शहरीकरण में परिवर्तित होती ग्रामीण अर्थव्‍यवस्‍था

लखनऊ

 31-08-2019 10:04 AM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

2011 की जनगणना के अनुसार उत्‍तर प्रदेश की ग्रामीण अर्थव्‍यवस्‍था तीव्रता से शहरी अर्थव्‍यवस्‍था में परिवर्तित हुयी है। जिसका प्रमुख कारण लोगों का कृषि क्षेत्र से गैर कृषि क्षेत्र की ओर रूख करना है, जिसके परिणामस्‍वरूप शहरों की संख्‍या में भी अभूतपूर्व वृद्धि हुयी है। 2001 की जनगणना में भारत में शहरों की संख्‍या 1,362 थी जो 2011 में बढ़कर 3,894 हो गई। 2011 की जनगणना में 2,774 नए शहरों में से 2,532 नए जनगणना शहर थे और 242 सांविधिक शहर थे। एक सांविधिक शहर वह क्षेत्र है जिसे राज्य या केंद्रीय विधायी द्वारा स्‍थापित किया जाता है तथा शहरी स्थानीय निकायों (यू.एल.बी.) द्वारा संचालित किया जाता है। इसके साथ ही कई क्षेत्र ऐसे हैं जो शहरों की सूची में तो शामिल नहीं हैं किंतु शहरी विशेषताओं, जैसे न्‍यूनतम 5,000 आबादी, क्षेत्र के 75% कामकाजी पुरूष गैर कृषि गतिविधियों में संलग्‍न हैं तथा प्रतिवर्ग किलोमीटर में 400 व्‍यक्तियों का जनसंख्‍या घनत्‍व, के काफी निकट हैं।

प्रारंभ में भूमि का स्‍वामित्‍व कृषकों की आय का मुख्‍य स्रोत था, जिसमें विगत समय में कमी आयी है। भारत में, स्‍वामित्‍व का औसत आकार भी क्रमिक रूप से कम हो रहा है। इस प्रवृत्ति ने कई सीमांत किसानों को गैर-कृषि क्षेत्र में रोज़गार की तलाश करने के लिए मजबूर कर दिया है क्योंकि आजीविका के लिए कृषि पर निर्भरता अब लाभदायक नहीं हो रही है। 2010–11 की कृषि जनगणना के अनुसार, स्‍वामित्‍व का औसत आकार जो 2005–06 में 1.23 हेक्टेयर था वह 2010–11 में घटकर 1.15 हेक्टेयर रह गया। 0.01 हेक्टेयर से कम भूमि वाले (जिसमें भूमिहीन कृषि परिवार भी शामिल हैं) 56% कृषि परिवारों ने अपनी आय के प्रमुख स्रोत के रूप में मजदूरी/वेतनभोगी रोज़गार को चुन लिया।

नए जनगणना शहर एक बढ़ते ग्रामीण बाज़ार के लिए व्यापार और अन्य स्थानीय सेवाएं प्रदान करत रहे हैं। वे लोगों को परिवहन, निर्माण, स्वास्थ्य और शिक्षा सेवाएं प्रदान कर रहे हैं। ये शहर मुख्य रूप से अधिकांश कामकाजी जनसंख्या के कारण कृषि से गैर-कृषि कार्यकलापों में स्थानांतरित हो रहे हैं। सामान्‍यतः, यह देखा गया है कि जनगणना शहर जो वर्ग 1 वाले शहरों के नज़दीक हैं, वे अधिक आबादी वाले हैं। यह निकटता जनगणना शहरों की जनसंख्या को प्रभावित करती है। इनकी आबादी वर्ग 1 वाले शहरों के काफी निकट आ गयी है। उदाहरण के लिए सोनभद्र जिले में जनगणना शहर, औद्योगिक समूहों की तरह हैं। वे आसपास की बस्तियों के लिए रोज़गार के अवसर उत्‍पन्‍न करते हैं। उत्तर प्रदेश के कुछ जनगणना शहरों में कुछ विशिष्ट वस्तुओं का निर्माण इनके आर्थिक आधार की विशेषता है। उत्तर प्रदेश के 267 जनगणना शहरों में से 127 में विशिष्ट वस्तुओं का निर्माण किया जा रहा है। इन बस्तियों में विनिर्माण इकाइयों को मज़बूत करने के विशिष्ट उद्देश्य के साथ नीतियों को इन बस्तियों और आस-पास के गांवों में रोज़गार के अवसर पैदा करने के लिए लागू किया जाना चाहिए।

संदर्भ:
1.https://www.epw.in/journal/2019/33/special-articles/census-towns-uttar-pradesh.html


RECENT POST

  • अनछुए प्राथमिक वनों का पारिस्थितिकी तंत्र में योगदान
    जंगल

     07-03-2021 09:32 AM


  • लखनऊ में श्री काशीश्वर महादेव मंदिर: अपनी अंतिम सांस लेते हुये
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     06-03-2021 10:15 AM


  • तीव्र गति से घट रही है, जिराफ की संख्या
    स्तनधारी

     05-03-2021 10:00 AM


  • भारत हालिया टेक्सास ऊर्जा निष्प्रदीप से क्या सीख सकता है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     04-03-2021 10:16 AM


  • अपने विशिष्ट सींगों के लिए विख्यात है, बारहसिंगा
    शारीरिक

     03-03-2021 10:27 AM


  • कैसे अकेलापन मस्तिष्क या सोचने की क्षमता को प्रभावित करता है?
    व्यवहारिक

     02-03-2021 10:21 AM


  • दुनिया भर में प्रचलित हैं कबाब के विभिन्न प्रकार
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     01-03-2021 10:02 AM


  • दुनिया के प्रमुख गिटारवादक और दिवंगत श्री चिन्मय के अनुयायी रहे हैं, कार्लोस सैन्टाना
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     28-02-2021 03:18 AM


  • बहुपतिप्रथा व्यवहार वाला एक विशेष पक्षी - कांस्य पंख वाले जाकाना
    पंछीयाँ

     27-02-2021 10:02 AM


  • विशिष्ट व्यवहार प्रदर्शित करते हैं, मांसाहारी पौधे
    व्यवहारिक

     26-02-2021 10:09 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id