भारत का एक गुप्त हथियार “गुप्ती” से प्रभावित हो कर जन्में कई विदेशी उपकरण

लखनऊ

 04-01-2021 01:53 AM
हथियार व खिलौने

दुनिया में आज कई ऐसे आधुनिक उपकरण मौजूद है जो प्राचीन समय के भारतीय निर्मित उपकरणों के संशोधित रूप है, जिन्हें वर्षों पहले हमारे पूर्वजों ने निर्मित किया था। ऐसा ही एक हथियार है “गुप्ती”(Gupti)। गुप्ती भारत का एक पारंपरिक तलवार या चाकू नुमा हथियार है। यह बाहर से छड़ी जैसा दिखता है, परन्तु इसके अंदर गुप्त रूप से पतली तलवार इस प्रकार रखी जाती है कि आवश्यकता पड़ने पर तुरंत बाहर निकाली जा सके। यह हथियार आगे से नुकीला और दोनों किनारों से बहुत तेज होता है। इसे इस प्रकार से बनाया गया है कि वक्त पड़ने पर यह हथियार के रूप में प्रयोग किया जा सके। यह पूरी तरह से लकड़ी के बॉक्स (Box) या छड़ी में छिपाया जा सकता है। पहले के समय में ये हथियार विशेष रूप से फकीरों के पास देखने को मिलता था, जिस कारण इसे फकीर की बैसाखी भी कहा गया।
फकीर मूल रूप से तपस्वियों का एक समूह है जो इस्लाम के एक रहस्यमय रूप का अभ्यास करता है, जिसे सूफीवाद (Sufism) कहा जाता है। पहले जो फकीर इस्लाम धर्म के सूफीवाद का अनुसरण करते थे वे घर-परिवार, सुख-सुविधाएं त्याग कर सड़कों-गलियों में घूमते रहते थे, सभी विलासिता को छोड़ उन्होंने भिक्षा और भगवान का रास्ता अपनाया था। परन्तु कई बार उनकी यात्रा में उन्हें जान के खतरों का सामना भी करना पड़ जाता था और उन्हें हथियार ले जाने की भी मनाही थी, इन्हें किसी प्रकार का भी हथियार रखने की अनुमति नहीं थी। यह परिस्थिति उनके लिए समस्याग्रस्त थी, खासकर तब जब उन्हें सड़क पर सोना पड़ता था क्योंकि उन्हें निरंतर असुरक्षा का भय बना रहता। इसलिए उन्होंने भी शाओलिन भिक्षुओं (Shaolin monks) की तरह ऐसे हथियारों को विकसित करना शुरू किया जिन्हें छिपाया जा सके। हालांकि बैसाखी युद्ध में उपयोग करने के लिए एक आदर्श हथियार नहीं था, परंतु एक फकीर के जीवन को सड़क के ठगों से बचा सकता था। इसकी असली शक्ति छड़ी के अंदर छिपी हुई तेज तलवार के ब्लेड (blade) है, बस उपयोग के समय इसे ठीक से संभालना और खींचना आना चाहिये। इस प्रकार यह फकीरों में अत्यधिक लोकप्रिय हुआ। गुप्ती के कई रूपांतरण हैं जिसमें से तलवार या स्वॉर्डस्टिक (Swordstick) भी एक है। यह एक प्रकार की छड़ी है जिसमें एक ब्लेड जैसी संरचना छिपी होती है। इस शब्द का इस्तेमाल आमतौर पर 18 वीं शताब्दी के आसपास यूरोपीय हथियारों का वर्णन करने के लिए किया जाता था, लेकिन पूरे इतिहास में इसके समान और भी कई उपकरणों का उपयोग किया गया, जिनमें विशेष रूप से रोमन डोलन (Roman dolon), जापानी शिकोम्ज़्यू (shikomizue) और भारतीय गुप्ती भी शामिल हैं। 18 वीं और 19 वीं शताब्दी के दौरान, धनी लोग स्वॉर्डस्टिक का प्रयोग करना अत्यधिक पसंद करते थे, उस समय ये एक लोकप्रिय फैशन (fashion) बन गया था। इस अवधि के दौरान, इस हथियार को खुले तौर पर इस्तेमाल करना या पास रखना सामाजिक रूप से कम स्वीकार्य था। लेकिन उच्च वर्ग के पुरुष तलवारबाजी में प्रशिक्षित थे तथा आत्मरक्षा के लिए नियमित रूप से इसे अपने पास रखते थे। परंतु उस समय महिलाओं द्वारा हथियारों का इस्तेमाल सामाजिक रूप से कम स्वीकार्य था। इस वजह से महिलाओं के पास यह हथियार प्रायः चलने के लिए प्रयोग की जाने वाली छड़ में छिपा होता था। ये गुप्त हथियार धीरे- धीरे इतने लोगप्रिय बन गये कि इन हथियारों के प्रवेश के तुरंत बाद गैजेट केन (Gadget Canes) लोकप्रिय हो गए जिनमें एक ब्लेड के बजाय, किसी के व्यापार के उपकरण, कम्पास (Compasses) और यहां तक कि शराब पीने के लिए एक बर्तन के उपकरण रखे जाने लगे।
ऐसे हथियारों के स्वामित्व, निर्माण या व्यापार की बात करे तो कई देशों में इन्हें प्रतिबंधित हथियारों की श्रेणी में रखा जाता है। हालांकि भारत में विभिन्नधार्मिक प्रावधानों के तहत घरों में परंपरागत हथियार रखने का चलन है, लोग निजी सुरक्षा के लिए लोग परंपरागत हथियार रखते हैं और कुछ समय पहले तक इसके लिए लाइसेंस की जरूरत भी नहीं पड़ती थी। लेकिन नए अधिनियम के अनुसार अब परंपरागत हथियारों (तलवार, भाला, कटार, चाकू इत्यादि) को रखने के लिए भी लाइसेंस लेना होगा। आर्म्स एक्ट 1959 (Arms Act 1959) के तहत कुछ चाकू को हथियार के रूप में वर्गीकृत किया गया है। आर्म्स एक्ट के तहत सब्जी काटने वाला चाकू ही रखा जा सकता है, लेकिन यदि चाकू की लम्बाई घरेलू चाकू से अधिक हुई तो उसे बिना लाइसेंस के रखना अपराध की श्रेणी में आयेगा, इसके अलावा यह इस बात पर भी ध्यान केंद्रित करता है कि आखिर किस इरादे से चाकू पास में रखा गया है। लेकिन इस नियम के तहत गोरखाओं को खुखरी (Khukhri) और सिखों को कृपाण तथा तलवार जैसे परंपरागत हथियारों के लाइसेंस में छूट देने की योजना बनाई गयी है। हालांकि यह निरपेक्ष नहीं है। यदि निरोधात्मक आदेश लागू हैं, तो यह अधिकार भी निलंबित है। लाइसेंसिंग अधिकारियों ने आम तौर पर चाकू या तलवार के लिए लाइसेंस जारी नहीं किया है। बेल्जियम (Belgium) में भी स्वॉर्डस्टिक निषिद्ध है क्योंकि यह गुप्त हथियारों के अंतर्गत आता है। फ्रांस में इसे स्वयं की सुरक्षा के लिये पास में रखना 6 वीं श्रेणी के हथियार को पास में रखने जैसा माना जाता है। जर्मनी (Germany) में स्वॉर्डस्टिक जैसे गुप्त शस्त्रों को रखना निषिद्ध है। न्यूजीलैंड (New Zealand) में स्वॉर्डस्टिक को एक प्रतिबंधित आक्रामक हथियार माना जाता है। यूनाइटेड किंगडम (United Kingdom) में भी स्वॉर्डस्टिक जैसे गुप्त हथियारों का व्यापार करना आपराधिक न्याय अधिनियम 1988 (आक्रामक हथियार) आदेश 1988 (The Criminal Justice Act 1988 (Offensive Weapons) Order 1988), के तहत अवैध बना दिया गया है।

