भारत के गंगा के मैदानी इलाकों में वायु प्रदूषण और इसका सर्दियों के मौसम से संबंध

लखनऊ

 22-10-2021 08:20 AM
जलवायु व ऋतु

संपूर्ण भारत के गंगा के मैदानी इलाकों में वायु प्रदूषण एक जटिल समस्या है जो कई कारकों पर निर्भर है। सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण प्रदूषकों को बढ़ावा देने वाले उत्पादन हैं, उसके बाद मौसम और स्थानीय स्थितियां हैं। वहीं आप यह जानकर चौंक जाएंगे कि दुनिया भर में कार के मलबे से अधिक लोग वायु प्रदूषण से संबंधित बीमारियों से मरते हैं।इनमें से कई मौतें घर के अंदर वायु प्रदूषण से संबंधित हैं, लेकिन बाहरी वायु प्रदूषण भी इसमें एक भूमिका निभाता है।हम जिस हवा में सांस लेते हैं उसकी गुणवत्ता हमें कई अलग-अलग स्तरों पर प्रभावित कर सकती है। गर्मियों में वायु प्रदूषण को देखना आसान है, क्योंकि कई शहरों में कोहरा एक परिचित दृश्य है।लेकिन बहुत से लोग यह नहीं जानते हैं कि सर्दियों में हवा की गुणवत्ता काफी कम हो सकती है। हालांकि यह सभी परिस्थितियों में सार्वभौमिक नहीं है, यह अक्सर होता है।वायुमंडलीय और मौसम की स्थिति का हवा में प्रदूषण के स्तर पर बड़ा प्रभाव पड़ता है। खराब गुणवत्ता वाली हवा के सबसे आम अभियुक्त हाइड्रोकार्बन (Hydrocarbon) और धूल जैसे प्रदूषक हैं।हाइड्रोकार्बन औद्योगिक उपयोग और मोटर-संबंधित निकास से जारी किए जाते हैं। यात्रा, यातायात और आवाजाही से धूल उड़ती है, इनमें से अधिकांश कोहरा का निर्माण करते हैं।यह समझना कि सर्दियों के दौरान वायु प्रदूषण के इन दो तत्वों को कैसे तेज किया जा सकता है, हमें यह देखना होगा कि गर्मी और सर्दियों के दौरान मौसम में क्या अंतर होता है। ऐसा करने के लिए, हम वातावरण के सबसे बुनियादी नियम से शुरुआत करेंगे।जैसा कि आपने स्कूल में सीखा होगा, ठंडी हवा भारी होती है इसलिए डूबती है और गर्म हवा ऊपर उठती है। इसका कारण यह है कि ठंडी हवा सघन होती है और गैस के अणुओं के बीच कम जगह होती है। जब तापमान गिरता है और ठंडी हवा जमीन को ढक लेती है, तब गर्म हवा उसके ऊपर से गुजरने के लिए मजबूर हो जाती है। इस तरह ठंडी हवा एक तरह की आवरण बना सकती है। जिस कारण प्रदूषक घनी ठंडी हवा में निकलने और फैलने के लिए उतने स्वतंत्र नहीं होते हैं। आप इसे एक प्रकार के प्रदूषक पकड़ने वाले आवरण के रूप में सोच सकते हैं जो सर्दियों में जमीन को ढकता है।जैसा कि हम जानते हैं कि ठंडी हवा सघन होती है और गर्म हवा की तुलना में धीमी गति से चलती है। इस घनत्व का मतलब है कि ठंडी हवा प्रदूषण को पकड़ लेती है, लेकिन उसे दूर भी नहीं करती है। यही कारण है कि सर्दियों में वायु प्रदूषण अधिक समय तक बना रहता है और इसलिए गर्मियों की तुलना में हमारे द्वारा प्रदूषित वायु को अधिक गति से सांस लिया जाता है।
साथ ही गर्म हवा अक्सर अधिक नमी से लदी होती है। जबकि ठंडी हवा उतनी नमी नहीं रख सकती है, और इसलिए सर्दियों के दौरान हवा आमतौर पर सूख जाती है। वायु प्रदूषण के अधिक उत्सुक तथ्यों में से एक यह है कि बारिश प्रदूषण के एक बड़े हिस्से को साफ कर सकता है।हालांकि सर्दियों के दौरान कई क्षेत्रों में ऐसा होने की संभावना कम होती है क्योंकि वर्षा का स्तर कम होता है। इसलिए इस सफाई प्रभाव के बिना, हवा से प्रदूषण साफ नहीं होता है और इसके बजाय हवा दूषित रहती है।यह प्राकृतिक चक्र को रोकता है जो हवा से धूल हटाता है और अधिक धूल को वातावरण में प्रवेश करने से रोकता है। यदि आप गर्मी बनाम सर्दी में वायु प्रदूषण को देखते हैं, तो आप देख सकते हैं कि ठंडी, शुष्क हवा अधिक प्रदूषण रखती है। यह गर्मियों की तुलना में अधिक जलन और सांस लेने में कठिनाई का कारण बनता है।