भारत में 52 ईस्वी से हुआ उदय ईसाई धर्म के कैथोलिक और प्रोटेस्टैंट मान्यताओं का

लखनऊ

 04-10-2021 03:03 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

आपको यह जानकर आश्चर्य होगा, की हमारी धरती में छोटे-बड़े (अनुयाइयों के संदर्भ में) कुल मिलाकर लगभग 4,200 से भी अधिक धर्म हैं! और इससे बड़े आश्चर्य की बात यह है, की धर्मों में इतनी विविधता होने के बावजूद सभी धर्म एक ही संदेश देते हैं! वह है "शांति का संदेश"! विश्व में शांति और समृद्धि फ़ैलाने के संदर्भ में ईसाई धर्म के कैथोलिक संप्रदाय के योगदान को बेहद अहम् माना जाता है।
"कैथोलिकवाद" (Catholicism) शब्द की उत्पत्ति, ग्रीक शब्द कैथोलिकिज्मोस (καθολικισμός) से हुई है, जिसका शाब्दिक अर्थ "संपूर्ण के अनुसार" होता है। कैथोलिकवाद एक प्रकार से कैथोलिक चर्चों की परंपराएं और मान्यताएं होती हैं। अथवा यह कैथोलिक चर्चों में धर्मशास्त्र, पूजा-पाठ, नैतिकता और आध्यात्मिकता को संदर्भित करता है।
आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2012 में, दुनिया भर में 1.1 बिलियन से अधिक कैथोलिक थे। जो विश्व की जनसंख्या का 17% से अधिक होते है। "कैथोलिकवाद" को विभिन्न दृष्टिकोणों से समझा जा सकता है, जिसमें इसकी धार्मिक मान्यताओं को धर्मशास्त्र और "सिद्धांत" कहा जाता है, और इसकी धार्मिक पूजा के रूप को मुकदमेबाजी कहा जाता है। साथ ही कैथोलिकवाद शब्द नैतिकता के संदर्भ में धार्मिक विश्वासों (जो चीजें सही और गलत हैं) को भी इंगित करता है। यह कहा जा सकता है की कैथोलिकवाद, कैथोलिक धर्म में पालन किये जाने वाले तौर-तरीकों को संदर्भित करता है। कैथोलिकवाद के अनुयाइयों के सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति अथवा नेता को "पोप" (Pope) अथवा कई बार "रोम का बिशप ' (Bishop of Rome) " कहा जाता है। कैथोलिक चर्च इटली के रोम शहर के एक छोटे से स्वतंत्र देश वेटिकन सिटी (Vatican City) में स्थित है। कैथोलिक अनुयायी पोप को अपना धर्माध्यक्ष मानते हैं। कैथोलिक के अलावा ईसाई धर्म की दूसरी मुख्य शाखा प्रोटेस्टैंट (Protestant) कहलाती है, तथा जिसके अनुयायी पोप के धार्मिक नेतृत्व को नहीं स्वीकारते। कैथोलिकों और प्रोटेस्टैंटों की धार्मिक मान्यताओं में और भी बड़े अंतर हैं। प्रोटेस्टैंटों के विपरीत कैथोलिक मानते हैं कि, उनकी प्रार्थना रीतियों में जो रोटी और मदिरा का पान किया जाता है, वह धार्मिक अर्थ में यीशु मसीह का मास और रक्त बन जाते हैं, जिन्हें प्रार्थना करने वाले द्वारा ग्रहण किया जाता है। कैथोलिक पोप को ईसाई धर्म का पृथ्वी पर परम अध्यक्ष मानते हैं, जबकि प्रोटेस्टैंट ऐसा करने से इंकार करते हैं। साथ ही कैथोलिक पादरियों को विवाह करने की अनुमति नहीं होती, वे जीवनभर ब्रह्मचर्य का पालन करते है। कुछ स्त्रियाँ भी अपना जीवन धर्म के नाम कर देती हैं, और आजीवन कुँवारी रहती हैं। इन्हें "नन" (nun) कहा जाता है।
कैथोलिक चर्च को कैथोलिक अनुयायियों का सबसे प्रमुख धार्मिक स्थल माना जाता है। भारत में कैथोलिक चर्च रोम में पोप और कुरिया की कैथोलिक चर्च का हिस्सा है। भारत में कैथोलिक कुल आबादी का 1.55% प्रतिनिधित्व करते हैं, जिनकी संख्या लगभग 20 मिलियन से अधिक हैं। और कैथोलिक चर्च भारत का सबसे बड़ा ईसाई चर्च है। भारत में 10,701 पैरिश और 174 सूबा हैं, जो 29 प्रांतों में संगठित हैं। इनमें से 132 लैटिन कैथोलिक (Latin Catholic) चर्च के हैं; 31 सिरो-मालाबार (Syro-Malabar) चर्च हैं और 11 मलंकरा सीरियन कैथोलिक चर्च सूबा हैं। भारतीय आबादी के छोटे प्रतिशत के बावजूद, भारत में फिलीपींस (Philippines) के बाद एशिया में दूसरी सबसे बड़ी कैथोलिक आबादी है। भारत में सभी चर्चों के सभी बिशप (एक बिशप एक धार्मिक संस्था में एक नियुक्त या नियुक्त सदस्य होता है, जिसे आम तौर पर अधिकार और निरीक्षण की स्थिति सौंपी जाती है।) सभी चर्चों से, भारत के कैथोलिक बिशप सम्मेलन का निर्माण करते हैं, जिसकी स्थापना 1944 में हुई थी। भारत में पहली बार ईसाई धर्म 52 ईस्वी में थॉमस द एपोस्टल (Thomas the Apostle) के माध्यम से मुजिरिस (वर्तमान में केरल राज्य) में पहुंचा। थॉमस ने भारत के पूर्वी और पश्चिमी तटों में ईसाई धर्म का प्रचार किया। भारत में सेंट थॉमस ईसाइयों को नसरानी (Nasrani) के नाम से जाना जाता है, जो एक सीरियाई शब्द है, जिसका अर्थ है नाज़रीन जीसस का अनुयायी।
हमारे शहर रामपुर में भी प्रसिद्ध सेंट जोसेफ सेंटर (St. Joseph's Center) है, जो रामपुर के राष्ट्रीय उच्च और जिला अदालतों के सामने एक सुंदर सात एकड़ के बाग में स्थित है। 1947 तक रामपुर पर शासन करने वाले नवाबों के समय यह स्थान एक चिड़ियाघर हुआ करता था। NS टस्कनी के पायस ने 1963 में मेरठ के सूबा के नाम पर कुछ पुरानी इमारतों के साथ इस भूखंड को खरीदा था। वर्ष 1976 में अपने पुराने भवनों के साथ भूमि का यह भूखंड सूबा द्वारा केरल प्रांत के उत्तरी कैपुचिन मिशन क्षेत्र को एक व्यावसायिक प्रशिक्षण केंद्र शुरू करने के मद्देनजर सौंप दिया गया था, और Br. पी ए जोसेफ (Br. P A Joseph) को चर्च के पहले पुजारी और श्रेष्ठ के रूप में नियुक्त किया गया था।

