लौकी की उत्पत्ति इतिहास व वाद्ययंत्रों में महत्‍तव

लखनऊ

 21-10-2021 05:41 AM
साग-सब्जियाँ

लौकी‚ दुनिया के उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में फल के लिए उगाया जाने वाला एक पौधा है। जिसकी उत्पत्ति दक्षिणी अफ्रीका (Southern Africa) के जंगली आबादी मे हुई थी। यह जंगली पौधा पतली भित्ति वाले फल पैदा करता है। भारत आने से पहले हजारों वर्षों तक अफ्रीका (Africa)‚ एशिया (Asia)‚ यूरोप (Europe) और अमेरिका (America) में लौकी की खेती की जाती थी। यूरोप में‚ रेइचेनौ (Reichenau) के महंत और कैरोलिंगियन (Carolingian) राजाओं के सलाहकार‚ वालाफ्रिड स्ट्रैबो (Walahfrid Strabo) (808-849) ने अपने हॉर्टुलस (Hortulus) में लौकी को एक आदर्श उद्यान के 23 पौधों में से एक के रूप में चर्चा की थी। इसकी अफ्रीकी या यूरेशियन प्रजाति 8,000 साल पहले अमेरिका में उगाई जा रही थी। यह समझना कठिन है कि यह अमेरिका कैसे पहुंची। लौकी को अफ्रीका से दक्षिण अमेरिका तक अटलांटिक महासागर (Atlantic Ocean) में बहने के लिए सिद्धांतित किया गया था‚ लेकिन 2005 में शोधकर्ताओं के एक समूह ने सुझाव दिया कि इसे खाद्य फसलों और पशुओं की तुलना में पहले ही जंगली से घरेलू बनाया गया था और नई दुनिया में लाया गया था। लौकी को चीन और जापान के पुरातात्विक संदर्भों से बरामद किया गया है। जबकि अफ्रीका में‚ दशकों के उच्च गुणवत्ता वाले पुरातात्विक अनुसंधान के बावजूद‚ इसके होने का सबसे पहला रिकॉर्ड 1884 की रिपोर्ट है‚ जिसमें थेब्स (Thebes) में 12 वें राजवंश के मकबरे से एक बोतल लौकी बरामद की गई थी। लौकी को कैलाबैश‚ सफेद फूल वाली लौकी‚ लंबा तरबूज‚ बर्डहाउस लौकी‚ न्यू गिनी बीन और तस्मानिया बीन‚ के नाम से भी जाना जाता है। इसका एक सब्जी के रूप में सेवन किया जाता है‚ तथा इसे सुखा कर काटने से एक बर्तन‚ पात्र या एक संगीत वाद्ययंत्र के रूप में भी उपयोग किया जाता है। जब यह ताजा होता है‚ तो फल में हल्के हरे रंग की चिकनी त्वचा और सफेद मांस होता है। लौकी के फल कई प्रकार के आकार के होते हैं‚ वे विशाल‚ गोल‚ छोटे‚ पतले‚ टेढ़े–मेढ़े या बोतल के आकार के हो सकते हैं‚ और वे एक मीटर से अधिक लंबे हो सकते हैं। गोलाकार किस्मों को आम तौर पर कैलाबैश लौकी कहा जाता है। लौकी दुनिया के पहले खेती वाले पौधों में से एक था जो मुख्य रूप से भोजन के लिए ही नहीं‚ बल्कि पात्रों के रूप में उपयोग के लिए भी उगाया जाता था। जापान में अभी भी पानी और तरल पदार्थ ले जाने के लिए लौकी का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। दो सिर वाली लौकी ले जाने में सबसे अच्छी होती हैं‚ जिनके बीच में पतली गर्दन के साथ दो बड़े सिर होते हैं‚ गर्दन के चारों ओर एक डोरी बांधकर कंधे पर एक बैग की तरह लटकाया जा सकता हैं। एफ्रोब्राज़ीलियाई मार्शल आर्ट कैपोइरा (Afro-Brazilian martial arts Capoeira) में‚ एक लौकी का उपयोग रोड़ा‚ या “राउंड गेम”‚ बेरिम्बाउ के लिए आवश्यक संगीत वाद्ययंत्र के निर्माण के लिए किया जाता है। बेरिम्बाउ चाल‚ साथी बदलना‚ और प्रत्येक रोडा की शुरुआत और अंत व्‍यवस्थित करता है‚ जो अन्य मार्शल आर्ट रूपों में एक खेल के बराबर है। लौकी का उपयोग ‘बैंजो’ में गुंजयमान यंत्र के रूप में भी किया जाता है। लौकी ने सदियों से ग्रामीण भारत की संस्कृति और परंपराओं को गढ़ा है। मध्य प्रदेश में डिंडोरी जिले के बैगा हार्टलैंड में एक जंगली पहाड़ी से गुजरते हुए‚ एक मधुर धुन सुनाई देती है‚ जो शांति को तोड़ती है। मोतीलाल जी जिन्‍होंने दुनिया से अपने सभी लगावों को त्याग दिया और जंगल में रहने का फैसला किया जहां सदियों से प्रा‍चीन बैगा जनजाति का घर रहा है। वे कहते हैं‚ “तम्बुरा की कोमल‚ मधुर ध्वनि मुझे दिव्यता के साथ एकजुट होने में मदद करती है”‚ तम्बुरा लंबी गर्दन वाला वाद्य यंत्र है‚ जिसका आधार लौकी के सूखे खोल से बना होता है। तम्बुरे की कोमल‚ मधुर ध्वनि के साथ वे संगीत बनाते हैं जिसका मस्तिष्क पर सुखदायक प्रभाव पड़ता है। बांग्लादेशी पार्श्व गायिका रूना लैला द्वारा प्रसिद्ध लौकी पर एक लोक गीत आधारित है‚ जिसके बोल हैं: “सदर लाउ बनालो मोरे बोइरागी” अर्थात “विनम्र लौकी ने मुझे पथिक बना दिया है।” यह गीत बांग्लादेश और पूर्वी भारत के भटकते रहस्यवादी गवैयों या बाउल गायकों को संदर्भित करता है‚ जो एक गोल आधार के साथ लौकी से बना एक तार वाला संगीत वाद्ययंत्र ‘एकतारा’ की कसम खाते हैं। जबकि बड़ी और पूरी आकार वाली लौकी द्वारा बनाई गई गहरी‚ अधिस्वोर-समृद्ध प्रतिध्वनि ने संगीतकारों और कवियों को अनादि काल से समान रूप से प्रेरित किया है‚ अजीब आकृतियों वाली छोटी किस्मों ने बैगा जैसे ग्रामीण लोगों के जीवन को समृद्ध किया है‚ जो अभी भी प्रकृति के साथ समरसता में रहते हैं। डिंडोरी के सिलपिडी गांव के एक बैगा हरिराम ने अपने घर के एक कोने में लौकी के सूखे गोलों को सम्‍भाल कर रखा है। हरिराम और उनका परिवार यात्रा करते समय या फसलों की देखभाल करते समय पीने के पानी को ले जाने के लिए लौकी के गोले का उपयोग करते हैं। पौड़ी गांव की सुखियारो कहती हैं‚ गर्मियों में हम लौकी के गोले में पानी जमा करना पसंद करते हैं क्योंकि यह लंबे समय तक पानी को ठंडा रखता है। उनका गौरव एक विशाल गोल लौकी का खोल है‚ जिसका उपयोग वे‚ बाजरे पर आधारित सूप पेज को संग्रह करने के लिए करती हैं। लौकी का उपयोग दुगडुगी‚ सितार‚ तानपुरा‚ सरोद‚ दिलरुबा या अग्निबीना जैसे शास्त्रीय संगीत वाद्ययंत्रों को बनाने के लिए भी किया जाता है। और इन उपकरणों को बेचने वाले व्यापारी‚ इन उपकरणों के एक महत्वपूर्ण घटक लौकी के गोले खरीदने के लिए‚ हुगली जिले की सीमा से लगे हावड़ा के उदयनारायणपुर के गांवों में जाते थे। हालांकि‚ आज प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना कर रहे उदयनारायणपुर के किसानों ने इन उपकरणों को बनाने के लिए उपयोग की जाने वाली लौकी की किस्मों को उगाना बंद कर दिया है। लालबाजार‚ भवानीपुर‚ पाइकपारा और कलकत्ता के अन्य स्थानों में शोरूम और कार्यशालाओं के साथ संगीत वाद्ययंत्र के व्यापारी हावड़ा और हुगली के गांवों से लौकी के गोले की आपूर्ति करते थे। हालांकि‚ शास्त्रीय संगीत में रुचि कम होने के कारण इस तरह के पारंपरिक तार वाले वाद्ययंत्रों की कम मांग‚ कीटों के बड़े पैमाने पर हमले‚ खेती की बढ़ती लागत और कभी-कभी प्रतिकूल जलवायु परिस्थितियों ने किसानों को लौकी उगाने से रोकने के लिए मजबूर किया है। शास्त्रीय संगीत सीखने में रुचि ना होने के कारण‚ पिछले दस वर्षों से शास्त्रीय संगीत वाद्ययंत्रों की मांग में भारी कमी आई है।