एक अन्य तत्व जो सर्दियों की हवा को और अधिक प्रदूषित करता है, वह है सर्दियों के दौरान हमारे व्यवहार करने का तरीका। लोगों के लिए गर्मियों की तुलना में सर्दियों में कारों को चालू छोड़ना कहीं अधिक आम है।यह एक कार को गर्म करने या हीटर के काम करना शुरू करने की प्रतीक्षा करने के लिए किया जाता है।इसका बड़ा कारण यह है कि सर्दियों में ऊर्जा की मांग बढ़ जाती है, गर्मी के लिए अधिक बिजली और गैस जलाई जाती है। ये आदतें भी उच्च प्रदूषण में कारक योगदान देती हैं कि क्यों सर्दियों के दौरान घर के अंदर की हवा साफ नहीं होती है। जब आप लंबे समय तक घर में रहते हैं, तो प्रदूषण बढ़ सकता है।साथ ही सर्दी के दौरान फफूंदीभी एक समस्या हो सकती है। लेकिन क्या अपने कभी इस बात पर गौर किया है कि हर साल अक्टूबर में वायु प्रदूषण क्यों बढ़ता है?अक्टूबर आमतौर पर उत्तर पश्चिमी भारत में मानसून की वापसी का प्रतीक है। मानसून के दौरान, हवा की प्रचलित दिशा पूर्व की ओर होती है। ये हवाएँ, जो बंगाल की खाड़ी के ऊपर से चलती हैं, नमी ले जाती हैं और देश के इस हिस्से में बारिश लाती हैं।एक बार जब मानसून वापस आ जाता है, तो हवाओं की प्रमुख दिशा उत्तर पश्चिम में बदल जाती है। गर्मियों के दौरान भी हवा की दिशा उत्तर पश्चिम होती है, जो राजस्थान और कभी-कभी पाकिस्तान और अफगानिस्तान से धूल उड़ाकर लाती है।नेशनल फिजिकल लेबोरेटरी में वैज्ञानिकों द्वारा किए गए अध्ययन के अनुसार, सर्दियों में दिल्ली की 72 प्रतिशत हवा उत्तर-पश्चिम से आती है, जबकि शेष 28 प्रतिशत भारत-गंगा के मैदानों से आती है।2017 में, इराक (Iraq), सऊदी अरब (Saudi Arabia) और कुवैत (Kuwait) में उत्पन्न हुए एक तूफान के कारण कुछ ही दिनों में दिल्ली की वायु गुणवत्ता में भारी गिरावट आई थी।वहीं मौसम संबंधी कारकों का संयोजन इस क्षेत्र को प्रदूषण के लिए प्रवण बनाता है। जब शहर में पहले से ही उच्च आधार प्रदूषण के स्तर में खेत की आग और धूल भरी आंधी जैसे कारकों को जोड़ा जाता है, तो हवा की गुणवत्ता और कम हो जाती है।इसलिए सर्दियों में वायु प्रदूषण से निपटने के लिए दिल्ली की शीतकालीन कार्य योजना को तैयार किया गया। इसमें सबसे ज्यादा जोर धूल व धुएं से होने वाले प्रदूषण को रोकने पर है।सर्दियों के दौरान दिल्ली में प्रदूषण स्तर की जांच के लिए दिल्ली सरकार द्वारा सूचीबद्ध 10 कदम निम्नलिखित हैं:
1) चारा जलाना : सरकार द्वारा पूसा संस्थान (Pusa Institute) की मदद से एक विच्छिन्‍न तैयार किया है। इस घोल को एक बार फसल चारों पर छिड़कने से इसे जलाने की आवश्यकता समाप्त हो जाएगी।
2) धूल को कम करना : सरकार द्वारा 75 टीमें बनाई गई हैं जो पूरी राष्ट्रीय राजधानी का सर्वेक्षण करेंगी और सरकार के धूल प्रदूषण मानदंडों का उल्लंघन करने वालों पर भारी जुर्माना लगाएगी।
3) कूड़ा जलाने पर रोक : इसके लिए 250 टीमें बनाई गई हैं।
4) पटाखों पर प्रतिबंध
5) स्मॉगटावरों की स्थापना
6) एप के जरिए प्रदूषण हॉटस्पॉट की निगरानी
7) ग्रीन वॉर रूम (Green War Room) को मजबूत किया जा रहा है। जिसके लिए दिल्ली सरकार ने 50 पर्यावरण इंजीनियरों को काम पर रखा है।
8) ग्रीन दिल्ली एप पर लगातार नजर रखकर प्रदूषण के हॉटस्पॉट (Hotspot) की निगरानी की जा रही है।
9) इकोवेस्ट पार्क : देश में बन रहा यह पहला ऐसा पार्क है।
10) वाहन प्रदूषण
दिल्ली लगातार तीसरे वर्ष 2020 में दुनिया का सबसे प्रदूषित राजधानी शहर रहा था, एक स्विस समूह (Swiss group) की एक रिपोर्ट के अनुसार, जो कि अल्ट्राफाइन पार्टिकुलेट मैटर (Ultrafine particulate matter) के स्तर के संदर्भ में मापी गई हवा की गुणवत्ता के आधार पर शहरों को श्रेणीबद्ध करता है जो अंगों में प्रवेश कर सकते हैं और स्थायी नुकसान पहुंचाते हैं।दिल्ली को 50 शहरों में से 10वां सबसे प्रदूषित स्थान दिया गया था।

