वाल्मीकि रामायण और कम्बा रामायणम् के मध्य अंतर

लखनऊ

 13-10-2020 03:03 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

हम में से अधिकांश लोग यह जानते ही होंगे कि रामायण वाल्मीकि द्वारा लिखा गया संस्कृत का एक अनुपम महाकाव्य है, जिसका हिन्दू धर्म में बड़ा ही महत्त्वपूर्ण स्थान है। वाल्मीकि रामायण और कम्बा रामायणम् संस्कृत और तमिल भाषाओं में लिखे गए रामायण के दो संस्करण हैं। रामायण का सबसे प्रथम और सबसे पुराना संस्करण वाल्मीकि रामायण (संस्कृत साहित्य में भी सबसे पुराना है, जिसे आदि काव्यम के रूप में जाना जाता है) है।
वाल्मीकि के आदि काव्य में, श्रीराम एक मनुष्य के रूप में पैदा हुए थे और उसी रूप में रहे थे। वाल्मीकि की कहानी उस समय इतनी लोकप्रिय हो गई कि लोग उनके शानदार और आंतरिक दिव्य गुणों के कारण श्रीराम को भगवान के रूप में पूजने लगे और लगभग 1100 ईस्वी में जब कम्बा रामायणम् रची गई थी, तब तक लोगों द्वारा श्रीराम को भगवान विष्णु का रूप मानते हुए पूजा जाता था।
9वीं शताब्दी में पैदा हुए कंबन, श्रीराम से आकर्षित थे, लेकिन अपने संस्करण की रचना करते समय उन्हें एक दुविधा का सामना करना पड़ा था, उनके सामने एक महत्वपूर्ण सवाल आया कि क्या उन्हें श्रीराम को वाल्मीकि की मूल कहानी के नक्शेकदम पर चलते हुए दिखाना चाहिए या उन्हें भगवान के रूप में चित्रित करना चाहिए क्योंकि उस समय तक मंदिरों में श्रीराम को पूजा जाने लगा था। कंबन, एक जन्मजात कवि और एक रचनात्मक कलाकार होने के नाते, उन्होंने रामायण को किंवदंती और राम की आराधना करने वाले दोनों संप्रदायों के लिए एक सौहार्दपूर्ण उपाय खोजा और कम्बा रामायणम् में उन्होंने श्रीराम का मनुष्य रूप में जन्म करवाया और उनके अनुकरणीय गुणों से उन्हें भगवान बना दिया। कम्बा रामायणम्, वाल्मीकि द्वारा रचित संस्कृत महाकाव्य का मौखिक अनुवाद नहीं है, बल्कि श्रीराम की कहानी का पुनःकथन है। कंबन ने अपने नायक के दिव्य और मानवीय गुणों दोनों को चित्रित किया, जो मूल रूप से वाल्मीकि के प्रसंग से अलग था। कंबन के लिए, राम एक अवतार थे और उन्होंने अवतार की अवधारणा को अच्छी तरह से स्थापित करने के बाद ही अपना महाकाव्य लिखा था। इस महाकाव्य ने काफी लोकप्रियता हासिल की, जिसका मुख्य कारण उनके द्वारा श्रीराम को मनुष्य और ईश्वर दोनों के रूप में दर्शाया गया है। साथ ही कंबन द्वारा इन दोनों रूपों को बहुत ही सावधानी से संभाला गया था। हम उनके महाकाव्य में कहीं भी कोई विरोधाभास नहीं देख सकते।
कम्बा रामायणम् पुस्तक को 6 अध्यायों में विभाजित किया गया है, जिन्हें तमिल में कंदम कहा जाता है। कंदम को 123 वर्गों में विभाजित किया जाता है, जिन्हें तमिल में पदलम कहा जाता है। इन 123 खंडों में महाकाव्य के लगभग 12,000 श्लोक हैं। इस महाकाव्य को कई हिंदुओं द्वारा प्रार्थना के दौरान पढ़ा जाता है, कुछ घरों में, पूरे महाकाव्य को तमिल कैलेंडर (Calendar) के महीने में आदि (जुलाई के मध्य से अगस्त के मध्य) के दौरान एक बार पढ़ा जाता है। इसे हिंदू मंदिरों और अन्य धार्मिक संघों में भी पढ़ा जाता है। सुंदरकांड का अध्याय बहुत ही शुभ माना जाता है और यह सबसे लोकप्रिय है। यह अध्याय महाकाव्य में मुख्य पात्रों द्वारा सामना की गई कठिनाइयों, संयम के उनके अभ्यास और बेहतर कल के लिए उनकी आशाओं के बारे में बताता है। कंबन और वाल्मीकि द्वारा रचित रामायण के बीच ये प्रमुख अंतर हैं: (i) वाल्मीकि के लिए राम मात्र एक मानव हैं, लेकिन कंबन के लिए विष्णु का रूप है। (ii) कंबन ने कम्बा रामायणम् को तमिल संस्कृति के अनुरूप और उसी के अनुसार घटनाओं को संशोधित किया और (iii) कंबन काव्य सौंदर्य में उत्कृष्टता रखते थे।
वहीं हाल ही में अयोध्या में हुए राम मंदिर के भूमि पूजन के समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कम्बा रामायणम् का जिक्र भी किया था, उन्होंने देश के विभिन्न हिस्सों से रामायण के विभिन्न रूपों के नामों का जिक्र करते हुए कहा कि “कालम थजह ईन्दु इनुम इरुथी पोगलम" यानि 'अब हमें आगे बढ़ना है देर नहीं करनी है' और कहा कि हमें भगवान राम के शब्दों के अनुसार काम करने की जरूरत है। आप कम्बा रामायणम् का हिन्दी में अनुवादित संस्करण को इस लिंक (https://bit.ly/30UxaaG) में जाकर पढ़ सकते हैं।

