दर्शनशास्त्र में बनाया जा सकता है एक अच्छा करियर

लखनऊ

 21-11-2019 11:46 AM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

विश्व दर्शन दिवस प्रतिवर्ष नवंबर महीने के तीसरे गुरुवार को मनाया जाता है और इस बार यह 21 नवंबर को मनाया जाएगा। यह दिवस दार्शनिक विरासत को साझा करने के लिए विश्व के सभी लोगों को प्रोत्साहित करने और नए विचारों के लिये खुलापन लाने के साथ-साथ बुद्धिजीवियों एवं सभ्य समाज को सामाजिक चुनौतियों से लड़ने के लिए विचार-विमर्श करने के उद्देश्य से मनाया जाता है।

परंपरागत रूप से, "दर्शन" शब्द का अर्थ ज्ञान के किसी भी निकाय से है। इस अर्थ में, दर्शन का धर्म, गणित, प्राकृतिक विज्ञान, शिक्षा और राजनीति से गहरा संबंध है।
तीसरी सदी के डायोजनीस लाएरिय्टस, दर्शन के पहले इतिहासकार, ने दार्शनिक जांच को पारंपरिक रूप से तीन भागों में विभाजित किया था, जो निम्न हैं :-

प्राकृतिक दर्शन: इसमें प्रकृति के साथ होने वाली चीजों की रचना और भौतिक दुनिया में परिवर्तन की प्रक्रियाओं का अध्ययन किया जाता था।
नैतिक दर्शन: नैतिक दर्शन में अच्छाई, सही और गलत, न्याय और सदाचार का अध्ययन किया जाता था।
तत्वमीमांसा दर्शन: तत्वमीमांसा दर्शन में अस्तित्व, कार्य, ईश्वर, तर्क, रूप और अन्य अमूर्त वस्तुओं का अध्ययन किया जाता था वर्तमान समय में इस विभाजन में भी काफी बदलाव आ चुका है जैसे, प्राकृतिक दर्शन विभिन्न प्राकृतिक विज्ञानों, विशेष रूप से खगोल विज्ञान, भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान और ब्रह्मांड विज्ञान में विभाजित हो गया है।

नैतिक दर्शन में सामाजिक विज्ञान की उत्पत्ति हुई है, लेकिन अभी भी मूल्य सिद्धांत शामिल है। तत्वमीमांसा दर्शन ने तर्कशास्त्र, गणित और विज्ञान के दर्शन जैसे औपचारिक विज्ञानों को उत्पन्न किया है, लेकिन इसमें अभी भी ज्ञान-मीमांसा, ब्रह्मांड विज्ञान और अन्य शामिल हैं। एक सामान्य अर्थ में दर्शन ज्ञान बौद्धिक संस्कृति और ज्ञान की खोज से जुड़ा हुआ है। इस प्रकार सभी संस्कृतियों और साक्षर समाजों ने दार्शनिक प्रश्न पूछे जैसे "हम कैसे रहें" और "वास्तविकता की प्रकृति क्या है"। तत्कालीन दर्शन की एक व्यापक और निष्पक्ष अवधारणा, सभी विश्व सभ्यताओं में वास्तविकता, नैतिकता और जीवन जैसे मामलों की एक यथोचित जांच करती है।

वहीं ऐतिहासिक रूप से, पश्चिमी दर्शन पश्चिमी दुनिया की दार्शनिक परंपरा है, जो पूर्व-सुकराती विचारकों (जो 6 वीं शताब्दी ईसा पूर्व में प्राचीन ग्रीस में सक्रिय थे) के समय में भी मौजूद थी। सुकरात एक बहुत ही प्रभावशाली दार्शनिक थे, जो अक्सर ये कहते थे कि उनके पास कोई ज्ञान नहीं था, लेकिन वह ज्ञान के अनुयायी थे। पश्चिमी दर्शन को तीन युगों में विभाजित किया जा सकता है: प्राचीन (ग्रीको-रोमन), मध्ययुगीन दर्शन (ईसाई यूरोपीय), और आधुनिक दर्शन। पश्चिमी दर्शन के अलावा भारत में भी दर्शन का ऐतिहासिक रूप मौजूद है।

भारत में 'दर्शन' उस विद्या को कहा जाता है जिसके द्वारा तत्व का ज्ञान हो सकता है। भारतीय दर्शन का तात्पर्य भारतीय उपमहाद्वीप की प्राचीन दार्शनिक परंपराओं से है। प्रमुख विद्यालय को तीन वैकल्पिक मानदंडों में से किसी एक के आधार पर या तो रूढ़िवादी या विधर्मिक (आस्तिक और नास्तिक) के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।

दार्शनिक सोच हमें असमर्थित विचारधारा, अन्यायपूर्ण अधिकार, निराधार मान्यताओं, आधारहीन प्रचार और संदिग्ध सांस्कृतिक मूल्यों से बचाती है। यदि हम उन्हें नहीं समझते हैं और उनके बारे में गंभीर रूप से विचार नहीं कर सकते हैं, तो ये शक्तियां हमारे साथ हेरफेर कर सकती हैं। इसमें सांस्कृतिक मूल्यों को अस्वीकृत नहीं किया जाता है बल्कि उन पर एक प्रतिबिंब डाला जाता है। अन्यथा, वे हमारे मूल्यों, विचारों या विश्वासों के बारे में नहीं सोचते हैं। दार्शनिक इस दृष्टिकोण को कहते हैं कि हॉकिंग और अन्य लोग यह मानते हैं कि कोई भी दावा जो वैज्ञानिक रूप से सत्यापित या गलत नहीं किया जा सकता है, वह प्रत्यक्षवाद है।

