नवाब सआदत खान प्रथम की लापता कब्र का रहस्य

लखनऊ

 03-04-2020 01:05 PM
मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

हम में से अधिकांश लोग यह जानते ही हैं कि नवाब सआदत खान द्वितीय की कब्र लखनऊ में मौजूद है। लेकिन बहुत कम लोग यह जानते हैं कि अवध वंश के पिता समान सआदत खान प्रथम, जिन्होंने अयोध्या के पास एक नए शहर फैज़ाबाद में अपनी राजधानी बनाई थी, की कब्र कहाँ मौजूद है? तो चलिए जानते हैं सआदत खान प्रथम की लापता कब्र का रहस्य।

सआदत खान प्रथम का जन्म ईरान के खोरासान में हुआ था, जो दिल्ली में मुगल राजा मोहम्मद शाह रंगीला की सेना में सेवा करने के लिए भारत आए थे और यहाँ आकर वे एक नवाब और अवध के निर्माता बन गए। हालाँकि, जब नादिर शाह ने दिल्ली पर हमला किया और दिल्ली में मुगल राजा ने सआदत खान प्रथम को पानीपत में नादिर शाह पर काबू पाने के लिए भेजा, तो उन्होंने राजा को धोखा दे दिया। लेकिन नादिर शाह द्वारा नवाब सआदत खान की बेईमानी के लिए कोई इनाम नहीं दिया गया। अपनी मूर्खता का एहसास होने पर नवाब सआदत खान ने 19 मार्च, 1739 को नादिर शाह द्वारा दिल्ली के नरसंहार से पिछली रात को दिल्ली में स्वर्गीय राजकुमार दारा शिकोह के प्रसिद्ध घर के पास, शालीमार बाग में ज़हर खाकर आत्महत्या कर ली थी। उस समय के ऐतिहासिक अभिलेखों से पता चलता है कि उन्हें दिल्ली में उनके बहनोई सयादत खान के मकबरे में अनौपचारिक ढंग से दफन किया गया था।

दरसल नवाब के बहनोई सयादत खान (जिन्हें मिर्ज़ा जाफर खान बेग के नाम से भी जाना जाता है) सफदरजंग (जो अवध का दूसरा नवाब बन गया था) के पिता थे जो कि सआदत खान का गोद लिया हुआ बेटा था। सफदरजंग का मकबरा वर्तमान समय में दिल्ली के बीचोबीच मौजूद है तथा इसके ऊपर एक सड़क और दिल्ली के पहले हवाई अड्डे का नाम भी रखा गया है। सफदरजंग की मृत्यु फैज़ाबाद में हुई थी और उनकी मृत्यु से पहले, वे भी अपने पिता की तरह दिल्ली के मुगल राजा के साथ तकरार में थे। इसमें ही सआदत खान प्रथम की रहस्यमयी कब्र के उत्तर निहित हैं। सफदरजंग की मृत्यु के बाद उनके बेटे शुजा उद दौला (अवध साम्राज्य के तीसरे नवाब) ने दिल्ली में अपने पिता को दफनाने का विकल्प चुना क्योंकि उस समय भारत के शिया समुदाय के लिए शाहजहानाबाद (उस समय का दिल्ली, जो वर्तमान में जोरबाग का इलाका है) के बाहर स्थित कर्बला और दरगाह शाह-ए-मर्दन का कब्रिस्तान सबसे पवित्र स्थान हुआ करता था। वहीं ऐसा प्रतीत होता है कि 1947 के आसपास, क्षेत्र के कई मकबरों को नष्ट कर दिया गया था और कुछ अवशेषों को सिर्फ दरगाह के कब्रगाह के मैदान में स्थानांतरित कर दिया गया था। जिससे यह संभव हो सकता है कि नवाब सआदत खान प्रथम और उनके बहनोई सयादत खान की कब्रों को भी या तो दरगाह में स्थानांतरित कर दिया गया होगा या फिर नष्ट कर दिया गया होगा।

जोरबाग दरगाह में नवाब सआदत खान प्रथम की मौजूदगी का ज़िक्र हमें “दिल्ली की दरगाह शाह-ए-मर्दन” नामक पुस्तक में भी देखने को मिलता है। इस पुस्तक में और भी कई अन्य नवाबों की कब्रों के बारे में बताया गया है। लेकिन 1947 के पलायन ने इस क्षेत्र को सरकारी और निजी दोनों क्षेत्रों के अतिक्रमण से बहुत अधिक प्रभावित कर दिया है।

संदर्भ:
1.
https://military.wikia.org/wiki/Saadat_Ali_Khan_I?fbclid=IwAR3yrFZlPukXBQEMpm-_S4tmGtpe45GH3ZycAbFvSXAj6bV11gEDHO3BqUU
2.http://srivastavahistorian.com/img/Books/The%20First%20Two%20Nawabs%20of%20Awadh.pdf?fbclid=IwAR1g5d20yrKS9DJ-JbW4kzEr5gdq_PVpgkltDRWC8u9jXMxS9B8QrpHNHGc
3.https://pixels-memories.blogspot.com/2014/10/dargah-shah-e-mardan-complex-delhi.html?fbclid=IwAR0FvLSnH-N9lT9P6UASJxU4IEvDbsNVKnM7Q6YfwAE-TZXU9eQJyCuvow8
4.https://www.thehindu.com/books/buried-in-history/article5124382.ece?fbclid=IwAR1mTxw7AgUoqq-pdE20v2rRmhqLtD_vFIukvRWWPtZzj-Sgvm9wcbMoDhg
चित्र सन्दर्भ:
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Saadat_Ali_Khan_I#/media/File:Burhan_ul_Mulk_Sa'adat_Khan.jpg
2. http://uptourism.gov.in/pages/top/explore/lucknow/tombs-saadat-ali-khan



RECENT POST

  • कैसे रसीले पौधे (Succulent Plants) रातों-रात पसंदीदा घर के पौधे बन गए?
    बागवानी के पौधे (बागान)

     04-08-2021 09:53 AM


  • प्रति वर्ष मानसून की वर्षा से शहरों में जलभराव की परिस्थितियां
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     03-08-2021 10:03 AM


  • एक धर्मनिरपेक्ष राज्य होने के नाते भारत में विभिन्न धर्मों का इतिहास और उनके लिए बनाया गया कानून
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     02-08-2021 09:33 AM


  • उत्कृष्ट ऑप्टिकल भ्रम की स्थिति उत्पन्न करता है, धनुषाकार राकोट्ज़ब्रुक पुल
    पर्वत, चोटी व पठार

     01-08-2021 01:21 PM


  • भारत में लोकप्रिय किंतु भारतीय मूल का नहीं समोसा
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     31-07-2021 09:10 AM


  • सर पैट्रिक गेडेस चाहते थे लखनऊ की प्रकृति और संस्कृति की मौलिक एकता को कायम रखना
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन नगरीकरण- शहर व शक्ति

     30-07-2021 10:45 AM


  • जीवित वृक्षों से आकृति बनाने की पद्धति जो है पर्यावरण के लिए अनुकूल
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     29-07-2021 09:36 AM


  • मनुष्य को सांसारिक चक्र से मुक्ति का मार्ग बतलाती है, विष्णु भक्त गजेंद्र की कथा
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     28-07-2021 10:15 AM


  • भारत में विलुप्‍त होती मगरमच्‍छ की प्रजातियाँ
    रेंगने वाले जीव

     27-07-2021 10:00 AM


  • हमारे देश में घर बनाया है लुप्तप्राय मिस्र गिद्ध ने
    पंछीयाँ

     26-07-2021 09:32 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id