सदियों पुरानी लघुचित्रकारी का इतिहास और समय व् स्थान के साथ बदलाव

लखनऊ

 07-08-2021 10:27 AM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

मध्ययुग के दौरान, लघु-कलाकारों द्वारा हाथीदांत, चर्मपत्र, तांबे या तैयार पत्रक का उपयोग लघु कलाकृतियां बनाने के लिए किया गया था, जिन्हें लॉकेट (locket) के रूप में पहना जाता था या समाज में धन और स्थिति के प्रदर्शन के रूप में संदूक में रखा जाता था।जब जर्मन पुनर्जागरण (German Renaissance) चित्रकार हान्स होल्बीन द यंगर (Hans Holbein the Younger) इंग्लैंड (England) में 1526–1528 में लघु चित्रों की कला में महारत हासिल कर रहे थे, भारत में 10वीं शताब्दी से पहले ही ताड़ के पत्तों पर इसकी शुरूआत हो गयी थी, जो बाद में दक्कनी, पहाड़ी, राजस्थानी, और लघु चित्रकला की मुगल शैली के रूप में अपने संरक्षकों के बीच लोकप्रिय हुयी।
कला का यह रूप विलुप्त नहीं हुआ है और अभी भी कई कलाकारों द्वारा दूर-दूर तक इसका अभ्यास किया जा रहा है। रामपुर का रज़ा पुस्तकालय इस प्रकार के दुर्लभ लघु, चित्र और सचित्र पांडुलिपियों से समृद्ध है, जो मंगोल, फ़ारसी, मुगल, दक्कनी, राजपूत, पहाड़ी, अवध और ब्रिटिश स्कूल ऑफ़ पेंटिंग्स (Awadh and British Schools of Paintings) का प्रतिनिधित्व करते हैं, जो पुस्तकालय होल्डिंग्स (holdings) की काफी हद तक अप्रयुक्त संपत्ति है।
पुस्तकालय में चित्रों और लघुचित्रों के पैंतीस एल्बम (albums) मौजूद हैं, जिनमें ऐतिहासिक मूल्य के लगभग पाँच हज़ार चित्र मौजूद हैं। यहां पर तिलिस्म नामक एक अनूठा एल्बम है, जो अकबर के शासनकाल के प्रारंभिक वर्षों से संबंधित है, इसमें ज्योतिष और जादुई अवधारणाओं के अलावा समाज के विभिन्न स्तरों के जीवन को चित्रित करने वाले 157 लघुचित्र शामिल हैं।साथ ही यहां पर रागमाला का एक बहुत ही मूल्यवान एल्बम भी है, जिसमें अलग-अलग मौसम, समय और मनोदशाओं के अलावा सुंदर परिदृश्य देवताओं और देवी, युवा संगीतकारों के माध्यम से 35 रागों और रागनी को चित्रित किया गया है, विशेष रूप से 17 वीं शताब्दी में मुगल शैली में चित्रित किया गया है। भारतीय कला में कई अलग अलग प्रकार की कलाएँ शामिल हैं, जिनमें चित्रकला, मूर्तिकला, मिट्टी के बर्तन और वस्‍त्र कला जैसे बुने हुए रेशम आदि शामिल हैं। भौगोलिक रूप से, यह पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में फैला है। कला का रहस्‍यमय ज्ञान भारतीय कला की विशेषता है और इसे इसके आधुनिक और पारंपरिक रूपों में देखा जा सकता है।भारतीय कला की उत्पत्ति का पता तीसरी सहस्राब्दी ईसा पूर्व से लगाया जा सकता है। आधुनिक समय तक आते-आते,भारतीय कला पर सांस्कृतिक प्रभाव पड़ा है, साथ ही साथ हिंदू, बौद्ध, जैन, सिख और इस्लाम जैसे धर्मों का धार्मिक प्रभाव भी पड़ा है। धार्मिक परंपराओं के इस जटिल मिश्रण के बावजूद, सामान्‍यत:, किसी भी समय और स्थान पर प्रचलित कलात्मक शैली को प्रमुख धार्मिक समूहों द्वारा बांट दिया गया।
भारतीय लघु चित्रकला का इतिहास 6ठी और 7वीं शताब्दी के बीच शुरू हुआ था। उस दौरान संभवत: यथार्थवाद को व्यक्त करने के लिए लघु चित्रकला तैयार की गई थी। 11 वीं शताब्दी के पाला लघु चित्र सामने आने लगे थे। मूल रूप से वे ताड़ के पत्तों पर बनाए गए थे और बाद में कागज पर काम किया गया था। 9 वीं -12 वीं शताब्दी में बनाई गई लघु चित्रकला की पूर्वी पाठशाला, महायान बौद्ध देवताओं को चित्रित करती है। यह कला आसान रचनाओं और गंभीर स्वरों के प्रतीक है। ब्रहदेश्वर मंदिर में दक्षिण भारत में 11 वीं शताब्दी के चोल युग में किए गए चित्रों का प्रतिनिधित्व है। वर्तमान समय में मौजूद कुछ भारतीय लघुचित्र लगभग 1000 ईस्वी पूर्व से अस्तित्‍व में हैं, और कुछ अगली कुछ शताब्दियों से। यह लघुचित्रबौद्ध, जैन और हिंदू समकक्षों से संबंधित हैं। बौद्ध धर्म की गिरावट के साथ-साथ ताड़-पत्ती पांडुलिपियों की दुर्लभता भी बढ़ने लगी।कागज पर लघु चित्रों में मुगल चित्रकला का विकास 16वीं शताब्दी के अंत में मौजूदा लघु परंपरा और मुगल सम्राट के दरबार द्वारा आयातित फारसी लघु परंपरा में प्रशिक्षित कलाकारों के संयुक्त प्रभाव से हुआ। शैली में नई सामग्री बहुत अधिक यथार्थवाद से संबंधित थी, विशेष रूप से चित्रों में, जानवरों, पौधों और भौतिक दुनिया के अन्य पहलुओं को दर्शाया गया। डेक्कन पेंटिंग (Deccan painting) का विकास उसी समय के आसपास दक्षिण में दक्कन सल्तनत के दरबार में हुआ, कुछ मायनों में अधिक महत्वपूर्ण, कम मार्मिक और सुरुचिपूर्णथा।

