ध्रुपद संगीत आपको चेतना के उच्च स्तर पर ले जाता है

लखनऊ

 29-10-2021 09:02 AM
ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

नवाब वाजिद अली शाह के शासन में लखनऊ के ठुमरी घराना ने ठुमरी के विकास में प्रमुख भूमिका निभाई। लेकिन खुद ठुमरी का जन्म ख्याल गायकी से हुआ था और ख्याल का जन्म शास्त्रीय संगीत के सभी रूपों के मूल जनक ध्रुपद से हुआ। हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत, हवेली संगीत और दक्षिण भारतीय कर्नाटक संगीत जैसे प्रमुख संगीत प्रकारों की प्राचीनतम गायन शैली ध्रुपद है। संस्कृत के ध्रुव (अटल,स्थाई) और पद (गीत) शब्दों से इसका निर्माण हुआ है। ध्रुपद की जड़े प्राचीन है और इसका जिक्र हिंदू संस्कृत नाट्यशास्त्र (200 BC- 200 CE) में हुआ था।ध्रुपद आध्यात्मिक, वीर रस का, विचार पूर्ण, धार्मिक प्रवृत्ति का काव्य और संगीत का मिश्रण है। इसमें 4 पद होते हैं- स्थाई, अन्तरा, संचारी और अभोग्य। कभी-कभी पांचवा पद 'भोग्य' भी शामिल किया जाता है। ज्यादातर ध्रुपद धार्मिक दार्शनिक प्रकार के होते हैं। कुछ ध्रुपद राजाओं की प्रशंसा में भी रचे गएथे। ध्रुपद की परंपरा ब्रज के संत स्वामी हरिदास,सूरदास,गोविंद स्वामी,अष्टसखा और बाद में तानसेन और बैजूबावरा द्वारा शुरू की गई थी।जब ध्रुपद रचना भगवान श्री विष्णु या उनके अवतारों पर आधारित होती है, तो उसे विष्णुपद कहा जाता है।
1593 में लिखी आईना-ए-अकबरी में अबू फजल ने पहली बार इसका उल्लेख किया। बाद में ग्वालियर के राजा मानसिंह तोमर ( 1486- 1516) के दरबार में इसका बहुत विकास हुआ। अधिकांश इतिहासकार ध्रुपद की रचना का श्रेय राजा मानसिंह तोमर को देते हैं। कवि- गायक- संत स्वामी हरिदास ध्रुपद शैली के स्थापित गायक थे।उनके पद कृष्ण को समर्पित हैं। उनके शिष्य तानसेन ने भी ध्रुपद का काफी प्रयोग किया। ध्रुपद गायन की संगीत में पखावज या मृदंग का प्रयोग तबले की जगह होता है। ध्रुपद के शुरू में लंबा आलाप होता है। इसके बाद जोर, झाला या नोमतोम गाया जाता है।
फिर बंदिश, ताल वाद्य और अन्य वाद्यों के साथ गाई जाती है। तिवरा,सुल और चैताल का प्रयोग होता है। बाद में इसमें होली शामिल की जाती है। अधिकतर ध्रुपद गायन मंदिरों में होता है। वहीं शास्त्रीय ध्रुपद के चार प्रकार होते हैं- गौरी(गौहर), खंदार, नौहार और डागर। इससे जुड़ा प्रमुख घराना है- डागर घराना। यह मुस्लिम घराना होने के बावजूद हिंदू देवी देवताओं की रचनाएं गाते हैं। बिहार से दरभंगा, दुमराँ और बेतिया घराने हैं।
भारतीय परंपरा में संगीत को सत्य और सत्य को ईश्वर के समान माना जाता है। इस समृद्ध विद्या से ध्रुपद की उत्पत्ति हुई, जिसकी जड़ें सामवेद के वैदिक शास्त्रों में पाई जा सकती हैं। यह भी कहा जाता है कि ऋषियों द्वारा महाकाव्यों, महाभारत और रामायण के जाप में ध्रुपद को स्वर और रंग दिया। नतीजतन, ध्रुपद प्रकृति में भक्तिपूर्ण था, देवताओं के लिए एक आह्वान, विशेष रूप से पूजा स्थलों में गाया जाता था। वहीं ध्रुपद ने जल्द ही एक योग - नद ब्रह्म (ध्वनि) की स्थिति ग्रहण कर ली। ध्वनि की शुद्धता प्राप्त करने के लिए ऋषियों द्वारा इसे योग ध्यान के लिए अनुसरण किया गया था। यदि आप ध्रुपद को सुनते हैं, तो आप अपने शरीर में ध्वनि की यात्रा को महसूस कर सकते हैं। प्राण वायु संगीत के रूप में आपके मूलाधार (आधार चक्र) से रीढ़ की हड्डी के अंत में सबसे निचले स्तर पर, सिर के शीर्ष पर उच्चतम स्तर, ससरधर चक्र तक यात्रा करता है।यह आपके सभी चक्रों को खोल सकता है। आपने यंत्र, मंत्र और तंत्र के बारे में तो सुना ही होगा। ऐसे ही शरीर को यंत्र माना जाता है, ध्रुपद मंत्र है और राग प्रणाली तंत्र। जब ये तीनों मिल जाते हैं, तो यह आपको चेतना के उच्च स्तर तक ले जाते हैं।
ध्रुपद धार्मिक भजनों की परंपरा से संबंधित प्रतीत होता है जो मंदिरों में गाए जाते थे जब से प्रबंध ने ध्रुपद को रास्ता दिया था। ध्रुपद संभवत: ओम (जो पवित्र शब्दांश है, जिसे हिंदू सिद्धांत में माना जाता है, जो सभी सृष्टि का स्रोत है) के पहले जप से विकसित हुआ है।भरत का नाट्यशास्त्र नाटक के शुरू होने से पहले गाए गए गीत के रूप में ध्रुव का संदर्भ देता है, जबकि 11 वीं शताब्दी के संगीत ग्रंथ, जैसे 'संगीत मकरंद' और 14 वीं शताब्दी के ग्रंथ जैसे 'रागतरंगिनी', ध्रुव और ध्रुव-प्रबंध दोनों रूपों पर चर्चा करते हैं। वहीं प्रबंध के बारे में हमें सोमेश्वर द्वारा लिखित 'मनसोला', शारंगदेव द्वारा लिखित 'संगीत रत्नाकर' और महाराणा कुंभकर्ण द्वारा लिखित 'संगीतराज' में संदर्भ मिलते हैं।17वीं शताब्दी के भवभट्ट जैसे विभिन्न विद्वानों ने उस समय गाए गए ध्रुपदों और रागों का विवरण दिया है। 14वीं शताब्दी में गायन की ध्रुपद शैली जोर पकड़ रही थी। ध्रुपदों का एक मजबूत शास्त्रीय आधार था क्योंकि वे सलगसुदा प्रबंध से विकसित हुए थे, क्योंकि यह इस प्रकार का प्रबंध था कि धातु ‘अंतरा’गाया जाता था।सलगसुदाप्रबन्ध में पाँच धातुएँ थीं, अर्थात् उद्ग्रह, मेलपाक, ध्रुव, अंतरा और अभोग।इस प्रकार आधुनिक ध्रुपद चार विभागों में आया: स्थिर, अंतरा, संकरी भोग।
सभी भारतीय शास्त्रीय संगीत की तरह, ध्रुपद एक एकल मधुर रेखा और कोई राग प्रगति के साथ,रूप-विषयक और मोनोफोनिक (Monophonic) है। प्रत्येक राग में एक रूप-विषयक होता है - सूक्ष्म-टोनल अलंकरण (गमक) का खजाना विशिष्ट होता है।गुरुओं की लगन और समर्पण के कारण ध्रुपद संगीत अब तक जीवित रहा है। आर्थिक तंगी और मुश्किलों के बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी तथा उनकी दृढ़ता अच्छे परिणाम लेकर आई क्योंकि अब हम वासिफुद्दीन डागर, बहाउद्दीन डागर, गुंडेचा ब्रदर्स, नैन्सीलेश, उदयभावलकर, प्रेम कुमार मलिक, आशीष सांकृत्यायन और कई अन्य होनहार कलाकारों जैसे ध्रुपद कलाकारों की एक नई पीढ़ी देखते हैं।भोपाल में स्थित ध्रुपद केंद्र ने इस प्राचीन परंपरा के आधार पर कई उत्कृष्ट गायकों का निर्माण किया है। हालाँकि इस प्राचीन परंपरा, भारतीय संस्कृति का एक आंतरिक हिस्सा के अस्तित्व को सुनिश्चित करने के लिए बहुत कुछ करने की आवश्यकता है।हालांकि कुछ समय से इसकी लोकप्रियता कम होती दिख रही है, ध्रुपद के दिग्गज रमाकांत और उमाकांत गुंडेचा, जिन्हें गुंडेचा बंधुओं के नाम से जाना जाता है, ने इस प्राचीन कला को जीवित रखने की कसम खाई है।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3CpRm4X
https://bit.ly/3vUBh4M
https://bit.ly/3w28mMb
https://bit.ly/3bnAC2c

