बिल्लियों के लिए बनाई जाने वाली मछली ब्लूफिन टूना (bluefin tuna) आज मनुष्‍यों के बीच बेशकीमती

लखनऊ

 08-08-2021 02:26 PM
स्वाद- खाद्य का इतिहास
दुनिया के सबसे महंगे खाने की सूची में ब्लूफिन टूना (bluefin tuna) सबसे ऊपर शामिल है। जिसकी कीमत 5,000 डॉलर प्रति पाउंड से अधिक तक है। जनवरी 2020 में टोक्यो (Tokyo) के टोयोसु फिश मार्केट (Toyosu Fish Market) में 600 पाउंड का ब्लूफिन टूना 1.8 मिलियन डॉलर में बेचा गया। ब्लूफिन टूना मछली में एक भावपूर्ण बनावट और नाजुक स्वाद होता है। हालांकि, दक्षिणी ब्लूफिन टूना गंभीर रूप से संकटग्रस्त स्थिति में है, जबकि अटलांटिक ब्लूफिन टूना (Atlantic bluefin tuna) संकटग्रस्त स्थित में है और प्रशांत ब्लूफिन टूना (Pacific bluefin tuna) नाजूक स्थित में खड़ी है। यह अत्यधिक मछली पकड़ने के कारण हुआ है। कभी बिल्ली के भोजन के लिए इस्तेमाल की जाने वाली लुप्तप्राय मछली अब दुनिया में सबसे बेशकीमती व्यंजनों में से एक है। हर साल, जनवरी के पहले शनिवार को, जापान (Japan) एक ब्लूफिन टूना के ऊपर अत्यधिक कीमत लगाकर वैश्विक मछली पकड़ने वाले समुदाय के लिए एक भव्य विज्ञापन जारी करता है। टोक्यो (Tokyo) में प्रसिद्ध त्सुकिजी मछली बाजार (Tsukiji fish market) में, वर्ष की पहली ब्लूफिन नीलामी कई चीजों का प्रतिनिधित्व करती है: ब्लूफिन साशिमी (bluefin sashimi) के लिए बढ़ती उपभोक्ता मांग, प्राकृतिक संसाधनों का दोहन, एक प्रजाति का पतन, पूरे महासागर में उपस्थित समस्‍या के सामने अदूरदर्शिता। 2013 में, जापानी सुशी रेस्तरां (Japanese sushi restaurant) श्रृंखला के मालिक कियोशी किमुरा ने त्सुकिजी में पहले ब्लूफिन के लिए $ 1.76 मिलियन का भुगतान किया, जिसका वजन 489 पाउंड था। किमुरा ने 2012 के पहले टूना के लिए $736,000—उस समय एक विश्व-रिकॉर्ड कीमत का भुगतान किया था। उस मछली का वजन 593 पाउंड था। 1960 के दशक में कोई भी ब्लूफिन को नहीं पसंद करता था। संयुक्त राज्य (United States) में, मछली प्रति पाउंड पैसे के लिए बेची जाती थी, और आमतौर पर इसे बिल्ली के भोजन के लिए तैयार किया जाता था। जापान ने इस मछली को लोगों के बीच परोसने का प्रयास किया, लेकिन वहां बहुत कम लोगों को ब्लूफिन का खूनी, वसायुक्त मांस पसंद आया। फिर अमेरिका में सुशी बार (Sushi Bar) उभरने लगे, और अमेरिकियों ने टोरो (toro) के लिए एक स्वाद विकसित किया - ब्लूफिन के पेट का प्रमुख मांस। 1970 के दशक तक, जापानियों ने भी ब्लूफिन के लिए एक स्वाद विकसित कर लिया था।

संदर्भ:
https://www.youtube.com/watch?v=CjhOqmn1CPs
https://www.youtube.com/watch?v=2RRDQBuPxK4


RECENT POST

  • उत्तर और मध्य प्रदेश में केन-बेतवा नदी परियोजना में वन्यजीवों की सुरक्षा बन गई बड़ी चुनौती
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:53 AM


  • व्यस्त जीवन शैली के चलते भारत में भी काफी तेजी से बढ़ रहा है सुविधाजनक भोजन का प्रचलन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:51 AM


  • भारत में कोरियाई संगीत शैली, के-पॉप की लोकप्रियता के क्या कारण हैं?
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:37 AM


  • योग के शारीरिक और मनो चिकित्सीय लाभ
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     22-06-2022 10:21 AM


  • भारत के विभिन्‍न धर्मों में कीटों की भूमिका
    तितलियाँ व कीड़े

     21-06-2022 09:56 AM


  • सोशल मीडिया पर समाचार, सार्वजनिक मीडिया से कैसे हैं भिन्न?
    संचार एवं संचार यन्त्र

     20-06-2022 08:54 AM


  • अपने रक्षा तंत्र के जरिए ग्रेट वाइट शार्क से सुरक्षित बच निकलती है, सील
    व्यवहारिक

     19-06-2022 12:16 PM


  • संकट में हैं, कमाल के कवक, पारिस्थितिकी तंत्र में देते बेहद अहम् योगदान
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     18-06-2022 10:02 AM


  • बढ़ते शहरीकरण के इस युग में पक्षियों के अनुकूल बुनियादी ढांचे बनाने की आवश्यकता है
    पंछीयाँ

     17-06-2022 08:13 AM


  • हमारे देश के चार कौनों में स्थित चार धामों के चार क्षेत्र, प्रत्येक युग का प्रतिनिधित्व करते हैं
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     16-06-2022 08:52 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id