संदर्भ :-
https://www.thehindu.com/society/history-and-culture/kamban-the-first-to-glorify-rama-nama/article26805190.ece
https://swarajyamag.com/culture/how-tamil-nadu-government-is-neglecting-the-birth-place-of-the-man-who-wrote-ramayan-in-tamil
https://en.wikipedia.org/wiki/Ramavataram
https://en.wikipedia.org/wiki/Kambar_(poet)
https://www.quora.com/What-are-the-salient-differences-between-the-Kamba-Ramayanam-and-Valmiki-Ramayana
https://archive.org/details/Kamba.Ramayana.in.Hindi

चित्र सन्दर्भ:

मुख्य चित्र में कम्बन की प्रतिमा को दिखाया गया है,जिनके हाथों में कम्बा रामायण ग्रन्थ है। (Flickr)
दूसरे चित्र में तंजौर या त्रिचनापल्ली, तमिलनाडु से प्राप्त एक चित्र में राम और हनुमान को रावण से लड़ते हुए दिखाया गया है। (Wikipedia)
तीसरे चित्र में रंगनाथस्वामी मंदिर, श्रीरंगम में स्थित कम्बा रामायनम मंडप को दिखाया गया है। (Wikipedia)
चौथे चित्र में सर्वप्रथम कम्बा रामायण उसके बाद कम्बन और अंत में वाल्मीकि रामायण को दिखाया गया है। (Prarang)

हमारे प्रायोजक

New Chandrakanti Jewellers, the best jewellery shop in your reach in Udayganj area which deals in Gold, Silver & Diamond. You will find the whimsical fashion and jewellery for you and your Family.


RECENT POST

  • मानव सभ्यता के विकास का महत्वपूर्ण काल है, नवपाषाण युग
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     01-12-2020 10:22 AM


  • खट्टे-मीठे विशिष्ट स्वाद के कारण पूरे विश्व भर में लोकप्रिय है, संतरा
    साग-सब्जियाँ

     30-11-2020 09:24 AM


  • सोने-कांच की तस्वीरों में आज भी जीवित है, कुछ रोमन लोगों के चेहरे
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     29-11-2020 07:21 PM


  • कोरोना महामारी बनाम घरेलू किचन गार्डन
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     28-11-2020 09:06 AM


  • लखनऊ की परिष्कृत और उत्कृष्ट संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा है, इत्र निर्माण की कला
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     27-11-2020 08:39 AM


  • भारतीय कला पर हेलेनिस्टिक (Hellenistic) कला का प्रभाव
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     26-11-2020 09:20 AM


  • पाक-कला की एक उत्‍कृष्‍ट शैली लाइव कुकिंग
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     25-11-2020 10:32 AM


  • आत्मा और मानव जाति की मृत्यु, निर्णय और अंतिम नियति से सम्बंधित है, एस्केटोलॉजी
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-11-2020 08:40 AM


  • मानवता की सबसे बड़ी वैज्ञानिक उपलब्धियों में से एक है, लेजर इंटरफेरोमीटर गुरुत्वीय-तरंग वेधशाला द्वारा किये गये अवलोकन
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     22-11-2020 10:34 AM


  • लखनऊ की अत्यंत ही महत्वपूर्ण धरोहर शाह नज़फ़ इमामबाड़ा
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-11-2020 11:21 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.