चित्र संदर्भ

1. ध्रुपद, संगीतकारों का एक चित्रण (youtube)
2. कवि- गायक- संत स्वामी हरिदास का एक चित्रण (youtube)
3. ध्रुपद मेले का एक चित्रण (youtube)
4. कवि हरिदास के निकट बैठे अकबर और तानसेन का एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • 1999 में युक्ता मुखी को मिस वर्ल्ड सौंदर्य प्रतियोगिता का ताज पहनाया गया
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 01:04 PM


  • भारत में लोगों के कुल मिलाकर सबसे अधिक मित्र होते हैं, क्या है दोस्ती का तात्पर्य?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:17 AM


  • शीतकालीन खेलों के लिए भारत एक आदर्श स्थान है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:26 AM


  • प्राचीन भारत के बंदरगाह थे दुनिया के सबसे व्यस्त बंदरगाहों में से एक
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM


  • धार्मिक किवदंतियों से जुड़ा हुआ है लखनऊ के निकट बसा नैमिषारण्य वन
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:59 AM


  • कैसे हुआ सूटकेस का विकास ?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 11:18 AM


  • गंगा-जमुनी लखनऊ के रहने वालों का जीवन और आपसी रिश्तों का सुंदर विवरण पढ़े इन लघु कहानियों में
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     22-11-2021 09:59 AM


  • पर्यटकों को सबसे अधिक आकर्षित करता है, दुबई फाउंटेन
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-11-2021 11:03 AM


  • विभिन्न धर्मों और संस्कृतियों में पवित्र वृक्ष मनुष्य और ईश्वर के बीच का मार्ग माने जाते हैं
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-11-2021 11:11 AM


  • सर्वाधिक अनुसरित, आध्यात्मिक शिक्षक गुरु नानक देव जी का जन्मदिन
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-11-2021 09:37 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id