रामपुर - गंगा जमुना तहज़ीब की राजधानी

लखनऊ

 01-01-2018 10:28 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

रामपुर उत्तर प्रदेश के रामपुर ज़िले में स्थित एक शहर है। इस शहर की स्थापना नवाब फैज़ुल्लाह खान द्वारा सन 1774 में की गयी थी। गंगा यमुना दोआब में कोसी नदी किनारे बसे इस नवाबों के शहर की खासियत है इसकी नवाबी तहज़ीब, कलाकारी और इतिहास का साक्ष्य देती खडी वास्तुकला। मानव निर्मित वस्तुओं के साथ रामपुर उसके प्राकृतिक विशेषताओं के लिए भी प्रसिद्ध है। प्रारंग में हमने रामपुर की इसी विशिष्टताओं को मद्देनज़र रखते हुए उसके अनूठेपन के अधोरेखित किया है। अब तक प्रारंग के व्यासपीठ से हमने रामपुर की प्रकृति जैसे यहाँ की खेती और उगने वाले धन-धान्य तथा यहीं पर उपलब्ध लता एवं वनस्पतियाँ और जीव सृष्टि के नमूने जो यहाँ पर पाए जातें हैं जैसे रामपुर हाउंड यह कुत्ते की नस्ल जिसका यहीं पर प्रथम संकर किया गया, तेंदुआ, नीलगाय, करैत सांप और रोहू इत्यादि की जानकारी दी है। इसी के साथ हमने रामपुर के इतिहास जैसे रोहिल्ला पठानों की विरासत, नवाबों द्वारा बनाई गयी रज़ा लाइब्रेरी जैसी इमारतें एवं कलाजगत जैसे वहाँ की मशहूर चिकनकारी, ज़रदोज़ी और कलमकारी को पूर्ण रूप से सराहने की कोशिश की है। रामपुर की संरचना एवं यहाँ उपलब्ध नौकरी, शिक्षा तथा अन्य साधनों के बारे में भी हमने जरूरती जानकारी दी है। प्रारंग में हम शहर नागरिकता जो विविधता एवं एकता में विश्वास कर संपन्न हो उसे प्रमाण विचार मानते हैं। हमारी विचैरिक प्रणाली आई-रूल को आधार मानती है जो कुछ इस प्रकार है : 1.आई (इंटरनेट) – स्थानीय भाषा में प्रत्येक शहर के लिए स्थानीय एवं सामाजिक रूप से जिम्मेदार विषय वस्तु। 2.आर (रिसर्च) – आर्थिक भुगोल से सम्बन्धित (राजनीतिक इतिहास और लोग / राजवंशों पर नहीं) विकासवादी तथ्यों व विज्ञान और रोजगार पर आधारित अनुसंधान। 3.यू (अर्बनाइज़ेशन) – जैव-क्षेत्रीय नगर नियोजन - संस्कृति और प्रकृति में परस्पर निर्भरता। 4.एल (लैंग्वेज) – भाषा के आधार पर विविधता की प्राथमिकता का निर्धारण (ना कि राजनीतिक भूगोल और जातीयता द्वारा)। 5.ई (एजूकेशन) – अन्तर्विषयक, मूल्यात्मक और समग्र शिक्षा। आजीवन सीखते रहने और सतत् कौशल उन्नयन के लिए जिज्ञासा पैदा करना। रामपुर की विस्तृत जानकारी देने के लिए जो वहाँ के नागरिकों के लिए महत्वपूर्ण एवं आवश्यक साबित हो, प्रारंग इस आई-रूल और उससे जुडी नैतिकता से बद्ध है।अब तक जो भी जानकारी रामपुर के लिए प्रारंग द्वारा दी गयी है वो इस विचार से की वहाँ के नागरिकों को इसका पूर्ण फायदा हो। प्रारंग ने संस्कृति एवं प्रकृति का समन्वय साधने की कोशिश कर रामपुर के अनूठेपन को अधोरेखित करने का प्रयास किया है। इसी हेतु अब हम रामपुर के लिए इन्टरनेट द्वार खोल रहे हैं जो आपको रामपुर से जुडी समस्त जानकारी देगा जैसे वहाँ पर उपलब्ध नौकरियाँ, सरकारी सेवाएं, अस्पताल, आपातकालीन व्यवस्थाएं, मनोरंजन के विविध साधन, मौसम का हाल हवाल, खेल विश्व और रोज़ की ताज़ा खबरें. सिर्फ यही नहीं, हमारी स्मार्ट सुविधायों के अंतर्गत स्थान, नागरिकता और कार्य को ध्यान में रखकर, हम आपको वहाँ उपलब्ध डाक एवं बैंकिंग व्यवस्था, परिवहन, रोजगार, भूलेख, शौपिंग तथा विविध उपयोगितायों के बारे में भी जानकारी देंगे। आपके शहर में उपलब्ध सभी सेवासाधन, व्यवस्था, एवं सुविधा की जानकारी आपको एक जगह पर मिल जाएगी- सिर्फ एक ऊँगली की दुरी पर। हमे आशा है की इस प्रयास से रामपुर का फायदा हो और उसकी उन्नति हो। अधिक जानकारी के लिए कृपया इन्टरनेट द्वार पे जाएँ : http://rampur.prarang.in/



RECENT POST

  • 1869 तक मिथक था, विशाल पांडा का अस्तित्व
    शारीरिक

     26-06-2022 10:10 AM


  • उत्तर और मध्य प्रदेश में केन-बेतवा नदी परियोजना में वन्यजीवों की सुरक्षा बन गई बड़ी चुनौती
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:53 AM


  • व्यस्त जीवन शैली के चलते भारत में भी काफी तेजी से बढ़ रहा है सुविधाजनक भोजन का प्रचलन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:51 AM


  • भारत में कोरियाई संगीत शैली, के-पॉप की लोकप्रियता के क्या कारण हैं?
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:37 AM


  • योग के शारीरिक और मनो चिकित्सीय लाभ
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     22-06-2022 10:21 AM


  • भारत के विभिन्‍न धर्मों में कीटों की भूमिका
    तितलियाँ व कीड़े

     21-06-2022 09:56 AM


  • सोशल मीडिया पर समाचार, सार्वजनिक मीडिया से कैसे हैं भिन्न?
    संचार एवं संचार यन्त्र

     20-06-2022 08:54 AM


  • अपने रक्षा तंत्र के जरिए ग्रेट वाइट शार्क से सुरक्षित बच निकलती है, सील
    व्यवहारिक

     19-06-2022 12:16 PM


  • संकट में हैं, कमाल के कवक, पारिस्थितिकी तंत्र में देते बेहद अहम् योगदान
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     18-06-2022 10:02 AM


  • बढ़ते शहरीकरण के इस युग में पक्षियों के अनुकूल बुनियादी ढांचे बनाने की आवश्यकता है
    पंछीयाँ

     17-06-2022 08:13 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id