मानव जीवन के लिए काफी घातक होती है ऊष्मा लहरें

लखनऊ

 07-06-2021 09:42 AM
जलवायु व ऋतु

एक शोध पत्र में कहा गया है कि पिछले तीन दशकों में देश में ऊष्मा तरंग की घटनाएं धीरे-धीरे बढ़ रही हैं, जिसमें 660 ऐसी घटनाएं हुई हैं, जिनमें12,273 मौतें हुई हैं।“ऊष्मा तरंग की घटनाओं ने एक बढ़ती प्रवृत्ति दिखाई है, जबकि ऊष्मा तरंग में कोई महत्वपूर्ण वृद्धि या गिरावट की प्रवृत्ति नहीं देखी गई है। फिर भी मृत्यु घनत्व में, शीर्ष पांच राज्य चंडीगढ़, दिल्ली, आंध्र प्रदेश, बिहार और ओडिशा हैं।करंट साइंस (Current Science) में प्रकाशित एक लेख के अनुसार,क्षेत्रीय रूप से, वार्षिक मृत्यु दर 0.66 (प्रायद्वीप क्षेत्र) से 0.02 (पहाड़ी क्षेत्र) तक भिन्न होती है।”ऊष्मा तरंग से मरने वालों में दिहाड़ी मजदूर, रिक्शा संचालक और सब्जी विक्रेता जैसे लोग शामिल होते हैं, जो सबसे अधिक धूप में काम करते हैं।विशेष रूप से समुद्री जलवायु वाले देशों में ऊष्मा तरंग अत्यधिक गर्म मौसम की अवधि है, जो उच्च आर्द्रता के साथ हो सकती है। हालांकि परिभाषाएं अलग-अलग हैं,एक गर्मी की लहर को आमतौर पर क्षेत्र में सामान्य मौसम के सापेक्ष और मौसम के सामान्य तापमान के सापेक्ष मापा जाता है।तापमान जिसे गर्म जलवायु के लोग सामान्य मानते हैं, उसे ठंडे क्षेत्र में रहने वाले लोगों के लिए ऊष्मा तरंग कहा जा सकता है यदि वे उस क्षेत्र के सामान्य जलवायु स्वरूप से भिन्न हैं।गंभीर ऊष्मा तरंग काफी विनाशकारी फसल की विफलता, अतिताप से हजारों मौतें, और वातानुकूलक के बढ़ते उपयोग के कारण व्यापक बिजली कटौती का कारण बना दिया है।एक ऊष्मा तरंग को अत्यंत तेज गर्मी माना जाता है, जिसे एक प्राकृतिक आपदा कहा जा सकता है, क्योंकि गर्मी और सूरज की रोशनी मानव शरीर को अत्यधिक गर्म कर सकती है। पूर्वानुमान उपकरणों का उपयोग करके आमतौर पर ऊष्मा तरंग का पता लगाया जा सकता है ताकि चेतावनी जारी की जा सके।
गर्मी की लहरें तब बनती हैं जब उच्च दबाव (10,000-25,000 फीट से) शक्तिशाली हो जाता है और एक क्षेत्र में कई दिनों तक या कई हफ्तों तक बना रहता है।
यह गर्मियों में (उत्तरी और दक्षिणी दोनों गोलार्द्धों में) आम है क्योंकि जेटस्ट्रीम (Jet Stream)'सूर्य का अनुसरण करती है'। जेटस्ट्रीम के भूमध्य रेखा पर, वायुमंडल की ऊपरी परतों में उच्च दबाव क्षेत्र होता है।सर्दियों की तुलना में गर्मियों के मौसम के स्वरूप आमतौर पर धीमे होते हैं। नतीजतन, यह ऊपरी स्तर का उच्च दबाव भी धीरे-धीरे चलता है। उच्च दबाव के तहत, हवा सतह की ओर धंस जाती है, जिससे हवा गरम और शुष्क हो जाती है। यह गर्म धंसने वाली हवा एक उच्च स्तरीय परिवर्तन को उत्पन्न करती है जो संवहन को रोकते हुए वायुमंडल के गुंबद के रूप में कार्य करती है, जिससे इसके नीचे उच्च आर्द्रता वाली गर्म हवा फंस जाती है। आमतौर पर, संवहन परिधि के साथ कम दवाब वाले क्षेत्र में मौजूद होता है।
जैसा कि हम जानते हैं कि, रातों में, शहर अक्सर उपनगरों या ग्रामीण इलाकों की तुलना में अधिक गर्म होते हैं। वे एक बड़े ग्रामीण परिदृश्य में शहरी ऊष्मा द्वीप बन जाते हैं। एक अध्ययन में, एक लाख से अधिक की आबादी वाले 44 भारतीय शहरी क्षेत्रों में निर्मित गर्मी को ठंडा होने में समय लगता है। इसका एक कारण शहरों की पृष्ठभूमि के तापमान में "धीमी और लगातार" वृद्धि हो सकता है। इसके अतिरिक्त, पिछले अध्ययनों के विपरीत, देखा गया है कि अधिकांश शहरों में दिन के दौरान भी तापमान में वृद्धि देखी जा सकती है। अधिक तापमान वाले शहरों में और भी अधिक गर्मी हो जाती है, जिससे ऊष्मा द्वीप में उत्पन्न होने वाली ऊष्मा लहरें स्वास्थ्य को नकारात्मक रूप से प्रभावित करती है।
एक ऊष्मा तरंग का चरण आमतौर पर न्यूनतम चार दिनों तक रहता है। कुछ अवसरों पर, यह सात या दस दिनों तक बढ़ सकता है। 2020 में मौसम अधिकारियों द्वारा बताया गया है कि ऊष्मा तरंग का एक कारण हाल ही में पूर्वी भारत और बांग्लादेश के कुछ हिस्सों में आया शक्तिशाली चक्रवात अम्फान तूफान है। कुछ मौसम अधिकारियों का मानना है कि शक्तिशाली चक्रवात अम्फान के तूफान ने देश के अन्य हिस्सों से सारी नमी को सोख लिया है।मार्च और जून के बीच भारत में ऊष्मा लहरें उत्पन्न होती है। जब मौसम में किसी स्थान के लिए अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के पार जाता है तो मौसम विज्ञानी ऊष्मा लहर की घोषणा करते हैं। कई नए अध्ययनों से संकेत मिलता है कि सीएचजेड (CHZ) ने इन चार महीनों के दौरान प्रति वर्ष छह से अधिक ऊष्मा लहरों का अनुभव किया है। उत्तरपश्चिम में कई जगह और दक्षिण-पूर्वी तट के साथ के शहरों में प्रति दिन गर्मी के मौसम में आठ ऊष्मा लहरें उत्पन्न होती है।
हालांकि, उत्तर-पूर्व और दक्षिण- पश्चिम भारत में क्षेत्र ऊष्मा लहरों का कम प्रवण है। विश्व मौसम संगठन ने इस बात पर प्रकाश डाला है कि एक पूरे दशक में वर्ष 2019 भारत में लंबे समय तक ऊष्मा लहरों सहित असाधारण वैश्विक गर्मी और उच्च प्रभाव वाले मौसम का वर्ष रहा था। ऊष्मा लहरों के कारण संपूर्ण भारत में कई मौतें होती हैं, लेकिन लोगों पर वर्तमान तापमान के प्रभाव के बारे में अभी कोई विवरण पेश नहीं किया गया है। इसके अलावा, ऊष्मा लहरों ने राजस्थान सहित देश के कुछ हिस्सों में फसलों को नष्ट करने वाले टिड्डियों के झुंड से निपटने के प्रयासों को भी काफी प्रभावित किया है। वहीं इन ऊष्मा द्वीपों और लहरों के प्रभाव को कम करने के लिए जितना संभव हो सकें अपने आसपास पेड़ पौधों को लगाएं।

