जनगणना का महत्व और प्रभावी प्रशासन के लिए यह कैसे आवश्यक है

लखनऊ

 18-07-2020 07:07 PM
सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

भारत विश्व का दूसरा सबसे अधिक आबादी वाला देश है, जहां विश्व की आबादी का लगभग पांचवां हिस्सा है। विश्व जनसंख्या संभावना 2019 संशोधन के अनुसार जनसंख्या 1,352,642,280 थी। 1975-2010 के दौरान, जनसंख्या दोगुनी होकर 1.2 बिलियन हो गई। भारतीय आबादी 1998 में अरबों की संख्या तक पहुंच गई। चीन की जनसंख्या को पार कर 2024 तक भारत को विश्व के सबसे अधिक आबादी वाला देश होने का अनुमान है। यह 2030 तक 1.5 बिलियन से अधिक लोगों की आबादी होने वाला पहला देश बनने की उम्मीद है और इसकी आबादी 2050 तक 1.7 बिलियन तक पहुंचने के लिए निर्धारित है।
2017 में दुनिया में 112 वें स्थान पर इसकी जनसंख्या वृद्धि दर 1.13% है। भारत विश्व के भूमि क्षेत्र का 2.41% है, लेकिन विश्व की आबादी का 18% से अधिक का समर्थन करता है। 2001 की जनगणना में 72.2% आबादी लगभग 638,000 गाँवों में रहती थी और शेष 27.8% 5,100 से अधिक शहरों और 380 से अधिक शहरी क्षेत्रों में रहती थी। भारत की जनसंख्या 2010 में 200 मिलियन लोगों द्वारा अफ्रीका के पूरे महाद्वीप से अधिक थी। हालांकि, अफ्रीका की जनसंख्या वृद्धि भारत की तुलना में लगभग दोगुनी है, यह 2025 तक चीन और भारत दोनों को पार करने की उम्मीद है। इसमें से अधिकांश जानकारी हमको हर 10 साल से लिए जाने वाले जनगणना की वजह से उपलब्ध है।
संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, जनसंख्या की जनगणना को संयुक्त राष्ट्र के दस्तावेज (प्रिन्सपल एण्ड रेकॉममंडटीऑन फॉर नैशनल पॉपुलटीऑन सेन्सस (Principles and Recommendations for National Population Census)) में परिभाषित किया गया है, “किसी देश या सीमांकित क्षेत्र के सभी लोगों के लिए एक निर्दिष्ट समय या समय पर जनसांख्यिकीय, आर्थिक और सामाजिक डेटा एकत्र करने, संकलन और प्रकाशित करने की कुल प्रक्रिया।”
दक्षिण एशियाई पाषाण युग से 10,000 ईसा पूर्व में जनसंख्या 200 ईसा पूर्व में मौर्य साम्राज्य में लगातार बढ़ती विकास दर पर बढ़ी, इसके बाद शास्त्रीय युग से 500 ईसा पूर्व में जनसंख्या वृद्धि में धीमी हो गई और फिर 1000 ईस्वी तक के प्रारंभिक मध्ययुगीन काल के दौरान काफी हद तक स्थिर हो गई थी। वहीं जनसंख्या वृद्धि दर तब के मध्ययुगीन युग (दिल्ली सल्तनत के दौरान) में 1000 से 1500 तक बढ़ गई। मुगल साम्राज्य (16 वीं -18 वीं शताब्दी) के तहत भारत की जनसंख्या वृद्धि दर भारतीय इतिहास में किसी भी पिछली अवधि की तुलना में अधिक थी।
1600 में अकबर (1556-1605) के शासनकाल के तहत, मुगल साम्राज्य की शहरी आबादी 17 मिलियन लोगों तक थी, जो यूरोप में शहरी आबादी से बड़ी थी। 1700 तक, मुगल भारत की शहरी आबादी 23 मिलियन थी, जो 1871 में ब्रिटिश भारत की शहरी आबादी 22.3 मिलियन से अधिक थी। 18 वीं शताब्दी की शुरुआत में, मुगल भारत में औसत जीवन प्रत्याशा 35 वर्ष थी। इसकी तुलना में, 18 वीं शताब्दी में कई यूरोपीय देशों के लिए औसत जीवन प्रत्याशा शुरुआती आधुनिक इंग्लैंड में 34 वर्ष, फ्रांस में 30 वर्ष और प्रशिया में लगभग 25 वर्ष थी।
वहीं स्वतंत्रता से पहले की भारत की जनगणना समय-समय पर 1865 से 1947 तक आयोजित की गई थी। जनगणना का मुख्य उद्देश्य प्रशासनिक लाभ प्राप्त करना था। जनसंख्या में अनेकों समस्याएँ आतीं थीं, परन्तु इन जनगणनाओं का मुख्य उद्देश्य भारतीय समाज में अच्छी तरह से समझना एवं इस समझ का भारत को गुलाम बनाए रखने के लिए उपायोग करना था, न कि पूरे जनसमुदाय के आन्तरिक संरचना को समझना था। मूल्य प्रणाली और पश्चिम के समाजों से ब्रिटिश राज के दौरान भारतीय समाज की प्रकृति में भिन्नता "जाति", "धर्म", "पेशे" और "आयु" के आंकड़ों को शामिल करके किया जाता था, इस सूचना के संग्रह और विश्लेषण ने भारतीय समाज की संरचना और राजनीतिक क्षेत्रों पर काफी प्रभाव डाला था।