संदर्भः
https://bit.ly/3EcVztp
https://bit.ly/2Xsdg8j
https://bit.ly/3aTWcvi
https://bit.ly/3G29bcy

चित्र संदर्भ
1. लौकी से निर्मित वाद्य यंत्रों का एक चित्रण (wikimedia)
2. बेल पर उगती लौकी का एक चित्रण (wikimedia)
3. सरस्वती वीणा, कैलाश गुंजयमान यंत्र हमेशा कार्यात्मक नहीं होता है, लेकिन संतुलन प्रभाव के कारण इसे जगह पर रखा जाता है, जिसको दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. लौकी को नक्काशीदार पीने के कंटेनर के रूप में सजाया गया है जिसको दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • 1999 में युक्ता मुखी को मिस वर्ल्ड सौंदर्य प्रतियोगिता का ताज पहनाया गया
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 01:04 PM


  • भारत में लोगों के कुल मिलाकर सबसे अधिक मित्र होते हैं, क्या है दोस्ती का तात्पर्य?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:17 AM


  • शीतकालीन खेलों के लिए भारत एक आदर्श स्थान है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:26 AM


  • प्राचीन भारत के बंदरगाह थे दुनिया के सबसे व्यस्त बंदरगाहों में से एक
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM


  • धार्मिक किवदंतियों से जुड़ा हुआ है लखनऊ के निकट बसा नैमिषारण्य वन
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:59 AM


  • कैसे हुआ सूटकेस का विकास ?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 11:18 AM


  • गंगा-जमुनी लखनऊ के रहने वालों का जीवन और आपसी रिश्तों का सुंदर विवरण पढ़े इन लघु कहानियों में
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     22-11-2021 09:59 AM


  • पर्यटकों को सबसे अधिक आकर्षित करता है, दुबई फाउंटेन
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-11-2021 11:03 AM


  • विभिन्न धर्मों और संस्कृतियों में पवित्र वृक्ष मनुष्य और ईश्वर के बीच का मार्ग माने जाते हैं
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-11-2021 11:11 AM


  • सर्वाधिक अनुसरित, आध्यात्मिक शिक्षक गुरु नानक देव जी का जन्मदिन
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-11-2021 09:37 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id