ऑक्सीमीटर की बढ़ती मांग के चलते बेचे जा रहे हैं नकली पल्स ऑक्सीमीटर

लखनऊ

 26-08-2020 09:17 AM
संचार एवं संचार यन्त्र

कोविड -19 (COVID-19) ने हमारे दैनिक जीवन में काफी बदलाव ला दिया है, यहां तक कि हमारे द्वारा की जाने वाली खरीदारी को भी काफी प्रभावित किया है। ई-कॉमर्स वेबसाइट (E-commerce Website) स्नैपडील (Snapdeal) द्वारा जारी नवीनतम विवरण में बताया गया है कि, महामारी के इस दौर ने घर पर नैदानिक उपकरणों के उपयोग में तेजी से वृद्धि को प्रेरित किया है क्योंकि हम में से कई चिकित्सा परीक्षणों के लिए नैदानिक केंद्रों में जाने से डर रहे हैं। बड़ी संख्या में भारतीय फार्मेसियों (Pharmacies), ऑनलाइन स्टोर (Online Store) और यहां तक कि सड़क के किनारे विक्रेताओं से कोरोनोवायरस महामारी के दौरान पल्स ऑक्सीमीटर (Pulse Oximeter) खरीद रहे हैं, यह एक ऐसा उपकरण है, जो उपयोगकर्ताओं के रक्त में ऑक्सीजन के स्तर का पता लगाता है। जैसा कि कोविड -19 एक व्यक्ति के फेफड़ों को प्रभावित करने के लिए जाना जाता है, कई ने हाल ही में ऐसे उपकरण खरीदना शुरू कर दिया है।
स्नैपडील के अनुसार, पिछले पांच महीनों (अप्रैल से अगस्त तक) में, दुकानदारों ने कई व्यक्तिगत नैदानिक और स्वास्थ्य निगरानी उपकरण खरीदे हैं। लोगों में पल्स ऑक्सीमीटर, रक्तचाप मॉनिटर (Blood Pressure Monitors), डिजिटल थर्मामीटर (Digital Thermometer) और ग्लूकोमीटर (Glucometer) सबसे अधिक मांग में हैं। सिर्फ स्नैपडील ही नहीं, फ्लिपकार्ट (Flipkart) ने भी मार्च के बाद से घर पर नैदानिक किट (Kit) की श्रेणी में मांग में वृद्धि देखी है। लेकिन इस बढ़ती मांग के चलते कई लोगों द्वारा नकली ऑक्सीमीटर बेचा जा रहा है। ये ऑक्सीमीटर सामान्य रूप से रोगी के शरीर के एक पतले हिस्से आमतौर पर एक उंगली या इयरलोब (Earlobe), या शिशुओं में एक पैर पर रखा जाता है, जिसके बाद वह उस व्यक्ति के ऑक्सीजन संतृप्ति को मापता है। परंतु नकली ऑक्सीमीटर, पेंसिल (Pencil) लगाने पर भी ऑक्सीजन संतृप्ति को माप कर परिणाम दिखा देता है। इस बात की पुष्टि ट्विटर (Twitter) पर प्रकाशित एक विडिओ (Video) के माध्यम से की गई, जिसमें उपयोगकर्ता ने ऑक्सीमीटर में ऑक्सीजन के स्तर और पल्स की रीडिंग (Readings) प्राप्त करने के लिए पहले एक उंगली डाली और फिर उस उपकरण में पेंसिल डाली, जिसके बाद देखा गया कि वह बिल्कुल समान परिणाम दिखाता है।