लघुचित्र या तो सचित्र पुस्तकें थीं या मुराक्का या पेंटिंग के एल्बम और इस्लामी सुलेख का हिस्‍सा थे। यह शैली धीरे-धीरे अगली दो शताब्दियों में मुस्लिम और हिंदू दोनों रियासतों में कागज पर पेंटिंग को प्रभावित करने के लिए फैल गई, और कई क्षेत्रीय शैलियों में विकसित हुई, जिन्हें अक्सर "उप- मुगल" कहा जाता है, जिसमें राजपूत पेंटिंग, पहाड़ी पेंटिंग और अंत में कंपनी पेंटिंग शामिल हैं। संकर जल रंग शैली यूरोपीय कला से प्रभावित है और बड़े पैमाने पर ब्रिटिश राज के लोगों द्वारा संरक्षित की गयी। कांगड़ा पेंटिंग जैसे "पहाड़ी" ("पर्वत") केंद्रों में शैली महत्वपूर्ण बनी रही और 19वीं शताब्दी के शुरुआती दशकों में विकसित होती रही। 19वीं सदी के मध्य से पश्चिमी शैली के चित्रफलक चित्रों को सरकारी कला विद्यालयों में प्रशिक्षित भारतीय कलाकारों द्वारा तेजी से चित्रित किया जाने लगा।
प्रारंभिक लघु-चित्रकारों ने चर्म पत्र या कागज पर पानी वाले और पारदर्शी जल रंग से चित्रण किया। धातु की सतह के एनामेल(enamel) में लघुचित्रों को चित्रित करने की तकनीक 17 वीं शताब्दी में फ्रांस (France) में पेश की गई थी और जीन पेटिटोट(Jean Petitot) ने उसमे महारथ हासिल की। लगभग 1700 के आसपास इटली (Italy) के चित्रकार रोसाल्बा कैरिएरा(Rosalba Carriera) ने हाथी दांत के उपयोग को एक ऐसे रूप में पेश किया जो पारदर्शी रंगो के लिए एक चमकदार सतह प्रदान कर सकता है और उनके प्रभाव को बढ़ा सकता है। 18 वीं शताब्दी के प्रमुख यूरोपीय (European) लघु- कलाकार फ्रांस में पीटर एडॉल्फ हॉल(Peter Adolf Hall) और निकलस लाफ्रेंसन(Nicolas Lafrensen) और इंग्लैंड (England) में यिर्मयाह मेयर(Jeremiah Meyer), रिचर्ड कॉसवे(Richard Cosway), ओज़ियास हम्फ्री(Ozias Humphrey) और जॉन स्मार्ट(John Smart) थे।
वर्तमान समय में फैली कोविड-19 महामारी ने संपूर्ण विश्‍व को हिला कर रख दिया है।इसके प्रभाव से कोई भी पहलु अछुता नहीं रहा है, लगभग हर क्षेत्र में इससे बचाव के सुझाव दिए जा रहे हैं। आधुनिक लघुचित्रों में भी इसका प्रभाव देखा गया है।यहां तक ​​​​कि ललित कला के निर्माता कोविड -19 पर विचार कर रहे हैं, लोक कलाकार अपने रंगद्रव्य को बाहर निकाल रहे हैं और समयानुसार अपनी संस्कृति और परंपरा के अनुसार महामारी की व्याख्या कर रहे हैं। एक लघुचित्र में भगवान श्री कृष्‍ण को मास्‍क और सैनेटाइज़र के साथ दिखाया गया है।

संदर्भ:
https://bit.ly/2WKtbOA
https://bit.ly/3frJ4Ac
https://bit.ly/2WTrdM2
https://bit.ly/2Vf8w56
https://bit.ly/3A8DlXF

चित्र संदर्भ
1. राजस्थानी लघु चित्र का एक चित्रण (flickr)
2. उर्दू पेपर लघुचित्र पेंटिंग का एक चित्रण (flickr)
3. भारतीय हाथी - लघु चित्रकारी का एक चित्रण (flickr)
4. राजस्थानी-लघु-चित्रकला का एक चित्रण (flickr)



RECENT POST

  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM


  • देववाणी संस्कृत को आज भारत में एक से भी कम प्रतिशत आबादी बोल व् समझ सकती है
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:08 AM


  • बाढ़ नियंत्रण में कितने महत्वपूर्ण हैं, बीवर
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:36 PM


  • प्रारंभिक पारिस्थिति चेतावनी प्रणाली में नाजुक तितलियों का महत्व, लखनऊ में खुला बटरफ्लाई पार्क
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:09 AM


  • लखनऊ सहित विश्व में सबसे पुराने और शानदार स्विमिंग पूलों या स्नानागारों का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:41 AM


  • भारत में बढ़ती गर्मी की लहरें बन रही है विशेष वैश्विक चिंता का कारण
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:10 PM


  • लखनऊ में रहने वाले, भाड़े के फ़्रांसीसी सैनिक क्लाउड मार्टिन का दिलचस्प इतिहास
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     11-05-2022 12:11 PM


  • तेजी से उत्‍परिवर्तित होते वायरस एक गंभीर समस्‍या हो सकते हैं
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     10-05-2022 09:02 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id