क्या लखनऊ में चल रही पारिस्थितिकी बनाम मनुष्य की बहस में पिस जायेगी 109 साल पुरानी धरोहर

लखनऊ

 25-02-2020 03:10 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

मानव द्वारा पर्यावरण में किये गए बदलावों से कई जीव-जंतु विश्व से हमेशा के लिए विलुप्त हो गए हैं। जीव-जंतुओं के विलुप्त होने के पीछे मानव गतिविधियों का एक बहुत बड़ा हाथ है, जैसे उनके आवासों को नष्ट करना या उनके निवासों में हस्तक्षेप करना। ऐसे ही उत्तर प्रदेश के दुधवा नेशनल पार्क (Dudhwa National Park) से होकर निकलने वाली 109 साल पुरानी रेलवे लाइन (Railway Line) से कई जंगली जीवों की आए दिन रेलों से टकरा कर मृत्यु हो जाती है, जिसे देखते हुए वन विभाग द्वारा उच्च न्यायालय में उस मार्ग से रेलों का संचालन बंद करवाने की मांग की गयी है।

इस याचिका पर उच्च न्यायालय ने उस मार्ग से रेलों का संचालन बंद किए जाने का आदेश जारी किया। रेलवे विभाग अब मीटर गेज लाइन (Metre Gauge Line) को एक धरोहर के रूप में संरक्षित करने की योजना बना रहा है, जहां वे दुधवा आने वाले पर्यटकों के लिए टॉय (Toy) रेल शुरू कर सकते हैं। कुछ सूत्रों का कहना है कि पिछले 20 वर्षों में रेल दुर्घटनाओं में 100 से अधिक जानवर मारे गए थे। इनमें चित्तीदार हिरण, बाघ, हाथी, मगरमच्छ, गैंडे और भालू शामिल हैं, लेकिन जहां इस फैसले से जानवरों को राहत मिल रही है, वहीं इससे रेल खंड के बंद होने से नानपारा और मैलानी के बीच पड़ने वाले सैकड़ों गांवों में रहने वाले 30 लाख से अधिक लोग प्रभावित हो रहे हैं, क्योंकि इनके लिए यह बाहरी दुनिया के साथ एकमात्र जोड़ है। इसके लिए स्थानीय सांसद ने हालांकि इस फैसले पर स्टे (Stay) ले लिया है और रेल को अभी जारी रखने का आदेश प्राप्त कर लिया है।

बहराइच के माध्यम से गोंडा-मैलानी रेल मार्ग का उद्घाटन 1911 में किया गया था। इससे पहले, 1892 में मैलानी-शारदा खंड, नानपारा-मिहिनपुरवा मार्ग 1896 में और मिहिनपुरवा-कतर्निया घाट मार्ग 1898 में पूरा हुआ था। वहीं केंद्रीय मंत्रिमंडल ने हाल ही में उत्तर प्रदेश में बहराइच और खलीलाबाद के बीच नई रेल लाइन को मंजूरी दी। इस रेल लाइन के निर्माण से उत्‍तर प्रदेश के बहराइच, बलरामपुर, श्रावस्‍ती और सिद्धार्थ नगर जैसे चार जिलों को फायदा होगा। साथ ही 240.26 किमी ब्रॉड गेज लाइन (Broad Gauge) के निर्माण में 49.39 अरब रूपए का निवेश लगेगा।

संदर्भ:
1.
https://bit.ly/2SUlL7c
2. https://bit.ly/37XeJ5C
3. https://www.youtube.com/watch?v=QXwsPTGHQoI&feature=emb_logo
4. https://www.railway-technology.com/news/india-approves-new-675m-railway-line-uttar-pradesh/
चित्र सन्दर्भ:-
1.
https://www.youtube.com/watch?v=c8i4yCTLzN4
2. https://www.youtube.com/watch?v=e408HHmyz1s
3. https://www.youtube.com/watch?v=KFClAdXYY_o
4. https://live.staticflickr.com/7541/16039614816_28574ed85a_h.jpg



RECENT POST

  • 1869 तक मिथक था, विशाल पांडा का अस्तित्व
    शारीरिक

     26-06-2022 10:10 AM


  • उत्तर और मध्य प्रदेश में केन-बेतवा नदी परियोजना में वन्यजीवों की सुरक्षा बन गई बड़ी चुनौती
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:53 AM


  • व्यस्त जीवन शैली के चलते भारत में भी काफी तेजी से बढ़ रहा है सुविधाजनक भोजन का प्रचलन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:51 AM


  • भारत में कोरियाई संगीत शैली, के-पॉप की लोकप्रियता के क्या कारण हैं?
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:37 AM


  • योग के शारीरिक और मनो चिकित्सीय लाभ
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     22-06-2022 10:21 AM


  • भारत के विभिन्‍न धर्मों में कीटों की भूमिका
    तितलियाँ व कीड़े

     21-06-2022 09:56 AM


  • सोशल मीडिया पर समाचार, सार्वजनिक मीडिया से कैसे हैं भिन्न?
    संचार एवं संचार यन्त्र

     20-06-2022 08:54 AM


  • अपने रक्षा तंत्र के जरिए ग्रेट वाइट शार्क से सुरक्षित बच निकलती है, सील
    व्यवहारिक

     19-06-2022 12:16 PM


  • संकट में हैं, कमाल के कवक, पारिस्थितिकी तंत्र में देते बेहद अहम् योगदान
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     18-06-2022 10:02 AM


  • बढ़ते शहरीकरण के इस युग में पक्षियों के अनुकूल बुनियादी ढांचे बनाने की आवश्यकता है
    पंछीयाँ

     17-06-2022 08:13 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id