मधुमक्खी पालन: बढ़ती मांग

लखनऊ

 16-10-2020 05:57 AM
तितलियाँ व कीड़े

लखनऊ शहर में फूलों की भरमार के कारण, यहां पर मधुमक्खी पालन के लिए परिस्थितियां बहुत अनुकूल हैं। लखनऊ के चौक में मशहूर फूलों की मंडी भी थी, जो अभी हाल में गोमती नगर स्थानांतरित की गई है। मधुमक्खियों और उनके छत्तों से आर्थिक रूप से कमाई के कई उत्पाद हो सकते हैं। भारत में मधुमक्खी पालन का व्यवसाय काफी समय से चल रहा है। इसमें इनका नियोजित ढंग से फॉर्म (Farm) बनाकर आर्थिक लाभ का एक जरिया तलाशा गया है। जीविका के लिए बहुतों का यह भी एक साधन है।


भारत में मधुमक्खी पालन: एक परिचय

ज्यादातर लोग मधुमक्खी का नाम सुनते ही डर जाते हैं और हो भी क्यों ना, यह जब डंक मारती है तो उसकी जलन से आदमी बदहाल हो जाता है। लेकिन ऐसा वे आत्मरक्षा में करती है, जब लोग उनके छत्तों को व्यवसायिक कमाई या किसी भी वजह से तोड़ते हैं। यह चार पंखों वाली मक्खियां प्रकृति का वरदान है और यह दुनिया की सबसे मीठी चीज बनाती हैं- शहद। 20 मई को विश्व मक्खी दिवस इन्हीं मधुमक्खियों की याद में मनाया जाता है।

मधुमक्खी पालन: एक पारंपरिक व्यवसाय

मधुमक्खी पालन भारत के लिए नया विचार नहीं है। इस प्राचीन ग्रंथों और बौद्ध धर्म की पवित्र पुस्तक में मिलता है। लेकिन इसे लोकप्रियता हाल के कुछ वर्षों में मिली है। इस समय भारत में लगभग 35 लाख की कॉलोनियां (Colonies) हैं और इनकी संख्या लगातार बढ़ रही है। अखिल भारतीय खादी और ग्रामोद्योग विभाग ने शहद के उद्योग को संगठित करने का प्रयास शुरू किया। मधुमक्खी सिर्फ शहद ही नहीं बनाती, वह पुष्पों में निषेचन के जरिए उत्पादन बढ़ाने और उत्पाद की गुणवत्ता सुधारने का भी काम करती है। फूलों के परागण की कीटों से रक्षा करती हैं। इसलिए मधुमक्खी पालन आज के समय का सबसे बढ़िया व्यवसाय है। खासतौर से ग्रामीण क्षेत्रों में यह अतिरिक्त आय का साधन हो सकता है। मधुमक्खी पालन से शहद के अलावा शाही जेली (Royal Jelly) के उत्पादन से इंसानों के कई रोग ठीक हो जाते हैं। मक्खियों से बने मोम, परागकण, गोंद और विष भी काम की चीजें होती हैं। एक समय था जब किसान मधुमक्खी पालन वालों को अपने खेत के आसपास फटकने नहीं देते थे, आज किसान उन्हें ढूंढ कर अपने खेतों के पास उनकी कॉलोनी बनवा रहे हैं। जब फसलों में फूल आने लगते हैं तब किसान उनकी रक्षा के लिए मधुमक्खी पालक की मदद लेते हैं।

मधुमक्खी पालन: कुछ सुझाव

मधुमक्खी पालन करने के इच्छुक को अपना व्यवसाय सही समय से शुरू करना चाहिए, जब मधुमक्खियों को फूलों से पूरा पराग मिल सके।

यूँ तो मधुमक्खी पालन कभी भी शुरू किया जा सकता है, लेकिन मधुमक्खियां गर्मी का मौसम पसंद करती हैं इसलिए बसंत ऋतु सबसे उपयुक्त होती है।
व्यवसाय की शुरुआत के लिए मधुमक्खियों की दो कॉलोनी पर्याप्त होती हैं।
7 से 10 दिन पर मधुमक्खी पालक को छत्तों की जांच करनी चाहिए। धीरे-धीरे करके यह परिणाम देने लगता है।
जानिए मधुमक्खी परिवार को
मधुमक्खियां बहुत सामाजिक होती हैं। एक तो यह कॉलोनी में रहती हैं। एक कॉलोनी में हजारों कामकाजी मक्खियां होती हैं, एक रानी मक्खी होती है और सैकड़ों नर मधुमक्खियां होती हैं। कामकाजी मक्खियां मादा होती हैं, लेकिन प्रजनन नहीं करती। वे रानी उसके अंडों की देखरेख करती है। शहद एकत्र करना, छत्ता बनाना, उसकी रक्षा करना, सफाई रखना और शहद का उत्पादन करना उसकी अन्य जिम्मेदारियां होती हैं।
रानी मक्खी सिर्फ प्रजनन करती है। उसका मुख्य काम अंडा देना (अनिषेचित) और कर्मचारी (निषेचित अंडा) कॉलोनी के लिए देना होता है।
इसके अलावा नर मधुमक्खी होते हैं। उनका मुख्य काम रानी को निषेचित करना और उसमें सफल होने पर मृत हो जाना होता है। एक कॉलोनी के अस्तित्व के लिए तीनों प्रकार की मधुमक्खियों की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है।

सन्दर्भ:
https://krishijagran.com/agripedia/beekeeping-in-india-a-complete-guide-to-beekeeping-for-beginners/
https://en.wikipedia.org/wiki/Beekeeper
https://www.farmingindia.in/beekeeping-in-india-honey-bee-farm/

चित्र सन्दर्भ:

पहली और दूसरी छवि मधुमक्खी की तस्वीर दिखाती है। (canva)
तीसरी छवि एक मधुमक्खी पालक की है।(wikipedia)


RECENT POST

  • मानव सभ्यता के विकास का महत्वपूर्ण काल है, नवपाषाण युग
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     01-12-2020 10:22 AM


  • खट्टे-मीठे विशिष्ट स्वाद के कारण पूरे विश्व भर में लोकप्रिय है, संतरा
    साग-सब्जियाँ

     30-11-2020 09:24 AM


  • सोने-कांच की तस्वीरों में आज भी जीवित है, कुछ रोमन लोगों के चेहरे
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     29-11-2020 07:21 PM


  • कोरोना महामारी बनाम घरेलू किचन गार्डन
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     28-11-2020 09:06 AM


  • लखनऊ की परिष्कृत और उत्कृष्ट संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा है, इत्र निर्माण की कला
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     27-11-2020 08:39 AM


  • भारतीय कला पर हेलेनिस्टिक (Hellenistic) कला का प्रभाव
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     26-11-2020 09:20 AM


  • पाक-कला की एक उत्‍कृष्‍ट शैली लाइव कुकिंग
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     25-11-2020 10:32 AM


  • आत्मा और मानव जाति की मृत्यु, निर्णय और अंतिम नियति से सम्बंधित है, एस्केटोलॉजी
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-11-2020 08:40 AM


  • मानवता की सबसे बड़ी वैज्ञानिक उपलब्धियों में से एक है, लेजर इंटरफेरोमीटर गुरुत्वीय-तरंग वेधशाला द्वारा किये गये अवलोकन
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     22-11-2020 10:34 AM


  • लखनऊ की अत्यंत ही महत्वपूर्ण धरोहर शाह नज़फ़ इमामबाड़ा
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-11-2020 11:21 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.