ज्वाला जी की अखंड ज्योति

लखनऊ

 19-07-2020 05:43 PM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

प्राचीन किंवदंतियों के अनुसार एक ऐसा समय भी हुआ, जब राक्षस हिमालय के पहाड़ों पर राज करने लगे और देवताओं को परेशान किया करते थे, तो भगवान विष्णु के नेतृत्व में देवताओं ने उन्हें नष्ट करने का फैसला किया। सभी देवताओं ने अपनी शक्ति केंद्रित की और पृथ्वी से बहुत बड़ी लपटें उठीं। उस आग से एक छोटी बच्ची ने जन्म लिया। उन्हें ही प्रथम आदिमाता 'शक्ति' माना जाता है। उनका नाम 'सती' था तथा वह प्रजापति दक्ष के घर में पली-बढ़ी और बाद में, भगवान शिव की पत्नी बनी। एक बार जब उनके पिता दक्ष ने भगवान शिव का अपमान किया तो वे यह स्वीकार नहीं कर पायीं और उन्होंने स्वयं को अग्नि के हवाले कर दिया। जब भगवान शिव ने अपनी पत्नी की मृत्यु के बारे में सुना तो उनके क्रोध की कोई सीमा नहीं रह गई और सती के अग्नि युक्त पार्थिव शरीर को पकड़े हुए उन्होंने तीनों लोकों में विचरण करना शुरू कर दिया। अन्य देवता भगवान शिव के इस क्रोध से भयभीत हो उठे और भगवान विष्णु से मदद की गुहार लगाने लगे। भगवान विष्णु ने बाणों की एक श्रृंखला से वार किया, जिसने माता सती के शरीर के टुकड़े-टुकड़े कर दिये। जिन स्थानों पर ये टुकड़े गिरे, प्रत्येक एक पवित्र 'शक्तिपीठ' के रूप में अस्तित्व में आया, इस तरह इन शक्तिपीठों की कुल संख्या 51 हुई। देवी सती की जीभ ज्वालाजी स्थान पर गिरी और छोटी छोटी नीले रंग की ज्वालाओं के रूप में प्रकट हुई, जो सदियों पुरानी चट्टान में दरार के माध्यम से निरंतर जल रही हैं। हिमाचल प्रदेश राज्य के कांगड़ा जिले के ज्वालामुखी शहर में सबसे प्रसिद्ध ज्वाला जी तीर्थस्थल है, जो धर्मशाला से लगभग 56 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

सन्दर्भ:
https://en.wikipedia.org/wiki/Jwala_Ji
https://www.youtube.com/watch?v=ufwKlLCw-jI


RECENT POST

  • उत्कृष्ट ऑप्टिकल भ्रम की स्थिति उत्पन्न करता है, धनुषाकार राकोट्ज़ब्रुक पुल
    पर्वत, चोटी व पठार

     01-08-2021 01:21 PM


  • भारत में लोकप्रिय किंतु भारतीय मूल का नहीं समोसा
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     31-07-2021 09:10 AM


  • सर पैट्रिक गेडेस चाहते थे लखनऊ की प्रकृति और संस्कृति की मौलिक एकता को कायम रखना
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन नगरीकरण- शहर व शक्ति

     30-07-2021 10:45 AM


  • जीवित वृक्षों से आकृति बनाने की पद्धति जो है पर्यावरण के लिए अनुकूल
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     29-07-2021 09:36 AM


  • मनुष्य को सांसारिक चक्र से मुक्ति का मार्ग बतलाती है, विष्णु भक्त गजेंद्र की कथा
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     28-07-2021 10:15 AM


  • भारत में विलुप्‍त होती मगरमच्‍छ की प्रजातियाँ
    रेंगने वाले जीव

     27-07-2021 10:00 AM


  • हमारे देश में घर बनाया है लुप्तप्राय मिस्र गिद्ध ने
    पंछीयाँ

     26-07-2021 09:32 AM


  • इंजीनियरिंग का एक अद्भुत कारनामा है, कोलोसियम
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     25-07-2021 02:23 PM


  • आठ ओलंपिक स्वर्ण पदक के पश्चात अब लाना है फिर से भारतीय हॉकी को विश्व स्तर पर
    द्रिश्य 2- अभिनय कला य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     24-07-2021 10:21 AM


  • मौन रहकर भी भावनाओं की अभिव्यक्ति करने की कला है माइम Mime
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-07-2021 10:11 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id