बीसवीं शताब्दी की शुरुआत में सकारात्मकता लोकप्रिय थी, लेकिन दर्शनशास्त्र में सर्वसम्मति से अस्वीकार कर दिया गया था। दर्शन न केवल हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में भी प्रभाव डालता है बल्कि दर्शन शिक्षा को प्राप्त करने के बाद दिलचस्प नौकरी की संभावनाएं भी काफी है। देश और विदेश में इस क्षेत्र में अधिक से अधिक अवसर खुलने के साथ, एक अनुशासन के रूप में दर्शन को भविष्य में कई छात्रों द्वारा चयन किया जा सकता है। दर्शनशास्त्र एक ऐसा विषय है जो अस्तित्व, ज्ञान, कारण, मन और भाषा से संबंधित सामान्य और बुनियादी मुद्दों पर गहराई से प्रकाश डालता है। इसलिए यदि आप दर्शनशास्त्र में अपना करियर बनाने की सोच रहे हैं, तो जान लें कि आपको हर समय अपने सामान्य ज्ञान को शामिल करने और साथ ही जागरूक होने की आवश्यकता होगी।

स्नातक की डिग्री में प्रवेश के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज से उच्चतर माध्यमिक विद्यालय प्रमाणपत्र शिक्षा होनी चाहिए। स्नातक पाठ्यक्रम की अवधि तीन वर्ष की होती है। दर्शनशास्त्र में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम के लिए पात्रता मानदंड किसी भी स्रोत में स्नातक की डिग्री होनी चाहिए। स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम की अवधि ज्यादातर दो साल की होती है।

दर्शनशास्त्र में उपलब्ध पाठ्यक्रम निम्नलिखित हैं:
• दर्शनशास्त्र में कला से स्नातक
• दर्शनशास्त्र में कला से स्नातक (ऑनर्स (Honors))
• दर्शनशास्त्र में कला से स्नातकोत्तर
• दर्शनशास्त्र में कला से स्नातकोत्तर (ऑनर्स (Honors))
• दर्शनशास्त्र में दर्शनशास्त्र निष्णात
• दर्शनशास्त्र में डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी

दर्शनशास्त्र में में उपलब्ध विशेषज्ञ निम्नलिखित हैं:
• ज्ञानमीमांसा
• तर्क
• नीति शास्त्र
• राजनीति मीमांसा
• सौंदर्यशास्र
• भाषा का दर्शन
• मन का दर्शन
• तत्त्वमीमांसा

एक छात्र जो दर्शनशास्त्र में स्नातक या स्नातकोत्तर डिग्री के साथ अपनी शिक्षा पूरी करता है, वो भारत और विदेश दोनों में विभिन्न क्षेत्रों में नौकरी करने के बारे में सोच सकता है जैसे कि, मानव संसाधन, साक्षात्कारकर्ता, सलाहकार, छात्र मामलों, सार्वजनिक सेवा, पत्रकारिता, अनुसंधान, कानून, कूटनीति, बीमा, आदि। जिन छात्रों ने दर्शनशास्त्र पर शोध किया है, वे शोध संस्थानों, विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में शिक्षण कार्य का विकल्प चुन सकते हैं। इस क्षेत्र के छात्रों को एक अच्छा पैकेज मिलता है, इस क्षेत्र में अपना करियर शुरू करने वाला व्यक्ति 10,000- 15,000 रुपये की उम्मीद कर सकता है और समय व अनुभव के बढ़ने के साथ साथ इस क्षेत्र में वेतन काफी बढ़ जाता है।

संदर्भ :-
1.
https://reasonandmeaning.com/2016/03/25/the-value-of-philosophy/
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Philosophy
3. https://www.philosophytalk.org/blog/has-science-replaced-philosophy
4. https://thoughteconomics.com/the-role-of-philosophy-in-life/
5. https://www.quora.com/What-are-the-career-opportunities-in-India-for-philosophy
6. https://www.successcds.net/Career/Philosophy.html
7. https://en.unesco.org/events/world-philosophy-day-0



RECENT POST

  • क्या कारण है, भारत में आने वाली टिड्डियों की बाढ़ का
    तितलियाँ व कीड़े

     02-06-2020 10:50 AM


  • लॉकडाउन की स्थित में कंपनियों द्वारा किया जा सकता है फर्लो के विकल्प का चयन
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     01-06-2020 11:10 AM


  • एक जंगली लड़के की दुविधा की कहानी है, फेरल (Feral)
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     31-05-2020 11:45 AM


  • एक नरभक्षी कलाकार जिसने बनाया था, नवाब असफ उद दौला का चित्र
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     30-05-2020 09:25 AM


  • प्राचीन समय में शारीरिक रूप से संचालित किए जाते थे पंखे
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     29-05-2020 10:00 AM


  • अप्रवासी भारतीयों का कोरोना महामारी से लड़ने में योगदान
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     28-05-2020 10:00 AM


  • सार्वभौमिक अनुप्रयोग या प्रयोज्यता के विचार का समर्थन करती है सार्वभौमिकता की अवधारणा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     27-05-2020 12:30 AM


  • कहाँ से प्रारम्भ होता है, भारतीय पाक कला का इतिहास
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2020 09:45 AM


  • विभिन्न संस्कृतियों में हैं, शरीर पर बाल रखने के सन्दर्भ में अनेकों दृष्टिकोण
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     25-05-2020 10:00 AM


  • वांटाब्लैक (Vantablack) - इस ब्रह्माण्ड में मौजूद, काले से भी काला रंग
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     24-05-2020 10:50 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.