किवदंतियों से परे, पारिजात वृक्ष की उत्पत्ति का वैज्ञानिक मत

लखनऊ

 20-08-2019 01:29 PM
पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

सनातन धर्म में कई वृक्षों का विवरण हमें देखने को मिलता है। उन्ही वृक्षों में से एक है पारिजात का पेड़। पारिजात के वृक्ष का विवरण हमें विभिन्न पुराणों और महाकाव्यों में दिखाई दे जाता है। लखनऊ के समीप स्थित बाराबंकी (उत्तर प्रदेश) के पास किंटूर गाँव में स्थित यह पारिजात वृक्ष पूरे देश में (मध्य प्रदेश में एक अलग उप-प्रजाति के अलावा) अपनी तरह का एकमात्र है, और यदि आप स्थानीय लोगों और स्थान से संबंधित किंवदंतियों पर भरोसा करें, तो यह पूरी दुनिया में एक ही है। इसे कल्पवृक्ष के रूप में भी जाना जाता है, जिसका मूल अर्थ यह है कि यह किसी भी इच्छा को पूरा करता है। इस वृक्ष का सम्पूर्ण जीवन काल 1000 से 5000 वर्ष का है। बारबंकी में पेड़ की वास्तविक उम्र ज्ञात नहीं है, लेकिन यह अनुमान है कि यह काफी पुराना है और इसके तने की परिधि लगभग 10 मीटर है। पर क्या आपको पता है की इस पारिजात वृक्ष की उत्पत्ति कब और कैसे हुई?

इस वृक्ष का वानस्पतिक वैज्ञानिक नाम 'अडेनसोनिया डिजीटाटा' (Adansonia digitata) है। पुराणों और महाकाव्यों में कई कहानियां प्रचलित हैं, जिनमे महाभारत में कुंती और सुनहरे पुष्प की कहानी, श्री कृष्णा और उनकी पत्नी सत्यभामा की कहानी और समुद्रमंथन में निकले पारिजात वृक्ष की कहानी सबसे प्रसिद्ध हैं। और प्रारंग भी एक पोस्ट इन किवदंतियों पर आप तक पहले ही पहुंचा चुका है, उन कहानियों को पढ़ने के लिए इस लिंक "https://lucknow.prarang.in/posts/1320/postname" पर क्लिक करें।

किंवदंतियों को अलग रखते हुए देखें, तो यह सच है कि पारिजात एक भारतीय वृक्ष नहीं है, पेड़ को आधुनिक विज्ञान में वैश्विक रूप से बाओबाब (baobab) के रूप में जाना जाता है, जो उप-सहारा अफ्रीका में उत्पन्न होता है और इसलिए गंगा की उपजाऊ भूमि में इसकी उपस्थिति इसे दुर्लभ बनाती है। यह प्राचीन काल में होने वाले भारत और अफ्रीका के संबंधों पर भी प्रकाश डालने को आकर्षित करता है। परन्तु उस पर फिर किसी दिन चर्चा करेंगे।

14वीं शताब्दी की शुरुआत में, एक युवक उप-सहारा देश मोरक्को में पैदा हुआ था, जिसने पूरी दुनिया की यात्रा की। इस युवक का नाम इब्न बतूता (Ibn Battuta) था और अपनी व्यापक यात्राओं के दौरान, उन्होंने भारत का दौरा भी किया और कई साल देश के उत्तर में रहकर बिताए। बुद्धिजीवी (जो प्रत्येक विषय को वैज्ञानिक तर्क से जोड़ते हैं) की माने तो उनके अनुसार इब्न बतूता अपने भारत भ्रमण के दौरान बाओबाब का एक छोटा पौधा अपने देश से साथ लाये थे, जो वहाँ बहुतायत में पाए जाते हैं और जब उन्होंने भारत को अपना घर बनाया (वह मुहम्मद बिन तुगलक के शासनकाल में छह साल से अधिक समय तक यहां रहे), उन्होंने यह पेड़ यहाँ लगाने का फैसला किया। और इस तरह से पारिजात उप-सहारा देश मोरक्को से बाराबंकी के वर्णनातीत किंटूर गाँव में आ गया।

सन्दर्भ:
1. https://www.sid-thewanderer.com/2017/08/parijat-tree-barabanki.html
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Parijaat_tree,_Kintoor
3. https://lucknow.prarang.in/posts/1320/postname



RECENT POST

  • कहाँ से प्रारम्भ होता है, भारतीय पाक कला का इतिहास
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2020 09:45 AM


  • विभिन्न संस्कृतियों में हैं, शरीर पर बाल रखने के सन्दर्भ में अनेकों दृष्टिकोण
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     25-05-2020 10:00 AM


  • वांटाब्लैक (Vantablack) - इस ब्रह्माण्ड में मौजूद, काले से भी काला रंग
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     24-05-2020 10:50 AM


  • क्या है, ईद अल फ़ित्र से मिलने वाली सीख ?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     23-05-2020 11:15 AM


  • भारत में कितनों के पास खेती के लिए खुद की जमीन है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     22-05-2020 09:55 AM


  • लॉक डाउन के तहत काफी प्रचलित हो गया है रसोई बागवानी
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     21-05-2020 10:10 AM


  • क्या विकर्षक होते हैं, अत्यधिक प्रभावी रक्षक ?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     20-05-2020 09:30 AM


  • कोरोनावायरस से लड़ने में यंत्र अधिगम और कृत्रिम बुद्धिमत्ता की भूमिका
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2020 09:30 AM


  • संग्रहालय के लिए क्यों महत्वपूर्ण होते हैं, संग्रहाध्यक्ष (curator)
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     18-05-2020 12:55 PM


  • विश्व की सबसे तीखी मिर्च है, भूत झोलकिया (Ghost Pepper)
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     17-05-2020 10:15 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.