रक्त-ऑक्सीजन मॉनिटर (Monitor) ऑक्सीजन से भरे रक्त के प्रतिशत को प्रदर्शित करता है। अधिक विशेष रूप से ऑक्सीजन को वहन करने वाले रक्त में हीमोग्लोबिन (Hemoglobin) के प्रतिशत को मापता है। फुफ्फुसीय विकृति के बिना रोगियों के लिए स्वीकार्य सामान्य श्रेणियां 95 से 99 प्रतिशत तक हैं। ऑक्सीमीटर शरीर के हिस्से के माध्यम से प्रकाश के दो तरंग दैर्ध्य को एक फोटोडिटेकटर (Photo-detector) से गुजारता है। यह तरंग दैर्ध्य में से प्रत्येक में बदलते अवशोषण को मापता है, यह शिरापरक रक्त, त्वचा, हड्डी, मांसपेशियों, वसा और (ज्यादातर मामलों में) नेल पॉलिश (Nail Polish) को छोड़कर अकेले स्पंदन धमनी रक्त के कारण अवशोषण को निर्धारित करने की अनुमति देता है। वहीं परावर्तक पल्स ऑक्सीमेट्री पद्धति, संचरणशील पल्स ऑक्सीमेट्री पद्धति की तुलना में सामान्य रूप से काफी कम उपयोग की जाती है। परावर्तक पल्स ऑक्सीमेट्री पद्धति में व्यक्ति के शरीर के एक पतले हिस्से की आवश्यकता नहीं होती है और इसलिए यह एक सार्वभौमिक अनुप्रयोग जैसे पैरों, माथे और छाती के अनुकूल होता है।
1935 में, जर्मन चिकित्सक कार्ल मैथेस (Karl Mathes)(1905-1962) ने लाल और हरे रंग के फिल्टर (Filter) (बाद में लाल और अवरक्त फिल्टर) के साथ पहला दो-तरंग दैर्ध्य से ऑक्सीजन संतृप्ति को मापने वाला मीटर विकसित किया था। मूल ऑक्सिमीटर 1940 के दशक में ग्लेन एलन मिलिकन (Glenn Allan Millikan) द्वारा बनाया गया था। 1949 में, वुड (Wood) ने कान से रक्त को निकालने के लिए एक प्रेशर कैप्सूल (Pressure Capsule) को जोड़ा, ताकि उस रक्त से एक पूर्ण ऑक्सीजन संतृप्ति मूल्य प्राप्त हो सके। यह अवधारणा आज के पारंपरिक पल्स ऑक्सीमेट्री के समान है, लेकिन अस्थिर फोटोसेल्स (Photocells) और प्रकाश स्रोतों के कारण इसे लागू करना मुश्किल था; आज इस पद्धति का चिकित्सकीय उपयोग नहीं किया जाता है। 1964 में शॉ द्वारा कान में लगाने वाला सर्वप्रथम पूर्ण रीडिंग वाला ऑक्सीमीटर का निर्माण किया गया, जिसमें प्रकाश की आठ तरंग दैर्ध्य का उपयोग किया गया था।

1972 में ताकुओ एओगी (Takuo Aogee) और मिचियो किशी (Michio Kishi) (निहोन कोहेन में बायोइन्जीनियर (Bio-engineers at Nihon Cohen)) द्वारा मापने वाले स्थान पर स्पंदित घटकों के अवरक्त प्रकाश अवशोषण के लिए लाल रक्त कोशिकाओं के अनुपात का उपयोग करके पल्स ऑक्सीमीटर विकसित किया गया था। सुसुमु नकाजिमा (Susumu Nakazima) (एक सर्जन) और उनके सहयोगियों ने 1975 में पहले मरीजों में इस उपकरण का परीक्षण किया था। वहीं 1980 में बईऑक्स (Biox) द्वारा इसका व्यवसायीकरण किया गया। 1987 तक, अमेरिका में एक सामान्य निश्चेतक के प्रबंधन के लिए देखभाल के मानक में पल्स ऑक्सीमीटर को शामिल किया गया था। ऐसे ही देखते ही देखते परिचालन कमरे से, पल्स ऑक्सीमीटर का उपयोग तेजी से पहले आरोग्य कक्ष और फिर गहन देखभाल श्रेणी में पूरे अस्पताल में फैल गया।
1995 में, मासिमो (Massimo) ने सिग्नल एक्सट्रैक्शन टेक्नोलॉजी (Signal Extraction Technology) की शुरुआत की, जो मरीज की गति और कम द्रवनिवेशन के दौरान सही ढंग से माप कर, शिरापरक संकेत को शिरापरक और अन्य संकेतों से अलग कर सकती है। तब से, पल्स ऑक्सीमीटर निर्माताओं द्वारा गति के दौरान कुछ झूठी चेतावनी को कम करने के लिए नए कलन विधि विकसित करने की कोशिश की गई, जैसे कि स्क्रीन (Screen) पर औसत समय या ठंड के मूल्यों का विस्तार, लेकिन वे गति और कम द्रवनिवेशन के दौरान बदलती परिस्थितियों को मापने का दावा नहीं करते थे। इसलिए, चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में पल्स ऑक्सीमीटर के प्रदर्शन में अभी भी बड़ा अंतर है।