संदर्भ :-

https://bit.ly/3GjadB8
https://bit.ly/2ZcJ0it
https://bit.ly/3C2Wmfy

चित्र संदर्भ

1. लखनऊ में बड़ा इमामबाडा के बाहर मास्क पहने नागरिकों का एक चित्रण चित्रण (youtube)
2. 2005 में बीजिंग हवा बारिश के बाद (बाएं) और एक धूमिल दिन (दाएं) को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. हानिकारक हवा में काम करते मजदूरों को दर्शाता एक चित्रण (TheThirdPole)
4. खेतों में पराली जलाये जाने का एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • 1999 में युक्ता मुखी को मिस वर्ल्ड सौंदर्य प्रतियोगिता का ताज पहनाया गया
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 01:04 PM


  • भारत में लोगों के कुल मिलाकर सबसे अधिक मित्र होते हैं, क्या है दोस्ती का तात्पर्य?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:17 AM


  • शीतकालीन खेलों के लिए भारत एक आदर्श स्थान है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:26 AM


  • प्राचीन भारत के बंदरगाह थे दुनिया के सबसे व्यस्त बंदरगाहों में से एक
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM


  • धार्मिक किवदंतियों से जुड़ा हुआ है लखनऊ के निकट बसा नैमिषारण्य वन
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:59 AM


  • कैसे हुआ सूटकेस का विकास ?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 11:18 AM


  • गंगा-जमुनी लखनऊ के रहने वालों का जीवन और आपसी रिश्तों का सुंदर विवरण पढ़े इन लघु कहानियों में
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     22-11-2021 09:59 AM


  • पर्यटकों को सबसे अधिक आकर्षित करता है, दुबई फाउंटेन
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-11-2021 11:03 AM


  • विभिन्न धर्मों और संस्कृतियों में पवित्र वृक्ष मनुष्य और ईश्वर के बीच का मार्ग माने जाते हैं
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-11-2021 11:11 AM


  • सर्वाधिक अनुसरित, आध्यात्मिक शिक्षक गुरु नानक देव जी का जन्मदिन
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-11-2021 09:37 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id