हिन्दू-मुस्लिम पहचान से परे थे संत कबीर दास

लखनऊ

 29-02-2020 11:40 AM
सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

पाहन पूजै हरि मिले, तो मैं पूजूं पहार।
ताते यह चाकी भली, पीस खाए संसार।।

एक पहेली जो कभी हल नहीं हुई, वह ये है कि क्या संत कबीर दास (15वीं शताब्दी, भारत के महान कवि) एक हिन्दू थे या फिर एक मुसलमान? लेकिन जिन लोगों ने इस विषय में गहरी खोज की, उन्होंने अनिवार्य रूप से यह पाया कि कबीर का धर्म खोजना, स्वयं भगवान का धर्म खोजने के बराबर है। वे खुद को "हिंदू" या "मुस्लिम" की धार्मिक पहचान से परे मानते थे। लोगों द्वारा एक दूसरे को यह विश्वास दिलाने की परस्पर कोशिश रही कि कबीर एक मुसलमान या हिन्दू थे, लेकिन शायद ही कभी उन्होंने उनके संदेशों को समझने की कोशिश भी की हो।

हालांकि, उनका जन्म एक मुस्लिम परिवार में हुआ था, लेकिन वे धर्म की पारंपरिक परंपराओं से परे थे। उन्होंने हर जगह से अच्छी चीजों को लिया और सभी के समक्ष समान रूप से फैलाया। उनका विशेष कार्य यह बताना था कि हिन्दू मुस्लिम बनने से पहले एक इंसान कैसे बना जाता है। कबीर का मानना था कि ईश्वर उस व्यक्ति के साथ होता है जो धार्मिकता के पथ पर चलता है, पृथ्वी के सभी प्राणियों को अपना स्वयं का मानता है, और जो सांसारिक मामलों से अलग होता है।

कबीर ने अपने दोहों के ज़रिए हिंदू-मुस्लिम धर्म की रूढ़िवादिता पर भी कई कटाक्ष किए थे:

कांकर पाथर जोरि कै मस्जिद लई बनाय।
ता चढि मुल्ला बांग दे क्या बहरा हुआ खुदाय॥

कबीर पढ़े लिखे नहीं थे, इसलिए उनके सभी दोहों को उनके शिष्यों द्वारा ही लिखा गया था। उनकी साहित्य विरासत को उनके दो शिष्यों, भागोदास और धर्मदास ने बनाया था। कबीर के गीतों को क्षितिमोहन सेन ने भारत भर के भिक्षुकों से एकत्र किया था और उनके बाद रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा ये अंग्रेज़ी में अनुवादित किए गए थे। कबीर के छंदों को सिख धर्म के ग्रंथ “आदि ग्रंथ” में भी शामिल किया गया था।

संत कबीर ने अपने दोहों के अन्दर इंसानियत के बारे में भी बताया है – कबीर के अनुसार हर इंसान को सिर्फ अपने सगे सम्बन्धियों ही नहीं अपितु दूसरों के दर्द को भी समझना और बांटना चाहिए। सिर्फ अपने लोगों का समर्थन न करके दूसरों के दर्द को समझने वाला ही सच्चा इंसान होता है।

कबीर तहां न जाइये, जहां जो कुल को हेत।
साधुपनो जाने नहीं, नाम बाप को लेत।।

कबीर सोई पीर है, जो जाने पर पीड़।
जो पर पीड़ न जानता, सो काफ़िर बे-पीर।।

संदर्भ:
1.
https://www.navodayatimes.in/news/khabre/who-was-kabirdas/87387/
2. https://www.quora.com/Was-Kabir-Das-Hindu-or-Muslim
3. https://en.wikipedia.org/wiki/Kabir



RECENT POST

  • अनछुए प्राथमिक वनों का पारिस्थितिकी तंत्र में योगदान
    जंगल

     07-03-2021 09:32 AM


  • लखनऊ में श्री काशीश्वर महादेव मंदिर: अपनी अंतिम सांस लेते हुये
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     06-03-2021 10:15 AM


  • तीव्र गति से घट रही है, जिराफ की संख्या
    स्तनधारी

     05-03-2021 10:00 AM


  • भारत हालिया टेक्सास ऊर्जा निष्प्रदीप से क्या सीख सकता है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     04-03-2021 10:16 AM


  • अपने विशिष्ट सींगों के लिए विख्यात है, बारहसिंगा
    शारीरिक

     03-03-2021 10:27 AM


  • कैसे अकेलापन मस्तिष्क या सोचने की क्षमता को प्रभावित करता है?
    व्यवहारिक

     02-03-2021 10:21 AM


  • दुनिया भर में प्रचलित हैं कबाब के विभिन्न प्रकार
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     01-03-2021 10:02 AM


  • दुनिया के प्रमुख गिटारवादक और दिवंगत श्री चिन्मय के अनुयायी रहे हैं, कार्लोस सैन्टाना
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     28-02-2021 03:18 AM


  • बहुपतिप्रथा व्यवहार वाला एक विशेष पक्षी - कांस्य पंख वाले जाकाना
    पंछीयाँ

     27-02-2021 10:02 AM


  • विशिष्ट व्यवहार प्रदर्शित करते हैं, मांसाहारी पौधे
    व्यवहारिक

     26-02-2021 10:09 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id