संदर्भ
https://n.pr/2Ydn7yM
https://bit.ly/3FdhEcr
https://bit.ly/3a19tl1
https://simple.wikipedia.org/wiki/Catholicism

चित्र संदर्भ

1. केरल के अरकुझा में मार्थ मरियम सिरो-मालाबार (Martha Maryam Syro-Malabar) कैथोलिक चर्च, 999 में स्थापित एक प्राचीन नसरानी चर्च है, जिसका एक चित्रण (wikimedia)
2. 2005 तक विभिन्न देशों में कैथोलिक धर्म के विस्तार के प्रतिशत का एक चित्रण (wikimedia)
3. भारत में कैथोलिक चर्च के चर्च प्रांत और सूबों का एक चित्रण (wikimedia)
4. रामपुर में प्रसिद्ध सेंट जोसेफ सेंटर (St. Joseph's Center) का एक चित्रण (2.bp.blogspot)




RECENT POST

  • 2022 में कई महत्वाकांक्षी मिशन के साथ आगे बढ़ रहा है,भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन
    संचार एवं संचार यन्त्र

     27-01-2022 10:38 AM


  • काफी भव्य रूप से निकाली जाती है लखनऊ में गणतंत्र दिवस की परेड
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     26-01-2022 10:43 AM


  • इंग्लैंड से भारत वापस आई 10वीं शताब्दी की भारतीय योगिनी मूर्ति
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     25-01-2022 09:37 AM


  • क्या मनुष्य कंप्यूटर प्रोग्राम या सिमुलेशन का हिस्सा हैं?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     24-01-2022 10:52 AM


  • रबिन्द्रनाथ टैगोर और नेता जी सुभाष चंद्र बोस का एक साथ का बहुत दुर्लभ वीडियो
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     23-01-2022 02:27 PM


  • लखनऊ के निकट कुकरैल रिजर्व मगरमच्छों की लुप्तप्राय प्रजातियों को संरक्षण प्रदान कर रहा है
    रेंगने वाले जीव

     22-01-2022 10:26 AM


  • कैसे शहरीकरण से परिणामी भीड़ भाड़ को शहरी नियोजन की मदद से कम किया जा सकता है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-01-2022 10:05 AM


  • भारवहन करने वाले जानवरों का मानवीय जीवन में महत्‍व
    स्तनधारी

     20-01-2022 11:46 AM


  • भारत में कुर्सी अथवा सिंहासन के प्रयोग एवं प्रयोजन
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     19-01-2022 11:08 AM


  • केरल के मछुआरों को अतिरिक्त आय प्रदान करती है, करीमीन मछली
    मछलियाँ व उभयचर

     17-01-2022 10:52 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id