इसके अलावा 1995 में, मसिमो ने परिधीय सूचकांक को पेश किया, यह परिधीय प्लेथयसमोग्राफी (Plethysmography) तरंग के आयाम को बढ़ाता है। वहीं नवजात शिशुओं में बीमारी की गंभीरता और प्रारंभिक श्वसन परिणामों की भविष्यवाणी करने में चिकित्सकों की मदद करने के लिए द्रवनिवेशन सूचकांक लाभदायक सिद्ध हुआ। 2007 में, मासिमो ने फुफ्फुस परिवर्तनशीलता सूची का पहला माप पेश किया, जो द्रव प्रबंधन में किसी रोगी की क्षमता के स्वचालित, गैर-आकलन के लिए एक नई विधि प्रदान करता है। वहीं 2011 में, एक विशेषज्ञ के समूह ने पल्स ऑक्सीमीटर के माध्यम से नवजात में गंभीर जन्मजात हृदय रोग की जांच करने का विकल्प पेश किया। पॉलीसोम्नोग्राफी (Polysomnography) कराने में असमर्थ रोगियों के लिए इन-होम स्लीप स्क्रीनिंग (In-home Sleep Screening) और परीक्षण के लिए उच्च-विभेदन वाले पल्स ऑक्सीमीटर को विकसित किया गया। 2008 में, चीन में प्रमुख अंतरराष्ट्रीय स्तर पर निर्यात करने वाले चिकित्सा उपकरण निर्माताओं में से आधे से अधिक पल्स ऑक्सीमीटर के निर्माता थे। वहीं आईडेटा रिसर्च (iData Research) की एक रिपोर्ट के अनुसार उपकरण और सेंसर के लिए अमेरिकी पल्स ऑक्सीमेट्री मॉनिटरिंग का मार्केट 2011 में 700 मिलियन अमेरिकी डालर से अधिक था। हालांकि पल्स ऑक्सीमीटर का उपयोग कोविड -19 संक्रमणों के शुरुआती स्तर का पता लगाने में मदद करने के लिए किया जाता है, लेकिन अमेरिकी लंग एसोसिएशन (American Lung Association) जैसे चिकित्सा संगठन स्वस्थ लोगों को पल्स ऑक्सीमीटर खरीदने से मना कर रहें हैं।

संदर्भ :-
https://en.wikipedia.org/wiki/Pulse_oximetry
https://indianexpress.com/article/technology/tech-news-technology/demand-for-pulse-oximeters-infrared-thermometers-rise-6562896/
https://gulfnews.com/world/asia/india/coronavirus-in-india-netizens-expose-oximeters-for-giving-fake-reading-using-pencils-1.1596112040769
चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र में पल्स ऑक्सीमीटर (Pulse Oximeter) को दिखाया गया है। (Pexels)
दूसरे चित्र में गलत रीडिंग दिखाने वाले ऑक्सीमीटर को दिखाया गया है। (Youtube)
अंतिम चित्र में पल्स ऑक्सीमीटर को दिखाया गया है। (Pexels)



RECENT POST

  • औपनिवेशिक भारत में ब्रिटिश शासन प्रणाली
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     28-01-2021 11:11 AM


  • बर्डिंग के माध्यम से पक्षियों से संबंधित दुनिया के बारे में जानने की कोशिश
    पंछीयाँ

     27-01-2021 10:39 AM


  • भारत का सर्वोच्च विधान : भारत के संविधान का संक्षिप्त विवरण
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     26-01-2021 11:16 AM


  • भारत में शिक्षा का इतिहास
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     25-01-2021 10:34 AM


  • तीव्रता से बढ़ती जा रही कृत्रिम मांस की मांग
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-01-2021 10:56 AM


  • लखनऊ विश्‍वविद्यालय का संक्षिप्‍त इतिहास
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     23-01-2021 12:18 PM


  • विश्व युद्धों को समाप्त करने में लखनऊ ब्रिगेड का महत्व
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     22-01-2021 03:35 PM


  • जर्मप्लाज्म सैम्पलों (Sample) पर लॉकडाउन का प्रभाव
    स्तनधारी

     21-01-2021 01:41 AM


  • पहला वाहन लेने से पहले ध्यान में रखने योग्य कुछ महत्वपूर्ण बातें
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     20-01-2021 11:53 AM


  • भारत की जनता की नागरिकता और उससे जुडे़ विशेष नियम
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     19-01-2021 12:32 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id