यदि देखा जाएं तो जनगणना में भाग लेना सभी के हित में है, क्योंकि प्रपत्रों की जानकारी निर्णयकर्ताओं द्वारा यह निर्धारित करने के लिए उपयोग की जाती है कि किन समुदायों, स्कूलों, अस्पतालों और सड़कों को संघीय धन की आवश्यकता है। यहां जनगणना संख्याओं के लिए महत्वपूर्ण उपयोग के कुछ उदाहरण दिए गए हैं:
• संघीय सरकार सामुदायिक कार्यक्रमों और सेवाओं, जैसे कि शिक्षा कार्यक्रमों, आवास और सामुदायिक विकास, बुजुर्गों के लिए स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं और नौकरी प्रशिक्षण के लिए सालाना 675 बिलियन डॉलर से अधिक का आवंटन करती है। • राज्य, स्थानीय और जनजातीय सरकारें नए स्कूल निर्माण, पुस्तकालयों, राजमार्ग सुरक्षा और सार्वजनिक परिवहन प्रणालियों, नई सड़कों और पुलों, पुलिस और अग्निशमन विभागों के स्थान और कई अन्य परियोजनाओं के लिए धन की योजना और आवंटन के लिए जनगणना की जानकारी का उपयोग करती हैं।
• सामुदायिक संगठन सामाजिक सेवा कार्यक्रमों, सामुदायिक कार्य परियोजनाओं, वरिष्ठ मध्याहन-भोजन कार्यक्रमों और बाल देखभाल केंद्रों को विकसित करने के लिए जनगणना जानकारी का उपयोग करते हैं। • कारखाने, खरीदारी केन्द्र, फिल्म थिएटर, बैंक और कार्यालयों की गतिविधियों का पता लगाने के लिए व्यवसाय संख्या का उपयोग करते हैं, जो अक्सर नई नौकरियों के लिए राह खोलते हैं।
• जनगणना की जानकारी स्वास्थ्य प्रदाताओं को बच्चों या बुजुर्ग लोगों के साथ समुदायों के माध्यम से बीमारियों के प्रसार की भविष्यवाणी करने में मदद करती है। और जब आपदा आती है, तो जनगणना बचाव दल को बताती है कि कितने लोगों को उनकी मदद की आवश्यकता होगी।

जनगणना को नियमित अंतराल पर लिया जाना चाहिए ताकि तुलनीय जानकारी एक निश्चित अनुक्रम में उपलब्ध हो सके। जनगणना की एक श्रृंखला अतीत को स्पष्ट करके, वर्तमान का सही वर्णन करती है और भविष्य का अनुमान लगाती है। किसी भी देश की जनगणना राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अधिक महत्व की होती है अगर इसकी तुलना अन्य देशों की जनगणना के साथ की जा सकती है जो लगभग एक ही समय में ली जाती हैं। दुनिया के अधिकांश देशों में जनगणना 0 या 1 में समाप्त होने वाले वर्षों में आयोजित की जाती है। भारत में, दशवर्षीय जनगणना 1 में समाप्त होने वाले वर्षों में आयोजित किए जाते हैं। इस प्रकार अंतर्राष्ट्रीय तुलनात्मकता बनी रहती है।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3elOGZd
https://en.wikipedia.org/wiki/Demographics_of_India
https://en.wikipedia.org/wiki/Census_of_India_prior_to_independence
https://people.howstuffworks.com/census3.htm


चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र में पार्श्व में भारत की आबादी का कलात्मक अभिव्यक्तिकरण और शीर्ष में भारत की जनगणना का प्रशासनिक लोगो (Logo) चित्रित किया गया है। (Prarang)
दूसरे चित्र में भारत की जनगणना का प्रशासन के द्वारा प्रसारित प्रचार चित्रण है। (Indiacensus/gov)
तीसरे चित्र में सन 2011 और सन 1971 में जारी भारतीय डाक टिकट पर भारत की जनगणना का मुद्रण है। (Prarang)
अंतिम चित्र में सरकार द्वारा प्रसारित भारत की जनगणना का जागरूकता प्रचार का चित्र है। (Indiacensus/gov)



RECENT POST

  • अपनी नैसर्गिक खूबसूरती के साथ भयावह नरसंहार का साक्ष्य सिकंदर बाग
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     12-05-2021 09:29 AM


  • ग्रॉसरी उत्पादों की ऑनलाइन बिक्री में सहायक हुई हैं,ई-कॉमर्स कंपनियां और कोरोना महामारी
    संचार एवं संचार यन्त्र

     10-05-2021 09:45 PM


  • शहतूत- साधारण किंतु अत्यंत लाभकारी फल
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें बागवानी के पौधे (बागान)साग-सब्जियाँ

     10-05-2021 08:55 AM


  • आनंद, प्रेम और सफलता का खजाना है, माँ
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     09-05-2021 12:23 PM


  • मानव सहायता श्रमिक (Humanitarian Aid Workers)कोरोना काल के देवदूत हैं।
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     08-05-2021 09:05 AM


  • नोबल पुरस्कार विजेता रबीन्द्रनाथ टैगोर का संगीत प्रेम तथा लखनऊ शहर से विशेष लगाव।
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनिध्वनि 2- भाषायें विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     07-05-2021 10:00 AM


  • नृत्य- एक पारंपरिक और धार्मिक अभ्यास
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनिद्रिश्य 2- अभिनय कला द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     06-05-2021 09:25 AM


  • मछलीपालन का इतिहास: क्या मछलीघर में उपयोग होने वाली दवा कोविड-19 से संक्रमित लोगों के उपचार
    पर्वत, चोटी व पठारनदियाँसमुद्र

     05-05-2021 09:18 AM


  • ग्रामीण बेरोज़गारी के अँधेरे का रोशन चिराग बन सकता है मनरेगा (MGNREGA)
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     04-05-2021 10:15 AM


  • 15वीं से 17वीं शताब्दी में प्रचलित थी नई दुनिया की खोज और अन्वेषण की आयु का क्या था प्रभाव
    समुद्र

     03-05-2021 08:21 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id