संदर्भ:
https://bit.ly/2Hytl0P
https://en.wikipedia.org/wiki/Swordstick
https://en.wikipedia.org/wiki/Gupti
https://lawrato.com/criminal-legal-advice/la
चित्र संदर्भ:
मुख्य चित्र तलवार बेंत दिखाता है। (Wikimedia)
दूसरी तस्वीर स्वॉर्डस्टिक दिखाती है। (Wikimedia)
अंतिम तस्वीर स्वॉर्डस्टिक दिखाती है। (Wikimedia)


RECENT POST

  • अनछुए प्राथमिक वनों का पारिस्थितिकी तंत्र में योगदान
    जंगल

     07-03-2021 09:32 AM


  • लखनऊ में श्री काशीश्वर महादेव मंदिर: अपनी अंतिम सांस लेते हुये
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     06-03-2021 10:15 AM


  • तीव्र गति से घट रही है, जिराफ की संख्या
    स्तनधारी

     05-03-2021 10:00 AM


  • भारत हालिया टेक्सास ऊर्जा निष्प्रदीप से क्या सीख सकता है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     04-03-2021 10:16 AM


  • अपने विशिष्ट सींगों के लिए विख्यात है, बारहसिंगा
    शारीरिक

     03-03-2021 10:27 AM


  • कैसे अकेलापन मस्तिष्क या सोचने की क्षमता को प्रभावित करता है?
    व्यवहारिक

     02-03-2021 10:21 AM


  • दुनिया भर में प्रचलित हैं कबाब के विभिन्न प्रकार
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     01-03-2021 10:02 AM


  • दुनिया के प्रमुख गिटारवादक और दिवंगत श्री चिन्मय के अनुयायी रहे हैं, कार्लोस सैन्टाना
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     28-02-2021 03:18 AM


  • बहुपतिप्रथा व्यवहार वाला एक विशेष पक्षी - कांस्य पंख वाले जाकाना
    पंछीयाँ

     27-02-2021 10:02 AM


  • विशिष्ट व्यवहार प्रदर्शित करते हैं, मांसाहारी पौधे
    व्यवहारिक

     26-02-2021 10:09 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id