संदर्भ :-
https://bit.ly/34PcQZK
https://bit.ly/2S4mrJE
https://bbc.in/2TJGfCs
https://bit.ly/3vUFbtx
https://bit.ly/3g8SvEb

चित्र संदर्भ
1. ऊष्मा यंत्र तथा 2019 के भारतीय ऊष्मा चक्र का एक चित्रण (wikimedia)
2. भयंकर गर्मी में खेत में कार्यरत किसान का एक चित्रण (flickr)
3. ऊष्मा चक्र का एक चित्रण (wikimedia)


RECENT POST

  • कई रोगों का इलाज करने में सक्षम है स्टेम या मूल कोशिका आधारित चिकित्सा विधान
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:20 AM


  • लखनऊ के तालकटोरा कर्बला में आज भी आशूरा का पालन सदियों पुराने तौर तरीकों से किया जाता है
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:18 AM


  • जापानी व्यंजन सूशी, बन गया है लोकप्रिय फ़ास्ट फ़ूड, इस वजह से विलुप्त न हो जाएँ खाद्य मछीलियाँ
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:27 AM


  • 1869 तक मिथक था, विशाल पांडा का अस्तित्व
    शारीरिक

     26-06-2022 10:10 AM


  • उत्तर और मध्य प्रदेश में केन-बेतवा नदी परियोजना में वन्यजीवों की सुरक्षा बन गई बड़ी चुनौती
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:53 AM


  • व्यस्त जीवन शैली के चलते भारत में भी काफी तेजी से बढ़ रहा है सुविधाजनक भोजन का प्रचलन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:51 AM


  • भारत में कोरियाई संगीत शैली, के-पॉप की लोकप्रियता के क्या कारण हैं?
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:37 AM


  • योग के शारीरिक और मनो चिकित्सीय लाभ
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     22-06-2022 10:21 AM


  • भारत के विभिन्‍न धर्मों में कीटों की भूमिका
    तितलियाँ व कीड़े

     21-06-2022 09:56 AM


  • सोशल मीडिया पर समाचार, सार्वजनिक मीडिया से कैसे हैं भिन्न?
    संचार एवं संचार यन्त्र

     20-06-2022 08:54 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id