

संदर्भ :-

https://bit.ly/3IY7A90
https://bit.ly/3eav2lk
https://bit.ly/32l2ra6
https://bit.ly/3J5B0SU
https://bit.ly/3J8TFwT

चित्र संदर्भ   
1. पुएब्लो केमिकल एजेंट-डिस्ट्रक्शन पायलट प्लांट (Pueblo Chemical Agent-Destruction Pilot Plant) को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
2. घरेलु प्राकृतिक गैस प्रणाली को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
3. प्राकृतिक गैस प्रणाली को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)



RECENT POST

  • लखनऊ के निकट कुकरैल रिजर्व मगरमच्छों की लुप्तप्राय प्रजातियों को संरक्षण प्रदान कर रहा है
    रेंगने वाले जीव

     22-01-2022 10:26 AM


  • कैसे शहरीकरण से परिणामी भीड़ भाड़ को शहरी नियोजन की मदद से कम किया जा सकता है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-01-2022 10:05 AM


  • भारवहन करने वाले जानवरों का मानवीय जीवन में महत्‍व
    स्तनधारी

     20-01-2022 11:46 AM


  • भारत में कुर्सी अथवा सिंहासन के प्रयोग एवं प्रयोजन
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     19-01-2022 11:08 AM


  • केरल के मछुआरों को अतिरिक्त आय प्रदान करती है, करीमीन मछली
    मछलियाँ व उभयचर

     17-01-2022 10:52 AM


  • भगवान अयप्पा की उत्पत्ति की पौराणिक कथा, हमारे लखनऊ में दक्षिण भारतीय शैली में इनका मंदिर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-01-2022 05:37 AM


  • स्नोबोर्डिंग के लिए बुनियादी सुविधाएं और प्रशिक्षण प्रदान करते हैं, भारत के कुछ स्थान
    हथियार व खिलौने

     16-01-2022 12:47 PM


  • कौन से हैं हमारे लखनऊ शहर के प्रसिद्ध, 100 वर्ष से अधिक पुराने कॉलेज?
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     15-01-2022 06:36 AM


  • भारत में कैसे मनाया जाता है धार्मिक और मौसमी बदलाव का प्रतीक पर्व , मकर संक्रांति?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-01-2022 02:45 PM


  • लखनऊ में बढ़ रही है, विदेशी सब्जियों की लोकप्रियता तथा खेती
    साग-सब्जियाँ

     13-01-2022 06:58 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id